जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

सैंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम’ का सॉफ्टवेयर मजदूरों के कल्याण में मील का पत्थर साबित होगा- उपमुख्यमंत्री

For Detailed News-

चंडीगढ़, 15 जून- हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा देश का पहला राज्य बन गया है जहां भवन एवं अन्य निर्माण कार्यों से जुड़े पंजीकृत मजदूरों को उनकी योजनाओं का लाभ ‘फर्स्ट-इन,फर्स्ट-आऊट’ (प्रथम आवेदन का समाधान पहले) के आधार पर मिलेगा। ‘हरियाणा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड’ द्वारा तैयार किया गया ‘सैंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम’ का सॉफ्टवेयर मजदूरों के कल्याण में मील का पत्थर साबित होगा।

         डिप्टी सीएम, जिनके पास श्रम एवं रोजगार का प्रभार भी है, आज यहां ‘हरियाणा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड’ के ‘सैंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम’ को लांच करने के बाद श्रम विभाग तथा बोर्ड के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर श्रम एवं रोजगार विभाग के राज्य मंत्री श्री अनूप धानक भी उपस्थित थे।

         श्री दुष्यंत चौटाला, जो ‘हरियाणा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड’ के चेयरमैन भी हैं, ने कहा कि इस ‘सैंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम’ से जहां कार्य में पारदर्शिता आएगी वहीं भ्रष्टाचार पर भी नकेल कसी जा सकेगी। उन्होंने नए सिस्टम को एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि हरियाणा देश का पहला राज्य है जहां अपने पंजीकृत श्रमिकों को दी जाने वाली कल्याणकारी योजनाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जाएगा। जो श्रमिक पहले आवेदन करेगा उसके आवेदन पर पहले कार्रवाई की जाएगी। अधिकारियों में काम का ऑटोमैटिक समान बंटवारा होगा, ‘पिक एंड चूज’ की नीति पर अंकुश लगेगा। अगर कोई अधिकारी एक माह तक उस आवेदन पर कार्रवाई नहीं करता है तो जांच में लापरवाही मिलने पर आरोपी अधिकारी के खिलाफ कड़ा संज्ञान लिया जाएगा।

https://propertyliquid.com

         उपमुख्यमंत्री ने नए सिस्टम को विभाग का ट्रांसफोरमेशन बताते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि ‘हरियाणा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड’ द्वारा तैयार किए गए साफ्टवेयर का देश में उसी तरह अनुकरण किया जाएगा जिस प्रकार ‘लाल-डोरा मुक्त गांव’ अभियान को अपनाया गया है।

         श्रम एवं रोजगार विभाग के राज्य मंत्री श्री अनूप धानक ने बोर्ड द्वारा तैयार किए गए ऑनलाइन सिस्टम के लिए उपमुख्यमंत्री की सोच को मजदूरों के हित में बताया और कहा कि पंजीकृत श्रमिक एक गरीब तबके से होते हैं, इस सॉफ्टवेयर से उनको योजनाओं का लाभ मिलने में आसानी होगी। कोविड-19 के दौरान श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों के लिए किए गए कार्य की सराहना भी की।

         श्रम विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री वी.एस कुंडु ने विभाग के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि ‘सैंट्रल प्रोसेसिंग सिस्टम’ शुरू होने से श्रमिकों के मुद्दों को सुलझाने में काफी मदद मिलेगी। इस अवसर पर श्रम विभाग के आयुक्त श्री पंकज अग्रवाल, बोर्ड के संयुक्त सचिव श्री अनुराग गहलावत, बोर्ड-चेयरमैन के सलाहकार श्री प्रहलाद गोदारा के अलावा विभाग के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

Chandigarh June 15, 2021

For Detailed News-

The first meeting of the newly constituted Interdisciplinary Task Force was held today under the Chairmanship of Prof. Raj Kumar, Vice Chancellor, Panjab University, Chandigarh. While addressing, PU VC strongly expressed that the thrust areas in the interest of PU be listed out with the interest of society, global perspective and government priority in mind. He informed that he will be integrating all the lab facilities available in PU and urged all to focus on industry oriented research, patents and citations. He further added that the task force  has been constituted  mainly to enhance the global image of PU and to increase outputs for research/teaching for enhancing PU rankings. 

