कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

  • इच्छुक किसान विभाग के पोर्टल www.agriharyana.gov.in पर 27 मई तक आॅनलाइन माध्यम से कर सकते हैं आवेदन

For Detailed News

पंचकूला, 21 मई- जिला पंचकूला के किसानांे को वर्ष 2022-23 के दौरान विभिन्न कृषि यन्त्रो पर अनुदान हेतु आॅनलाईन आवेदन करने की अंतिम तिथि बढाकर 27 मई, 2022 तक बढा दी गई है। स्कीम का लाभ प्राप्त करने के लिए इच्छुक किसान विभाग के पोर्टल www.agriharyana.gov.in पर 27 मई तक आॅनलाइन माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।


इस संबंध में जानकारी देते हुए सहायक कृषि अभियन्ता, पंचकुला श्री ओमप्रकाश महिवाल ने बताया कि इस स्कीम के अंतर्गत पंचकूला जिलें में व्यकितगत किसान श्रेणी में अनुसूचित जाति/ जन जाति एवं महिला किसानों के लिए विभिन्न कृषि यन्त्रों बीटी काॅटन सीड ड्रिल, ट्रैक्टर चालित स्प्रेयर पंप, डायरेक्ट सीड राईस मशीन, ट्रैक्टर चालित रोटरी वीडर, पावर टिलर, ब्रिकेट बनाने की मशीन, स्व-चालित रीर बाइंडर, मक्का बोने की मशीन (मेज प्लांटर), मेज थ्रैशर और न्युमैटिक प्लांटर 50 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध करवाए जाएगे जिनके लिए किसान आवेदन कर सकता है। इस स्कीम के अंतर्गत किसानों को उपरोक्त यन्त्र 40 प्रतिशत से 50 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध करवाए जाएंगे।


उन्होंने बताया कि आवेदन के लिए किसान के नाम हरियाणा में रजिस्टर्ड टैªक्टर की वैध आर0सी0 (केवल ट्रैक्टर चलित मशीनों के लिए), किसान के नाम जमीन व उसकी पटवारी रिपोर्ट, किसान का बैंक खाता, आधार कार्ड और पैन कार्ड, मेरा फसल मेरा ब्यौरा पर रजिस्ट्रेशन, परिवार पहचान पत्र व अनुसूचित जाति /जन जाति के किसानों के लिएजाति प्रमाण पत्र अनिवार्य है।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बताया कि किसान को आवेदन के समय जिन कृषि यन्त्रों की अनुदान राशि 2.5 लाख रूपए से कम है उसके लिए 2500 रूपए तथा जिन कृषि यन्त्रों की अनुदान राशि 2.5 लाख रूपए अधिक है उसके लिए 5000 रूपए की बुकिंग राशि आॅनलाईन ही जमा करवानी होगी, जोकि रिफंडेबल होगी। उन्होंने बताया कि एक किसान लाभार्थी अधिकतम 3 विभिन्न प्रकार के कृषि यंत्र के लिए आवेदन कर सकता है। जिन किसानों ने पिछले 5 वर्षों में इन कृषि यंत्रों पर अनुदान लिया है, वे किसान इस स्किम में उसी यंत्र पर आवेदन करने के लिए पात्र नहीं होंगे। उन्होंने बताया कि अधिक जानकारी के लिए कृषि विभाग की वैबसाईट अथवा सहायक कृषि अभियन्ता, पंचकूला या उप कृषि निदेशक, कृषि तथा किसान कल्याण विभाग, पंचकूला कार्यालय में किसी भी कार्य दिवस को सुबह 09 बजे से सांय 05 बजे तक संपर्क कर किया जा सकता है।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

