29 अप्रैल से 14 मई तक मैक्सिकों सिटी में आईटीएफ वल्र्ड चैंपियनशिप का किया जाएगा आयोजन

युवाओं को खेलों की ओर प्रोत्साहित करने प्रदेश में पहली बार हरियाणा सीएम कप (Haryana CM’s Cup) का किया जा रहा आयोजन

प्रदेश के सभी 22 जिले और 143 खंडो में किया जाएगा खेलो का आयोजन

14 से 23 वर्ष आयु के युवा 6 विभिन्न खेल प्रतिस्पर्धाओं (टीम गेम) में लें सकते है भाग

ब्लाॅक स्तर, जिला स्तर, मंडल स्तर और राज्य स्तर पर किया जाएगा खेलो का आयोजन

For Detailed

पंचकूला, 23 फरवरी: हरियाणा में युवाओं को खेलों की ओर प्रोत्साहित करने और उन्हें नशे से दूर रखने के उद्देश्य से प्रदेश में पहली बार खेल विभाग हरियाणा द्वारा 28 फरवरी से हरियाणा सीएम कप (Haryana CM’S CUP) का आयोजन प्रदेश के सभी 22 जिले और 143 खंडो में किया जा रहा है।
खेल एवं युवा मामले विभाग के प्रधान सचिव श्री नवदीप सिंह विर्क ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिला उपायुक्तों के साथ बैठक की और टूर्नामेंट के सफल आयोजन के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

सीएम कप अपनी तरह का पहला टूर्नामेंट

उन्होंने कहा कि सीएम कप अपनी तरह का पहला टूर्नामेंट है, जिसका उद्देश्य मुख्यत ग्र्रामीण आंचल के युवाओं की उर्जा को सकारात्मक दिशा में लगाकर, उन्हें खेलों को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाने के साथ-साथ नशे जैसी बुराई से दूर रखना है। उन्होंने निर्देश दिए कि हरियाणा सीएम कप में अधिक से अधिक युवाओं की भागीदारी सुनिश्चित की जाए।

राज्य स्तर पर स्वर्ण पदक विजेता टीम को 2 लाख रुपये, रजत पदक विजेता टीम को डेढ लाख रुपये और कास्य पदक विजेता टीम को 1 लाख रुपये नकद पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे

श्री विर्क ने बताया कि सीएम कप में 14 से 23 वर्ष आयु के युवा 6 खेल प्रतिस्पर्धाओं (टीम गेम)-फुटबाल, हैंडबाल, बास्केटबाल, खो-खो, कब्बडी और वाॅलीबाल में भाग लें सकते है। इन खेलों का आयोजन ब्लाॅक स्तर, जिला स्तर, मंडल स्तर और राज्य स्तर पर किया जाएगा। ब्लाॅक स्तर पर 28 फरवरी से 3 मार्च तक, जिला स्तर पर 5 मार्च को और मंडल स्तर पर 7 मार्च को और राज्य स्तर पर 9 मार्च को खेलों का आयोजन किया जाएगा। राज्य स्तर पर स्वर्ण पदक विजेता टीम को 2 लाख रुपये, रजत पदक विजेता टीम को डेढ लाख रुपये और कास्य पदक विजेता टीम को 1 लाख रुपये नकद पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे।

26 फरवरी सायं 6 बजे तक किया जा सकता है पंजीकरण

उन्होंने बताया कि इच्छुक टीमें 26 फरवरी सायं 6 बजे तक विभाग की वेबसाईट https://haryanasports.gov.in/cm-cup-2024  पर अपना पंजीकरण कर सकती है। इसके अलावा क्यूआर कोड स्कैन कर भी पंजीकरण किया जा सकता है। इन खेलों की विशेषता है कि इसमें किसी भी जिले या ब्लाॅक के 14 से 23 वर्ष आयु के युवा किसी भी जिले से खेल सकते है। हालांकि खिलाड़ियों को अपनी आयु से संबंधित प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

जिला में चारों खंडो में खेलों के आयोजन के लिए स्टेडियमों का चयन कर लिया गया है

लघु सचिवालय के सभागार में नगराधीश मन्नत राणा ने वीडियो कांफं्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में भाग लिया। उन्होंने बताया कि जिला पंचकूला में चारों खंडो पिंजौर, रायपुररानी, मोरनी और बरवाला में इन खेलों के आयोजन के लिए स्टेडियमों का चयन कर लिया गया है। पिंजौर ब्लाॅक में अरूणा आसफ अली राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय और अमरावती विद्यालय, मोरनी ब्लाॅक में राजकीय पाॅलटेक्निक काॅलेज, गांव बहलों और राजकीय वरिष्ठ माध्यिमक स्कूल मांधना, रायपुररानी ब्लाॅक में निगन्या विद्या मंदिर, राजकीय हाई स्कूल धारवा और नवोदय विद्यालय और बरवाला ब्लाॅक में राजीव गांधी खेल स्टेडियम नग्गल में खेलों का आयोजन किया जाएगा। जिला स्तर पर ताउ देवी लाल सेक्टर-3 पंचकूला में खेल आयोजित किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि सीएम कप के सफल आयोजन के लिए समय से पूर्व सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाएगी। खेल स्टेडियमों पर पीने के पानी, शौचालयों और प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था की जाएगी।

इस अवसर पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी राजन सिंगला, जिला खेल अधिकारी नील कमल और जिला शिक्षा अधिकारी सतपाल कौशिक भी उपस्थित थे।

https://propertyliquid.com

29 अप्रैल से 14 मई तक मैक्सिकों सिटी में आईटीएफ वल्र्ड चैंपियनशिप का किया जाएगा आयोजन

महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बरवाला के मदनपुर गाँव में पोषण एवं बेटी बचाओ बेटी पढाओ के लिए लगाया गया जागरूकता कैंप

शिविर में महिलाओं को मुख्यमंत्री मातृत्व सहायता योजना के बारे में दी गई जानकारी

महिलाओ को अनिमिया व पोषण के बारे किया गया जागरूक

For Detailed

पंचकूला, 23 फरवरी- महिला एवं बाल विकास विभाग पंचकूला द्वारा बरवाला के मदनपुर गाँव में पोषण एवं बेटी बचाओ बेटी पढाओ का जागरूकता कैंप लगाया गया। इस अवसर पर जिला संयोजक पोषण मीनू व  जिला सयोजक किरण भाटिया भी उपस्थित थी।

  जिला कार्यक्रम अधिकारी डॉ सविता नेहरा ने बताया कि हरियाणा सरकार ने गर्भवती महिलाओं के लिए एक नई योजना शुरू की है। इस योजना के तहत राज्य की गर्भवती महिलाओं को 5000 की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना की तर्ज पर सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मातृत्व सहायता योजना शुरू की गई है। केंद्र सरकार की योजना के तहत 5000 और राज्य सरकार की योजना के तहत 6000 की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

    उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री मातृत्व सहायता योजना की खास बात यह है कि दूसरा बच्चा यदि लड़का है तब भी इस योजना का लाभ दिया जाएगा। इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य की गर्भवती महिलाओं को 5000 की आर्थिक सहायता प्रदान करना है ताकि महिलाएं गर्भावस्था मैं अपने खान-पान का अच्छे से ध्यान रख पाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री मातृत्व सहायता योजना का लाभ पाने के लिए 8 मार्च 2022 या उसके बाद जन्मे लड़के पर महिलाएं इस योजना के लिए आवेदन कर सकती हैं।

     उन्होंने बताया कि हरियाणा के मूल निवासी महिलाएं ही इस योजना का लाभ ले सकती है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति की महिलाएं लाभ ले सकती है। आंशिक रूप से 40 प्रतिशत या पूर्ण रूप से दिव्यांग महिला इस योजना का लाभ ले सकती है। बीपीएल राशन कार्ड धारक महिला इस योजना का लाभ ले सकती है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री योजना की लाभार्थी महिला, ई-श्रम कार्ड धारक महिला व वार्षिक 8 लाख रुपये से कम आय वाली महिलए इस योजना का लाभ ले सकती है। उन्होंने बताया कि इसके लिए परिवार पहचान पत्र, महिला का आधार कार्ड, बैंक खाता संख्या, एमसीपी कार्ड, बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने होंगे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री मातृत्व सहायता योजना के तहत आवेदन कर लाभ प्राप्त करने के लिए जल्द से जल्द अपने निकटतम आगंवाडी कार्यकर्ता से संपर्क करें।  

   कार्यक्रम के अंतर्गत आंगनवाडी केंद्र में महिलाओ को अधिकारी द्वारा  अनिमिया व  पोषण के बारे में पूर्ण जानकारी दी गयी। उन्हें बताया गया की खून की कमी से शरीर में सांस फूलना, थकान होना, दिल की धड़कन तेज आदि दुषप्रभाव का सामना करना पड़ता है। उन्हे समय-समय पर एचबी टेस्ट करवाने व आयरन से भरपूर भोजन लेने के बारे में कहा गया जोकि चकुंदर, पपीता अमरुद आदि फल खाने से मिल सकता  है तथा लोहे की कडाई में खाना बनाने से भी आयरन भरपूर मात्रा में मिलता है। खाने के साथ विटामिन सी का कोई ना कोई स्रोत जरुर लें ।

https://propertyliquid.com

29 अप्रैल से 14 मई तक मैक्सिकों सिटी में आईटीएफ वल्र्ड चैंपियनशिप का किया जाएगा आयोजन

नवंबर माह में आयोजित अग्निवीर तकनीकी और ट्रेडसमैन भर्ती परीक्षा का परिणाम घोषित

सफल उम्मीदवार 26 फरवरी को प्रातः 10 बजे तक अपने दस्तावेजों के साथ भर्ती कार्यालय अंबाला कैंट में पंहुचना करें सुनिश्चित

For Detailed

पंचकूला, 23 फरवरी : भर्ती कार्यालय अंबाला कैंट द्वारा नवंबर माह में आयोजित अग्निवीर तकनीकी और ट्रेडसमैन भर्ती परीक्षा का परिणाम  Join Indian Army Website www.joinindianarmy.nic.in पर प्रकाशित कर दिया गया हैं।


इस संबंध में जानकारी देते हुए निदेशक, भर्ती अंबाला कर्नल वीएस पांडेय ने बताया कि जिन उम्मीदवारों का रोल नंबर उपरोक्त परिणाम में प्रकाशित हुआ है वे आगे के दस्तावेज के लिए 26 फरवरी को प्रातः 10 बजे भर्ती कार्यालय अंबाला कैंट में पंहुचना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि सभी चयनित उम्मीदवार एडमिट कार्ड के साथ 10वीं और 12वीं की मूल प्रति और दो फोटोकाॅपी अवश्य साथ लाए। परिणाम देखने के लिए साईट पर जाकर फाइनल रिजल्ट पर क्लीक करें और एआरओ आरओ (हैडक्वाटर) अंबाला चैक करें।

https://propertyliquid.com

29 अप्रैल से 14 मई तक मैक्सिकों सिटी में आईटीएफ वल्र्ड चैंपियनशिप का किया जाएगा आयोजन

पंचकूला में पांचवा चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल का आगाज

19 राज्यों की 25 भाषाओं में बनी 133 फिल्में हैं 25 फरवरी तक अवार्ड की दौड़ में

*10 लाख राशि के 29 नकद पुरस्कार और ट्राफी किसके हाथ में होगी,इसकी समापन पर होगी घोषणा *

For Detailed

पंचकूला, 23 फरवरी:  आठ शॉर्ट फिल्म्स, 9 डाक्यूमेंट्री, 13 चिल्ड्रन फिल्म्स और 17 कैंपस प्रोफेसनल (शॉर्ट्स फिल्म्स) की स्क्रिनिंग के साथ 5 वें चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल का शानदार आगाज हुआ।

    पंचकूला के  रेड बिशप कांप्लेक्स में आयोजित तीन दिवसीय फिल्म फेस्टिवल के लिए चार विशेष प्रकार के हाईटेक थिएटर तैयार किए गए हैं,जहां अगले दो दिन भी विविध श्रेणी की फिल्मों का प्रदर्शन होगा। इनमें से श्रेष्ठ रहने वाली 29 फिल्मों को भारतीय चित्र साधना की ओर से 10 लाख के नकद पुरस्कार,प्रशस्ति पत्र और ट्राफी मुख्यातिथि द्वारा समापन समारोह में दी जाएगी।  

   फिल्म फेस्टिवल के पहले दिन सिनेमा जगत के कई सितारे यहां नजर आए,जिन्होंने अपनी कसौटी पर इन फिल्मों की स्क्रीनिंग के दौरान समीक्षा भी की।पहले दिन कुल 47 फिल्मों की स्क्रीनिंग की गई। आयोजन स्थल पर बनाए गए ऑडी -1 में शॉर्ट्स फिल्म्स, ऑडी-2 में डाक्यूमेंट्री, ऑडी-3 में चिल्ड्रन फिल्म्स और ऑडी-4 में कैंपस प्रोफेसनल (शॉर्ट्स फिल्म्स) दिखाई गई और इसी के साथ दिन के दो सत्रों में दो मास्टर क्लासेस भी आयोजित की गई। इनमें पहली मास्टर क्लास में आकर्षण का विशेष केंद्र रहे तीन दशक पहले दूरदर्शन पर आए बहुचर्चित सीरियल चाणक्य फेम एवं पिंजर तथा मौहल्ला अस्सी जैसी फिल्मों के निर्माता एवं निर्देशक डॉ. चंद्र प्रकाश द्विवेदी।

   उनके अलावा पहले दिन मास्टर क्लास में फिल्म जगत की अन्य चर्चित हस्तियों में संदीप भूतोड़ि़या , अनंत विजय ने फिल्म विषयों पर अपनी जानकारी साझा की।  दूसरी मास्टर क्लास ‘कहानी से सिनेमा’ विषय पर “द कश्मीर फाइल्स” फिल्म के बहुचर्चित निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने ली और सिनेमा संबंधित बारीकियों को फिल्म निर्माण की अलग अलग विधाओं से जुड़े प्रशिक्षुओं से साझा किया।

    पंचकूला में भारतीय चित्र साधना के पांचवें चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल की घोषणा के बाद से सबसे बड़ा इंतजार आज तब खत्म हुआ जब यहां एक के बाद एक फिल्मों का प्रदर्शन अलग अलग चार थिएटरों में शुरु हुआ। संभवतः इस तरह का यह पहला बड़ा प्रयास था,जब हरियाणावासी इस तरह के बिग इंवेंट का हिस्सा बने। यहां बता दें कि भारतीय चित्र साधना  के पांचवे संस्करण में देश के 19 राज्यों से 25 भाषाओं की कुल 663 फिल्मों की एंट्री हुई थी, इनमें से चयनित 133 फिल्मों की स्क्रिनिंग 25 फरवरी तक चलेगी।यानी सीधे तौर यह फिल्म अवार्ड की दौड़ में शामिल हो चुकी हैं।प्रतिभागियों में उत्साह के साथ 25 मार्च की देर शाम तक कौतूहल लाजिमी है,क्योंकि भव्य समापन समारोह के मंच पर 29 पुरस्कार विजेताओं के साथ ट्राफी किसके हाथों में होगी,इससे पर्दा हटेगा।  

सुनील दत्त थिएटर में पहले दिन इन 8 शॉर्ट फिल्म्स फिल्मों की हुई स्क्रीनिंग

1.   अवतारी – -सुबोध आनंद (निर्देशक)
2.   भरूप    – मधुर त्यागी  (निर्देशक)
3.   प्रभाविनी – प्रबल खौंड  (निर्देशक)
4.   तरंग दैर्ध्य  – रूद्रजीत रॉय (निर्देशक)
5.   उकिर्द्याचा घरत (बीच के घोंसले में)  – दीपक विश्वनाथ पवार  (निर्देशक)
6.   गंदा – पवन कुमार  (निर्देशक)
7.   नई पहल – रणविजय राव   (निर्देशक)
8.   विशुद्धि – जय सिंह राघव  (निर्देशक)

सतीश कौशिक थिएटर में इन 9 डाक्यूमेंट्री की स्क्रिनिंग

1.  हिमालय की काशी -अमन शर्मा (निर्देशक)
2.  एक गांव, दिशा की और -अरविंद चौधरी  (निर्देशक)
3.  हम सब एक हैं – सीमा मुरलीधरा  (निर्देशक)
4.  सफ़र – प्रशांत शिरी नरेश कुहिकर(निर्देशक)
5.  लाचित,योद्धा – पार्थसारथी महंत  (निर्देशक)
6.  विभाजन- रुचि नारायण  (निर्देशक)
7.  पोर्टमांटेउ: द वर्ड एंड द वर्ल्ड -धनंजय भावलेकर  (निर्देशक)
8.  मुस्कुराती हुई देवियाँ – ऋचा सिंह राजपुरोहित  (निर्देशक)
9.  गोंड जनजाति की वीरांगना रानी दुर्गावती -अशोक शरण  (निर्देशक)

राममोहन थिएटर में हुई 13 चिल्ड्रन फिल्म्स की स्क्रिनिंग

1.  बापू की गाड़ी -आशीष बाथरी  (निर्देशक)
2.  मुटिके खेलिबि – तोफान मोहंती  (निर्देशक)
3.  भगवान का अपना बगीचा – जी.एस.उन्नीकृष्णन नायर  (निर्देशक)
4.  ज़म्या – अमोल आनंदराव गरुड़  (निर्देशक)
5.  निराक्षरा -अतुल कुमार  (निर्देशक)
6.  उम्बारा – प्रणय रमेश कोटांगले (निर्देशक)
7.  मेरी बात सुनो – एधा टिकू (निर्देशक)
8.  बस्ता – राजीव रंजन (निर्देशक)
9.  चुप्पी तोड़ो (चुप्पी तोड़ो)- मोना सरीन (निर्देशक)
10. मैं भारत. – डॉ.सुधीर आज़ाद (निर्देशक)
11. कलाम – हरेंद्र सिंह (निर्देशक)
12. पंचविस -रविन्द्र प्रमोद वीरकर (निर्देशक)
13.पानपोई – किरण मारुति शिंदे (निर्देशक)

सत्येन कप्पू थिएटर में हुई 17 कैंपस प्रोफेसनल (शॉर्ट्स फिल्म्स) की स्क्रिनिंग

1.  आइना – सारंगी स्मिता कृष्णकुमार (निर्देशक)
2.  उसकी दो दुनिया -आशुतोष मिश्रा (निर्देशक)
3.  हम ना नचेब (मैं डांस नहीं करूंगा) -विशाल कुमार रंजन (निर्देशक)
4.  बीयरबानी – नितेश शर्मा (निर्देशक)
5.  गौ-धर्म – उत्सव ठाकुर (निर्देशक)
6.  चौखटा – शिबाली विश्वास (निर्देशक)
7.  वो सात कदम – पवित्रा वर्मा (निर्देशक)
8.       दृवि – रेन्ज़र्रा हैआपका – अंश विश्वकर्मा (निर्देशक)
9.       लेटर बॉक्स -आदित्य उपाध्याय (निर्देशक)
10.   लोन आसान डारो पर -आशीष बाथरी (निर्देशक)
11.   सूर्यास्त – मान सिंह बास्की (निर्देशक)
12.   पर्दा डालना -अशोक पटेल (निर्देशक)
13.   बाँध – आकाश सिंह (निर्देशक)
14.   नादान चिरैया – अंश विश्वकर्मा (निर्देशक)
15.   बरसा -अखिलेश के ए (निर्देशक)
16.   नृत्य करती हुई लड़की – अनंथा एस (निर्देशक)
17.   रावण-छाया – आनंद त्रिपाठी (निर्देशक)

फिल्म फेस्टिवल में विभिन्न प्रदेशों से पहुंचें छात्र-छात्राएँ और एनसीसी कैडेट्स हरियाणवी लोक गीतों पर खूब थिरके।

https://propertyliquid.com

29 अप्रैल से 14 मई तक मैक्सिकों सिटी में आईटीएफ वल्र्ड चैंपियनशिप का किया जाएगा आयोजन

5वें चित्र भारती फिल्मोत्सव का हुआ आगाज

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने परम्परागत दीप प्रज्वलित कर किया फिल्मोत्सव का शुभारम्भ

फिल्मों के माध्यम से हरियाणवी संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार ने बनाई फिल्म और मनोरंजन नीति – मनोहर लाल

पंचकूला के पिंजोर में बनेगी फिल्म सिटी – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने अनंत विजय द्वारा लिखित पुस्तक ओटीटी का मायाजाल का किया विमोचन

For Detailed

पंचकूला, 23 फरवरी:- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि फिल्मों के माध्यम से हरियाणवी संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से फिल्म और मनोरंजन नीति बनाई गई है। इस नीति के तहत पंचकूला के पिंजोर में फिल्म सिटी स्थापित की जाएगी और इसके लिए भूमि चिन्हित कर ली गई है।

श्री मनोहर लाल आज रैड बिश्प के कन्वेंशन सेंटर में तीन दिवसीय 5वें चित्र भारती फिल्मोत्सव का शुभारम्भ करने उपरांत फिल्म जगत की हस्तियां व उपस्थित लोगों को मुख्यातिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञान चन्द गुप्ता भी उपस्थित थे।

इस मौके पर श्री मनोहर लाल ने अनंत विजय द्वारा लिखित पुस्तक ओटीटी का मायाजाल का विमोचन किया और भारतीय चित्र साधना को 1 करोड़ रूपये सहायता राशि देने की घोषणा की।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा का नाम अब एग्रीकल्चर में ही नहीं कल्चर में भी पूरे  विश्व में प्रसिद्ध हुआ है। हरियाणा की भाषा, संस्कृति का प्रचार-प्रसार पूरे विश्व में हो, इसके लिए विशेष प्रयास किए गए हैं। पिंजोर में फिल्म सिटी के स्थापित होने से ना केवल हरियाणवी संस्कृति और भाषा को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि रोजगार के नये अवसर भी सृजित होंगे। उन्होंने फिल्म निर्माताओं से आह्वान किया कि वे पिंजोर में स्थातिप होने वाली फिल्म सिटी में अपने स्टूडियो स्थापित करें। पंचकूला में पिंजोर और पहाड़ी क्षेत्र मोरनी के अलावा साथ लगते हिमाचल प्रदेश और उतराखंड में फिल्मों की शूटिंग के लिए बेहतरीन लोकेशन उपलब्ध हैं।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा फिल्म और मनोरंजन नीति के तहत फिल्म निर्माताओं को सबसिडी प्रदान करने के लिए आवेदन आमंत्रित किए गये  हैं और आगामी 10 मार्च को गुरूग्राम में आयोजित कार्यक्रम में यह सबसिडी प्रदान की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने भारतीय चित्र  साधना की प्रशंसा करते हुए कहा कि फिल्म जगत के माध्यम से समाज को संस्कारित करने के लिए हरियाणा सरकार हर सहयोग के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के फिल्मोत्सव गुरूग्राम, हिसार, करनाल के साथ-साथ प्रदेश के अन्य जिलों में भी आयोजित किए जाने चाहिए।
उन्होंने कहा कि लोग आत्मचिंतन कर अपने जीवन काल में किए गए कार्यों को एक फिल्म के रूप में देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि वे एक छोटे से गांव से उठकर मुख्यमंत्री जैसे बड़े पद पर पहुंच कर प्रदेश के 2.80 करोड़ लोगों को अपना परिवार मानकर सेवा भावना से काम कर रहे हैं। श्री मनोहर लाल ने कहा कि ज्ञान की प्राप्ति श्रवण, पाठन और दृश्य से होती  है। उन्होंने निर्माताओं से आह्वान किया कि वे मनोरंजन के साथ-साथ समाज को अच्छे संस्कार देने वाली फिल्मों का निर्माण करें, ताकि लोग अच्छे संस्कार लेकर देश के नव-निर्माण में अपना योगदान दे सकें।

इस अवसर पर उपायुक्त सुशील सारवान, मेयर कुलभूषण गोयल, एसडीएम गौरव चैहान, नगराधीश मन्नत राणा, शिवालिक विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष ओम प्रकाश देवीनगर, बाल कल्याण परिषद की मानद महासचिव रंजिता मेहता, विवेक अग्निहोत्री, डा.चंद्रप्रकाश द्विवेदी, दलेर मेहंदी, डा.मनमोहन वैद्य, नरेंद्र ठाकुर,भारतीय चित्र साधना के अध्यक्ष बीके कुठियाला,आयोजन समिति के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश कुमार,सचिव सुरेंद्र यादव,अतुल गंगवार,सांसद कार्तिकेय शर्मा,बबीता फौगाट,पायल कनौडिया और परित संधू, आलोक कुमार, विजय कुमार और मुकेश गर्ग उपस्थित रहे।

https://propertyliquid.com