 He urged for enhanced interdepartmental communication to fill the gaps for the research going on in various labs of PU. The need of the hour is to collaborate and work out modalities where Centre for Industry Institute Partnership Programme (CIIPP),Management and Industrial links come to the help of departments.

During discussions, it was also felt that the industry be involved in the Board of Studies and Board of Controls for making of the syllabi and teaching to prioritize the research areas which will enable students to be industry ready.

It was strongly felt that more and more scientists should be encouraged for patenting their research work. For this, PU VC informed that a nodal officer has been appointed for encouraging the writing for getting the patents. For this, hiring a professional patent agent  was also suggested apart from exploring options of  Govt agencies who give free services for filing the patents.

There was a suggestion that under the Corporate Social Responsibility programme, the industry be tapped for funding the research projects. For this, CIIPP and Management can help the departments.

https://propertyliquid.com

PU VC urged for more and more collaborations with the industry for the visibility of PU. It was  to have interdisciplinary research on environment, health,disaster management, public health and public policy. The industrial feedback will be taken for good research work . There was also a suggestion to have a Science & Technology hub on PU website with thrust areas mentioned therein under which, the links for the faculty to be provided for better coordination.

Prof. Prince Sharma, Microbiology coordinated the meeting. Those present included Dr. Hemant Batra,  Principal, Dental College, Dr. Rupinder Kaur, Chief Medical Officer, Prof. Indu Pal Kaur, Chair, University Institute of Pharmaceutical Sciences, Dr. DK Rahi, Chair, Microbiology, Prof. Navneet Agnihotri, Chair, Biochemistry, Dr. Kashmir Singh, Chair, Biotechnology, Dr. Rohit Sharma, Chair, Microbial Biotechnology, Prof. Rajinder Kaur, Director, University Institute of Legal Studies, Prof. Neena Capalash, Biotechnology, Dr. Kewal Krishan, Anthropology, Prof. Ganga Ram, CIL, Dr Monika Munjial, Chair, Social Work, Prof. Manu Sharma, UIET, CIIPP, Dr. Y P Verma, University Institute of Engineering and Technology (UIET), Prof. Harish Kumar, UIET, Prof Sarabjeet,UIET and Ms. Renuka B. Salwan, Director, Public Relations

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का उठाए लाभ, धान की जगह वैकल्पिक खेती करने पर मिलेगी प्रोत्साहन राशि : एसडीएम दिलबाग सिंह

ऐलनाबाद, 15 जून।

For Detailed News-


एसडीएम दिलबाग सिंह ने कहा कि उपमंडल के किसान हरियाणा सरकार की मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि पानी की बचत करने के उद्देश्य से सरकार ने यह योजना क्रियान्वित की है। योजना के तहत धान की वैकल्पिक फसल की खेती करने वाले किसानों को 7000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से अनुदान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को धान के स्थान पर वैकल्पिक फसलों का उत्पादन करना होगा। इन वैकल्पिक फसलों में कपास, मक्का, अरहर, मुंग, मौठ, उड़द, सोयाबीन, गवार, तिल, मूंगफली, खरीफ प्याज और सभी खरीफ चारा फसल शामिल है।


उन्होंने कहा कि पिछले खरीफ सीजन के दौरान मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के तहत फसल विविधीकरण को अपनाने वाले किसानों को इस वर्ष भी योजना के तहत प्रोत्साहन राशि देने का निर्णय लिया गया है। लेकिन इसके लिए संबंधित किसानों को खेत में धान की बजाए वैकल्पिक फसलों की बुवाई का कार्य जारी रखना होगा। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसान को मेरा पानी-मेरी विरासत पोर्टल व मेरी फसल-मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा।

https://propertyliquid.com

उन्होंने बताया कि योजना का लाभ लेने के लिए इच्छुक किसानों को ‘मेरा पानी-मेरी विरासतÓ व ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौराÓ पोर्टल पर आगामी 25 जून, 2021 तक पंजीकरण करना होगा। अधिक जानकारी के लिए किसान विभाग के टोल फ्री नंबर 1800-180-2117 पर किसी भी कार्य दिवस को सपंर्क कर जानकारी ले सकते हैं।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

हरियाणा सरकार ने हर वर्ष की तरह इस साल भी राज्य के अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर के प्रतिभाशाली खिलाडियों को प्रोत्साहित करने के लिये नकद पुरस्कार देने का निर्णय लिया है।

For Detailed News-

पंचकूला, 15 जून- हरियाणा सरकार ने हर वर्ष की तरह इस साल भी राज्य के अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर के प्रतिभाशाली खिलाडियों को प्रोत्साहित करने के लिये नकद पुरस्कार देने का निर्णय लिया है। हरियाणा राज्य के सभी जिलों द्वारा इस संदर्भ में आवेदन आमंत्रित किये गये हैं । ये आवेदन खिलाड़ियों को 25 जुलाई 2021 तक कार्य दिवस वाले दिन जमा करवाने होंगे।

https://propertyliquid.com


इस संबंध में जानकारी देते हुये जिला खेल अधिकारी राजेंद्र पाल गुप्ता ने बताया कि हर जिले का खिलाड़ी संबंधित जिले में ही आवेदन कर सकता है। उन्होंने बताया कि पंचकूला में आवेदन के लिये वो खिलाड़ी ही पात्र होंगे, जिनके पास रिहायशी प्रमाण पत्र जिला पंचकूला का हो। ये खिलाड़ी अपने आवेदन का नमूना विभाग की वेबसाईट www.haryana.sports.gov.in     से डाउनलोड कर सकते है। अंतिम तिथि के बाद किसी भी खिलाड़ी के आवेदन पर कोई विचार नहीं किया जायेगा।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

मनसा देवी काम्पलैक्स सेक्टर-1 से राजीव व इंदिरा काॅलोनी पंचकूला तक नाले परिसर के सौंदर्यकरण एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का किया शिलान्यास- गुप्ता

For Detailed News-

पंचकूला, 15 जून- शहर को स्वच्छ और हरा भरा बनाने की दिशा में एक ओर कदम बढ़ाते हुये हरियाणा के विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने आज मनसा देवी काम्पलैक्स सेक्टर-1 से राजीव व इंदिरा काॅलोनी पंचकूला तक नाले परिसर के सौंदर्यकरण एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का शिलान्यास किया।
सौंदर्यकरण का यह कार्य हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा लगभग 4 करोड़ रुपये की लागत से किया जायेगा। यह कार्य अगले 6 महीने में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। सौंदर्यकरण की दृष्टि से नाले के साथ साथ 100 बैंच, 651 अशोका व नीम के पेड़, 648 पलमेरिया और आम के पेड़ तथा 2598 शरबस लगाये जायेंगे। इसके अलावा 3.25 एकड़ पर ग्रासी लाॅन बनाया जायेगा।


इस अवसर पर संबोधित करते हुये श्री गुप्ता ने कहा कि यह विशेषकर एमडीसी सेक्टर-1 और 4 के नागरिकों की बहुत पुरानी मांग थी। उन्होंने कहा कि यहां से गुजरने वाले प्राकृतिक नाले की वजह से लोगों को गंदगी व घासफूस खड़े होने के कारण कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा था। उन्होंने बताया कि इस समस्या का समाधान करते हुये हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की ओर से लगभग 4 करोड़ रुपये की लागत से एमडीसी सेक्टर-1 पंचकूला से राजीव व इंदिरा काॅलोनी पंचकूला तक के 4 किलोमीटर स्ट्रेच के सौंदर्यकरण के लिये अशोका और नीम के पेड़ और अन्य पौधे इस नाले के बर्म के उपर और फुटपाथ के आस पास लगाये जायेंगे। यह कार्य आगामी 6 महीने में पूरा किया जायेगा।


