*किसानों की आमदनी बढाने के लिए चलाई जा रही अनेक योजनाएं*

राजकीय महाविद्यालय में महिला प्रकोष्ठ और होम साइंस विभाग द्वारा स्किल डेवलपमेंट पर सात दिवसीय कार्यशाला का किया जा रहा आयोजन

हस्तकलाएँ हमारे जीवन का और हमारी संस्कृति का रही हैं अहम हिस्सा- प्रिंसिपल यशपाल सिंह

For Detailed

पंचकूला, 6 फरवरी   :  राजकीय महाविद्यालय सेक्टर-1 में महिला प्रकोष्ठ और होम साइंस विभाग द्वारा स्किल डेवलपमेंट पर सात दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा हैं।  जिसमें छात्राओं को विभिन्न प्रकार की एम्ब्रायडरी सिखाई जा रही हैं। कार्यशाला में रिर्सोस पर्सन कुसुम और अंजलि शिरकत कर रही हैं।

इस अवसर पर कार्यशाला का उद्घाटन  करते हुए राजकीय महाविद्यालय के प्रिंसिपल श्री यशपाल सिंह ने कहा कि ये हस्तकलाएँ हमारे जीवन का और हमारी संस्कृति का अहम हिस्सा रही है। आज की भागदौड़ में हम सब अपनी हस्तकलाओ से दूर हो रहे हैं।
 कार्यशाला में महिला प्रकोष्ठ की संयोजक डॉ अपराजिता ने कहा कि एम्ब्रायडरी करके बहुत कम लागत से हम अपना व्यवसाय शुरू कर सकते  हैं।
इस अवसर पर महिला प्रकोष्ठ की सदस्य डॉ कुसुम, डॉ पूजा, डॉ रेखा पुनिया, डॉ शैलजा कुमारी ,डॉ शीतल  उपस्थित रहीं।

https://propertyliquid.com

*किसानों की आमदनी बढाने के लिए चलाई जा रही अनेक योजनाएं*

भौतिक निर्माण से पहले व्यक्ति निर्माण आवश्यक – मुख्यमंत्री मनोहर लाल

पंचकूला में मिशन कर्मयोगी के अंतर्गत आयोजित नैतिकता शिविर मंे बोले मुख्यमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अधिकारियों/कर्मचारियों में नैतिकता के भाव को आत्मसात करने के लिए की गई है मिशन कर्मयोगी की पहल

हमारी विचारधारा में नैतिकता सर्वोपरि – मुख्यमंत्री

कर्मयोगी प्रशिक्षण माॅडयूल को हिपा अपने पाठयक्रम में करे उपयोग

For Detailed

पंचकूला , 6 फरवरी – हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने समाज में व्यक्ति निर्माण की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि भौतिक निर्माण से पहले व्यक्ति निर्माण आवश्यक है। एक बार व्यक्ति का निर्माण हो गया तो भौतिक निर्माण अपने आप हो जाएगा। व्यक्ति निर्माण पर सरकारों का ध्यान जाएगा पहले किसी ने सोचा नहीं था।

श्री मनोहर लाल आज पंचकूला में मिशन कर्मयोगी के अंतर्गत आयोजित नैतिकता शिविर (एथिक्स काॅन्कलेव) में उपस्थित भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा और हरियाणा सिविल सेवा के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सुशासन में नैतिकता के भाव को आत्मसात करने के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए मिशन कर्मयोगी की शुरूआत की है। अधिकारियों और कर्मचारियों की जिम्मेदारी है कि व्यवस्थाओं में जनता का विश्वास बढे। उन्होंने कहा कि लोगों में अविश्वास की भावना को खत्म करना एक चुनौती है परंतु अधिकारी अपनी सोच और कार्यशैली में बदलाव लाकर जनता की अकांक्षाओं पर खरा उतर सकते हैं। अधिकारियों व कर्मचारियों में संकल्प, ताकत व मनोबल के साथ समाज सेवा के भाव को जागृत करने के लिए मिशन कर्मयोगी की शुरूआत की गई है। अधिकारी व कर्मचारी असल कर्मयोगी बनते हुए समाज को अपना सर्वश्रेठ देगें तो उन्हें आत्मिक संतोष की प्राप्ति होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 में जब उन्हांेने सत्ता की बागडोर संभाली तब शासन और अधिकारियों/कर्मचारियों की कार्यप्रणाली को लेकर उनके मन में कई तरह के प्रश्न थे। शासन मंे अच्छे प्रवृति के लोग भी बहुत हैं। परन्तु बदलाव की आवश्यकता को देखते हुए हमनें 25 दिसंबर 2015 को प्रथम सुशासन दिवस पर व्यवस्था परिवर्तन की दिशा में अनेक पहल की शुरूआत की। पिछले लगभग साढे 9 सालों में हमने सुशासन की दिशा मंे अनेक सफल कार्य किए हंै। परन्तु अभी भी बहुत कुछ करना शेष है और इसके लिए आप सभी का सहयोग अति आवश्यक है।

हमारी विचारधारा में नैतिकता सर्वोपरि – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सौभाग्यशाली है कि हमें प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में जनसेवा का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और वे स्वयं उस विचारधारा से आते हैं जहां नैतिकता सर्वोपरि है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पहल करते हुए सर्वप्रथम राजनेताओं की छवि सुधारने का कार्य किया। उन्हें गर्व है कि प्रधानमंत्री ने न केवल इसका स्वयं पालन किया बल्कि अपनी पूरी टीम मंे भी नैतिकता की भावना को सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री ने एक बार कहा था कि वे दिल्ली से एक रूपया भेजते हैं तो केवल 15 पैसे ही नीचे पहुंच पाते हैं बाकि इधर-उधर हो जाते हैं। परन्तु आज सरकार द्वारा भेजा गया एक-एक पैसा विकास के कार्यों पर खर्च हो रहा है।

उन्होंने कहा कि हरियाणा मंे सरकार बनते ही उन्होंने सर्वप्रथम सभी भेदभाव को खत्म किया और हरियाणा एक-हरियाणवी एक की भावना से प्रदेश का समान विकास सुनिश्चित किया। पूर्ववर्ती सरकारों का जिक्र करते हुए श्री मनोहर लाल ने कहा कि पहले के मुख्यमंत्री अपने-अपने जिलों के विकास पर ही केन्द्रित रहते थे। उन्होंने स्पष्ट किया कि नियमों और कानून के विरूद्ध कार्य करने वालों को बर्दाशत नहीं किया जाएगा।  

मुख्यमंत्री ने अधिकारियांे से आह्वान करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार ने सात ’एस’ – शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वाभिमान, स्वावलंबन, सुशासन व सेवा के लक्ष्य पर कार्य करते हुए प्रदेशवासियोें के जीवन को सुगम बनाया है। सभी अधिकारी इन सात ’एस’ को साकार करने की दिशा में कार्य करेगें तो समाज सुखी होगा। उन्होंने कहा कि हमनें तीन ’सी’ – क्राइम, करप्शन और कास्ट बेस्ड पॅालिटिक्स को खत्म करने के सफल प्रयास किए हैं। उन्हांेने कहा कि आज हम सब नैतिक हैं यह मानकर चलें और अनैतिक ना हों इसके लिए मिशन कर्मयोगी चलाया गया है। 2 लाख से अधिक कर्मचारी व अधिकारी का प्रशिक्षण पूरा हो चुका है और 31 मार्च 2024 तक साढे 3 लाख कर्मचारी कर्मयोगी का प्रशिक्षण प्राप्त कर लेंगे।

मुख्यमंत्री ने हिपा की महानिदेशक श्रीमति चंद्रलेखा बैनर्जी से आग्रह किया कि मिशन कर्मयोगी के अंतर्गत कर्मचारियों व अधिकारियों को दिए जा रहे प्रशिक्षण माॅडयूल को हिपा के पाठयक्रम में उपयोग किया जाना चाहिए।

सुधांशु महाराज ने मुख्यमंत्री को बताया कर्मयोगी, बोले उनकी सादगी व अपनेपन से हैं काफी खुश और प्रभावित

इससे पहले सुधांशु जी महाराज ने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल को कर्मयोगी बताते हुए कहा कि वे मुख्यमंत्री की सादगी व अपनेपन से काफी खुश और प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि वे राजनेताओं से कम मिलते हैं परन्तु मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल नेता कम अपने ज्यादा लगते हैं। उन्हांेने अधिकारियों से आह्वान किया कि अपने स्वभाव में कर्मयोग लाएं तभी जीवन कर्मयोगी बनता है। उन्होंने कहा कि आज अधिकारियों के पास ऐसा समय है जिसका उपयोग करते हुए ऐसा इतिहास लिखें कि आने वाली पीढिया उनकी मिसाल दे सकें।

इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने कहा कि उन्हंे गर्व है कि हरियाणा देश का पहला राज्य बन गया है जहां हर कर्मचारी व अधिकारी को नैतिकता के विषय पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि मिशन कर्मयोगी का उद्देश्य अधिकारियांे और कर्मचारियों के कौशल और दक्षता विकास के साथ-साथ समाज के प्रति उनकी जवाबदेही को बढाना है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक कार्योंे और निर्णयों के प्रति हमारी जवाबदेही होनी चाहिए। हमें सुनिश्चित करना चाहिए कि हम जो कार्य कर रहें है या निर्णय ले रहें हैं उसका आम जनता पर क्या प्रभाव पडेगा।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, हिपा की महानिदेशक श्रीमति चंद्रलेखा बैनर्जी सहित प्रदेशभर से आए हुए सिविल और पुलिस सेवा के अधिकारी भी उपस्थित थे।

https://propertyliquid.com

*किसानों की आमदनी बढाने के लिए चलाई जा रही अनेक योजनाएं*

हरियाणा के श्रम राज्यमंत्री ने सेक्टर-20 में ‘श्रम शक्ति भवन’ का विधिवत हवन यज्ञ कर किया भूमि पूजन

-38 करोड रुपये की लागत से एक एकड में बनेगा श्रम शक्ति भवन-अनूप धानक

-इस भवन के बनने से एक छत के नीचे श्रमिकों को मिलेगी सभी सुविधाए-ज्ञानचंद गुप्ता

For Detailed

पंचकूला, 6 फरवरी- हरियाणा के श्रम राज्यमंत्री श्री अनूप धानक ने आज सेक्टर-20 के पुलिस थाना के समीप एक एकड में लगभग 38 करोड रुपये की लागत से बनने वाले ‘श्रम शक्ति भवन’ का विधिवत भूमि पूजन किया। इस अवसर पर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने विशिष्ट अतिथि के रूप शिरकत की।
इससे पहले हरियाणा के श्रम राज्यमंत्री श्री अनूप धानक व हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने वेदमूर्ति तपोनिष्ठ श्री राम शर्मा के चित्र पर पुष्प अर्पित कर नमन किया।
श्री अनूप धानक ने बताया कि ’श्रम शक्ति भवन’ में एक बेसमेंट और 7 मंजिलों का निर्माण किया जाएगा। भवन में उद्योग विभाग, श्रम विभाग और भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के  कार्यालय बनाए जाएंगे। इस भवन में पूरी तरह से सुसज्जित कार्यालय, सम्मेलन कक्ष और कन्वेंशन हॉल का भी निर्माण किया जाएगा। भवन के बेसमेंट में संवेदनशील रिकॉर्ड की सुरक्षा के लिए स्ट्रॉन्ग रूम बनाया जाएगा। इस भवन की खास बात यह है कि यह भवन पर्यावरण-हितैषी और विकलांगों के अनुकूल होगा। उन्होंने बताया कि श्रम भवन में कामकाजी कर्मचारियों के बच्चों के  लिए क्रेच की सुविधा भी होगी।


श्री धानक ने बताया कि इस भवन का निर्माण अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ एक केंद्रीय सेंटर के रूप में काम करने के लिए किया जाएगा, जो श्रमिकों और प्रशासन के बीच तालमेल को बढ़ाएगा, प्रभावी संवाद सुनिश्चित करेगा और श्रमिकों के कल्याण के लिए चल रही प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करेगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा में  श्रम समुदाय को सशक्त और अत्याधुनिक बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन  समारोह में श्रम विभाग के अधिकारियों की सामूहिक उपस्थिति राज्य के कार्यबल की स्थितियों में सुधार को दर्शाती है।
हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रश्न के उत्तर में कहा कि इस भवन के बन जाने से एक ही छत के नीचे श्रमिकों की सभी समस्याओं का निवारण किया जा सकेगा। उन्होनंे कहा कि यह भवन आधुनिक सुविधाओं से सुसज्र्जित होगा। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली है कि कार्य को तीन शिफ्टों में पूरा किया जाए ताकि कार्य जल्दी पूरा हो और भवन मजबूत बन सके। उन्होंने कहा कि आज पूरा विश्व प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व का लौहा मान रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाला समय भारत का है। वो दिन दूर नहीं जब भारत विश्व गुरु बनकर दुनिया का नेतृत्व करेगा।
श्री गुप्ता ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल का पंचकूला पर विशेष फोक्स है। आज पंचकूला शिक्षा का हब बन गया है। सेक्टर-23 निफ्ट, सेक्टर-26 में बहुतकनीकि मल्टी स्कील सेंटर तथा अन्य शैक्षणिक संस्थाओं से विद्यार्थियों को काफी लाभ मिल रहा है। माता मनसा देवी मंदिर परिसर में आयुष एम्स का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। इसके अलावा हाल ही में सेक्टर-32 में मेडिकल काॅलेज की आधारशिला रखी गई है और इसके निर्माण कार्य को जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। इससे जिलावासियों और आस पास के लोगों को काफी लाभ होगा। उन्होंने बताया कि अब तक पंचकूला में 6000 करोड रुपये से भी अधिक के विकास कार्य करवाए गए हैं।
इस अवसर पर श्रम विभाग के प्रधान सचिव राजीव रंजन, श्रम आयुक्त मनीराम शर्मा, संयुक्त आयुक्त परमजीत सिंह, रोहित बेरी, शिवालिक विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष ओमप्रकाश देवी नगर, जेजेपी के जिलाध्यक्ष दिलबाग नैन, जेजेपी के वरिष्ठ नेता ओपी सिहाग, बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष उमेश सूद, हरेंद्र मलिक, पार्षद जय कौशिक, सुनित सिंगला, सोनू बिडला, रितु गोयल, सुरेश वर्मा, प्रमोद वत्स, सिद्धार्थ राणा, राकेश कुमार, सुदेश बिडला सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

https://propertyliquid.com

*किसानों की आमदनी बढाने के लिए चलाई जा रही अनेक योजनाएं*

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की बड़ी घोषणा

प्रदेश में ओलावृष्टि से फसलों में हुए नुकसान की स्पेशल गिरदावरी करवाई जाएगी

For Detailed

पंचकूला, 6 फरवरी – हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश के कई जिलों में ओलावृष्टि से हुए फसलों के  नुकसान की स्पेशल गिरदावरी के आदेश दे दिए गए हैं।  

श्री मनोहर लाल ने यह जानकारी आज पंचकूला में मिशन कर्मयोगी के अंतर्गत आयोजित नैतिकता शिविर (एथिक्स काॅन्कलेव) को संबोधित करने उपरान्त पत्रकारों से बातचीत करते हुए दी।  इस अवसर पर विधान सभा के अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता भी उपस्थित थे।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि  पिछले तीन चार दिनों में प्रदेश भर में वर्षा और ओलावृष्टि हुई है।  ओलावृष्टि से कई ज़िलों में फसलों का नुक्सान हुआ है। आज ही हमने ऐसे स्थानों पर स्पेशल गिरदावरी के आदेश कर दिए हैं।  जिन किसानों की फसलों का नुक्सान हुआ है उनकी स्पेशल गिरदावरी करवाकर मुआवजे  का भुगतान किया जायेगा।

https://propertyliquid.com