मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

श्री माता मनसा देवी – पंचकूला

पंचकूला:

For Detailed

भारत की सभ्यता एवं संस्कृति आदिकाल से ही विश्व की पथ-प्रदर्शक रही है और इसकी चप्पा-चप्पा धरा को ऋषि मुनियों ने अपने तपोबल से पावन किया है। हरियाणा की पावन धरा भी इस पुरातन गौरवमय भारतीय संस्कृति, धरोहर तथा देश के इतिहास एवं सभ्यता का उदगम स्थल रही है। यह वह कर्म भूमि है, जहां धर्म की रक्षा के लिए दुनिया का सबसे बड़ा संग्राम महाभारत लड़ा गया था और गीता का पावन संदेश भी इसी भू-भाग से गुंजित हुआ है। वहीं शिवालिक की पहाडिय़ों से लेकर कुरूक्षेत्र तक के 48 कोस के सिंधुवन में ऋषि-मुनियों द्वारा पुराणों की रचना की गई और यह समस्त भूभाग देवधरा के नाम से जाना जाता है।


इसी परम्परा में हरियाणा के जिला पंचकूला में ऐतिहासिक नगर मनीमाजरा के निकट शिवालिक पर्वत मालाओं की गोद में सिन्धुवन के अतिंम छोर पर प्राकृतिक छटाओं से आच्छादित एकदम मनोरम एवं शांति वातावरण में स्थित है – सतयुगी सिद्घ माता मनसा देवी का मंदिर। कहा जाता है कि यदि कोई भक्त सच्चे मन से 40 दिन तक निरंतर मनसा देवी के भवन में पहुंच कर पूजा अर्चना करता है तो माता मनसा देवी उसकी मनोकामना अवश्य पूर्ण करती है। माता मनसा देवी का चैत्र और आश्विन मास के नवरात्रों में मेला लगता है।


माता मनसा देवी के मंदिर को लेकर कई धारणाएं व मान्यताएं प्रचलित हैं। श्री माता मनसा देवी का इतिहास उतना ही प्राचीन है, जितना कि अन्य सिद्घ शक्तिपीठों का। इन शक्ति पीठों का कैसे और कब प्रादुर्भाव हुआ इसके बारे में शिव पुराण में विस्तृत वर्णन मिलता है। धर्म ग्रंथ तंत्र चूड़ामणि के अनुसार ऐसे सिद्घ पीठों की संख्या 51 है, जबकि देवी भागवत पुराण में 108 सिद्घ पीठों का उल्लेख मिलता है, जो सती के अंगों के गिरने से प्रकट हुए। श्री माता मनसा देवी के प्रकट होने का उल्लेख शिव पुराण में मिलता है। माता पार्वती हिमालय के राजा दक्ष की कन्या थी व अपने पति भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर उनका वास था। कहा जाता है कि एक बार राजा दक्ष ने अश्वमेध यज्ञ रचाया और उसमें सभी देवी-देवताओं को आमंत्रित किया गया, परन्तु इसमें भगवान शिव को नहीं बुलाया, इसके बावजूद भी पार्वती ने यज्ञ में शामिल होने की बहुत जिदद की। महादेव ने कहा कि बिना बुलाए वहां जाना नहीं चाहिए और यह शिष्टाचार के विरूद्घ भी है। अन्त मे विवश होकर मां पार्वती का आग्रह शिवजी को मानना पड़ा। शिवजी ने अपने कुछ गण पार्वती की रक्षार्थ साथ भेजे। जब पार्वती अपने पिता के घर पहुंची तो किसी ने उनका सत्कार नहीं किया। वह मन ही मन अपने पति भगवान शंकर की बात याद करके पश्चाताप करने लगी। हवन यज्ञ चल रहा था। यह प्रथा थी कि यज्ञ में प्रत्येक देवी देवता एवं उनके सखा संबंधी का भाग निकाला जाता था। जब पार्वती के पिता ने यज्ञ से शिवजी का भाग नहीं निकाला तो पार्वती को बहुत आघात लगा। आत्म सम्मान के लिए गौरी ने अपने आपको यज्ञ की अग्नि में होम कर दिया। पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ में प्राणोत्सर्ग करने के समाचार को सुन शिवजी बहुत क्रोधित हुए और वीरभद्र को महाराजा दक्ष को खत्म करने के लिए आदेश दिए। क्रोध में वीरभद्र ने दक्ष का मस्तक काटकर यज्ञ विघ्वंस कर डाला। शिवजी ने जब यज्ञ स्थान पर जाकर सती का दग्ध शरीर देखा तो सती-सती पुकारते हुए उनके दग्ध शरीर को कंधे पर रखकर भ्रान्तचित से तांडव नृत्य करते हुए देश देशातंर में भटकने लगे।


भगवान शिव का उग्र रूप देखकर ब्रहमा आदि देवताओं को बड़ी चिंता हुई। शिवजी का मोह दूर करने के लिए सती की देह को उनसे दूर करना आवश्यक था, इसलिए भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र से लक्ष्यभेद कर सती के शरीर को खंड-खंड कर दिया। वे अंग जहां-जहां गिरे वहीं शक्तिपीठों की स्थापना हुई और शिव ने कहा कि इन स्थानों पर भगवती शिव की भक्ति भाव से आराधना करने पर कुछ भी दुलर्भ नहीं होगा क्योंकि उन-उन स्थानों पर देवी का साक्षात निवास रहेगा। हिमाचल प्रदेश के कांगडा के स्थान पर सती का मस्तक गिरने से बृजेश्वरी देवी शक्तिपीठ, ज्वालामुखी पर जिव्हा गिरने से ज्वाला जी, मन का भाग गिरने से छिन्न मस्तिका चिन्तपूर्णी, नयन से नयना देवी, त्रिपुरा में बाई जंघा से जयन्ती देवी, कलकत्ता में दाये चरण की उंगलियां गिरने से काली मदिंर, सहारनपुर के निकट शिवालिक पर्वत पर शीश गिरने से शकुम्भरी, कुरूक्षेत्र में गुल्फ गिरने से भद्रकाली शक्ति पीठ तथा मनीमाजरा के निकट शिवालिक गिरिमालाओं पर देवी के मस्तिष्क का अग्र भाग गिरने से मनसा देवी आदि शक्ति पीठ देश के लाखों भक्तों के लिए पूजा स्थल बन गए हैं।


एक अन्य दंत कथा के अनुसार मनसा देवी का नाम महंत मंशा नाथ के नाम पर पडा बताया जाता है। मुगलकालीन बादशाह सम्राट अकबर के समय लगभग सवा चार सौ वर्ष पूर्व बिलासपुर गांव में देवी भक्त महंत मन्शा नाथ रहते थे। उस समय यहां देवी की पूजा अर्चना करने दूर-दूर से लोग आते थे। दिल्ली सूबे की ओर से यहां मेले पर आने वाले प्रत्येक यात्री से एक रुपया कर के रूप में वसूल किया जाता था। इसका मंहत मनसा नाथ ने विरोध किया। हकूमत के दंड के डर से राजपूतों ने उनके मदिंर में प्रवेश पर रोक लगा दी। माता का अनन्य भक्त होने के नाते उसने वर्तमान मदिंर से कुछ दूर नीचे पहाडों पर अपना डेरा जमा लिया और वहीं से माता की पूजा करने लगा। महंत मंशा नाथ का धूना आज भी मनसा देवी की सीढियों के शुरू में बाई ओर देखा जा सकता है।
आईने अकबरी में यह उल्लेख मिलता है कि जब सम्राट अकबर 1567 ई. में कुरूक्षेत्र में एक सूफी संत को मिलने आए थे तो लाखों की संख्या में लोग वहां सूर्य ग्रहण पर इकटठे हुये थे। महंत मंशा नाथ भी संगत के साथ कुरूक्षेत्र में स्नान के लिये गये थे। कहते हैं कि जब नागरिकों एवं कुछ संतों ने अकबर से सरकार द्वारा यात्रियों से कर वसूली करने की शिकायत की तो उन्होंने हिंदुओं के प्रति उदारता दिखाते हुए सभी तीर्थ स्थानों पर यात्रियों से कर वसूली पर तुरंत रोक लगाने का हुकम दे दिया, जिसके फलस्वरूप कुरूक्षेत्र एवं मनसा देवी के दर्शनों के लिए कर वसूली समाप्त कर दी गई।

