जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा हर घर तिरंगा अभियान के तहत निकाली गई साइकिल रैली

Latest News : मुंबई में रेलवे स्टेशन के सामने फुटओवर ब्रिज गिरा

मुंबई CST स्टेशन के सामने एक बड़ा हादसा हुआ है। सीएसटी स्टेशन के सामने का फुट ओवर ब्रिज गिर गया है।

जिसमें 4 लोगों की मौत हो गई है। और 23 लोग घायल हैं।

जो ब्रिज गिरा है वह सीएसटी स्टेशन को आजाद मैदान से जोड़ने वाला ब्रिज है।

हर रोज इस पर हजारों लोग गुजरते हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक जो ब्रिज गिरा है वह बेद पुराना था।

जिसके बजाय अब नया ब्रिज बनाना चाहिए था। लेकिन सरकार के लापरवाही के चलते यह हादसा हुआ है। 

बताया जा रहा है कि हादसे के वक्‍त ब्रिज पर काफी लोग मौजूद थे।

हादसा छत्रपति शिवाजी रेलवे स्‍टेशन के बाहर हुआ है।

बताया जा रहा है कि लगभग 23 लोग घायल हुए हैं। 15 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका। और दो महिलाओं की मौत हो गई है।

जिस समय यह ब्रिज गिरा, ब्रिज पर तो सर्वाधिक भीड़ का समय होता ही है, ब्रिज के नीचे भी उस समय सबसे ज्यादा भीड़ होती है।

लिहाजा ब्रिज पर चल रहे लोगों के साथ-साथ उसके नीचे पहुंचे लोग भी इस दुर्घटना की चपेट में आए। मलबे के नीचे आई एक टैक्सी बिल्कुल पिचक गई।

मलबे में दबे सभी लोगों को निकाल लिया गया है।घटना के कुछ देर बाद ही घटनास्थल पर पहुंचे दमकल और पुलिसकर्मियों ने घायलों को निकट के सेंट जॉर्ज एवं जी.टी.हॉस्पिटल पहुंचाया।

मुंबई पुलिस के मुताबिक ‘टाइम्‍स ऑफ इंडिया बिल्डिंग के पास सीएसटी के प्‍लेटफॉर्म संख्‍या 1 को बीटी लेन से जोड़ने वाला फुटओवर ढह गया है। घायलों को अस्‍पताल ले जाया जा रहा है।

फिलहाल ट्रैफिक के चलते काफी देर तक एंबुलेंस घटनास्थल तक नहीं पहुंच पा रही थी।

इस दुर्घटना को लेकर रेलवे ने कहा है कि ब्रिज की जिम्मेदारी ब्रह्नमुंबई मुनिसिपल कॉर्पोरेशन की है। फिर भी रेलवे राहत कार्य में जुटा है। और रेलवे के डॉक्टर पूरा सहयोग कर रहे हैं।

दक्षिण मुंबई से निकलकर उपनगरीय मुंबई और ठाणे के लिए जानेवाले इसी मार्ग से गुजरते हैं। दुर्घटना के बाद यह मार्ग बंद कर दिया गया है। मलबा हटाने की कोशिश की जा रही है।

रेलवे के सूत्रों के अनुसार, इस ब्रिज के मलबे में अभी भी कई लोगों के दबे होने की आशंका है, जिसे देखते हुए इलाके में बड़े स्तर पर राहत कार्य शुरू कराए गए हैं।

मुंबई के जिस स्थान पर यह हादसा हुआ उससे कुछ ही दूरी पर मुंबई पुलिस और मुंबई महानगरपालिका के मुख्यालय स्थित हैं।

सेंट्रल रेलवे के डीआरएम डीके शर्मा के अनुसार, जिस ब्रिज के गिरने से यह हादसा हुआ उसकी देखरेख का काम बीएमसी करती है। उन्होंने बताया कि ब्रिज का निर्माण कार्य रेलवे ने कराया था, लेकिन रखरखाव की जिम्मेदारी बीएमसी की ही थी।

देश की आर्थिक राजधानी में किस तरह लापरवाही हो रही है इसका अंदाजा हम इसी से लगा सकते हैं कि यह साल भर में दूसरी ब्रिज गिरने की घटना है। 3 जुलाई 2018 को अंधेरी स्टेशन के करीब एक फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिर गया था।

जिसके चलते वेस्टर्न लाइन पर लोकल ट्रेनों की आवाजाही छप हो गई थी। हादसे में कई लोग जख्मी हुए थे। भारी वजन के चलते पुल गिरने की बात सामने आई थी।

हालांकि गोखले ब्रिज के गिरने के बाद भी सरकार ने किसी भी तरह की सतर्कता नहीं बरती और सीएसटी स्टेशन के करीब यह हादसा देखने को मिला।

जबकि CST स्टेशन मुंबई का बेहद प्रमुख स्टेशन है। साथ ही यह बेहद पुराना ब्रिज था जो गिरा है। 


0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply