Workshop on Endodontics at Dental College, PU

Webinar on Calligraphy at UIFT

Chandigarh October 5, 2021

For Detailed News-

University Institute of Fashion Technology & Vocational Development (UIFT & VD), Panjab University, Chandigarh organized a Webinar  on ‘Calligraphy- A Journey in Itself’ today.

            The webinar was conducted by Ms. Priyanka Goyal, who is the founder and Creative Lead at @PriyankaCalliDesigns. She spoke about Calligraphy and its evolution into the digital form. She stressed on the need to first understand Pen and Ink calligraphy and further venture  into digital calligraphy. She shared insights into topics like Typography, Lettering art. The Application of Calligraphy on various mediums was also discussed, for instance graphic design, fashion and branding. She practically illustrated some nuances of this Art form, especially as a print or any other surface ornamentation technique on garments and lifestyle products. 

            Dr Anu H. Gupta, Chairperson UIFT & VD also shared her views on the importance of learning this art form and its usage in fashion. The students also interacted with the speaker and asked questions regarding the career prospects in this field.

            Rashi a student of B.Sc 1st semester was quoted saying ” It was amazing experience. I’m in complete awe of how beautiful the calligraphies were. And how effortlessly everything was explained. Honored to be a part of this for sure”.

https://propertyliquid.com

            Around 100 participants were a part of this webinar which included students of M.Sc. and B.Sc. Fashion and Lifestyle Technology, Alumni of UIFT and participants from other institutions.

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल गुज्जर से मुलाकात के दौरान नई शिक्षा नीति के विषय में विस्तार से हुई चर्चा- बंतो कटारिया

For Detailed News-

पंचकूला, 5 अक्तूबर- भाजपा की पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष व गेल की पूर्व स्वतंत्र निदेशक श्रीमती बंतो कटारिया ने बताया कि हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल गुज्जर से मुलाकात के दौरान उन्होंने नई शिक्षा नीति के विषय में विस्तार से चर्चा की गई।  


उन्होंने बताया कि यह नीति 34 वर्ष की प्रतीक्षा के बाद आई है, जो करोड़ों युवाओं की आशाओं और आकांक्षाओं को साकार करने वाली हैस जिसका देश के शैक्षणिक परिदृश्य पर दूरगामी प्रभाव पड़ेगा। इससे आंतरिक बदलाव होगा और संसाधनों को बढ़ावा मिलेगा, जिससे भारत के भविष्य को नई दिशा मिलेगी और भविष्य में उसकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी।  


उन्होंने बताया कि शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने उन्हें विश्वास दिलाया कि इस शिक्षा नीति में प्री-स्कूल से ही एक बच्चे के लिये अधिक सुगम व सक्षम परिवेश सुनिश्चित करना हैं। इसमें स्नातक और स्नातकोत्तर छात्रों के लिए कभी भी पाठ्यक्रम को छोड़ने के लिए उपयुक्त प्रमाण के साथ पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने और छोड़ने के कई विकल्प होंगे। यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा परिकल्पना किए गए इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण सुधारों के लिए आवश्यक है। यह नीति विश्व स्तर की शिक्षा प्रणाली के इतिहास में सबसे अधिक परामर्श प्रक्रियाओ के बाद लाई गई है और भारत को ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के शीर्ष पर पहुंचाने के हमारे नेतृत्व के संकल्प और दृष्टिकोण को दर्शाती है।  बंतो कटारिया ने कहा जैसा कि हम अमृत महोत्सव या भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष मना रहे हैं, वैसे ही यह नीति आज के 5 से 15 वर्ष तक की आयु के उन बच्चों को तैयार करेगी जो भारत की स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने के अवसर पर 30 से 40 वर्ष आयु के होंगे और देश के उज्जवल भविष्य के लिये काम करेगे।

https://propertyliquid.com


बंतो कटारिया ने कहा नई शिक्षा निति हरियाणा के करोड़ो बच्चों के लिये गेम चेजर साबित होगी और अब ये छात्र कौशल शिक्षा में निपुण होकर आने वाले समय में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में मुख्य भूमिका अदा करेगे। हरियाणा प्रदेश में शिक्षा निति को सफलतापूर्वक एवम जोरदार ढंग से लागू करने पर शिक्षा मंत्री का धन्यवाद करते हुये बंतो कटारिया ने कहा आज सामान्य श्रेणी के विधार्थीयों के साथ-साथ लाखों गरीब समाज के बच्चे भी नई शिक्षा निति के माध्यम से लाभ उठा रहे हैं।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

18 अक्तूबर तक बढाई गई ’महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा’ आदेश की अवधि-जिलाधीश विनय प्रताप सिंह

– केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की पालना करते हुए ओद्यौगिक प्रशिक्षण संस्थानों को 100 प्रतिशत श्रमता के साथ खालने की अनुमति


– नवरात्र, दुशहरा, मिलाद-उन-नबी/ईद-ए-मिलाद, करवा चैथ, दिवाली, गोवर्धन पूजा, छठ पूजा, गुरू नानक जयंती, क्रिसमस तथा नयू ईयर ईव जैसे त्यौाहारों के दौरान मेलों व बड़ी संख्या में भीड़ के दृष्टिगत कोविड उचित व्यवहार का पालन करना होगा जरूरी

For Detailed News-

पंचकूला, 5 अक्तूबर- जिलाधीश विनय प्रताप सिंह ने आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए ’महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा’ के आदेशों की अवधि को जिला में 18 अक्तूबर, 2021 सुबह 5 बजे तक बढ़ा दिया है।


जिलाधीश द्वारा जारी आदेशों के अनुसार ओद्यौगिक प्रशिक्षण संस्थानों को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की पालना करते हुए 100 प्रतिशत श्रमता के साथ खालने की अनुमति प्रदान की गई है। इस दिशा में हरियाणा कौषल विकास विभाग तथा तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा जल्द ही दिशा-निर्देश जारी कर दिये जायेंगे।


जारी आदेशों के अनुसार आगामी महीनों में जिला में नवरात्र, दुशहरा, मिलाद-उन-नबी/ईद-ए-मिलाद, करवा चैथ, दिवाली, गोवर्धन पूजा, छठ पूजा, गुरू नानक जयंती, क्रिसमस तथा नयू ईयर ईव जैसे त्यौाहारों के दौरान मेलों व बड़ी संख्या में भीड़ के दृष्टिगत, खास तौर पर धार्मिक स्थानों पर कोविड उचित व्यवहार का पालन करना जरूरी होगा।


जिलाधीश द्वारा जारी आदेशों के अनुसार कॉलेजों एवं पोलिटैक्निकों  को खोलने की अनुमति प्रदान की गई है, जबकि कोविड उचित व्यवहार, सामाजिक दूरी के नियमों व केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी हिदायतों का पालन इन परिसरों में करना होगा। इस दिशा में उच्चतर शिक्षा विभाग तथा तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा जल्द ही दिशा-निर्देश जारी कर दिये जायेंगे।


जिलाधीश द्वारा जारी किए गए आदेशों के अनुसार मॉल सहित होटल में रेस्टोरेंट एवं बार को सामाजिक दूरी, नियमित सैनीटाईजेशन का पालन करते हुए 50 फीसदी बैठने की क्षमता के साथ संचालित करने की अनुमति होगी। जिम और स्पा को भी 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी गई है। इसके लिए भी महामारी से बचाव के सभी नियमो की पालना करनी होगी। सिनेमा हाॅल, माॅलस के अंदर व सटैंड अलोन 50 प्रतिशत बैठने की क्षमता के साथ कोविड-19 व्यवहार नियमों की पालना करते हुए खुल सकेंगे।

https://propertyliquid.com


गोल्फ कोर्स के क्लब हाउसिज, रेस्टोरेंट्स और बार को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी गई है। इसके लिए भी कोविड अनुकूल व्यवहार की शर्तें जारी रहेगी। गोल्फ कोर्स में खेलने के लिए खिलाड़ियों की भीड़ ना हो, इसका प्रबंधन करना होगा। इसी प्रकार से सभी दुकानों और शॉपिंग माल को आवश्यक सामाजिक दूरी, नियमित सैनिटाइजेशन और कोविड-19 व्यवहार की शर्तों के साथ खोलने की अनुमति प्रदान की गई है।


जिलाधीश द्वारा जारी किए गए आदेशों के अनुसार सामाजिक दूरी के सिद्घांत, नियमित सैनिटाइजेशन और कोविड-19 अनुकूल व्यवहार के नियमों की अनुपालना के साथ स्विमिंग पूल खोलने की अनुमति दी गई है, लेकिन इसके लिए प्रतिभागियों, विजिटर्स व स्टाफ का टीकाकरण होना जरूरी है। इनडोर स्थानों में हॉल की क्षमता का 50 प्रतिशत लोग इकठ्ठा हो सकते हैं, जिनकी अधिकतम सीमा 100 रखी गई है। खुले स्थानों में अधिकतम 200 लोगों तक इकट्ठा हो सकते हैं। कोविड-19 का व्यवहार व सामाजिक दूरी के नियम की सख्ती से पालन सुनिश्चित करनी होगी।


विभिन्न विश्वविद्यालयों, संस्थानों, सरकारी विभागों और अन्य भर्ती एजेंसी जिला में प्रवेश व भर्ती परीक्षाओं का आयोजन कोरोना की रोकथाम के लिये स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय तथा केंद्रीय व राज्य द्वारा जारी संशोधित एसओपीज की सख्त पालना सुनिश्चित करने के साथ कर सकेंगे।
हरियाणा कौशल विकास मिशन के तहत स्थापित ट्रेनिंग सेंटर को खोलने की अनुमति दी गई है। कोचिंग संस्थान, लाईबे्ररी, प्रशिक्षण संस्थान (सरकारी या निजी) शर्तों के साथ खुल सकेंगे। आईटीआई के विद्यार्थियों की शंकाए दूर करने के लिए, प्रयोगशाला में प्रैक्टिकल कक्षाओं, प्रैक्टिकल परीक्षाओं के लिए खोलने की अनुमति प्रदान की गई है।


जारी आदेशानुसार एक समय में 50 व्यक्तियों के साथ धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति होगी। इन स्थलों पर सामाजिक दूरी नियमित सेनेटाइजेशन तथा कोविड उचित व्यवहार की शर्तों का पालन करना होगा। कोर्पोरेट ऑफिस पूर्ण उपस्थिति के साथ खुल सकेंगे। इन्हें भी सामाजिक दूरी, नियमित सेनेटाइजेशन एवं कोविड उचित व्यवहार के नियम की पालना करनी होगी। सभी उत्पादन ईकाइयां, प्रतिष्ठान एवं उद्योगों को कार्य की अनुमति होगी, हालांकि उन्हें कोविड-19 के उचित व्यवहार, हिदायतों आदि का पालन करना होगा। संपर्क वाले खेलों को छोड़ कर खेल परिसर व स्टेडियम ऑउट डोर खेल प्रतियोगिताओं सहित खेल गतिविधिया के लिए खुल सकेंगे (दर्शकों को अनुमति नहीं होगी)। इन गतिविधियों के दौरान सामाजिक दूरी, खेल परिसर का नियमित सेनिटाइजेशन तथा कोविड उचित व्यवहार का पालन सुनिश्चित करना होगा।


जारी आदेशों के अनुसार ’नो मास्क-नो सर्विस’ के सिद्धांत को सख्ती से लागू किया जाएगा। उन्हीं लोगों को पब्लिक व प्राइवेट ट्रांसपोर्ट में सफर की अनुमति दी जाएगी जो मास्क लगाएंगे। इसी प्रकार से सरकारी व निजी प्रतिष्ठानों से केवल वे ही लोग सेवाएं अथवा सामान प्राप्त कर सकेंगे, जिन्होंने मास्क लगाया होगा। सभी दुकानदारो को अपनी दुकानों के सामने सामाजिक दूरी के निशान लगाने होंगे।
इन आदेशों को प्रभावी रूप से लागू करवाने के लिए नगर निगम आयुक्त, जिला नगर आयुक्त सुनिश्चित करेंगे कि नगरपालिकायें इन आदेशों व दिशा निर्देशों का दुकानदारों में प्रचार प्रसार करेंगी। पुलिस उपायुक्त इन आदेशों को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिये इंस्पैक्शन टीम का गठन करेंगे।


इसके अलावा उपमंडल अधिकारी (ना0) पंचकूला व कालका प्रतिदिन गतिविधियों पर निगरानी रखने और आदेशों की सख्त पालना सुनिश्चित करने के लिये अपने अपने अधिकार क्षेत्रों में इंचार्ज होंगे।
सभी इंन्सीडेंट कमांडर अपने-अपने इलाकों में इन आदेशों को लागू करने के लिये उत्तरदायी होंगे।


इन आदेशो की उल्लघ्ंाना करने वालों के खिलाफ आपदा प्रबन्धन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 और आई पी सी की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

4 अक्तूबर तक पंचकूला जिला की 3 अनाज मंडियों में 6900 मीट्रिक टन धान की की जा चुकी है खरीद-उपायुक्त विनय प्रताप सिंह

पंचकूला, 4 अक्तूबर- उपायुक्त श्री विनय प्रताप सिंह ने बताया कि खरीफ सीजन 2021-22 में कल 4 अक्तूबर तक पंचकूला जिला की 3 अनाज मंडियों में सरकारी खरीद एजंसियों द्वारा कुल 6900 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है।

For Detailed News-


उन्होंने बताया कि कल 4 अक्तूबर तक पंचकूला स्थित अनाज मंडी में हरियाणा वेयरहाउसिंग काॅर्पोरेशन द्वारा 160 मीट्रिक टन तथा हैफेड द्वारा 100 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई जबकि बरवाला अनाज मंडी में हरियाणा वेयरहासिंग कार्पोरेशन द्वारा 1100 मीट्रिक टन व हैफेड द्वारा 3450 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई। उन्होंने बताया कि रायपुररानी स्थित अनाज मंडी में हरियाणा वेयरहाउसिंग काॅर्पोरेशन द्वारा 1200 मीट्रिक टन तथा हैफेड द्वारा 890 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है।

https://propertyliquid.com


पंचकूला जिला में बरवाला, रायपुररानी व पंचकूला में स्थापित तीन अनाज मंडियों में सरकारी खरीद एजंसियों नामतः हैफेड तथा हरियाणा वेयरहासिंग कार्पोरेशन द्वारा फसलों की खरीद की जा रही है।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता ने सिविल अस्पताल सेक्टर-6, पंचकूला के परिसर में मलेरिया कार्यालय भवन एवं एमसीएच प्रखंड का किया भूमि पूजन

– स्वास्थ्य कर्मियों को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये प्रशस्ति पत्र देकर किया सम्मानित


– सेक्टर-6 अस्पताल में मलेरिया भवन व मदर एंड चाईल्ड केयर अस्पताल के शुरू होने से पंचकूला के साथ साथ चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश व पंजाब से भी लोग यहां स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे-गुप्ता

For Detailed News-

पंचकूला, 5 अक्तूबर- पंचकूला में स्वास्थ्य सेवाओं में एक और नया अध्याय जोड़ते हुये आज हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने  सिविल अस्पताल सेक्टर-6, पंचकूला के परिसर में मलेरिया कार्यालय एवं मदर एंड चाईल्ड केयर अस्पताल (एमसीएच) प्रखंड का भूमि पूजन किया। साथ ही उन्होंने हेल्थ केयर वर्कर्स और पेरामेडिकल स्टाफ को उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिये प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।


भूमि पूजन के अवसर पर श्री गुप्ता के साथ नगर निगम महापौर कुलभूषण गोयल, स्वस्थ्य विभाग की महानिदेशक डॉ. वीना सिंह, अतिरिक्त महानिदेशक डाॅ वीके बंसल, निदेशक वंदना गुप्ता, सिविल सर्जन डाॅ मुक्ता कुमार, पीएमओ डाॅ सुवीर सक्सेना भी उपस्थित थे।


इस अवसर पर उपस्थित डाॅक्टर्स, हेल्थ केयर वर्कर्स और पेरामेडिकल स्टाफ को संबोधित करते हुये श्री गुप्ता ने कहा कि आज पंचकूला के लिये एक महत्वपूर्ण दिन है जब स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में एक साथ दो नये आयाम स्थापित हुये हैं। उन्होंने कहा कि सेक्टर-6 अस्पताल में मलेरिया भवन व मदर एंड चाईल्ड केयर अस्पताल के शुरू होने से पंचकूला के साथ साथ चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश व पंजाब से भी लोग यहां स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। उन्होंने कहा कि सिविल अस्पताल में मलेरिया कार्यालय की बहुत आवश्यकता थी। लगभग पिछले 20 सालों से यहां मलेरिया के कार्यालय के लिये कोई स्थाई भवन नहीं था। कार्यालय का कार्य अलग अलग स्थानों सेक्टर-6, 10 व सेक्टर-11 से चलाया जा रहा था परंतु अब सेक्टर-6 सिविल अस्पताल में पांच मंजिलीय मलेरिया कार्यालय भवन के बनने के बाद मलेरिया कर्मी व अन्य संबंधित कर्मचारी एक ही छत के नीचे बेहतर तालमेल के साथ कार्य कर सकेंगे। यहां मलेरिया का पता लगाने व उसके इलाज के लिये सभी आवश्यक सुविधायें उपलब्ध होंगी।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि सिविल अस्पताल में मदर एंड चाईल्ड केयर अस्पताल (एमसीएच) पंचकूला के इतिहास में एक मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि 200 बैड की क्षमता वाला यह 11 मंजिलीय अस्पताल लगभग 100 करोड की लागत से बनाया जायेगा। उन्होनंे कहा कि इस अस्पताल में ओपीडी क्षेत्र, स्टेप डाउन के साथ लेबर रूम, एएनसी वार्ड, स्टेप डाउन के साथ ओटी कॉम्प्लेक्स, प्रसूति और बाल चिकित्सा आईसीयू, एसएनसीयू, पीएनसी वार्ड,  निजी वार्ड, बाल चिकित्सा वार्ड, यूएसजी कक्ष, लैब सुविधा, प्रतिरक्षण कक्ष, संकाय कक्ष, शैक्षणिक विंग, कौशल प्रयोगशाला, संगोष्ठी कक्ष, पुस्तकालय, स्टोर, सिविल सर्जन कार्यालय के लिए प्रशासनिक ब्लॉक और प्रधान चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय के लिए, उपयोगिता भवन में उपलब्ध कराने के लिए 04 मंजिल की सुविधा होगी।
श्री गुप्ता ने कहा कि वर्तमान में सेक्टर-6 सिविल अस्पताल में 300 बैड की सुविधा है और इस 200 बैड के मदर एंड चाईल्ड केयर अस्पताल के शुरू होने से यह क्षमता बढ़कर 500 हो जायेगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा में शायद ही कोई ऐसा सरकारी अस्पताल है जहां 500 बैड की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि 2014 में जब श्री मनोहर लाल हरियाणा के मुख्यमंत्री बने उस समय इस अस्पताल की क्षमता केवल 100 बैड की थी परंतु मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल व स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज के प्रयासों के फलस्वरूप इस अस्पताल की क्षमता 300 बैड की हुई और अब यह बढ़कर 500 होने जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इस अस्पताल में एमआरआई, सीटी स्केन, डायलेसिस व कैथ लैब की सुविधायें भी वर्तमान सरकार के कार्यकाल में ही उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने कहा कि डेंगू के मरीजों को प्लैटलेटस की आवश्यकता होती हैं और उन्हें खुशी है कि खून से प्लैटलेटस को अलग करने की सुविधा भी इस अस्पताल में शुरू हो चुकी हैं।


उन्होंने कहा कि सिविल अस्पताल सेक्टर-6 में प्रतिदिन लगभग 4300 के करीब लोग ओपीडी में आ रहे है। यह संख्या जीएमसीएच सेक्टर-32 चंडीगढ़ में आने वाले लोगो ंसे कहीं अधिक हैं। इसके अलावा शाम की ओपीडी में भी लगभग 100 लोग, जिसमें वरिष्ठ नागरिक भी शामिल है, विभिन्न रोगों के इलाज के लिये यहां आते हैं।

https://propertyliquid.com


इस अवसर पर श्री गुप्ता ने कोविड के दौरान डाॅक्टर्स, स्वास्थ्य कर्मचारी व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा दी गई सेवाओं की सराहना की। श्री गुप्ता ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने अपनी जान की परवाह किये बिना कोविड मरीजों का इलाज व देखभाल की, उससे अनेक कीमती जानो को बचाया जा सका। उन्होंने कहा कि अभी कोरोना पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे सरकार द्वारा जारी एसओपी व दिशा निर्देशों का पालन करें ताकि इस भयंकर बीमारी से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि कोविड के समय में हमें सावधानियां बरततें हुये ही अपने जीवन में आगे बढ़ना हैं। उन्होनंे यह भी अपील की कि डेंगू के बारे में भी लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाये ताकि इससे फैलने से रोका जा सके।


इस अवसर पर बीजेपी जिला अध्यक्ष श्री अजय शर्मा, जिला महामंत्री वीरेंद्र राणा, पार्षद सुरेश वर्मा, जय कोशिक व सेक्टर-6 अस्पताल के डाॅक्टर और कर्मचारी उपस्थित थे।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

राज्य की सभी सहकारी चीनी मिलों को अक्तूबर के अंतिम सप्ताह से लेकर नवंबर के दूसरे सप्ताह के दौरान चालू कर दिया जाएगा- सहकारिता मंत्री

गन्ना किसानों को किसी भी प्रकार की नहीं होनी चाहिए दिक्कत, सुनिश्चित करें अधिकारी- डॉ बनवारी लाल

एथोनॉल के उत्पादन के लिए बाजरे व आलू में पाए जाने वाले गलूकोज का करें अध्ययन- सहकारिता मंत्री

For Detailed News-

पंचकूला, 5 अक्तूबर – हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि आने वाले गन्ना पिराई सीजन के तहत राज्य की सभी सहकारी चीनी मिलों को अक्तूबर के अंतिम सप्ताह से लेकर नवंबर के दूसरे सप्ताह के दौरान चालू कर दिया जाएगा ताकि गन्ना किसानों को किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पडें। इसके अलावा, उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि एथोनॉल के उत्पादन के लिए बाजरे व आलू में पाए जाने वाले गलूकोज के बारे में अध्ययन किया जाए ताकि बाजरे व आलू से भी एथोनॉल के उत्पादन की संभावनाएं तलाषी जा सकें।  


डॉ. बनवारी लाल आज पंचकूला में हरियाणा राज्य सहकारी चीनी मिल प्रसंघ लि. के अधिकारियों तथा सभी सहकारी चीनी मिलों के प्रबंध निदेषकों की एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस बैठक में शाहाबाद के विधायक व शुगरफेड के चेयरमैन श्री राम करण काला तथा सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल भी मौजूद रहे।


बैठक में बताया गया कि पलवल की सहकारी चीनी मिल को आगामी 26 अक्तूबर, पानीपत-करनाल-शाहाबाद की सहकारी चीनी मिलों को आगामी 9 नवंबर, रोहतक की सहकारी चीनी मिल को 10 नवंबर, सोनीपत-जींद-महम-गोहाना की सहकारी चीनी मिलों को 11 नवंबर और कैथल सहकारी चीनी मिल तथा असंध की चीनी मिल को आगामी 12 नवंबर को गन्ना पिराई के लिए चालू कर दिया जाएगा।

बैठक में या मुख्यालय द्वारा दिए निर्देशों/आदेशों की हो अक्षरक्षः अनुपालना- डॉ बनवारी लाल

सहकारिता मंत्री ने चीनी मिलों के प्रबंध निदेषकों को निर्देश देते हुए कहा कि बैठक के दौरान या मुख्यालय द्वारा जो भी निर्देश/आदेश दिए जाते हैं उनकी अक्षरक्षः अनुपालना समय पर होनी चाहिए तथा इसकी रिपोर्ट निर्धारित समय अवधि के दौरान संबंधित उच्च अधिकारी को उपलब्ध करवाई जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि आज जो सहकारी चीनी मिलों को आगामी सीजन के लिए षुरू करने की टाईमलाइन चीनी मिलों के अधिकारियों द्वारा दी गई है वह उसी समय के अनुसार शुरू हो जानी चाहिए। इसके अलावा, संबंधित चीनी मिलों के संबंधित अधिकारियों को समय रहते अपनी चीनी मिल की मरम्मत व रख-रखाव का कार्य पूरा कर लेना चाहिए ताकि आने वाले समय में किसानों को किसी भी दिक्कत का सामना न करना पडें।

https://propertyliquid.com

जनवरी, 2022 के प्रथम सप्ताह के दौरान पानीपत की सहकारी चीनी का नया संयंत्र होगा चालू

बैठक के दौरान सहकारिता मंत्री को अवगत कराया गया कि आने वाले जनवरी, 2022 के प्रथम सप्ताह के दौरान पानीपत की सहकारी चीनी के नए संयंत्र को भी चालू कर दिया जाएगा। इस पर, सहकारिता मंत्री ने संबंधित अधिकारी को निर्देष दिए कि वे पहली जनवरी, 2022 तक नए संयंत्र को चालू करने के संबंध में सभी कार्यों को पूरा कर लें और इस नए संयंत्र को चालू करने में विषेश रूचि रखें। बैठक में बताया गया कि पानीपत की सहकारी चीनी मिल में को-जनरेषन के लिए 132 केवी लाईन के मामले को एचवीपीएनएल तथा एचईआरसी के साथ समन्वय किया जा रहा हैं। इसी प्रकार, करनाल की सहकारी चीनी मिल में 132 केवीए लाईन के संबंध में भी जानकारी सहकारिता मंत्री व उच्च अधिकारियों को उपलब्ध करवाई गई।

आगामी 31 अक्तूबर तक शाहाबाद में 60 केएलपीडी के एथोनॉल परियोजना को किया जाएगा  शुरू  – सहकारिता मंत्री

बैठक के दौरान सहकारिता मंत्री को अवगत कराया गया कि एथोनॉल के उत्पादन में गलूकोज का महत्व होता है, इस पर सहकारिता ने संबंधित अधिकारियों को निर्देष देते हुए कहा कि एथोनॉल के उत्पादन के लिए बाजरे व आलू में पाए जाने वाले गलूकोज के बारे में अध्ययन किया जाए कि बाजरे व आलू में पाए जाने वाले गलूकोज से एथोनॉल का उत्पादन संभव हैं या नहीं। वहीं, अधिकरियों ने सहकारिता मंत्री को बताया कि आगामी 31 अक्तूबर तक षाहाबाद में 60 केएलपीडी के एथोनॉल परियोजना को षुरू कर दिया जाएगा। इसी प्रकार, पलवल, सोनीपत, कैथल, जींद, गोहाना, महम, पानीपत, रोहतक व असंध की चीनी मिलों की क्षमता प्रगति इत्यादि की समीक्षा की गई।

निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए टाइमलाईन फिक्स करें अधिकारी- संजीव कौषल

बैठक के दौरान सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौषल ने संबंधित अधिकारियों को निर्देष देते हुए कहा कि निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए टाइमलाईन फिक्स करें और यदि कोई भी थर्ड पार्टी समय पर कार्य करके नहीं दे रही है तो उस पार्टी को बदलकर दूसरी पार्टी से काम करवाएं ताकि समय की बचत हो सकें और परियोजना को समय पर षुरू किया जा सकें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देष देते हुए कहा कि लक्ष्य आधारित कार्य को आगे बढाते हुए समय अवधि को निर्धारित करें। उन्होंने कहा कि परियोजना के मूल्यांकन के साथ-साथ चार्ट बनाकर सामानंतर गतिविधियों को भी अंजाम दें। श्री कौषल ने कहा कि परियोजना को समय पर पूरा करने के लिए पारदर्षी तरीके से चलना आवश्यक है इसलिए यदि परियोजना में देरी हो रही है तो उन सभी बिंदूओं पर भी कार्य करेें ताकि परियोजना में हो रही देरी को कम करते हुए उसे समय पर पूरा किया जा सकें तथा साथ ही संबंधित की जिम्मेदारी भी फिक्स करें।

सहकारी चीनी मिलों के प्रबंध निदेशकों के कार्यकलापों के लिए तैयार हो एसओपी- कौशल

बैठक के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव ने षुगरफेड के प्रबंध निदेशक को निर्देश देते हुए कहा कि सहकारी चीनी मिलों के प्रबंध निदेशकों के कार्यकलापों के लिए एक मानक संचालन प्रक्रियाएं (एसओपी) तैयार की जाए और इन एसओपी को प्रबंध निदेषकों के कार्यालय में बोर्ड पर लगवाया जाए। इसके अलावा, सीजन आने पर एक कार्यषाला भी आयोजित की जाए ताकि चीनी मिलों के प्रबंध निदेषक अपने काम के प्रति सतर्क रहें।
बैठक में हैफेड के प्रबंध निदेशक श्री ए. श्रीनिवास, हरियाणा राज्य सहकारी चीनी मिल प्रसंघ लि. के प्रबंध निदेशक श्री जितेन्द्र कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

सड़क सुरक्षा नियमों बारे किया जाएगा लोगों को जागरूक : अतिरिक्त उपायुक्त सुशील कुमार

– एडीसी ने सड़क सुरक्षा को लेकर ली अधिकारियों की बैठक, दिए आवश्यक दिशा निर्देश


सिरसा, 05 अक्तूबर।

For Detailed News-


अतिरिक्त उपायुक्त सुशील कुमार ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए यातायात व्यवस्था का सुदृढ होना बहुत ही जरूरी है। ओवर स्पीड वाहन चलाने वालों, हेलमेट और सीट बेल्ट का इस्तेमाल न करने वालों, ड्राइविंग करते समय मोबाइल फोन का प्रयोग करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाए। इसके अलावा आमजन को सड़क सुरक्षा नियमों के बारे में भी जागरूक करें।
वे मंगलवार को सड़क सुरक्षा समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में एसडीएम कालांवाली उदय सिंह, एसडीएम डबवाली राजेश पुनिया, आरटीए हीरा सिंह सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि सड़कों पर मार्किंग की जाए और सांकेतिक बोर्ड भी लगाना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही सड़क के दोनों ओर लगे पेड़ों की छंटाई करवाई जाए। इसके अलावा ब्लैक स्पॉट को चिह्नित कर मार्किंग व लाइटिंग के साथ-साथ पेड़ों पर भी पेंट करवाया जाए। उन्होंने नगर परिषद को निर्देश दिए कि शहर में संभावित दुर्घटना प्वाइंटों पर लगे फ्लेक्स को तुरंत प्रभाव से हटाया जाए और सांकेतिक बोर्ड लगाए जाएं व अवैध पार्किंग करने वालों के चालान किए जाए।

https://propertyliquid.com


उन्होंने निर्देश दिए कि संबंधित विभाग जिला में सड़कों के बीच में बने गड्ढों को जल्द से जल्द भरवाए ताकि सड़क पर पानी का जमाव न हो। इसके साथ ही सड़क के साथ लगते नालों की सफाई करवाई जाए ताकि सड़क पर पानी का बहवाव न हो। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि कोई भी वाहन चालक वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग न करें। चौपहिया वाहन चालक सीट बैल्ट जरूर लगाएं तथा दुपहिया वाहन चालक हेलमेट का प्रयोग करें। इसके अलावा संबंधित विभाग सड़कों व फुटपाथ से पेड़ों की अवरोधक टहनियां हटाना, हरियाणा पुलिस द्वारा ट्रैफिक नियमों की सख्त चेकिंग की जाए व रोड़ संकेतों, कैट आई, जेब्रा क्रॉसिंग व रिफ्लेक्टर लगाए जाएंं। पैदल यात्रियों के लिए सड़क के दोनों किनारों पर मार्किंग के साथ-साथ फुटपाथों की मुरम्मत करवाने के निर्देश दिए।

Workshop on Endodontics at Dental College, PU

PU Emeritus Professor Gets the ISSP Honor Award

Chandigarh October 5, 2021

Professor Emeritus Jitendra Mohan, Department of Psychology, Panjab University, Chandigarh is the first Asian to receive the prestigious Honor Award of  ‘International Society of Sport Psychology’ for the year 2021 during the virtual 15th World Congress of Sports Psychology held from September 30-October 04, 2021 at Taipei.

For Detailed News-

The ISSP is the oldest and largest global society of Sport Psychology, with thousands of members all over the world. This award is presented every four years in recognition of significant contributions to national and international sport psychology through leadership, research, and/or other professional service. Since its inception, this award has been bestowed to only 15 distinguished people.

https://propertyliquid.com

Professor Mohan has served two terms as a member of Managing Council of ISSP from 1989-1993 and 1993-1997. Professor Mohan played a pivotal role in establishing Sports Psychology in India. He is the Founder President of Sports Psychology Association of India, founded in 1985 and has served two terms as its president.  He has been the president of International Society of Mental Training for Excellence (2011-2016), Indian Psychological Association (1997), President: Indian Academy of Applied Psychology (2005-2007), Member Board of Directors: International Association of Applied Psychology (IAAP) (1996 – 2004 and 2006 – 2014) and Vice President: Asian South Pacific Association of Sports Psychology (ASPASP) (1990-1998).