बैत बाज़ी में ग़ालिब ग्रुप ने बाज़ी मारी

Chandigarh May 21, 2022

For Detailed News

पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ के उर्दू विभाग द्वारा बैतबाज़ी का आयोजन किया गया, जिसमें उर्दू  फ़ारसी विभाग के छात्रों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया।कार्यक्रम में दो राउंड हुए, छात्रों ने  उर्दू भाषा के प्रमुख कवियों की मानक कविताओं का पाठ किया और शेरों की अंत्याक्षरी  में सफल रहे, मात्र पन्द्रह सेकेंड में हर प्रतिभागी को शेर पढ़ना था जिसकी वजह से अंत तक दोनों प्रतिभागियों ने कशमकश का माहौल बनाए रखा,जिसकी वजह से मुक़ाबला अंत तक बहुत रोचक रहा,जिसमें निर्णायकों ने अंतत:ग़ालिब ग्रुप को विजेता घोषित किया।

    इस ग्रुप में,राशिद अमीन नदवी,ख़लीक़ उर रहमान,जसप्रीत सिंह,बशीर,सुमेघा वैद,जेपी सिंह,नाज़िर, राम,मानिक व वीना आहूजा ने भाग लिया।

 विजेता टीम को ट्रॉफी से सम्मानित किया गया और सभी प्रतिभागियों को स्वर्ण पदक और प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया।

   इसके अलावा, हाफ़िज़ ग्रुप को सिकंड पुरस्कार के रूप में ट्रॉफी व रजत पदक और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।

 इस ग्रुप में मुहम्मद सुल्तान, सुदीप सिंह, विदुषी चंदेल, मनीज़ पनेसर, तरणजोत सिंह, मनदीप सिंह, परमवीर सिंह, रमनप्रीत, कार्तिक ने भाग लिया।

   अपने शुरुआती वक्तव्य में उर्दू विभाग के संयोजक और अध्यक्ष डॉ. अली अब्बास ने बैत बाज़ी के सिद्धांतों और नियमों के बारे में बताया और कहा कि उर्दू विभाग की तरफ़ से  पंजाब यूनिवर्सिटी के इतिहास में पहली बार यह बैत बाज़ी प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है।  उन्होंने कहा कि बैत बाज़ी  से छात्रों में शायरी व अदब का ज़ौक़ और सही शायरी पढ़ने का जुनून भी पैदा होगा।

 उर्दू और फारसी विभाग से सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और एडवांस डिप्लोमा और परास्नातक के छात्रों और शोधार्थियों के उत्साह को देखते हुए डॉ. अब्बास ने कहा कि जल्द ही विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों और चंडीगढ़ के विभिन्न कॉलेजों के बीच बड़े पैमाने पर बैत बाज़ी का आयोजन किया जाएगा.

https://propertyliquid.com/

   कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में भाग लेते हुए डॉ. रेहाना परवीन ने कहा कि कार्यक्रम अपेक्षा से अधिक सफल रहा।  विद्यार्थियों ने मानक शायरी को बहुत ही अच्छे ढंग से प्रस्तुत किया।छात्रों के उत्साह को देखते हुए ऐसा नहीं लगा कि विभाग में पहली बार यह बैत बाज़ी का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

    कार्यक्रम में बतौर जज  ‘तामीर ए हरियाणा’ के पूर्व संपादक और कवि डॉ. सुल्तान अंजुम ने कहा कि बैत बाज़ी कभी उर्दू के लोगों की पहचान थी, शिक्षकों की कविताओं को याद करना, उन्हें महफ़िलों में पढ़ना एक सराहनीय कार्य माना जाता था।  एक समय था जब कायस्थ घराने की शादी पार्टियों में बैत बाज़ी एक अनिवार्य रस्म थी।  लेकिन आजकल उर्दू के साथ-साथ बैत बाज़ी का शौक़ भी मद्धम पड़ता जा रहा है.  उर्दू विभाग में आयोजिन

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

ओढां में मुख्यमंत्री मनोहर लाल की होने वाली प्रगति रैली में उमड़ेगी रिकॉर्ड भीड़ : बिजली मंत्री रणजीत सिंह

सिरसा, 21 मई।

For Detailed News


हरियाणा के बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने कहा कि आगामी 29 मई को प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सिरसा के ओढां में होने वाली प्रगति रैली ऐतिहासिक होगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल सिरसा जिले के विकास के लिए अनेकों सौगात देंगे। बिजली मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री की कार्यशैली से जिला सिरसा की जनता भली भांति परिचित है और इसी को देखते हुए 29 मई की रैली में रिकॉर्ड तोड़ भीड़ उमड़ेगी।


यह बात बिजली मंत्री ने शनिवार को सिरसा स्थित अपने आवास पर आमजन की समस्याएं सुनने के उपरांत पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिला सिरसा में 368 करोड़ रुपये लागत की 38 परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास किया था। इसके अलावा प्रदेश सरकार द्वारा आमजन व किसानों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं क्रियान्वित की गई है जिससे आमजन को सरलता से उनका लाभ मिले। सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में बिना भेदभाव के सबका साथ-सबका विकास और सबका विश्वास की नीति पर कार्य किया जा रहा है। प्रदेश सरकार की और मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कार्यशैली पर मुहर लगाने के लिए निश्चित रुप से ओढां की प्रगति रैली में रिकॉर्ड भीड़ उमड़ेगी। प्रगति रैली को लेकर जिला के लोगों में बेहद उत्साह का माहौल है और रैली की तैयारियों को लेकर उचित दिशा निर्देश दिए गए हैं।

https://propertyliquid.com/


बॉक्स : प्रगति रैली की सफलता के लिए बिजली मंत्री 22 मई से करेंगे धुआंधार दौरे
बिजली मंत्री के सचिव जगसीर ने बताया कि बिजली मंत्री 22 मई को प्रात: 10.00 बजे कालांवाली की पुरानी अनाज मंडी में कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। इसके उपरांत दोपहर 2 बजे गांव फतेहपुरिया नियामत खां में लाइब्रेरी, हैंडबॉल ग्राउंड व जिम का शुभारंभ करेंगे। इसके अलावा सांय 5 बजे गांव दड़बी के शहीद उधम सिंह कंबोज धर्मशाला में कार्यकर्ताओं की बैठक कर रैली की सफलता के लिए दिशा निर्देश देंगे।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ देने के लिए गंभीरता से कार्य कर रही है सरकार : राज कुमार मक्कड़

– राज्य आयुक्त निःशक्तजन ने बस स्टैंड, सीनियर सैकेंडरी स्कूल भावदीन, एसबीआई हिसार रोड़, ओएचएम आदि स्थानों का निरीक्षण किया


सिरसा, 21 मई।

For Detailed News


सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग हरियाणा के राज्य आयुक्त नि.शक्तजन राज कुमार मक्कड़ ने कहा कि संविधान के अनुसार सरकारी नौकरियों में दिव्यांगजनों के लिए पदोन्नति में आरक्षण देने का प्रावधान है, जिसके मद्देनजर हरियाणा सरकार ने प्रदेश में इसे लागू किया है, इस योजना का दिव्यांग कर्मचारियों को बहुत अधिक फायदा भी मिल रहा है। नियम के अनुसार सभी दिव्यांग कर्मचारियों को 18 अप्रैल 2017 तक 3 प्रतिशत तथा उसके बाद 4 प्रतिशत सभी विभागों में पदोन्नति दी जा रही हैं और दिव्यांगों को इसका फायदा मिल रहा है।


वे शनिवार को स्थानीय बस स्टेंड पर निरीक्षण के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। तत्पश्चात उन्होंने सीनियर सैकेंडरी स्कूल भावदीन, एसबीआई हिसार रोड़, ओएचएम आदि स्थानों का निरीक्षण किया। जिला समाज कल्याण अधिकारी नरेश बत्रा, ट्रेफिक मैनेजर सुधीर कुमार, ट्रेफिक इंचार्ज राकेश कुमार, इंस्पेक्टर गजानंद, राजीव कुमार अरोड़ा, सहायक रवि मेहता मौजूद थे।


उन्होंने कहा कि हरियाणा के सभी विभागों में लगभग 20 हजार दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ मिलने जा रहा है और यह प्रक्रिया बहुत तेजी से साथ चल रही है। प्रतिदिन तीन से चार विभाग इस इस प्रक्रिया को पूरा कर रहे हैं। सरकार का लक्ष्य है कि 15 जून 2022 तक प्रत्येक पात्र दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ मिले। इसके अलावा जो दिव्यांग कर्मचारी सेवानिवृत हो गए हैं या स्वर्गवास हो गया है, उनका वेतन व पेंशन भी रिवाइज की जाएगी, उनके आश्रितों को बढ़ी हुई पेंशन का लाभ मिलेगा। सेवानिवृत कर्मचारियों को भी उनकी बढ़ी हुई पेंशन एरियर के साथ दी जाएगी। यह सरकार की बहुत ही महत्वाकांक्षी योजना है, जोकि देश के किसी भी प्रांत में शुरू नहीं हुई है।


उन्होंने कहा कि यदि कोई अधिकारी अपने दायित्व की पूर्ति करने में असमर्थ है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने उन्हें अवसर दिया है, इसलिए अधिकारी पूरे तन व मन से जनता की सेवा करें। हरियाणा सरकार एक लाख 91 हजार दिव्यांगों को ढाई हजार रुपये महीना पेंशन देती है, जिसमें जिला सिरसा के 13 हजार दिव्यांग शामिल हैं, जिनके बैंक खाते में हर महीने सीधे पैसे पहुंच रहे हैं। बैंक अधिकारियों को हिदायत दी गई है कि पेंशन लेने वाले दिव्यांगों के लिए रैंप की सुविधा के साथ-साथ व्हील चेयर का भी प्रबंध होना चाहिए। इसके अलावा बस स्टैंड पर दिव्यांगों के लिए रैंप, व्हील चेयर, शौचालय व बस में चढने के लिए विशेष व्यवस्था की जाए ताकि उन्हें किसी प्रकार की परेशानी न हो।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बस स्टेंड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि यात्रा करने वाले दिव्यांगों के लिए बस में तीन नंबर सीट का रिजर्व रखा जाए और यह सुनिश्चित करें कि उन्हें आरक्षित सीट का लाभ अवश्य मिले। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 32 हजार ऐसे दिव्यांग विद्यार्थी है, जो स्कूल नहीं जा सकते, लेकिन उनके नाम दर्ज है, उन्हें सरकार द्वारा 1950 रुपये प्रतिमाह पेंशन दे रही है। विभिन्न कारणों से दिव्यांग व्यक्तियों को अनेकों कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, मानसिक दिव्यांग को साइकोलॉजिस्ट, ब्लाइंड दिव्यांग को ब्रेल लिपि प्रशिक्षित अध्यापकों की आवश्यकता होती है। सरकार ये सभी सुविधाएं दिव्यांगों को उपलब्ध करवाने को लेकर प्रयासरत है। अधिकारी अपनी ड्यूटी के साथ-साथ दिव्यांगों के प्रति सकारात्मक सोच के साथ-साथ सेवा भाव से कार्य करें और उन्हें सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाना सुनिश्चित करें।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

दो बार के कॉमनवेल्थ खेलों के पदक विजेता प्रभपाल सिंह का फोर्टिस मोहाली में एडवांस्ड हाइब्रिड एसीएल सर्जरी के साथ सफलतापूर्वक इलाज किया गया

-हाइब्रिड एसीएल प्रोसीजर मूल संरचना को बहाल करने में मदद करती है, रीहैबलीटेशन में तेजी लाती है और संबंधित खेल में रोगी की वापसी सुनिश्चित करती है-

For Detailed News

जालंधर, 20 मई, 2022: फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली में ऑर्थोपेडिक्स टीम ने हाल ही में 2016 कॉमनवेल्थ खेलों के स्वर्ण पदक विजेता (कुश्ती) प्रभपाल सिंह की एसीएल टीयर और मेनिस्कस की चोट के लिए सफलतापूर्वक सर्जरी प्रोसीजर को पूरा किया। एसीएल घुटने में एक लिगामेंट है जो स्थिरता को नियंत्रित करता है और खेलकूद के लिए महत्वपूर्ण है। एसीएल इसमें टीयर (आंतरिक तौर पर फटना) से खेल करियर का नुकसान होता है, और इससे बड़े झटके लग सकते हैं। मेनिस्कस घुटने में एक कुशन है और आमतौर पर खेलने के दौरान क्षतिग्रस्त हो जाता है।