श्री गुप्ता ने कहा कि हमने अपने विधानसभा तथा नगर निगम दोनों के घोषणा पत्र मे वायदा किया था कि सेक्टर-2 व 4 की तरफ व सेक्टर-1 से राजीव व इंदिरा काॅलोनी तक दोनों नालों का सौंदर्यकरण किया जायेगा।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इसके अलावा शहर में लोगों की सुविधा के लिये फूड स्ट्रीट या नाईट फूड स्ट्रीट शुरू करने के लिये उपयुक्त स्थान पहचान की जा रही है। उन्होंने कहा कि वे चाहते है कि यहां अच्छे वेंडर आये और पंचकूला एक पिकनिक स्पाॅट के रूप में विकसित हो।

https://propertyliquid.com


उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा पंचकूला को मैट्रापोलिटन सिटी बनाने की घोषणा शहर के लिये वरदान सिद्ध होने जा रही है। उन्होंने कहा कि बहुत से नामी निजी विश्वविद्यालयों  ने यहां स्थापित होने वाली एजुकेशन सिटी में अपना संस्थान खोलने में रूचि दिखाई है। इसके अलावा दो बड़े अस्पताल भी यहां स्थापित होंगे, जिससे शहरवासियों को और अधिक बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें उपलब्ध होगी। फिल्म सिटी का जिक्र करते हुये उन्होंने कहा कि पंचकूला हिमाचल की तलहटी में बसा हैं और यह फिल्म इंडस्ट्री के लिये बेस कैंप का काम करेगा।


श्री गुप्ता ने कहा कि वे मोरनी को टूरिस्ट हब बनाना चाहते है। इस दिशा में आगामी 20 जून को मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल मोरनी में ट्रेकिंग, पैरागलाईडिंग व हाॅटबैलून का शुभारंभ करेंगे। उन्होंने कहा कि पंचकूला के विकास के लिये अनेक कदम उठाये जा रहे है और उन्हें विश्वास है कि आने वाले दो तीन सालों में पंचकूला की एक नई तस्वीर उभर कर सामने आयेगी और पंचकूला राष्ट्रीय ही नहीं बल्कि अंतर्राष्टीय स्तर पर अपनी एक अलग पहचान बनायेंगा।


इस अवसर पर नगर निगम महापौर कुलभूषण गोयल, बीजेपी जिलाध्यक्ष अजय शर्मा, एचएसवीपी के प्रशासक धमेंद्र सिंह, अधीक्षक अभियंता संजीव चैपड़ा, चीफ इंजीनियर योगेश मोहन मेहता, कार्यकारी अभियंता एन के पायल, कार्यकारी अभियंता निधि भारद्वाज, जिला महामंत्री वीरेंद्र राणा, जिला उपाध्यक्ष उमेश सूद, जिला महासचिव परमजीत कौर, माता मनसा देवी मंडलाध्यक्ष युवराज कौशिक, प्रमोद वत्स, जिला सचिव सुरेंद्र मनचंदा, युवा महामंत्री अमरेंद्र व अछरसिंह, युवा मोर्चा सचिव बिंद्र गुर्जर, सेक्टर-4 के पार्षद सुरेश वर्मा व भाजपा के अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

Webinar on Gender Manthan at Social Work, PU

Chandigarh June 15, 2021

Centre for Social Work and Department of Ancient Indian History Culture & Archaeology, Panjab University organized a webinar under the Series titled “Gender Manthan” today.

For Detailed News-

The idea behind Gender Manthan is  to sensitize students about Gender related issues. The distinguished speaker of the webinar was Professor Chander Shekhar from the International Institute for Population Sciences, Mumbai, under the Ministry of Health and Family welfare, Government of India.

Professor Chander Shekhar spoke on “ Declining Fertility Desire and Changing Sex Preference for Children in Punjab: Demographic and Gender Role Implications”.

The welcome address was delivered by Professor Paru Bal Sidhu, Chairperson, Department of Ancient Indian History Culture & Archaeology, Panjab University.

https://propertyliquid.com

The webinar was attended by 100 participants including students and faculty from University of Mumbai & Guwahati.

The vote of thanks was given by Professor Monica Munjial, Chairperson.