h


श्री माता मनसा देवी के सिद्घ शक्तिपीठ पर बने मदिंर का निर्माण मनीमाजरा के राजा गोपाल सिंह ने अपनी मनोकामना पूरी होने पर लगभग पौने दो सौ वर्ष पूर्व चार वर्षाे में अपनी देखरेख में सन 1815 ईसवी में पूर्ण करवाया था। मुख्य मदिंर में माता की मूर्ति स्थापित है। मूर्ति के आगे तीन पिंडीयां हैं, जिन्हें मां का रूप ही माना जाता है। ये तीनों पीडिंया महालक्ष्मी, मनसा देवी तथा सरस्वती देवी के नाम से जानी जाती हैं। मंदिर की परिक्रमा पर गणेश, हनुमान, द्वारपाल, वैष्णवी देवी, भैरव की मूर्तियां एवं शिव लिंग स्थापित है। इसके अतिरिक्त श्री मनसा देवी मंदिर के प्रवेश द्वार पर माता मनसा देवी की विधि विधान से अखंड ज्योत प्रज्जवलित कर दी गई है। इस समय मनसा देवी के तीन मंदिर हैं, जिनका निर्माण पटियाला के महाराज द्वारा करवाया गया था। प्राचीन मदिंर के पीछे निचली पहाडी के दामन में एक ऊंचे गोल गुम्बदनुमा भवन में बना माता मनसा देवी का तीसरा मदिंर है। मदिंर के एतिहासिक महत्व तथा मेलों के उपर प्रति वर्ष आने वाले लाखों श्रद्घालुओं को और अधिक सुविधाएं प्रदान करने के लिए हरियाणा सरकार ने मनसा देवी परिसर को 9 सितम्बर 1991 को माता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड का गठन करके इसे अपने हाथ मे ले लिया था।
श्री माता मनसा देवी की मान्यता के बारे पुरातन लिखित इतिहास तो उपलब्ध नहीं है, परन्तु पिंजौर, सकेतडी एवं कालका क्षेत्र में पुरातत्ववेताओं की खोज से यहां जो प्राचीन चीजे मिली हैं, जो पाषाण युग से संबंधित है उनसे यह सिद्घ होता है कि आदिकाल में भी इस क्षेत्र में मानव का निवास था और वे देवी देवताओं की पूजा करते थे, जिससे यह मान्यता दृढ होती है कि उस समय इस स्थान पर माता मनसा देवी मदिंर विद्यमान था। यह भी जनश्रुति है कि पांडवों ने बनवास के समय इस उत्तराखंड में पंचपूरा पिंजौर की स्थापना की थी। उन्होंने ही अन्य शक्तिपीठों के साथ-साथ चंडीगढ के निकट चंडीमदिंर, कालका में काली माता तथा मनसा देवी मदिंर में देवी आराधाना की थी। पांडवों के बनवास के दिनों में भगवान श्री कृष्ण के भी इस क्षेत्र में आने के प्रमाण मिलते हैं। त्रेता युग में भी भगवान द्वारा शक्ति पूजा का प्रचलन था और श्री राम द्वारा भी इन शक्ति पीठों की पूजा का वर्णन मिलता है।


हरिद्वार के निकट शिवालिक की ऊंची पहाडियों की चोटी पर माता मनसा देवी का एक और मदिंर विद्यमान है, जो आज देश के लाखों यात्रियों के लिये अराध्य स्थल बना हुआ है, परन्तु उस मदिंर की गणना 51 शक्तिपीठों में नहीं की जाती। पंचकूला के बिलासपुर गांव की भूमि पर वर्तमान माता मनसा देवी मदिंर ही सिद्घ शक्ति पीठ है, जिसकी गणना 51 शक्ति पीठों में होने के अकाट्य प्रमाण हैं। हरिद्वार के निकट माता मनसा देवी के मदिंर के बारे यह दंत कथा प्रसिद्घ है कि यह मनसा देवी तो नागराज या वासुकी की बहिन, महर्षि कश्यप की कन्या व आस्तिक ऋषि की माता तथा जरत्कारू की पत्नी है, जिसने पितरों की अभिलाषा एवं देवताओं की इच्छा एवं स्वयं अपने पति की प्रतिज्ञा को पूर्ण करने तथा सभी की मनोकामना पूर्ण करने के लिए वहां अवतार धारण किया था, सभी की मनोकामना पूर्ण करने के कारण अपने पति के नाम वाली जरत्कारू का नाम भक्तों में मनसा देवी के रूप में प्रसिद्घ हो गया। वह शाक्त भक्तों में अक्षय धनदात्रि, संकट नाशिनी, पुत्र-पोत्र दायिनी तथा नागेश्वरी माता आदि नामों से प्रसिद्घ है।

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

*MC Chandigarh Celebrates “Swachh Basant Utsav”*

*Organizes in-house competition for its employees/safaimitras*

For Detailed

*Chandigarh, February 13:-* Aiming to foster sustainability, the MC Chandigarh, in its commitment to promoting cleanliness and environmental awareness, joyously celebrated this year’s Basant Panchmi as “Swachh Basant Utsav.” The event aimed to inspire citizens to embrace sustainable practices and create a cleaner, greener future for all.

A special symbolic kite dedicated to the pride of the city, Safaimitras, was also part of the event. It was hand-painted by the SHGs. This gesture recognized the invaluable contribution of Safaimitras in keeping the city clean and highlighted their role in maintaining the cleanliness of Chandigarh.

MX Kajal Mangalmukhi, Brand Ambassador of Swachh Bharat Mission, also graced the occasion and celebrated Swachh Basant Utsav while spreading the message of Swachhata.

Ms. Anindita Mitra, IAS Commissioner said that MC Chandigarh is committed to creating a cleaner, greener, and more sustainable environment for the citizens of Chandigarh. Through various initiatives, MC Chandigarh strives to promote cleanliness, environmental awareness, Community engagement and sustainable practices in the city.

To infuse additional excitement into the “Swachh Basant Utsav” celebration, MC Chandigarh organized two competitions – kite flying and mehndi. These competitions witnessed enthusiastic participation from MC officers, employees, Safaimitras and SHG’s group, showcasing their commitment to cleanliness and environmental consciousness.

Each kite that soared into the sky bore a Swachhata Message, emphasizing the importance of source segregation, avoiding littering, reducing plastic usage, and adopting home composting. The use of eco-friendly kite strings further highlighted the event’s focus on sustainable practices and the ‘Reduce, Reuse, Recycle’ (RRR) principle.

Employing a zero-waste approach, the event underscored the crucial importance of sustainability. It aimed to inspire citizens to embrace cleanliness and environmentally conscious practices for the betterment of the community and the environment as a whole. The event also featured kite-shaped floral topiaries, adding to its visual appeal.

Incorporating the spirit of peace, prosperity, and positive energy, the event radiated the ‘yellow color’ element throughout the decor and attire, setting a vibrant and cheerful ambiance. The yellow color symbolizes hope, optimism, and the desire for a brighter and cleaner future.

MC Chandigarh takes pride in orchestrating the “Swachh Basant Utsav” and pledges to continue fostering a cleaner, greener, and more sustainable future for all citizens. By organizing such events, MC Chandigarh aims to create awareness and encourage active participation in the journey towards a cleaner and environmentally responsible Chandigarh.

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

*MC Chandigarh initiates Mission Teerath Swachhata near places of worship, on Makar Sakaranti*

*MC to deep cleanse surroundings of all places of worship in the city*

For Detailed

*Chandigarh, January 14:-* With the aim of developing communities and maintaining a clean, sustainable, and vibrant city, MC Chandigarh has set up the “PRARAMBH” stall—an eco-friendly and sustainable products initiative in collaboration with ARPAN SHG—outside Sai Temple, Sector 29, on the auspicious occasion of Makar Sankranti.

Additionally, a comprehensive cleaning drive of worship places is being conducted, involving sweeping, litter picking, cleaning dustbins, and collecting floral waste. This proactive approach highlights MC Chandigarh’s unwavering commitment to maintaining cleanliness and hygiene in all public spaces.

