*श्रीमती अरूणा आसफ अली राजकीय महाविद्यालय कालका में राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन*

दिल्ली-हरियाणा समेत सात राज्यों में आज मतदान

दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 के छठे चरण में दिल्ली व हरियाणा समेत सात राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर आज सुबह 7 बजे मतदान होगा।

इस चरण में केंद्रीय मंत्रियों के साथ तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों और कई पूर्व मंत्रियों समेत दर्जनों सियासी दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर है।

खासतौर से इस चरण का चुनाव भाजपा के लिए अहम होगा, जिसको अपनी मौजूदा 44 सीटों को बचाने की चुनौती होगी।

सत्रहवीं लोकसभा के लिए 543 में से पहले पांच चरण में 424 सीटों पर चुनाव पूरा होने के बाद अब छठें चरण में सात राज्यों की 59 सीटों पर आज 12 मई को सबकी नजरें टिकी हैं।

इस चरण में 83 महिलाओं समेत 979 प्रत्याशी चुनावी जंग में है, जिनमें 174 राष्ट्रीय दलों, 65 क्षेत्रीय दलों, 430 गैर पंजीकृत मान्यता प्राप्त दलों तथा 310 निर्दलीय रूप से लोकतंत्र के इस महासंग्राम में हिस्सेदार हैं। सात राज्यों के इन सियासी योद्धाओं के भविष्य का फैसला 4.74 करोड़ 46227 महिलाओं समेत 10.16 करोड़ 47624 मतदाताओं को करना है, जिनके लिए 113167 मतदान केंद्र बनाए गये हैं।

इस चरण में जिन 59 सीटों पर मतदान होना है उनमें फिलहाल 44 सीटों पर भाजपा, आठ पर तृणमूल तथा दो पर कांग्रेस का कब्जा है। 

छठे चरण में सात राज्यों की 59 सीटों के चुनाव में बड़े-बड़े सियासी दिग्गजों की साख दांव पर होगी, जिनमें छह केंद्रीय मंत्री दिल्ली की चांदनी चौक सीट पर डा. हर्षवर्धन, हरियाणा की गुडगांव सीट पर राव इन्द्रजीत व फरीदाबाद में कृष्णपाल गुर्जर, यूपी में सुल्तानपुर सीट पर मेनका गांधी, मध्य प्रदेश में मुरैना सीट पर नरेन्द्र सिंह तोमर तथा बिहार की पूर्वी चंपारण सीट पर राधा मोहन सिंह के अलावा यूपी की इलाहाबाद सीट पर योगी सरकार में कैबिना मंत्री रीता बहुगुणा जोशी शामिल हैं।

इसके अलावा हरियाणा की सोनीपत सीट पर भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट पर शीला दीक्षित और यूपी की आजमगढ़ सीट पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव जैसे पूर्व मुख्यमंत्रियों की सियासत भी कसौटी पर कसी जानी है।

इसके अलावा दिल्ली में क्रिकेटर गौतम गंभीर व मुक्केबाज बिजेन्द्र के अलावा केंद्र व दिल्ली सरकार में मंत्री रहे अजय माकन व अरविंदर लवली भी प्रतिष्ठा की जंग में हैं।

हरियाणा में हिसार सीट पर केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह की प्रतिष्ठा भी अपने पुत्र बृजेन्द्र सिंह की सियासी पारी पर होगी।

जबकि काग्रेस प्रत्याशियों में पूर्व मंत्री कुमारी सैलजा, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर, कैप्टन अजय यादव, श्रुति चौधरी, दीपेन्द्र हुड्डा व अवतार सिंह भडाना की अग्नि परीक्षा होगी।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल सीट पर भाजपा की साध्वी प्रज्ञा सिंह व कांग्रेस के दिग्गज दिग्विजय सिंह के अलावा गुना से कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए यह चुनाव अहम होगा।

लोकसभा के छठे चरण में 12 मई रविवार को जिन 59 सीटों पर मतदान होना है, उनमें बिहार की 8 सीटें पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, वाल्मीकिनगर, महाराजगंज, पश्चिमी चंपारण, हरियाणा की 10 सीटें अंबाला, करनाल, सोनीपत, रोहतक, सिरसा, कुरुक्षेत्र, फरीदाबाद, गुड़गांव, भिवानी-महेन्द्रगढ़, हिसार, झारखंड की 4 सीटें धनबाद, सिंहभूम, जमशेदपुर, गिरीडीह, मध्य-प्रदेश की 8 सीटें गुना, सागर, विदिशा, मुरैना, भिंड, ग्वालियर, राजगढ़, भोपाल शामिल हैं।

इनके अलावा उत्तर प्रदेश की 14 सीटों फूलपुर, इलाहाबाद, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, श्रावस्ती, अंबेडकर नगर, बस्ती, संत कबीर नगर, डुमरियागंज, आजमगढ़, लालगंज, जौनपुर, भदोही, मछलीशहर, पश्चिम-बंगाल की 8 सीटों झारग्राम, मेदिनीपुर, तामलुक, कांति, घाटल, विष्णुपुर, पूरुलिया, बांकुरा तथा दिल्ली की 7 सीटों चांदनी चौक, पूर्वी दिल्ली, उत्तर-पूर्व दिल्ली, नई दिल्ली, उत्तर-पश्चिम दिल्ली, पश्चिम दिल्ली, दक्षिण दिल्ली पर भी मतदान होगा।

बिहार में सबसे ज्यादा दागी लोकसभा चुनाव के छठे चरण में चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों में 189 आपराधिक पृष्ठभूमि वाले भी शामिल हैं, जिनमें बिहार के 127 सियासी योद्धाओं सबसे ज्यादा 43 दागियों की सूची में शामिल है।

इसके बाद उत्तर प्रदेश की 14 सीटों पर 177 में से 36, पश्चिम बंगाल की आठ सीटों पर 177 में से 28, हरियाणा की दस सीटो पर 223 में से 24, दिल्ली की सात सीटों पर 164 में और झारखंड की चार सीटों पर 67 में प्रत्याशियों में से 20-20 तथा मध्य प्रदेश की 8 सीटों पर 138 प्रत्याशियों में से 18 प्रत्याशियों के खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं।

चुनावी जंग में 146 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिनके खिलाफ हत्या, अपहरण, लूट, डकैती, हत्या के प्रयास, बलात्कार जैसे संगीन मामले लंबित हैं।

छठे चरण के चुनाव में सबसे ज्यादा 34 दागी निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव मैदान में है। जबकि राजनीतिक दलों में सबसे ज्यादा 26 भाजपा, 20 कांग्रेस, 19 बसपा, पांच शिवसेना, 4-4 तृणमूल कांग्रेस व एसयूसीआई तथा 3-3 आप व सीपीआई के प्रत्याशी इस फेहरिस्त में शामिल हैं।

जहां तक दलों द्वारा करोड़पति प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारने का सवाल है उसमें सबसे ज्यादा 46 प्रत्याशी भाजपा, 37 कांग्रेस, 31 बसपा, 7-7 इनेलो व तृणमूल कांग्रेस, छह आप, पांच-पांच जननायक जनता पार्टी व प्रगतिशील समाजवादी पार्टी, तीन शिवसेना और 71 निर्दलीय प्रत्याशी करोड़पतियों की फेहरिस्त में शामिल हैं।

इस चरण में प्रत्याशियों की औसतन संपत्ति 3.41 करोड़ आंकी गई है। 34 सीट रेडअलर्ट घोषित लोकसभा के छठे चरण के चुनाव में 34 सीटें रेडअलर्ट के दायरे में है, जहां तीन या उससे ज्यादा आपराधिक पृष्ठभूमि वाले प्रत्याशी चुनावी जंग लड़ रहे हैं, इनमें सबसे बिहार की भी सभी आठ और झारखंड की सभी चारों सीटें संवेदनशील यानि रेडअलर्ट के दायरे में हैं।

जबकि यूपी की सात, पश्चिम बंगाल की छह, मध्य प्रदेश व हरियाणा की तीन-तीन सीटों पर तीन या उससे ज्यादा प्रत्याशी दागी चुनावी जंग में हैं।

सर्वाधिक ग्रेजुएट प्रत्याशी छठे चरण के चुनाव में 509 प्रत्याशी स्नातक या उससे ज्यादा शिक्षित हैं, जबकि 395 पांचवी से इंटरमिडिएट तक की शिक्षा ग्रहण कर चुके हैं। वहीं दस अनपढ़ प्रत्याशी भी सियासत की जंग में किस्मत आजमा रहे हैं।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply