जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

PU Resumes full day Working wef 10th June

Chandigarh June 9, 2021

Panjab University, Chandigarh, after reviewing the status of COVID-19 cases in the campus and on the basis of recommendations of the Committee, constituted for this purpose, the Competent Authority  has resumed the office timings of the University  from 9.00 a.m. to 5.00 p.m. with full strength wef 10th June,2021.

For Detailed News-

The competent authority has approved following measures to contain the spread of ongoing Corona pandemic, to be observed by all the offices of the Panjab University: –  

1. The Office timings of the University shall be resumed to normal working hours, i.e. from 9.00 a.m. to 5.00 p.m. with full strength.  However, depending upon the staffing pattern and laydown of the office space, etc. if the Head of the Office/Department is of the view that staggering of timings/attendance is required to ensure proper compliance of COVID – 19 protocols, then he/she may stagger the timings and attendance of staff by issuing proper office orders giving appropriate justification for the same, subject to the condition that the normal day to day work as well as time bound assignments relating to the offices may not get affected.   

2. There shall not be any public dealing up to 25.06.2021 except with the prior appointment of the concerned HOD that too for urgent issues only. 

3. The Office staff shall avoid community lunch and any kind of get together to ensure proper physical distancing.   

4. All staff must ensure appropriate COVID-19 compliant behavior, i.e., proper wearing of masks (covering both mouth and nose), proper physical distance, regular handwashing/sanitization, etc. 

5. The entry and exit points shall be properly regulated to avoid any crowding.  

6. The lifts shall work with the capacity of only two passengers and one operator. 

https://propertyliquid.com

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

कोरोना को लेकर जागरूकता अभियान जारी, संक्रमण से बचाव का दिया जा रहा संदेश

ऐलनाबाद, 9 जून।

For Detailed News-


कोरोना के मामले घट रहे हैं, जोकि उप मंडलवासियों के लिए सुखद संकेत है, लेकिन संक्रमण फैलाव के रोकने व इसके खात्मे के लिए लगातार जागरूक रहते हुए बचाव उपायों की पालना बहुत ही जरूरी है। आमजन की सजगता, सतर्कता व जागरूकता ही कोरोना को हरायेगी। इसी उद्ेश्य से सूचना एवं जनसंपर्क विभाग लगातार प्रचार वाहन से शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण से बचाव उपायों के प्रति आमजन को जागरूक करने का अभियान चलाये हुए है। विभागीय वाहनों के माध्यम से शहरी व ग्रामीण क्षेत्र को कवर करते हुए हर व्यक्ति तक संक्रमण से बचने का संदेश पहुंचाया गया है। आमजन में कोरोना को लेकर जागरूकता बनाएं रखने के लिए विभाग का जागरूकता अभियान अभी भी जारी है।


प्रचार वाहन से नागरिकों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क, सेनेटाइजर, बार-बार हाथ धोने, सोशल डिस्टेसिंग आदि की पालना के लिए जागरूक किया जा रहा है। इसके साथ ही कोरोना को लेकर समय-समय पर जारी होने वाली हिदायतों व दिशा-निर्देशों की जानकारी देने के साथ-साथ इनकी पालना के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। प्रचार वाहन द्वारा शहर व प्रत्येक गांव को कवर किया जा रहा है, ताकि हर व्यक्ति तक कोरोना संक्रमण से बचाव का संदेश पहुंचे।

https://propertyliquid.com


इन नियमों व उपायों को लेकर किया जा रहा जागरूक :


प्रचार वाहन के माध्यम से शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना को लेकर सरकार व प्रशासन की हिदायतों की पालना के साथ-साथ संक्रमण से बचाव के लिए बरती जाने वाली सावधानियों बारे आमजन को जागरूक किया जा रहा है। लोगों को मास्क, सेनेटाइजर तथा बार-बार हाथ धोने के लिए कहा जा रहा है। इसी प्रकार प्रशासन की ओर से कोविड इलाज व इससे संबंधित स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी वाले टोल फ्री नम्बरों की सूचना दी जा रही है। संक्रमण से बचाव को लेकर चलाए जा रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम के बारे में भी लोगों को जागरूक करते हुए, उन्हें वैक्सीन टीका लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।


संक्रमण के पूर्ण खात्मे तक सजगता, सतर्कता व जागरूकता बनाए रखने की जरूरत :


एसडीएम दिलबाग सिंह ने कहा कि धीरे-धीरे संक्रमण की चेन टूट रही है, लेकिन जब तक संक्रमण पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है तब तक कोई भी ढिलाई न बरतें। इसलिए नागरिक सजगता, सतर्कता व जागरूकता को लगातार बनाएं रखें और संक्रमण से बचाव के सभी उपायों की स्वेच्छा से पालना करते रहें। उन्होंने कहा कि आमजन की जागरूकता ही कोरोना संक्रमण के फैलाव पर रोक लगाएगी। मास्क, सोशल डिस्टेसिंग व साफ-सफाई आदि प्रमुख उपायों को अपनाकर संक्रमण से बचा जा सकता है।

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

धान छोड़ फसल विविधिकरण अपना पानी बचत के साथ कमा रहे अधिक मुनाफा

सिरसा, 9 जून।

For Detailed News-

-सरकार की जल बचाओ मुहिम (मेरा पानी-मेरी विरासत) के साथ जुड़कर जागरूकता का परिचय दे रहे किसान
-झोरड़आली के किसान दीपक नड्डा ड्रिप सिंचाई से जैविक सब्जियां उगाकर बचा रहे 75 प्रतिशत पानी
-बेगू के राजा राम ने धान की जगह मूंग व कपास फसल की बिजाई करके उठाया मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का लाभ
-योजना के लाभ के लिए 25 जून तक किया जाएगा पंजीकरण, किसान अपना पंजीकरण करवाकर उठाएं योजना का लाभ


प्रदेश सरकार ने पानी बचत के साथ-साथ किसानों को फसल विविधिकरण की ओर अग्रसर करने के उद्ेश्य से मेरा पानी-मेरी विरासत नामक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की हुई है। जागरूक किसान न केवल इस योजना का लाभ उठा रहे हैं, बल्कि सरकार की जल बचाओ मुहिम के साथ जुड़कर दूसरों के लिए भी प्रेरणा स्रोत बन रहे हैं। इन्हीं जागरूक किसानों में झोरड़वाली के दीपक नड्डा, बेगू गांव के राजा राम आदि भी हैं, जिन्होंने धान की जगह वैकल्पिक खेती करके न केवल अधिक पैदावार ली बल्कि पानी की भी बचत की। इन सभी किसानों ने वैकल्पिक खेती को अपनाकर सरकार की मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का लाभी उठाते हुए प्रति एकड़ 7 हजार रुपये की राशि भी प्राप्त की है।


झोरड़वाली के किसान दीपक नड्डा ने बताया कि वह धान की जगह फसल विविधिकरण को अपना रहे हैं। वह पिछले साल से चार एकड़ में फलदार पौधों व जैविक सब्जियों की खेती कर रहे हैं। उसने बताया कि वह चार एकड़ में ड्रिप सिस्टम से सिंचाई करके करीब 75 प्रतिशत पानी की बचत कर रहे हैं। दीपक ने बताया कि वह सब्जियों व फलों से अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। उसने पारस के नाम से नर्सरी भी बनाई हुई है। फलों व सब्जियों के जैविक होने से लोगों में इनकी मांग अधिक है। वे स्वयं सीधे ग्राहकों को फल व सब्जियां पहुंचा रहे हैं, जिससे उसे अधिक बचत हो जाती है।


उन्होंने कहा कि दूसरे किसान भी फसल विविधिकरण को अपनाकर फल व सब्जियों की जैविक खेती करें तो इससे न केवल पानी की बचत होगी, बल्कि आमदनी भी बढेगी। इसी प्रकार गांव बेगू के किसान राजा राम ने भी मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का लाभ उठाते हुए फसल विविधिकरण को अपनाया है। राजा राम धान की जगह पांच एकड़ में मूंग व चार एकड़ में कपास की खेती कर रहे हैं। इसके साथ ही चार एकड़ में जैविक सब्जियां भी उगा रहे हैं। राजा राम ने बातचीत में बताया कि किसान फसल विविधिकरण करके न केवल अपनी आय को बढा सकते हैं, बल्कि गिरते भू जल स्तर को बचाने की सरकार की मुहिम में सहयोगी भी बनें।


ब्लॉक नाथूसरी चौपटा के गांव मोचीवाली के प्रगतिशील किसान सीता राम ने भी प्रदेश सरकार की भूजल संरक्षण की मुहिम में हाथ बढाते हुए मेरी फसल-मेरा ब्यौरा योजना के तहत फसल विविधीकरण को अपनाया है। किसान सीताराम ने बताया कि पिछले वर्ष खरीफ 2020 में धान की खेती को छोड़कर कपास की फसल 15 एकड़ में कास्त की थी और इस वर्ष भी मैंने धान की बजाए कपास की फसल 15 एकड़ में बिजाई की है। उसने बताया कि सरकार की ओर से उसे मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के तहत सात हजार रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि भी मिली है। इसी प्रकार गांव डबवाली के किसान सतकरतार सिंह भी अपने खेत में फसल विविधीकरण को अपना रहे हैं। सतकरतार सिंह ने 10 एकड़ में धान की बजाय कपास फसल की कास्त की है। उसने बताया कि जल बचाओ मुहिम में हर किसान को जुडऩा चाहिए। इसके लिए फसल विविधिकरण को अपनाकर मुहिम के उद्ेश्य को सार्थक किया जा सकता है। इन किसानों ने सभी किसान भाईयों से अपील की है कि वे भी धान की फसल की बजाए अन्य वैकल्पिक फसलें जैसे मक्का, कपास, अरहर, मूंग, ग्वार, तिल, मूंगफली, मोठ, उडद, सोयाबीन व चारा तथा प्याज की फसल की कास्त करें व सरकार द्वारा चलाई जा रही मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम का लाभ उठाए।

https://propertyliquid.com

मेरा पानी-मेरी विरासत तथा मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण 25 जून 2021 तक करवाना अनिवार्य होगा। योजना के अनुसार जो किसान धान फसल की बजाए वैकल्पिक फसल जैसे मक्का, कपास, अरहर, मूंग, ग्वार, तिल, मूंगफली, मोठ, उडद, सोयाबीन व चारा तथा प्याज की फसल की कास्त करने पर उसे सात हजार रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।


एसीएस ने की फसल विविधिकरण अपनाने वाले किसानों से बातचीत :
कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजयेंद्र कुमार ने लोक निर्माण विश्राम गृह में फसल विविधिकरण अपनाने वाले किसानों से बातचीत की। इस दौरान किसानों ने फसल विविधिकरण के अनुभव को लेकर अपने विचार सांझा किए। इस दौरान उपायुक्त अनीश यादव भी उपस्थित थे। इसके अलावा डीडीए कृषि विभाग डा. बाबू लाल, बागवानी अधिकारी रघबीर सिंह झोरड़ भी मौजूद थे। एसीएस ने किसानों से कहा कि उन द्वारा फसल विविधिकरण दूसरे किसानों को भी इस विधि को अपनाने के लिए प्रेरित करेगा। एसीएस ने उपस्थित किसानों से एक-एक कर फसल विविधिकरण से कास्त कर रहे फसलों और इससे होने वाले फायदों आदि बारे भी जानकारी ली। उपस्थित किसानों ने बताया कि वे फसल विविधिकरण के साथ-साथ ड्रिप प्रणाली से सिंचाई करके कम पानी से बेहतर पैदावार ले रहे हैं। किसानों ने बताया कि कृषि एवं कल्याण विभाग तथा बागवानी विभाग द्वारा समय-समय पर जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से काफी फायदा हुआ। फसलों की गुणवत्ता सुधारने की जानकारी के साथ-साथ प्रदेश सरकार की योजनाओं का भी लाभ मिलने में आसानी हुई।

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि जिला में कोरोना के मामलों में काॅफी कमी आई है और कोविड की दूसरी वेव लगभग समाप्ति की ओर है।

For Detailed News-

पंचकूला, 9 जून- उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि जिला में कोरोना के मामलों में काॅफी कमी आई है और कोविड की दूसरी वेव लगभग समाप्ति की ओर है। उन्होंने जिलावासियों से अपील की है कि फिर भी वे सतर्क रहे और किसी भी प्रकार की कोताही या लापरवाही ना बरते। इसके साथ साथ वे सामाजिक दूरी का पालन कर मास्क और सेनिटाईजर का प्रयोग अवश्य करें।


उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा कोरोना से प्रभावी ढंग से निपटने के लिये कोविड टीकाकरण के साथ साथ आईसीएमआर, भारत सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा समय समय पर जारी की गई हिदयतों व दिशा निर्देशों की कड़ाई से पालना सुनिश्चित की जा रही है।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि इसी के मद्देनजर लघु सचिवालय के प्रथम मंजिल पर कोविड-19 के रोगियों की सहायता के लिये एक नियंत्रण कक्ष कार्य कर रहा है, जिसका मुख्य उद्देश्य जिला में कोरोना से संक्रमित रोगियों को समय पर दवाइयां, बिस्तर उपलब्ध करवाना और उनको अस्पताल में दाखिल करवाना है। उन्होंने कहा कि जिला का कोई भी नागरिक इस नियंत्रण कक्ष में हैल्प लाईन नंबर 0172-2590000 और 0172-2930222 पर काॅल करके मदद प्राप्त कर सकता हैं। यह हैल्प लाईन जिलावासियों की सेवा में 24×7 काम कर रही है।

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

उपायुक्त ने हरियाणा सरकार द्वारा विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के तहत पेंशन प्राप्त करने वाले जिला के सभी लाभपात्रों से आग्रह किया है कि वह शीघ्रातिशीघ्र अपना परिवार पहचान पत्र बनवायें

For Detailed News-

पंचकूला, 9 जून- उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने हरियाणा सरकार द्वारा विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के तहत पेंशन प्राप्त करने वाले जिला के सभी लाभपात्रों से आग्रह किया है कि वह शीघ्रातिशीघ्र अपना परिवार पहचान पत्र बनवायें ताकि उन्हें पेंशन प्राप्त करने में किसी प्रकार की समस्या का सामना न करने पड़ें।


उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पेंशन प्राप्त करने वाले सभी लाभपात्रों के लिये परिवार पहचान पत्र आवश्यक कर दिया गया है। लाभपात्र पेंशन के लिये तभी आवेदन कर सकता है जब उसका परिवार पहचान पत्र बना होगा। इसलिये सभी लाभपात्र पेंशन का आवेदन करने से पहले अपने क्षेत्र के नजदीकी सीएससी सेंटर व अटल सेवा केंद्र में जाकर परिवार पहचान पत्र बनवाये।


उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा जन कल्याण के लिये विभिन्न योजनायें चलाई जा रही है, जिनमें वृद्धावस्था सम्मान भत्ता, विधवा/निराश्रित महिलाओं को वित्तीय सहायता, दिव्यांग पेंशन, लाडली सुरक्षा भत्ता, बोना भत्ता, मंदबुद्धि बच्चों को वित्तीय सहायता इत्यादि शामिल है।

https://propertyliquid.com


उन्होंने कहा कि जो लाभपात्र उपरोक्त पेंशन योजनाओं का लाभ ले रहे है वह सभी लाभपात्र शीघ्रातिशीघ्र अपने क्षेत्र के नजदीकी सीएससी सेंटर व अटल सेवा केंद्र में जाकर परिवार पहचान पत्र बनवाये और सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाये।

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

अतिरिक्त मुख्य सचिव हरियाणा सरकार विजयेंद्र कुमार की अध्यक्षता में जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक का आयोजन

सिरसा, 9 जून।

For Detailed News-

बैठक में रखी गई 11 शिकायतें, 3 का मौके पर ही निपटान, 8 को लंबित रखते हुए अधिकारियों को दिए कार्रवाई करने के आदेश


कोरोनाकाल के चलते अक्तूबर 2019 के बाद पहली बार लघुसचिवालय स्थित सभागार में जिला लोक संपर्क एवं कष्ट निवारण समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता अतिरिक्त मुख्य सचिव विजयेंद्र कुमार ने की। समिति की बैठक में कुल 11 शिकायतें रखी गई। इस दौरान अध्यक्ष ने तीन शिकायतों का मौके पर ही निपटान कर दिया तथा 8 शिकायतों को लंबित रखते हुए संबंधित विभाग के अधिकारियों को इस दिशा में आवश्यक कार्यवाही करते हुए आगामी बैठक में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश दिए। बैठक में उपायुक्त अनीश यादव, पुलिस अधीक्षक भूपेंद सिंह, नगराधीश गौरव गुप्ता, सिंचाई विभाग के अधीक्षक अभियंता ए.आर.भांभू, सीएमओ डा. मनीष बंसल, डीडीए डा. बाबू लाल व डीएफएससी सुरेंद्र सैनी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। इनके अलावा बैठक में कष्ट निवारण समिति के सदस्य प्रदीप रातूसरिया भी उपस्थित थे।


बैठक में सुरेंद्र सरदाना एडवोकेट की शिकायत थी कि घग्गर नदी के तटबंधों को मजबूत करने के लिए जिन जेसीबी व ट्रेक्टरों के माध्यम से मिट्टी डाली गई थी, इन वाहनों में से अधिकतर के नम्बर मोटरसाईकिल व ऑटो के पाए गए। इस पर अध्यक्ष ने अतिरिक्त उपायुक्त को नियुक्त करते हुए मामले की जांच करने के निर्देश दिए। सुरेंद्र सरदाना एडवोकेट की एक दूसरी शिकायत जोकि प्लाट की जमा राशि के ब्याज  व प्लाट का स्थानांतरण न करने के संबंध में थी। इस शिकायत पर भी अध्यक्ष ने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिए कि वे इस मामले पर कार्रवाई करते हुए केस को नगर पालिका को तुरंत ट्रांस्फर करें।


गत बैठक की एक लंबित शिकायत में लीलू राम पुत्र मंगला राम का आरोप है कि उसकी लड़की किरण उर्फ बादो को करीब 10 महीने पहले लड़की के पति, उसके देवर व सास ने मिलकर दहेज के कारण मार दिया। पुलिस बताया कि अभी तक इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जबकि पुलिस जांच में तीसरे आरोपी की हत्या के दिन कोई मौजूदगी नहीं पाई गई है। इस अध्यक्ष महोदय ने कहा कि पुलिस अपनी जांच को जारी रखते हुए इस संबंध में रिपोर्ट आगामी बैठक में प्रस्तुत करें। इसी प्रकार स्कीम का झांसा देकर महिलाओं से 500 रुपये ऐंठने वालों के खिलाफ शिकायत में समझौते होने की बात पर अध्यक्ष ने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिए कि इस मामले की पुन जांच कर अगली बैठक में रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए। इसी प्रकार एक शिकायत में सुखविंद्र सिंह पुत्र दर्शन सिंह ने बताया कि सरपंच, सरपंच प्रतिनिधि व ग्राम सचिव ने आपसी मिलीभगत करके व्यक्तिगत भूमि पर सड़क बनवा दी। इस पर अध्यक्ष ने सबंधित पर एफआईआर दर्ज करते हुए रिकवरी करने के निर्देश दिए।  


एक अन्य शिकायत जोकि गोबिंद सिंह पुत्र अवतार सिंह की ओर से थी कि प्रकाश सिंह पुत्र गुरमुख सिंह ने अपनी गाड़ी पर लोन करवाया था और दोषी अभी तक किस्तें अदा नहीं की है। इस पर अध्यक्ष ने आरटीए को निर्देश दिए कि संंबंधित कर्मचारी को चार्जसीट करते हुए मामले की जांच करें और आगामी बैठक में रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए। इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग से संबंधित एक्सपायर डेट संबंधी दवाई की शिकायत पर अध्यक्ष ने सीएमओ को निर्देश दिए कि वे स्टॉक रजिस्टर को चैक करें और इस मामले पर कार्रवाई करते हुए रिपोर्ट आगामी बैठक में प्रस्तुत करें। इस प्रकार से अध्यक्ष ने बैठक में रखी गई अन्य तीन श्किायतों का मौके पर ही निपटान कर दिया।

https://propertyliquid.com


उपायुक्त अनीश यादव ने अतिरिक्त मुख्य सचिव विजयेंद्र कुमार का स्वागत किया और कहा कि बैठक में जो भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं, उनकी पालना की जाएगी और संबंधित शिकायतों के संबंध में दिए आदेशों के अनुरूप कार्रवाई की जाएगी।

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

UIET Gets grant of 2.13 Crore For Skill Development

Chandigarh June 9, 2021

For Detailed News-

University Institute of Engg and Technology, Panjab University bags Rs 2.13 crore grant for skill and entrepreneurship development in Electronic waste management from the Ministry of Electronics and Information Technology (MeitY), which will  be supervised by Dr. Vishal Sharma, Assistant Professor, UIET, Dr. Manish Dev Sharma, Assistant Professor, Dept. of Physics and Dr. Amit Chaudhry, Assistant Professor, UIET.

Panjab University is one of the premier universities providing technical education in India today. In its endeavor to provide modern education preparing students for the future, the university under the leadership and guidance of Prof Raj Kumar, Vice-Chancellor has now initiated with the support of MeitY, a certificate program on e-waste dismantling. The Project is to be implemented at UIET with the collaboration of Private Recycler M/s Exigo Recycling Pvt Ltd, Noida.

https://propertyliquid.com

Electronic waste is the fastest growing waste stream in the world today and India ranks among the top 3 countries in terms of the quantum of e-waste generated on an annual basis. More than 90 percent of this waste is managed in the informal sector which leads to environmental and health hazards. Panjab University conceptualized first of its kind project whereby such actors and others can be formally trained on dismantling techniques through a certificate course. This will not only lead to addition of workforce in this sector leading to Atma-nirbhar Bharat but also add to skilled workforce under Skill India. This will lead to creation of resource efficiency and a circular economy in the country providing a boost to the electronics sector as a whole.

जिला पंचकूला के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी परीक्षा

शहर के जेजी कॉलेज ऑफ एजुकेशन में आज कोविड-19 जागरूकता विषय पर ऑनलाइन वर्कशॉप का आयोजन किया गया।

For Detailed News-

सिरसा। शहर के जेजी कॉलेज ऑफ एजुकेशन में आज कोविड-19 जागरूकता विषय पर ऑनलाइन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस वर्कशॉप में अजय कुमार ने कॉलेज स्टाफ व विद्यार्थियों को कोविड-19 के बचाव व उपायों के बारे में तथा जरूरतमंदों की कोरोना संकटकाल में कैसे मदद की जा सकती है, के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के बारे में भी बताया और विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वे इस संकट की घड़ी में जरूरतमंदों की मदद करें। साथ ही उन्होंने कहा कि इस विपदा में हम एक-दूसरे की सहायता करके शारीरिक व मानसिक रूप से मजबूत भी बन सकते हैं। इस ऑनलाइन वर्कशॉप के दौरान कालेज के निदेशक जगदीश कंबोज, गोपाल कंबोज, प्रिंसिपल डॉ. रघुबीर सिंह, स्टाफ सदस्य व सभी विद्यार्थियों ने आनलाइन गूगल मीट से जुडक़र वर्कशॉप का लाभ उठाया। इस दौरान कालेज के निदेशक जगदीश कंबोज ने बताया कि वैश्विक महामारी के दौरान कालेज प्रशासन द्वारा सामाजिक दायित्व निभाते हुए जरूरतमंदों को भोजन, कपड़े, मास्क व सेनिटाइजर का वितरण किया गया तथा कोविड-19 के बचाव  व उपाय के बारे में जागरूक किया गया। जगदीश कंबोज ने बताया कि कॉलेज स्टाफ व विद्यार्थियों ने समन्वय स्थापित कर स्लम बस्तियों में जाकर जहां लोगों को कोविड के बारे में लगातार जागरूक किया जा रहा है, वहीं मास्क व सेनिटाइजर का वितरण भी किया जा रहा है। उन्होंने ऑनलाइन वर्कशॉप के माध्यम से कालेज स्टाफ तथा विद्यार्थियों को मोटिवेट करने पर अजय कुमार का धन्यवाद किया।

https://propertyliquid.com