M C Commissioner Ms. Anindita Mitra expressed her enthusiasm for the initiative, saying that PRARAMBH represents a significant step towards sustainable development and waste management in the city. By recycling floral waste and promoting eco-friendly products, the MCC not only preserving the environment but also creating livelihood opportunities for women. She encouraged residents and visitors to support PRARAMBH and contribute to collective efforts towards a greener and cleaner Chandigarh.

https://propertyliquid.com/properties/dlf-the-valley-orchard-in-panchkula-haryana/

She said that by supporting such initiatives, citizens contribute to a cleaner and greener environment while encouraging sustainable practices in their daily lives. The initiative serves as a reminder of the importance of responsible waste management and highlights how small actions can have a positive impact on the community and the environment.

ARPAN SHG focuses on collecting, segregating, and recycling floral waste generated by religious institutions. Through innovative techniques, the initiative aims to transform these discarded flowers into useful products such as incense cones, Govardhan diyas, and various other recycled items. This not only addresses the issue of waste management but also promotes the concept of a circular economy.

The MC Chandigarh urged everyone to support and actively participate in the sustainable revolution to keep the city clean. Together, citizens can create a greener, cleaner, and more prosperous future for generations to come.

MC Chandigarh continues to pursue various initiatives and partnerships to create a harmonious and eco-friendly environment for its residents and visitors.

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

Sandeep Narang ji को न्यूज़ 7 वर्ल्ड टीम की तरफ से आपको जन्मदिन की शुभकामनाएँ !

News 7 World Exclusive:

Chandigarh 01-11-2023

For Detailed News-

Wishing many happy birthday wishes to the Chief Editor of News 7 World, Mr. Sandeep Narang. Get all the happiness in the coming years and get all your wishes.

न्यूज़ 7 वर्ल्ड के मुख्य संपादक श्री संदीप नारंग को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं। आने वाले वर्षों में सभी खुशी प्राप्त करें और अपनी सभी इच्छाओं को प्राप्त करें।

call 9914976044

News 7 World is being seen in the country and abroad due to the immense struggle of Mr. Sandeep Narang ji, which is being praised everywhere.

न्यूज़ 7 वर्ल्ड श्री संदीप नारंग जी के बेहद संघर्ष की वजह से देश ओर विदेश मे देखा जा रहा है जिसकी हर तरफ प्रशंसा की जा रही है।

Mr. Sandeep Narang ji has struggled a lot in his life, today he is at this stage due to which we are very happy to honor him.

श्री संदीप नारंग जी ने अपने जीवन में बेहद संघर्ष किया है आज वो इस मुक़ाम पर है जिस वजह से हमें उन्हें सम्मानित करने में बेहद ख़ुशी है।

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

जम्मू कश्मीर और हरियाणा के प्रतिनिधियों के बीच नॉलेज शेयरिंग सेशन का हुआ आयोजन

For Detailed

पंचकूला अक्तूबर 31:  जम्मू कश्मीर व हरियाणा के प्रतिनिधियों के बीच लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह सेक्टर -1 में दो दिवसीय नॉलेज शेयरिंग सेशन का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन स्वर्ण जयंती हरियाणा वित्तीय प्रबंधन संस्थान, योजना एवं वित्त विभाग द्वारा किया गया।
जम्मू कश्मीर के प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व राजस्व विभाग और योजना विकास एवं निगरानी विभाग के प्रशासनिक सचिव डॉ. पियूष सिंगला द्वारा किया गया।
 बैठक में उपस्थित जम्मू कश्मीर के सभी प्रतिनिधियों का स्वागत श्री पंकज , विशेष सचिव, फाइनेंस एवं निदेशक, एसजेएचआईएफएम ने एक संबोधन स्पीच के माध्यम से किया। इस समारोह का मुख्य एजेंडा सतत विकास लक्ष्यों की प्रगति पर ज्ञान और सर्वोत्तम प्रथाओं का आदान प्रदान करना और विजन 2030 की उपलब्धियों के लिए सहयोग प्रदान करना था।

उपायुक्त ने जिला सचिवालय के सभागार में जल शक्ति अभियान के तहत चल रहे कार्यो की आयोजित समीक्षा बैठक की करी अध्यक्षता

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

संस्कृत सभी भाषाओ की जननी, प्रिंसीपल

प्रतियोगिता में प्रथम हिमांशी  द्वित्तीय  रही नेहा गौतम

पंचकुला, 13

For Detailed


राजकीय महाविद्यालय कालका की प्राचार्या कामना के कुशल नेतृत्व में लिटरेरी क्लब शब्द शिल्प की ओर से संस्कृत में श्लोक उच्चारण प्रतियोगिता का सफल आयोजन किया गया। प्राचार्या कामना ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि संस्कृत भाषा देव वाणी कहलाती है। संस्कृत सभी भाषाओ की जननी है, यह न केवल भारत की ही महत्वपूर्ण भाषा है अपितु विश्व  की प्राचीनतम व श्रेष्ठतम भाषा मानी जाती है। संस्कृत भाषा का लक्ष्य व्यक्ति का विकास और प्रकृति का संतुलन करना है। प्रस्तुत कार्यक्रम संस्कृत विभाग के प्रोफेसर डॉक्टर प्रदीप कुमार वैदिक रिसर्चर के मार्गदर्शन और  दिशा निर्देशन में किया गया। निर्णायक सदस्या प्रोफेसर डॉक्टर बिंदु रही। श्लोक उच्चारण में प्रथम स्थान  बी.ए.प्रथम वर्ष की हिमांशी ने  प्राप्त किया। द्वित्तीय स्थान पर बी.ए.तृतीय  वर्ष की नेहा गौतम रही।  तृतीय स्थान  बी.ए.प्रथम वर्ष के भूषण ने प्राप्त किया।

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल 2 सितंबर को जन संवाद कार्यक्रम में करेंगे शिरकत

– जन संवाद कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुनते हुए उपस्थित अधिकारियों को देंगे आवश्यक दिशा निर्देश

– जारी दौरा कार्यक्रम अनुसार पंचकूला के चार गांवो में आयोजित किया जाएगा जन संवाद कार्यक्रम

For Detailed

पंचकूला 1 सितंबर। हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर 2 सितंबर , शनिवार को पंचकूला में विभिन्न स्थानों पर आयोजित किए जाने वाले जन संवाद कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे । इस दौरान शिक्षा मंत्री जिला के चार अलग-अलग क्षेत्रो  में जाकर आम जन की समस्याएं सुनेंगे। इस मौके पर उनके साथ विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी भी उपस्थित होंगे।

जारी दौरा कार्यक्रम अनुसार शिक्षा मंत्री प्रातः 10:00 बजे गांव नानकपुर के कम्युनिटी हॉल में लोगों की समस्याएं सुनेंगे। इसके बाद वे दोपहर 12:00 बजे गांव चिकन में आयोजित किए जाने वाले जन संवाद कार्यक्रम में जनता से रूबरू होंगे। इसी प्रकार दोपहर 3:00 बजे वह गांव टिब्बी में लोगों की समस्याएं सुनेंगे । सांय 4:30 बजे शिक्षा मंत्री गांव मंडलाय में जाकर लोगों के साथ संवाद करेंगे। इस दौरान वे मौके पर उपस्थित अधिकारियों को ग्रामीणों की समस्याओं के समाधान संबंधी आवश्यक दिशा निर्देश भी देंगे।

https://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

PU Board of Finance Meeting

Chandigarh April 10, 2023

For Detailed

The Board of Finance meeting of Panjab University, Chandigarh held today and members deliberated on all the agenda items, few of them are as follows:

The members of BoF approved the grant of handicapped allowance of Rs. 1000/- p.m. to disabled employees of Panjab University with effect from 1.1.2023.

The members of BoF approved the pay of directly recruited Professors (prior to 01.01.2006) as per UGC Regulations be fixed at a stage not below Rs. 43000/- in the Pay Band IV of Rs. 37400-67000+AGP 10000 in terms of Clause-4.0 of Schedule relating to main clause 6.8.0 of UGC Regulations 2010.

