*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

शिक्षा और संस्कार के बिना कोई भी समाज तरक्की नहीं कर सकता -योगेश कुमार

सामाजिक क्रांति के अग्रदूत रहे बाबा साहेब

ग्रामीण क्षेत्रों में भी शिक्षण संस्थान खोलने के किए जाय प्रयास – इंद्रजीत

For Detailed

पंचकूला 14 अप्रैल – हैफेड के सचिव योगेश कुमार ने कहा कि बाबा साहेब सामाजिक क्रांति के अग्रदूत रहे है। उन्होंने सभी को समानता का अधिकार देने के साथ साथ समाज में आर्थिक खुशहाली लाने का प्रयास किया। बाबा साहेब महान समाज सुधारक, प्रख्यात विद्वान थे जिन्होंने जीवन भर समाज की भलाई के लिए कार्य किया।

श्री योगेश कुमार पंचकूला में बाबा साहेब डा.भीमराव अंबेडकर की 133वी जयंती और महत्मा ज्योतिबा फुले की जयंती पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि शिक्षा संस्कारों के बिना कोई भी समाज, परिवार और देश तरक्की कर नहीं सकता। इसलिए हमे बच्चो को अच्छी शिक्षा और संस्कार ग्रहण करने चाहिए। भारत रत्न डा. अम्बेडकर ने समाज को शिक्षित करने की अलख जगाई। उन्होंने शिक्षित होकर संगठित रहने और अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करने का संदेश दिया। हमे उनके बताए हुए इन तीन संदेशों पर चलकर अपना और समाज का भविष्य बनाने पर बाल देना चाहिए। आज समाज के लोगों को बाबा साहेब के आदर्शों को अपने जीवन में धारण करने की आवश्यकता है।

आबकारी एवम कराधान विभाग के संयुक्त आयुक्त डा. इंद्रजीत रंगा ने कहा कि सामाजिक संस्थाओं को विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में भी शिक्षण संस्थान खोलने के प्रयास करने चाहिए और प्रतिभावान बच्चो को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार करना चाहिए। यदि ग्रामीण आंचल के बच्चों को भी अच्छी शिक्षा और प्रतियोगी परीक्षाओं को ग्रहण करने के अवसर मिलेंगे तो वे भी समाज के अग्रणीय बन सकते है।

उन्होंने कहा कि डा. भीमराव अम्बेडकर ने किसी एक समाज या व्यक्ति के लिए कार्य किया बल्कि पूरे समाज के हकों की लडाई लडी और देश को अनूठा संविधान दिया जिसकी बदौलत भारत आज दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र कहलाता है। संविधान में 18 वर्ष की आयु के सभी युवाओं को वोट डालने का अधिकार दिया।

बाबा साहेब ने गरीब, मजदूर, किसान, व्यापारियों की भलाई के लिए कार्य नहीं किया अपितु देश की आधी आबादी महिलाओं का सबसे बड़ा भलाई का कार्य किया। उन्हे भली भांति पता था की यदि महिलाएं शिक्षित और समर्थ होंगी तो वह देश पूर्ण रूप से तरक्की की और अग्रसर होगा। इसलिए उन्होंने हिंदू कोड बिल महिलाओं के अधिकारों को लेकर केंद्रीय मंत्री पद से त्याग पत्र दे दिया था।

उन्होंने कहा कि शिक्षा एक बेहतर हथियार है जो किसी भी युद्ध में पीठ नही दिखाने देता और शिक्षित व्यक्ति जीवन में कभी भी पीछे मुड़ता तथा सदैव आगे ही बढ़ता रहता है। उन्होंने आह्वान किया कि समर्थ व्यक्तियों को समाज के किसी न किसी गरीब के एक बच्चे को अवश्य शिक्षित करना चाहिए। इस प्रकार कोई भी युवा शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा और बाबा साहेब का एक मिशन भी पूरा होगा।

उन्होंने कहा कि जिस दिन समाज में बाबा साहेब का शिक्षित होने का सपना पूरा हो जाएगा तो संगठित होकर अपने अधिकारों को भी अवश्य ही पा लेंगे।

समारोह में दलजीत सिंह एच सी एस, डा विनेश कुमार एच सी एस, जे एस जांगड़ा, डा रामनिवास भारती, बी डी भांखड़,, सुरेंद्र जाटव, आर पी साहनी, प्रधान सुरेश मोरका, कृष्ण लाल बराड़, पूर्व प्रधान राजकपूर अहलावत, डी पी पुनिया, आर पी साहनी, जयबीर रंगा, सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

https://propertyliquid.com

*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

तीनों मंदिरों में छठे दिन आया 27 लाख 60 हजार 217 रुपये चढ़ावा

For Detailed

पंचकूला, 14 अप्रैल- चैत्र नवरात्र मेले के छठे दिन आज श्री माता मनसा देवी, श्री काली माता मंदिर कालका चंडी माता मंदिर में श्रद्धालुओं ने कुल 27 लाख 60 हजार 217 रूपये की राशि दान स्वरूप अर्पित की।माता मनसा देवी मंदिर में लगभग 1 लाख 65 हजार श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन किए।
श्री माता मनसा देवी मंदिर में 23 लाख 17 हज़ार 480 रुपये, श्री काली माता मंदिर कालका में 4 लाख 28 हजार 987 रुपये और चंडी माता मंदिर में 13,750 रुपये दान स्वरूप अर्पित किए गए।


इसके अलावा श्री माता मनसा देवी मंदिर में सोने के 2 नग और चांदी के 63 नग और श्री काली माता मंदिर कालका में सोने के दो और चांदी के 50 नग दान स्वरूप अर्पित की गये।

https://propertyliquid.com

*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

पंचकूला की तीनों मंडियों में 4604 मीट्रिक टन गेहूं व 628 मीट्रिक टन सरसों की हुई खरीद

For Detailed

पंचकूला, 14 अप्रैल – जिला में रबी सीजन 2024-25 के दौरान सरसों गेहूं की खरीद तथा उठान का कार्य सुचारू रूप से चल रहा है। सरकारी खरीद एजेंसियों द्वारा जिला की मंडियों में अब तक 4604 मीट्रिक टन गेहूं और 628 मीट्रिक टन सरसों की खरीद की गई है और 584 मीट्रिक टन सरसों और 30 मीट्रिक टन गेहूं का अब तक उठान किया जा चुका है।


इस संबंध में जानकारी देते हुए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि सरकारी खरीद एजेंसियों हैफेड और हरियाणा वेयर हाउसिंग कारपोरेशन द्वारा पंचकूला, बरवाला और रायपुररानी स्थित अनाज मंडियों में गेहूं व सरसों की खरीद की जा रही है।


उन्होंने बताया कि 4604 मीट्रिक टन गेहूं में से 2220 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद रायपुररानी अनाज मंडी से, 2224 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद बरवाला अनाज मंडी से और 160 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद पंचकूला अनाज मंडी से की गई है। इसी प्रकार 628 मीट्रिक टन सरसों में से रायपुररानी अनाज मंडी से 386 मीट्रिक टन सरसों की खरीद हैफेड द्वारा, बरवाला अनाज मंडी से 30 मीट्रिक टन सरसों की खरीद हरियाणा वेयर हाउसिंग कारपोरेशन द्वारा और 212 मीट्रिक टन सरसों की खरीद हैफेड द्वारा की गई। उन्होंने बताया कि हैफेड द्वारा 584 मीट्रिक टन सरसों का उठान किया गया जिसमें से 386 मीट्रिक टन सरसों रायपुररानी अनाज मंडी तथा 198 मीट्रिक टन सरसों बरवाला अनाज मंडी की शामिल है। हैफेड द्वारा रायपुररानी अनाज मंडी से 30 मीट्रिक टन गेहूं का उठान किया गया।


उन्होंने बताया कि 13 अप्रैल को कुल 2447 मीट्रिक टन गेहूं में से हैफेड द्वारा पंचकूला व रायपुररानी अनाज मंडी में कुल 705 मीट्रिक टन गेहूं और हरियाणा वेयर हाउसिंग कारपोरेशन द्वारा बरवाला अनाज मंडी में कुल 1742 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है, जिसमें से 35 मीट्रिक टन गेहूं की पंचकूला अनाज मंडी व 670 मीट्रिक टन गेहूं की रायपुररानी अनाज मंडी में खरीद की गई है।

https://propertyliquid.com

*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

Importance of Action Research for Social Work practitioners.

Chandigarh April 14, 2024

For Detailed

An excellent academically enriching and practice based workshop titled “Social Work Practice through Action Research” was convened by a renowned social work educator Prof Sanjai Bhatt, former Professor of Delhi School of Social Work at the Centre for Social Work, Panjab University, Chandigarh. He has an experience of more than four decades of teaching Social Work across the country. This comprehensive workshop comprised various insightful sessions tailored to cater to different segments of the audience informed Gaurav Gaur, Chairperson, Centre for Social Work. While discussing the various aspects of the research in social sciences, he elaborated the relevance of action research in context of present and future in context to social work. He also gave real life examples and shed light on research in spirituality and social work.

He shared about the importance of research and action to go simultaneously in the profession of Social Work, and how it plays a significant role in making the research work more valuable and result authentic said Prof Bhatt.

He narrated that an action research plays an important role in solving problems associated with people and society. It is a very important tool to help the masses in finding solutions to their problems.

Dr Gaurav Gaur shared that the students also received guidance on report writing and documentation, crucial skills for reflecting on and sharing their rural camp experiences which was recently conducted at Bharuch, Gujarat.

https://propertyliquid.com

*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

*MCC organizes Fire Service Day*

*MC Commissioner pays homage to Fire brigade jawans*

For Detailed

*Chandigarh, April 14:-* To mark the Fire Services Day, the Municipal Corporation Chandigarh on Sunday organized a programme at Fire Station, Sector 17, Chandigarh. This year Fire Service Week will be organized from 14th to 20th April, 2024 under the theme “Ensure Fire Safety, Contribute towards Nation Building”.

Ms. Anindita Mitra, IAS, Commissioner, Mrs. Isha Kamboj, Joint Commissioner-cum- Chief Fire Officer and other Fire officers laid wreaths at the Martyrs’ Column, in Fire Station, Sector 17 and paid homage to fire brigade jawans. A two-minute silence was also observed in memory of all those firemen in the country who lost their lives while on duty.

In her speech, the Commissioner applauded the bravery of Fire personnel during the crisis. She appreciated the Fire department’s work during major fire incidents in the past. She applauded the firemen for distinguished and meritorious services for their work during their duties.

She said that a special campaign on fire safety would be organized in the city schools and to give more emphasis on fire safety mass awareness activities by conducting fire safety drills in the schools. The salient features like evacuation drills, implementation of fire safety order do & don’t in case of natural and manmade disaster and how to use fire extinguisher etc. would be incorporated in the Fire safety drills.

The Commissioner appealed all the citizens of Chandigarh to join hands during the fire safety awareness programme to be conducted in various parts of the city from April 14th to 20th, 2024 (to mark fire service week). She said that every citizen should know about the operation of fire fighting extinguishers. She also appealed to the city residents to adopt safe housekeeping & approved electrical appliances in their houses and work places.

She said that the importance of organizing such functions to recognize the duties rendered by firemen during fire incidents and to create awareness among the masses regarding fire safety measures.

The Commissioner said that we should not limited to one week’s awareness function but it should be regular exercise throughout the year to create awareness and mock drill programmes. She instructed the concerned staff for preparing proper inventory of items required throughout the year for maintenance purposes.

In addition to that commendation certificates were awarded to the firemen with appreciation certificates for the duties performed, which was occasional for intermittent in character & either so laborious during fire-fighting & rescue operations including Sh. Dharmbir Singh (Leading Firemam), Sh. Devender Siwach (Fireman), Sh. Vikram (Firemam), Sh. Rahul (Fireman Outsource), Sh. Harjeet Singh (Driver Outsource), Sh. Sanjiv Kumar Sharma (Leading Fireman), Sh. Ramandeep Singh (Fireman), Sh. Jagtar Singh (Fireman Outsource), Sh. Sukhjit Singh (Fireman), Sh. Rahul (Fireman), Sh. Paramjit Singh (Driver), Sh. Sunil Kumar (Fireman), Sh. Rohit Chauhan (Fireman), Sh. Jagrup Singh (Fireman), Sh. Rajinder Parsad (Fireman), Sh. Kanchan Sain (Driver), Sh. Sachin Kumar (Fireman), Sh. Jagdeep Singh (Fireman Outsource), Sh. Mohit (Fireman), Sh. Jaimal Singh (WRDO), Sh. Balwant Singh (WRDO), Sh. Amrinder Singh ( Fireman), Sh. Amarjit Singh (Sub Fire Officer), Sh. Gurdeep Singh (Fireman), Sh. Pawan (Fireman), Sh. Vishnu (Fireman), Sh. Rounak (Fireman), Sh. Ravi Kumar (Fireman Outsource), Sh. Tarnjit Singh (Driver), Sh. Kuldeep Singh (Leading Fireman), Sh. Jasbir Singh (Driver), Sh. Gurwinder Singh (Fireman), Sh. Gurjeet Singh (Fireman Outsource), Sh. Ramandeep Singh (Fireman Outsource), Sh. Sandeep Kumar (Fireman Outsource), Sh. Jagtar Singh (Leading Fireman), Sh. Sandeep Kumar Vats (Leading Fireman), Sh. Dharmender (Leading Fireman), Sh. Vikas (Fireman), Sh. Sachin Nain (Fireman), Sh. Manjul (Fireman), Sh. Raghubir Singh (Fireman), Sh. Harjinder Singh (Driver), Sh. Ravi Dutt (Leading Fireman), Sh. Abdul Gani (Leading Fireman), Sh. Gurdeep Singh (Driver), Sh. Ashutosh Rattan (WRDO), Sh. Gagandeep Singh (Fireman), Sh. Manjit Singh (Fireman Outsource) and Sh. Ram Niwas (Sweeper Outsource).

The Fire Services Day has been observed throughout the country since 1944, the year when more than 500 persons including 66 Fire Brigade personnel lost their lives in a major fire in Mumbai. Fire brigade officials said that in 1944, a huge consignment of arms and ammunition kept at the Mumbai dockyard caught fire. The arms and ammunition was meant to be used against Japan by the British, who then ruled over India. Over 500 persons lost their lives in the fire. 66 Fire brigade personnel, who valiantly fought the fire, also lost their lives. Since then, April 14 has been observed as Fire Services Day.

https://propertyliquid.com