रोगी प्रभपाल को असहनीय दर्द हो रहा था और इससे मैदान पर उसका प्रदर्शन प्रभावित हो रहा था। 2016 के कॉमनवेल्थ खेलों में कुश्ती में स्वर्ण पदक और 2017 में उसी खेल स्पर्धा में रजत पदक जीतने वाले प्रभपाल अपनो स्पोर्ट्स इंजरी के कारण खेल को छोडऩे पर विचार कर रहे थे।

आखिरकार उन्होंने इस साल मार्च में फोर्टिस हॉस्पिटल मोहाली के ऑर्थोपेडिक्स और स्पोर्ट्स मेडिसिन के सलाहकार डॉ. मानित अरोड़ा से मुलाकात की और उसके बाद 22 मार्च को हाइब्रिड एसीएल सर्जरी करवाई। एसीएल सर्जरी के लिए हाइब्रिड एसीएल सर्जरी एक नई तकनीक है जो देशी शरीर रचना को बहाल करने में मदद करती है, पुनर्वास में तेजी लाती है और संबंधित खेल में रोगी की वापसी होती है।
फोर्टिस मोहाली में अच्छे रीहैबलीटेशन प्रोग्राम के बाद, रोगी प्रभपाल को सर्जरी के अगले दिन छुट्टी दे दी गई और वह बिना किसी सहारे के चलने में सक्षम हो गए। डॉ. अरोड़ा ने खुलासा किया कि रोगी प्रभपाल 6 महीने के भीतर कुश्ती में वापसी करने में सक्षम होंगे।

https://propertyliquid.com/

इस पूरे केस प्रीसजर के बारे में विस्तार से चर्चा करते हुए, डॉ. अरोड़ा ने कहा कि ‘‘रोगी के एसीएल टीयर और मेनिस्कस की चोट थी जो मैदान पर उसके प्रदर्शन को बाधित कर रही थी। मैंने हाइब्रिड एसीएल सर्जरी की सबसे एडवांस्ड तकनीक के माध्यम से उनके घुटने का ऑपरेशन किया। रोगी प्रभपाल के 6 महीने के भीतर खेल के मैदान में वापसी करने की संभावना है।’’

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने चैथे खेलो इंडिया यूथ गेम्ज़-2021 के आयोजन की तैयारियों के संबंध में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की आयोजित बैठक की करी अध्यक्षता

-खेलों के सफल आयोजन के लिए अधिकारियों को दिये दिशा-निर्देश

-पंचकूला रहेगा खेलों के आयोजन का मुख्य केन्द्र-उपायुक्त

-25 खेल प्रतियोगिताओं में से 19 प्रतियोगिाएं पंचकूला में होंगी आयोजित

-खेलो इंडिया यूथ गेम्ज़-2021 का उदघाटन व समापन समारोह पंचकूला में होगा आयोजित

For Detailed News

पंचकूला, 20 मई- उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने 4 जून से 13 जून तक आयोजित होने वाले चैथे खेलो इंडिया यूथ गेम्ज़-2021 के आयोजन के संबंध में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की आयोजित बैठक की अध्यक्षता की तथा खेलों के सफल आयोजन के लिए दिशा-निर्देश दिये।


आज लघु सचिवालय के सभागार में आयोजित बैठक में उपायुक्त ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को सभी आवश्यक प्रबंध 1 जून तक पूरा करने के निर्देश दिये।


उन्होंने कहा कि हालांकि खेलो इंडिया यूथ गेम्ज़-2021 के तहत खेल प्रतियोगिताएं पंचकूला के साथ-साथ अंबाला, शाहबाद, दिल्ली और चण्डीगढ़ में आयोजित की जाएंगी लेकिन पंचकूला खेलों के आयोजन का मुख्य केन्द्र रहेगा। खेलो इंडिया यूथ गेम्ज के तहत आयोजित होने वाली 25 खेल प्रतियोगिताओं में से 19 प्रतियोगिताएँ पंचकूला में आयोजित की जाएंगी। इसके अलावा खेलों के उदघाटन समारोह तथा समापन समारोह का आयोजन भी पंचकूला में ही किया जाएगा।

पंचकूला में इन स्थानों पर आयोजित होंगी खेल प्रतियोगिताएं


श्री महावीर कौशिक ने बताया कि ज्यादातर खेल प्रतियोगिताएं सेक्टर  3 स्थित ताउ देवी लाल खेल परिसर में आयोजित की जाएंगी। इसके अलावा राजकीय कन्या महाविद्यालय सेक्टर 14, जिमखाना क्लब सेक्टर 6 और रेड बिशप हाॅल में भी खेलों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि ताउ देवी लाल खेल परिसर में एथलैटिक्स, फुटबाॅल, बैडमिंटन, टेबल टैनिस, कबड्डी, हैंडबाॅल, कुश्ती, बास्केटबाॅल, वाॅलीबाॅल, बाॅक्सिंग, खो-खो, गतका, थांग-ता, कलरीपायट्टु, योगासन, मलखंभ और हाॅकी प्रतियोगिओं का आयोजन किया जाएगा। इसी प्रकार राजकीय कन्या महाविद्यालय सेक्टर 14 के आॅडिटोरियम में वेट लिफ्टिंग, जिमखाना सेक्टर 6 में टैनिस और रेड बिशप हाॅल में जुडो प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा।


उन्होंने संबंधित विभागों को निर्देश दिये कि देश भर से खेलों में भाग लेने वाले खिलाड़ियों के लिए उच्च स्तर के प्रबंध किए जाएं ताकि वे पंचकूला से सुनहिरी यादें लेकर जाएं। उन्होंने बताया कि हाल ही में केन्द्रीय खेल एवं युवा मामले विभाग के सचिव तथा हरियाणा के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई, जिसमें हरियाणा में आयोजित होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्ज़-2021 की तैयारियों की समीक्षा की गई। इन खलों का आयोजन हरियाणा खेल एवं युवा मामले विभाग द्वारा किया जा रहा है और इन खेलों के सफल आयोजन के लिए पंचकूला जिला प्रशासन का अहम रोल रहेगा।


श्री महावीर कौशिक ने संबंधित विभागों को खेलों के दौरान ताउ देवी लाल खेल स्टेडीयम, राजकीय कन्या महाविद्यालय सेक्टर 14, जिमखाना क्लब सेक्टर 6 और रेड बिशप हाॅल में बिजली, पानी की निर्बाध आपूर्ति और समूचित साफ-सफाई के साथ-साथ प्रयाप्त संख्या में एम्बुलेंस और फायर ब्रिगेड की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि खेल विभाग द्वारा नगर निगम की एलईडी स्क्रीनों के माध्यम से पंचकूला में खेलों का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि खेल स्थलों पर सभी आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करने लिए संबंधित विभागों के एक-एक अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। इसके अलावा एचसीएस स्तर के अधिकारियों को प्रबंधों की निगरानी के लिए नियुक्त किया जाएगा।

https://propertyliquid.com/


इस अवसर पर नगर निगम के आयुक्त धर्मवीर सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त मनीता मलिक, एसडीएम ऋचा राठी, नगराधीश गौरव चैहान, एसीपी राजकुमार, हरियाणा रोडवेज के महाप्रबंधक रविंदर पाठक, परिवहन प्रबंधक व्यौम शर्मा, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के संपदा अधिकारी गगनदीप सिंह, कार्यकारी अभियंता अशोक राणा, अमित राठी, जिला खेल अधिकारी श्री पाल, सीएमओ कार्यालय से डाॅ. अनुज बिश्नोई, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के एसडीई धम्रेन्द्र सिंह सहित अन्य विभागों के संबंधित अधिकारी भी उपस्थित थे।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

आजादी के अमृत महोत्त्सव एवं 8वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में जिला में योग शिविर का किया आयोजन

विभिन्न स्थानों पर आयोजित एक दिवसीय शिविर में कुल 329 लोगों ने किया योगाभ्यास-जिला आयुर्वेद अधिकारी

For Detailed News

पंचकूला, 20 मई- आजादी के अमृत महोत्त्सव एवं 8वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में जिला में विभिन्न स्थानों पर एक दिवसीय योग शिविर का आयोजन किया गया, जिनमें कुल 329 लोगों ने योगाभ्यास किया।
इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला जिला आयुर्वेद अधिकारी, डा0 दिलीप कुमार मिश्रा ने बताया कि पंचकूला के सेक्टर 5 स्थित यवनिका टाउन पार्क में आयोजित योग शिविर में आयुष विभाग की योग प्रशिक्षक रितु मित्तल व पतंजलि योग समिति से विनोद कुमार ने योगा प्रोटोकाॅल का अभ्यास करवाया। इसी प्रकार नेता जी स्टेडियम रायपुररानी में पतंजलि योग समिति से सत्यपाल तथा आर्य समाज मंदिर पिंजौर में पतंजलि योग समिति के रामपाल जांगड़ा ने योगा प्रोटोकोल का अभ्यास करवाया।

https://propertyliquid.com/

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

पंचकूला के उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने मोरनी के गांव धर्मपुर, बीड़, मादोवाल तथा गांव ठाठर का किया दौरा 

For Detailed News

पंचकूला, 20 मई- पंचकूला के उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने जिला के अंतर्गत पड़ने वाले खण्ड मोरनी के गांव धर्मपुर, बीड़, मादोवाल तथा गांव ठाठर का दौरा किया। उपायुक्त के साथ वन विभाग, लोक निर्माण विभाग (भवन एवं सड़कें) तथा अन्य संबंधित अधिकारी भी उपस्थित थे।


इस अवसर पर उपायुक्त ने ग्रामीणों से बात-चीत की। उपायुक्त का यह दौरा मोरनी खँड के गांवो को पक्की सड़क के साथ रायपुररानी से जोड़ने को लेकर किया गया।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि ग्रामीणों के द्वारा लंबे समय से धर्मपुर,  बीड, मादोवाला और ठाठर गांवो को रायपुर रानी से पक्की सड़क के मध्यम से जोड़ने की मांग की जा रही थी ताकि इन गांवों को मूलभूत सुविधाएं मिल सके। उपायुक्त ने बताया कि सड़क मार्ग को बनाने के लिए जमीन वन विभाग को ट्रांसफर की जानी है। उन्होंने  ग्रामीणों को आश्वासन दिया है कि जल्द ही इस संबंध में कार्य शुरू हो जाएगा और इन गांवों को पक्की सड़क की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगीं।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने अधिकारियों व कर्मचारियों को दिलाई आंतकवाद विरोधी शपथ

For Detailed News

पंचकूला, 20 मई- उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने आज जिला सचिवालय के सभागार में आतंकवाद विरोधी दिवस के उपलक्ष्य में सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को आंतकवाद विरोधी शपथ दिलाई।
उपायुक्त ने बताया कि इस दिन को मनाने का उद्देश्य युवाओं को आतंकवाद और हिंसा से दूर रखना है।उन्होंने बताया कि आंतकवादी विरोधी दिवस हर वर्ष 21 मई को मनाया जाता है परंतु 21 मई शनीवार को सरकारी कार्यालयों में अवकाश होने के कारण इसे आज आयोजित किया गया।


इस अवसर पर उपायुक्त ने अधिकारियों व कर्मचारियों को शपथ दिलवाई कि- हम भारतवासी अपने देश की अंहिसा एवं सहनशीलता की परंपरा में दृढ़ विश्वास रखते हैं तथा निष्ठापूर्वक शपथ लेते है कि हम सभी प्रकार के आतंकवाद और हिंसा का डटकर विरोध करेंगे। हम मानव जाति के सभी वर्गों के बीच शांति, सामाजिक सद्भाव तथा सूझबूझ कायम करने और मानव जीवन मूल्यों को खतरा पंहुचाने वाली और विघटनकारी शक्तियों का डट कर मुकाबला करेंगे।

https://propertyliquid.com/


इस अवसर पर नगर निगम के आयुक्त धर्मवीर सिंह, एसडीएम ऋचा राठी, नगराधीश गौरव चैहान, एसीपी राजकुमार सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

कृषि यंत्रो/मशीनो पर अनुदान हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि बढ कर 27 मई हुई

पद्म पुरस्कारों के लिए आवेदन आमंत्रित : उपायुक्त अजय सिंह तोमर

– पद्म पुरस्कारों के लिए केवल ऑनलाइन आवेदन ही होंगे स्वीकार


सिरसा, 20 मई।

For Detailed News


आजादी अमृत महोत्सव के तहत गृह मंत्रालय भारत सरकार की ओर से गणतंत्र दिवस, 2023 के अवसर पर घोषित होने वाले पद्म पुरस्कारों (पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री) के लिए ऑनलाइन नामांकन आवेदन आमंत्रित किए हुए हैं। पद्म पुरस्कारों के लिए 15 सितम्बर, 2022 तक नामांकन कर सकते हैं। जबकि नामांकन व अनुशंसाएं मुख्य सचिव हरियाणा सरकार को भेजने की अंतिम तिथि 15 अगस्त 2022 है। पूर्ण रूप से भरे हुए नामांकन ई-मेल आईडी politicalbranch-cse@hry.gov.in व devinder.kapil-hry@.hry.gov.in पर भिजवाए जा सकते हैं।


उपायुक्त अजय सिंह तोमर ने बताया कि पद्म पुरस्कारों के लिए नामांकन/अनुशंसाएं केवल राष्ट्रीय पुरस्कार पोर्टल https://awards.gov.in पर केवल ऑनलाइन ही प्राप्त की जाएंगी। पद्म पुरस्कार (पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री) देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से हैं। उन्होंने बताया कि साल 1954 में शुरू किए गए इन पुरस्कारों की घोषणा हर साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर की जाती है। इन पुरस्कारों के जरिए विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के विशिष्ट कार्य या योगदान को सराहा जाता है। ये पुरस्कार सभी क्षेत्रों/विषयों जैसे कि कला, साहित्य व शिक्षा, खेल, चिकित्सा, सामाजिक कार्य, विज्ञान व इंजीनियरिंग, लोक कार्य, सिविल सेवा, व्यापार और उद्योग, इत्यादि में विशिष्ट व असाधारण उपलब्धियों/सेवा के लिए दिए जाते हैं। जाति, पेशा, पद या महिला-पुरुष के आधार पर भेदभाव किए बिना ही सभी व्यक्ति ये पुरस्कार पाने के पात्र हैं। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों को छोड़ सार्वजनिक उपक्रमों में कार्यरत लोगों सहित समस्त सरकारी कर्मचारी पद्म पुरस्कार पाने के पात्र नहीं हैं।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों/विभागों, राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों, भारत रत्न और पद्म विभूषण पुरस्कार विजेताओं, उत्कृष्टता संस्थानों से उन प्रतिभाशाली व्यक्तियों की पहचान करने के लिए ठोस प्रयास करने का अनुरोध किया है, जिनकी उत्कृष्टता और उपलब्धियां वास्तव में महिलाओं, समाज के कमजोर वर्गों, अनुसूचित जातियों एवं अनुसूचित जनजातियों, दिव्यांगजनों के बीच सराहे जाने के योग्य हैं और जो नि:स्वार्थ भाव से समाज की सेवा कर रहे हैं। 800 शब्दों में भेजना है विवरण नामांकन/अनुशंसा में वे सभी संबंधित विवरण शामिल होने चाहिए जो उपर्युक्त पद्म पोर्टल पर उपलब्ध प्रारूप में निर्दिष्ट किए गए हैं, जिसमें एक विवरणात्मक या अनुशंसित उद्धरण (अधिकतम 800 शब्द) भी शामिल होना चाहिए। इसके साथ ही अनुशंसित व्यक्ति द्वारा अपने संबंधित क्षेत्र/विषय में हासिल की गई विशिष्ट और असाधारण उपलब्धियों/सेवा का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया जाना चाहिए। इस संबंध में विस्तृत विवरण गृह मंत्रालय की वेबसाइट https://mha.gov.in पर और पद्म पुरस्कार पोर्टल https://padmaawards.gov.in पर पुरस्कार और पदक शीर्षक के तहत उपलब्ध है।