Workshop on Endodontics at Dental College, PU

नामांकन के अंतिम दिन 21 प्रत्याशियों ने किए नामांकन, कुल 26 प्रत्याशी कर चुके हैं नामांकन पत्र दाखिल

ऐलनाबाद, 08 अक्तूबर।

For Detailed News-


रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम नरेंद्र पाल मलिक ने बताया कि शुक्रवार को ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र उप चुनाव 2021 के लिए नामांकन प्रक्रिया के अंतिम दिन 21 प्रत्याशियों ने अपने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। ऐलनाबाद चुनाव के लिए कुल 26 उम्मीदवारों ने अपने नामांकन दाखिल किए हैं। कोविड नियमों की पूर्णत: पालना करते हुए नामांकन पत्र दाखिल किए गए।


उन्होंने बताया कि इंडियन नेशनल लोकदल से अभय सिंह, कर्ण सिंह चौटाला (कवरिंग), इंडियन नेशनल कांग्रेस से पवन कुमार (दो नामांकन पत्र), राइट टु रिकॉल पार्टी से चरण सिंह, भारतीय जनराज पार्टी से महावीर प्रसाद, पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रेटिक) से दलबीर तथा भगवान पाल सिंह, विक्रम पाल, संतलाल, विकल पचार, रोहताश, सविता काजल, पृथ्वी सिंह, पवन कुमार, अभय सिंह, सुरजीत सिंह, भरत सिंह, ओम प्रकाश, विक्रम ने आजाद उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन दाखिल किया।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि वीरवार को भारतीय जनता पार्टी से गोविंद कुमार गोयल (दो नामांकन पत्र), भारतीय संतमत पार्टी से बलवान सिंह, आजाद उम्मीदवार नरेंद्र सिंह, संत धर्मवीर चोटीवाला व जगदीश ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। उन्होंने बताया कि 11 अक्तूबर को नामांकन पत्रों की छंटनी की जाएगी और 13 अक्टूबर तक उम्मीदवार अपना नाम वापस ले सकेंगे, इसी दिन उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आबंटित किए जाएंगे। 30 अक्तूबर को मतदान होगा तथा दो नवंबर को मतगणना की जाएगी।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय, हरियाणा द्वारा आज “Mental health in Unequal World” थीम के साथ विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया गया।

For Detailed News-

पंचकूला, 8 अक्तूबर- स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय, हरियाणा द्वारा आज “Mental health in Unequal World” थीम के साथ विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया गया।
हरियाणा स्वास्थ्य सेवाएं विभाग के पूर्व निदेशक डॉ परवीन गर्ग की उपस्थिति में डॉ वंदना गुप्ता डीएचएस हरियाणा की अध्यक्षता में राज्य मानसिक स्वास्थ्य प्रकोष्ठ द्वारा एक राज्य स्तरीय सीएमई का आयोजन किया गया।


हरियाणा के सभी 22 जिलों के कार्यक्रम अधिकारियों, मनोचिकित्सकों और मनोवैज्ञानिकों ने भाग लिया, सीएमई ने सभी के लिए मानसिक स्वास्थ्य देखभाल के विषय पर ध्यान केंद्रित करने के लिए ट्राइसिटी से फैकल्टी को शामिल किया। डॉ वंदना गुप्ता ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया और कोविड-19 महामारी के कारण मानसिक स्वास्थ्य को भारी झटका लगने के बारे में अपनी चिंता व्यक्त की। विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का उद्देश्य मानसिक बीमारी के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाना और इसके बारे में बात करना है। इस विषय पर बात करते हुए डॉ परवीन गर्ग ने कहा, समाज को इस विचार से मुक्त करने का यह पहला कदम है कि मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे छिपे रहते हैं। इसलिए जागरूकता पैदा करना, मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में बात करना, मानसिक बीमारी को पहचानना, उपचार सहायता प्राप्त करना और अंत में व्यवहार में बदलाव करना कुछ ऐसे कदम हैं जो हमें समस्या का समाधान करने में मदद कर सकते हैं।

https://propertyliquid.com


डॉ. सचिन कौशल सलाहकार मनोचिकित्सक ने वित्तीय असमानता और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात की और कहा कि कार्यक्रम को मजबूत करने के लिए जिला एनएमएचपी के नोडल अधिकारियों द्वारा व्यक्तिगत रूप से हेल्पलाइन कॉल में भाग लिया जाएगा। इसके साथ-साथ यूनिवर्सल हेल्थ केयर एक्सेसिबिलिटी, सार्वभौमिक शिक्षा और महिलाओं के लिए विशेष मुआवजा देने की दिशा में कार्य करने होंगे।
उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण द्वारा मानव संसाधन को सुदृढ़ बनाना, कैप्सूल पाठ्यक्रमों के माध्यम से कौशल का उन्नयन करना विशेषज्ञों की आवश्यकता और उपलब्धता के बीच बेमेल अंतर को पाट सकता है।
आदर्श कोहली सेवानिवृत्त प्रोफेसर नैदानिक मनोविज्ञान पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ ने मानसिक स्वास्थ्य विशेष रूप से बच्चों और किशोरों में असमानताओं में अपने अनुभवों को साझा किया ।
 श्री प्रदीप कुमार सलाहकार आयुष पंचकूला ने तनाव प्रबंधन और अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए एक मिनी कार्यशाला की व डॉ. स्वप्नजीत, सहायक प्रोफेसर, मनोचिकित्सा विभाग, पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ ने लैंगिक असमानता और मानसिक स्वास्थ्य पर विस्तृत विवरण दिया।


हरियाणा के 22 जिलों के सभी 75 प्रतिभागियों को राज्य मानसिक स्वास्थ्य प्रकोष्ठ, हरियाणा द्वारा आयोजित सीएमई कार्यक्रम के लिए उपस्थिति प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया गया। डॉ एमपी शर्मा, डॉ पुनीत, डॉ स्वाति और राज्य मानसिक स्वास्थ्य प्रकोष्ठ की पूरी टीम ने सीएच पंचकूला से डॉ रीता कालरा द्वारा आयोजित कार्यक्रम का समन्वय और आयोजन किया।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

हरियाणा गौ सेवा आयोग और डाबर इंडिया के आयुर्वेट रिसर्च फाउंडेशन के मध्य अनुबंध पर हुए हस्ताक्षर

गौ आधारित पदार्थ, अनुसंधान से वैज्ञानिक कसौटी पर उतरेंगे खरे – श्रवण कुमार गर्ग

For Detailed News-

पंचकूला, 8 अक्तूबर- हरियाणा गौ सेवा आयोग डाबर इंडिया की सामाजिक परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत संचालित आयुर्वेट रिसर्च फाउंडेशन, दिल्ली के मध्य आज हरियाणा गौ सेवा आयोग के पंचकूला स्थित कार्यालय में एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए।


इस मौके पर हरियाणा गौ सेवा आयोग के चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग व आयुर्वेट रिसर्च फाउंडेशन, दिल्ली के प्रबंधक ट्रस्टी मोहन सक्सेना, ए सी वारसने पूर्व कुलपति, डा अनूप कालड़ा, आयोग के उपाध्यक्ष विद्यासागर बाघला, सचिव डा चिरंतन कादयान, पिंजौर में स्थापित गौ अनुसंधान केंद्र के ट्रस्टी नवराज धीर आदि उपस्थित रहे।


हरियाणा गौ सेवा आयोग के चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग ने इस मौके पर बताया कि आयुर्वेद रिसर्च फाउंडेशन गोबर गैस, गोबर खाद, कृत्रिम गर्भाधान, ग्रामीण उत्थान, ग्रामीण रोजगार सृजन जैसे अनेकों सामाजिक उत्थान के विषयों पर पिछले कई वर्षों से कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि इस हस्ताक्षरित अनुबंध के दौरान गो आधारित पदार्थों जिनमें गाय का गोबर, गोमूत्र, दूध आदि से बने अनेकों पदार्थों, नस्ल सुधार, भ्रूण प्रत्यारोपण आदि पर अनुसंधान का कार्य परस्पर सहयोग से होगा।

https://propertyliquid.com


चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मार्गदर्शन में हरियाणा गौ सेवा आयोग प्रदेश की गौशालाओं को लगातार स्वावलंबी बनाने की दिशा में कार्य कर रहा है। यह हस्ताक्षरित अनुबंध हरियाणा की गौशालाओं को स्वावलंबी बनाने में मील का पत्थर साबित होगा। हरियाणा गौ सेवा आयोग और आयुर्वेट रिसर्च फाउंडेशन मिलकर गौ आधारित पदार्थों को अनुसंधान करके वैज्ञानिक कसौटी पर खरा उतारने का प्रयास करेंगे। हरियाणा गौ सेवा आयोग के तकनीकी मार्गदर्शन में पिंजौर की श्री कामधेनू गौशाला सेवा सदन में स्थापित अनुसंधान केंद्र का दौरा किया। गौ अनुसंधान केंद्र में बन रही गोबर आधारित विभिन्न प्रकार की खाद, गोमूत्र के विभिन्न अर्क, गोबर से बनने वाले उत्पादों का निरीक्षण किया। 

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

औषधीय एवं सुगन्घित पौधों की वैज्ञानिक खेती के बारे में व्यवसायिक प्रशिक्षण का किया आयोजन

परंपरागत खेती में बदलाव करते हुए फसल विविधीकरण पर जोर देना समय की मांग

For Detailed News-


पचंकूला, 8 अक्तूबर- चैधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार के कृषि विज्ञान केंद्र, पंचकूला द्वारा गाँव हंगोला, ब्लॉक रायपुररानी में औषधीय एवं सुगन्घित पौधों की वैज्ञानिक खेती के बारे में व्यवसायिक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।


इस मौके पर केंद्र की इंचार्ज डॉ श्री देवी तल्ला प्रगड़ा ने कहा कि परंपरागत खेती में बदलाव करते हुए फसल विविधीकरण पर जोर देना समय की मांग है।  वर्तमान समय में इस बात पर जोर दिया जाना चाहिए कि परंपरागत कृषि पद्धति में बदलाव करके किसानों को औषधीय पौधों की खेती की ओर ध्यान देना चाहिए, जिससे किसान की आमदनी में भी इजाफा हो सके। उपभोक्ता, बाजार, व्यापार और मार्केट की मांग के अनुरूप फसलों का उत्पादन किया जाना चाहिए ताकि किसान को अधिक से अधिक लाभ हासिल हो सके।  वर्तमान समय में एकल फसल प्रणाली को छोड कर समन्वित कृषि प्रणाली को अपनाना ही एकमात्र विकल्प है। औषधीय पोधों का महत्व बताते हुए उन्होंने कहा कि औषधीय पौधे न केवल अपना औषधीय महत्व रखते हैं बल्कि आय का भी एक जरिया बन जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे शरीर को निरोगी बनाये रखने में औषधीय पौधों का अत्यधिक महत्व होता है।

https://propertyliquid.com


सस्य वैज्ञानिक डॉ वंदना ने बताया कि औषधीय पौधों का महत्व उसमें पाए जाने वाले रसायन के कारण होता है। औषधीय पौधे खांसी एवं वातकाशमन करने, पीलिया, हैजा, फेफड़ा, अण्डकोष, तंत्रिका विकार, दीपन, पाचन, उन्माद, रक्तशोधक, ज्वरनाशक, स्मृति एवं बुद्धि का विकास करने, मधुमेह, मलेरिया एवं बलवर्धक, त्वचा रोगों एवं ज्वर आदि में लाभकारी हैं। औषधीय पौधे जैसे घृत कुमारी, तुलसी, ब्राम्ही, हल्दी, सदाबहार,  शतावर, मुलहटी आदि की वैज्ञानिक खेती करके काफी लाभ प्राप्त किया जा सकता है। सुगंधित पौधों जैसे लेमन ग्रास, सिट्रोनेला, तुलसी, जिरेनियम पामारोजा/रोशाग्रास के बारे में भी किसानो को जानकारी दी गयी । इस मौके पर कृषि वैज्ञानिक डॉ गुरनाम सिंह औरडॉ राजेश ने भी अपने विचार किसानों के साथ साँझा किये ।
 

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

पंचकूला जिला की 3 अनाज मंडियों में अब तक 18935 मीट्रिक टन धान की, की जा चुकी है खरीद-उपायुक्त विनय प्रताप सिंह

For Detailed News-

पंचकूला, 8 अक्तूबर- जिला में खरीफ सीजन 2021-22 में सरकारी खरीद एजंसियों द्वारा धान की खरीद का कार्य प्रगति पर है। अब तक जिला की तीन मंडियों में 18935 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है, जिसमें से 10690 मीट्रिक टन हैफेड द्वारा तथा 8245 मीट्रिक टन हरियाणा वेयरहासिंग द्वारा खरीदी गई है।


इस संबंध में जानकारी देते हुए उपायुक्त श्री विनय प्रताप सिंह ने बताया कि खरीफ सीजन 2021-22 में जिला में दो सरकारी खरीद एजंसियों द्वारा धान की खरीद की जा रही है।


उन्होंने बताया कि अब तक पंचकूला अनाज मंडी में 1355 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है जिसमें से 255 मीट्रिक टन हरियाणा वेयरहाउसिंग काॅर्पोरेशन द्वारा तथा 1100 मीट्रिक टन हैफेड द्वारा खरीद की गई है। इसी प्रकार बरवाला अनाज मंडी में 10960 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है जिसमें से 5860 मीट्रिक टन हरियाणा वेयरहासिंग कार्पोरेशन द्वारा व 5100 मीट्रिक टन हैफेड द्वारा खरीद की गई। उन्होंने बताया कि रायपुररानी अनाज मंडी में अब तक 6620 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है जिसमें से 2130 मीट्रिक टन हरियाणा वेयरहाउसिंग काॅर्पोरेशन द्वारा तथा 4490 मीट्रिक टन हैफेड द्वारा खरीद की गई है।

https://propertyliquid.com


पंचकूला जिला में बरवाला, रायपुररानी व पंचकूला में स्थापित तीन अनाज मंडियों में सरकारी खरीद एजंसियों नामतः हैफेड तथा हरियाणा वेयरहासिंग कार्पोरेशन द्वारा फसलों की खरीद की जा रही है।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र का किया उदघाटन

– पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र एक जीवन रक्षक आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र है

पंचकूला, 8 अक्तूबर- हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने पंचकूला नागरिक अस्पताल सेक्टर 6 में पीएम केयर फंड और सीएसआर के तहत स्थापित पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र का वर्चुअल माध्यम से उदघाटन किया।


इस अवसर पर सेक्टर 6 सिविल अस्पताल में हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक डाॅ. वीके बंसल और प्रिंसीपल मेडीकल आॅफिसर सिविल अस्पताल डाॅ सुवीर सक्सेना भी उपस्थित थे।
पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र नवीनतम मशीनरी है जो 93-95 प्रतिशत की शुद्धता के साथ पर्यावरणीय परत से आॅक्सीजन निकालती है। पीएसए प्रेशर स्विंग सोखना प्रणाली है जो शुद्धता की आॅक्सीजन का मेडीकल ग्रेड देती है। इससे बीमार रोगियों को आपूर्ति की जा सकती है और यह एक जीवन रक्षक आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र साबित होता है। ये पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र पूरे देश में पीएम केयर और सीएसआर फंड के तहत स्थापित किए गए हैं। यह भारत के नागरिकों के लिए गर्व की बात है कि हरियाणा के विभिन्न जिलों और अन्य राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में भी पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए गए हैं। पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र कोविड-19 महामारी में एक जीवन रक्षक संयंत्र साबित हुआ है।


उल्लेखनीय है कि पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्रों के सभी उदघाटन का वस्तुतः सभी राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों में प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अवलोकन किया गया था।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

प्रदेश की सुख-समृद्धि के लिए मुख्यमंत्री ने मनसा देवी मंदिर में की पूजा अर्चना

– 4 करोड़ 40 लाख रुपये की लागत से बने विकास कार्यों किए समर्पित
– शक्ति स्तम्भ और माता मनसा देवी मंदिर से पटियाला मंदिर तक जोड़ने वाला मेन कॉरिडोर का किया उद्घाटन

For Detailed News-


पंचकूला, 8 अक्टूबर- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने अश्विन नवरात्र के दूसरे दिन आज श्री माता मनसा देवी मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेश की सुख समृद्धि व खुशहाली के लिए मनोकामना की। उन्होंने यज्ञशाला में आयोजित हवन में आहूति डाली और लगभग 4 करोड़ 40 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित विकास कार्यों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता भी मौजूद रहे।


मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि वर्ष 1991 से माता मनसा देवी, पंचकूला व काली माता मंदिर, कालका का अधिग्रहण किया गया है, तब से लगातार विकास कार्य किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में 2 करोड़ 8 लाख रुपये की लागत से बने माता मनसा देवी मंदिर से पटियाला मंदिर तक जोड़ने वाले मेन कॉरिडोर का उद्घाटन किया। उन्होंने श्री वाटिका पार्किंग का भी लोकार्पण किया, जिस पर 2 करोड़ 4 लाख रुपये खर्च हुए हैं। इस पार्किंग में श्रद्धालुओं को वाहन खड़े करने की सुविधा मिलेगी। मुख्यमंत्री ने पिंजौर और कालका में काली माता मंदिर के शक्ति स्तम्भ का भी लोकार्पण किया। इनके निर्माण पर 22.65 लाख रुपये लागत आई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री माता मनसा देवी श्राइन बोर्ड के अधीन आने वाले मंदिरों के विकास के लिए नए-नए प्रोजेक्ट को मंजूरी दी जा रही है, ताकि मेले के दौरान श्रद्धालुओं को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिलें।

https://propertyliquid.com


मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि माता मनसा देवी के दर्शन करने से हर व्यक्ति की मनोकामना पूरी होती है। साल में दो बार लगने वाले नवरात्र मेले के दौरान हर वर्ष लाखों श्रद्धालु माता के दर्शन करने पहुंचते हैं। उनकी सुविधा को लेकर हरियाणा सरकार और श्री माता मनसा देवी श्राइन बोर्ड प्रतिबद्ध है।


फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी


मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि बारिश की वजह से फसलों में काफी नुकसान हुआ है। ऐसे में सरकार ने किसानों की परेशानी को देखते हुए स्पेशल गिरदावरी करने के आदेश दे दिए हैं। गिरदावरी के बाद किसानों की खराब फसल का उचित मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बारिश की वजह से कुछ जगह फसल की खरीद भी प्रभावित हुई है। सरकार ने खरीद प्रक्रिया को दुरुस्त करने के आदेश भी दे दिए हैं।  


मुख्यमंत्री परिवार उत्थान योजना से छोटे किसानों को लाभ


मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार की मुख्यमंत्री परिवार उत्थान योजना बेहद लाभकारी है। इस योजना से अत्यंत गरीब परिवार के घर तक सरकार सीधे पहुंचेगी और उसे योजना का लाभ देकर उसका आर्थिक विकास सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि छोटे से छोटे किसानों व मजदूरों को इस योजना का सीधा लाभ मिलेगा और सरकार के अंत्योदय के विकास का सपना पूरा होगा।
कानून व्यवस्था बनाए रखना सरकार का उद्देश्य


श्री मनोहर लाल ने कहा कि उन्हें माता मनसा देवी शक्तिपीठ में आभास हुआ कि माता रानी हम सब की सुरक्षा करेंगी इसीलिए वे अपने उस बयान को वापिस लेते हैं जिसमें उन्होंने जरूरत होने पर आत्मरक्षा की अपील की थी। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रमुख उद्देश्य प्रदेश में कानून व्यवस्था कायम रखना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने माता मनसा देवी से देश-प्रदेश के सभी नागरिकों की सुख समृद्धि की कामना की है।


इस अवसर पर अंबाला मंडल की आयुक्त श्रीमती रेनु एस फुलिया, उपायुक्त एवं श्री माता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड के मुख्य प्रशासक श्री विनय प्रताप सिंह, पुलिस आयुक्त सौरभ सिंह, पुलिस उपायुक्त मोहित हांडा, श्री माता मनसा देवी पूजा स्थल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री वीईएस गुप्ता, पूर्व गेल निदेशक श्रीमती बंतो कटारिया, बोर्ड की सचिव श्रीमती शारदा प्रजापति, जिला बीजेपी प्रधान अजय शर्मा, बीजेपी पूर्व जिला प्रधान दीपक शर्मा, मीडिया कोआॅर्डिनेटर श्री रमनीक सिंह मान, जिला संगठन महामंत्री विरेन्द्र राणा, श्याम लाल गर्ग, बोर्ड के सदस्य बलकेश वत्स, श्यामलाल बंसल, नरेन्द्र जैन, जिला मीडिया प्रभारी नवीन गर्ग व अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।   

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

Day 1 of International Conference at UIET

Chandigarh October 8, 2021

For Detailed News-

University Institute of Engineering and Technology (UIET), Panjab University organised International Conference on Multidisciplinary Aspects of Materials in Engineering (IC-MAME 2021) from 8th and 9th October, 2021 in  hybrid mode. This Conference is a multidisciplinary event covering themes on Innovative research related to Materials in Engineering. It will provide a forum to the best talents from the academia & research institutions, industry experts, management professionals, engineers and executives to collaborate and address the current challenges.

On the first day the conference was inaugurated by Prof. Gautam Biswas, J C  Bose fellow and Professor, Mechanical Engineering, IIT Kanpur. He enlightened the participants on fluid dynamics, viability and meta static potency of cervical cancer cells (HeLa) cells using Micro fluidics and deciphering hydrodynamic and drug-resistant behaviour of metastatic EMT breast cancer cells.

Prof. Raj Kumar, Vice Chancellor, PU emphasised the important role of material science in the field of engineering. He also highlighted the need to come out of their self-centeredness and take up responsibility to build up the institution with the main focus on development of entire country.

The Patron, Prof. JK Goswamy accentuated the need of Nanotechnology. He mentioned Material engineering as the foremost solution in current times and that the schools should adopt material sciences as a part of the curriculum of secondary education.

According to Prof. Renu Vig, Co Patron, this is a great initiative for platform provided for research in material sciences and engineering, which is an attractive area of study, with research ongoing in ceramics, bio materials, polymers, etc.

The inaugural session was chaired by Prof. Sunil Agrawal, UIET who welcomed the dignitaries and participants and vote of thanks was proposed by Dr. Rajesh Kumar.

The technical session started with keynote presentation from CSIO-CSIR team lead by Dr. HK Sardana, Principal Scientist CSIO-CSIR on 3D design reconstruction and analysis with emphasis on the pressure and structure suitable for different individuals.

Prof. Mohsen Rahmani, School of Sciences and Technology, Nottingham Trent University, UK, imparted his knowledge on Light matter, Linear, non-linear and sensory metasurfaces, light metal interactions and their application in Nanoscale technologies.

https://propertyliquid.com

The conference witnessed participation by 100+ students worldwide who gave their presentations on material sciences. The accepted, registered and presented papers of IC-MAME 2021 will be published in the IOP: Materials Science and Engineering Journal. Some Few Selected accepted, registered and presented papers of IC-MAME 2021 on merit basis may be published in Journal of The Institution of Engineers (India): Series C, FME Transactions and Materiale Plastice Journal.

The IC-MAME 2021 programme will include around 12 different thematic sessions and delegates from IIT BHU Varanasi, IIT Madras, IIT Mandi, Indian Institute of Technology (ISM), Dhanbad, BITS-Pilani, NIT Warangal, NIT Hamirpur, AMU -Aligarh, University of Delhi, Wolkite University -Ethiopia, Jadavpur University, INST Mohali, University of Nottingham Ningbo China, UniversitiTunku Abdul Rahman Malaysia and many more.

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

केंद्रीय कपास अनुसंधान संस्थान क्षेत्रीय स्टेशन में मनाया विश्व कपास दिवस, कपास की मशीन से चुगाई पर की गई चर्चा

सिरसा, 08 अक्तूबर।

For Detailed News-


केंद्रीय कपास अनुसंधान संस्थान क्षेत्रीय स्टेशन में विश्व कपास दिवस का आयोजन किया। संस्थान के अध्यक्ष डा. एसके वर्मा ने संस्थान के वैज्ञानिकों, तकनीकी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को कपास की वैल्यू चैन के बारे में अवगत कराया। कार्यक्रम के दौरान संस्थान में कपास प्रौद्योगिकी करण एवं कपास की मशीन द्वारा चुगाई के लिए वेबिनार का भी आयोजन किया गया। वेबिनार में संस्थान के निदेशक डॉ वाईजी प्रसाद एवं अन्य अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने भी भाग लिया। वेबिनार में कपास की मशीनी चुगाई करने के लिए आवश्यकताओं पर चर्चा की और भविष्य के लिए खाका तैयार किया गया।

https://propertyliquid.com

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

ऐलनाबाद विधानसभा उप चुनाव 2021 के लिए आईएएस श्रीकांत पु्रस्टी सामान्य पर्यवेक्षक नियुक्त

सिरसा, 08 अक्तूबर।

For Detailed News-


उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अनीश यादव ने बताया कि ऐलनाबाद विधानसभा उप चुनाव 2021 को शांति पूर्ण, निष्पक्ष एवं स्वतंत्र करवाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा श्रीकांत पु्रस्टी, आईएएस को सामान्य पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। उनका मोबाइल नंबर 94371-80410, 74978-65314 है।

https://propertyliquid.com