The members of BoF approved the position of Associate Dean Student Welfare be created to be filled in by giving an additional charge to a Teacher (as in case of DSW) with an Honorarium @ 3000/- pm to the teacher for holding the additional charge as Associate Dean of Student Welfare.

The members of BoF approved the enhancement of GST rate on construction works from 12% to 18%.

The members of BoF approved the enhancement of Honorarium to Guest Faculty w.e.f. 18.1.2023.

The members of BoF approved the Rate of Honorarium for selection/screening-cum-evaluation (CAS) of Chancellor/Vice-Chancellor’s nominee from Rs. 2500/- to Rs. 5000/- per day and the other terms and conditions regarding entitlement shall remain same.

The members of BoF approved the recommendations of the Vice Chancellor to enhance the fixed remuneration of Part time Assistant Professors (in subjects of law) of the Department of Laws, University Institute of Legal Studies, PU Regional Center, Muktsar, S.S.Giri, PU Regional Center, Hoshiarpur and PU Regional Center, Ludhiana from Rs. 22,800/- pm (fixed) to Rs. 43,275/- pm (fixed) for a working load of 12 hours a week, effective from academic session 2023-24 onwards.

https://propertyliquid.com/

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ने उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला द्वारा आयोजित उपभोक्ता दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में की शिरकत

  • श्री गुप्ता ने पंचकूला उपभोक्ता ऐसोसिएशन के पदाधिकारियों को मेहनत और लगन से निशुल्क लोगों की सेवा करने के लिए दी बधाई

-ऐसोसिएशन को अपने स्वैच्छिक कोष से 2 लाख रूपए की देने की करी घोषणा

For Detailed

पंचकूला, 24 दिसंबर- हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने सेक्टर-1 स्थित पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला द्वारा आयोजित उपभोक्ता दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। इस अवसर पर उन्होंने पंचकूला उपभोक्ता ऐसोसिएशन के पदाधिकारियों को मेहनत और लगन से निशुल्क लोगों की सेवा करने के लिए बधाई दी और 2 लाख रूपए की राशि अपने स्वैच्छिक कोष से उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला को देने की घोषणा की।


इस अवसर पर पंचकूला नगर निगम महापौर कुलभूषण गोयल और एसडीएम पंचकूला ममता शर्मा भी उपस्थित थी।


अपने संबोधन में श्री गुप्ता ने कहा कि हर वर्ष आज राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस पूरे भारत में मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत के राष्ट्रपति द्वारा 24 दिसंबर 1986 को उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विधेयक पारित किया गया था। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों के बारे में जागरूक करने के साथ-साथ सुरक्षा प्रदान करना है। इस अधिनियम से प्राप्त अधिकारों के तहत उपभोक्ता अपने हक के लिए शिकायत कर सकता है। इस अधिनियम को और अधिक कार्यात्मक और व्यापक बनाने के लिए 1991, 1993 और दिसंबर 2002 में एक व्यापक संशोधन किया गया। इसके बाद 5 मार्च 2004 को इसे पूर्ण रूप से अधिसूचित कर दिया गया। संसद द्वारा अगस्त 2019 में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 को पारित किया गया। इस अधिनियम को जुलाई 2020 में लागू कर उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 को प्रतिस्थापित किया गया। सरकार ने आॅनलाइन शाॅपिंग के बढते क्रेज़ को देखते हुए साल 2019 में ई-काॅमर्स के लिए भी कानून बनाए। इसके तहत सरकार ने ई-काॅमर्स साईट पर कई सख्त प्रावधान लागू किए और इसे कंज्यूमर प्रोटेक्शन रूल्स (ई-काॅमर्स) 2020 का नाम दिया गया।


उन्होंने बताया कि उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला को उपभोक्ताओं की सेवा के लिए पूरे भारत में टाॅपर होने का गौरव प्राप्त है। आज उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला अपनी सेवा के 10 साल का उत्सव मना रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले 10 सालों से लोगों की निशुल्क सेवा करना और उन्हें न्याय दिलाना एक पुण्य का कार्य है। इसके लिए संस्था के प्रधान एनसी राणा और महासचिव वीके शर्मा की पूरी टीम बधाई की पात्र है।
उन्होंने पंचकूलावासियों से अपील की कि वे पंचकूला को स्वच्छ एवं हरा-भरा रखने के लिए आगे आएं। यह सबका अपना शहर है, इसे स्वच्छ व हरा-भरा रख कर देश में नंबर एक का खिताब हम सब मिल कर दिलवा सकते हैं।
श्री गुप्ता ने बताया कि उन्हें कोविड काल में निजी अस्पतालों के विरूद्ध सरकार द्वारा निर्धारित किए गए रेटों से कई गुना अधिक रेट लेने की शिकायत मिली थी जिस पर उन्होंने तुरंत संज्ञान लेते हुए उपायुक्त पंचकूला और सीएमओ को साथ लेकर मामले की जांच की तथा लगभग 75 लाख रूपए की राशि पीड़ित परिवारों को वापिस दिलवाई गई।
इस अवसर पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सेक्टर 7 के एनसीसी के बच्चों ने श्री गुप्ता को गार्ड आॅफ आॅनर दिया। कार्यक्रम में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सेक्टर 6 और 7 के छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति से दर्शकों का मन मोहा। डीपीएस चण्डीगढ़ की छात्रा तनिषी खंडूजा ने गीत के माध्यम से जिम्नास्टिक खेल की अदभुत प्रस्तुति दी और दर्शकों की तालियां बटोरी। हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ने तनिषी खंडूजा व अन्य छात्रों को मोमेंटो देकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर श्री गुप्ता ने उपभोक्ता ऐसोसिएशन पंचकूला के सीनियर सिटीजनों के साथ-साथ पदाधिकारियों को भी मोमेंटो देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर श्री गुप्ता ने उपभोक्ता ऐसोसिएशन का सोविनियर-2022 का भी लोकार्पण किया।
नगर निगम महापौर कुलभूषण गोयल ने उपभोक्ता दिवस पर सभी को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज का उपभोक्ता पढा-लिखा और जागरूक है। उन्होंने कहा कि हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष को अगर विकास पुरूष कहा जाए तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उन्होंने पंचकूला के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है।
इस अवसर पर जिला बीजेपी उपाध्यक्ष उमेश सूद, एमडीसी के मंडल अध्यक्ष प्रमोद वत्स, पार्षद सोनू बिरला, सोनिया सूद, सेवानिवृत लै0 जनरल एसके कौशल, सीनियर वाईस प्रेजिडैंट सेवानिवृत लै0 कर्नल पीएस गोपाल, सीनियर वाईस प्रेजिडैंट केसी जिंदल, पूर्व प्रधान मधु सिंह, प्रोजैक्ट कोआॅर्डिनेटर आरएल खंडूजा, ब्राह्मण सभा के प्रधान व उपभोक्ता एसोसिएशन पंचकूला के सलाहकार एमपी शर्मा, महासचिव विकास कौशिक, एनजीओ व एंटी करप्शन संस्था की अध्यक्ष मनीषा चैधरी रोटरी क्लब पंचकूला के प्रधान पंकज कपूर तथा पंचकूला उपभोक्ता एसोसिएशन के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।

s://propertyliquid.com

मास्टर प्लान बनाकर माता मनसा देवी मंदिर को दिया जाएगा भव्य रूप- स्पीकर

Water Supply Shut Down on 2nd December

For Detailed

Chandigarh, November 30:- Due to executing the work of installation of 24” i/d Sluice Valve at Maintenance Booth Sector 04, Chandigarh. During this work there will be no pumping from Water Works Sector 39 as well as from Water Works Sector 26 (Kirloskar Side). There will be no water supply during evening time in the Sector 1 to 12, part of  Maloya, Dadu Majra, Water Supply Colony Sector 39, Sector 14 to 18, 21-A, 22 A&B, 25 and PGI, Chandigarh.The schedule of water supply will be as under:

02.12.2022 (Friday)

Morning:        3.30 am to 9.30 am   (Normal water supply)

Evening:        6.00 pm to 8.00 pm (No Water Supply)

Inconvenience caused is highly regretted. The residents are requested to bear with the Municipal Corporation, Chandigarh.

ps://propertyliquid.com