ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं आधारिकता राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने समता दिवस पर बाबू जगजीवन राम के योगदानों को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी।

For Detailed News-

पंचकूला अप्रैल 5 : केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं आधारिकता राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने समता दिवस पर बाबू जगजीवन राम के योगदानों को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि बाबूजी ने आक्रोश को अपनाए बिना मुखरता से सामाजिक भेदभाव का विरोध किया और सामाजिक असमानताओं से लड़ने के लिए राजनीतिक प्रतिरोध का रास्ता अपनाया। बाबूजी के इसी जज्बे को 5 अप्रैल को राष्ट्रीय समता दिवस के अवसर पर सलाम किया जाता है।

कटारिया ने बाबूजी को केवल वंचित अधिकारों के लिए लड़ने वाले मसीहा ही नहीं, बल्कि एक कुशल प्रशासक के साथ-साथ श्रम सुधारों की अलख जगाने वाले नेता भी बताया।

उन्होंने कहा कि बाबूजी लोकतंत्र को अधिकारों और प्रतिनिधित्व का संगमसेतु मानते थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार वंचितों के सशक्तिकरण के लिए बाबू जगजीवन राम के सुझाए अधिकार और प्रतिनिधित्व के मंत्र पर चल रही है। “सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास” के मूल में भी यही मंत्र काम कर रहा है।

https://propertyliquid.com

कटारिया ने कहा कि आज के दौर में, जहां लोग मतभेद के साथ मनभेद भी पाल रहे हैं, बाबूजी को याद किया जाना और प्रासंगिक हो गया है। यह सत्‍य है कि महान हस्तियां शरीर से‍ मिट जाते हैं परंतु उनकी विरासतें और‍ विचार अमर रहते हैं। बाबू जी बहुआयामी व्‍यक्तित्‍व के धनी थे, उनका समृद्घ जीवन और धर्मनिरपेक्षता, अखण्‍डता और लोकतंत्रात्‍मक मूल्‍यों के प्रति उनकी दृढ़ प्रतिबद्धता न केवल दलित समुदाय वरन संपूर्ण भारतीयों को सदैव प्रेरित करती रहेगी। कटारिया ने आगे कहा “एक संसद सदस्‍य और दलित राजनीतिज्ञ के रूप में उनका जीवन और विरासत मेरे लिए प्रेरणा का स्रोत है। आज बाबू जी की 113वीं जयंती के अवसर पर मैं उम्‍मीद करता हूं कि राष्‍ट्र उनके कार्य और विजन से शक्ति और प्रेरणा प्राप्‍त करता रहेगा।“

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

Japuji Sahib is Beneficial to Humanity as a whole- Dr. Ali Abbas

Chandigarh April 5, 2021

For Detailed News-

‘God handed over the holy sermon of Japuji Sahib to Guru Nanak Dev Ji for the benefit of humanity as a whole and not for any particular caste, colour or creed’, said Dr. Ali Abbas, Chairperson, Department of Urdu, while speaking at the 2nd meeting of Bazam-e-Adab.

            He added that the essence of all the spiritual literature stressed on the oneness of God and oneness  of mankind. This message is the Central theme of Quran Sharief, Gita, Guru Granth Sahib, Bible and other religious scriptures, he added.

            Presiding over the meeting, Prof. Rehana Parveen (Retd.) said that all religions and religious books had always preached love, compassion, mutual cooperation and peaceful co-existence.

https://propertyliquid.com

            Mr. Jaspreet Singh, a research scholar of the Urdu Department while speaking on Japuji Sahib said that the message of Japuji Sahib would always remain relevant to all the ages of the human society.

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

टीकाकरण में भागीदारी निभाकर, कोरोना बीमारी को हराने में बनें सहयोगी : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 05 अप्रैल।

अब तक ले चुके 97 हजार 531 लाभार्थी कोरोना की डोज, 45 वर्ष से ऊपर वालों के सभी को लगाया जा रहा कोरोना टीका


            उपायुक्त प्रदीप कुमार ने स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली जानकारी अनुसार बताया कि जिला में अब तक 97 हजार 531 व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है। इनमें 60 वर्ष व इससे अधिक आयु के 69 हजार 129 व 45 से 60 वर्ष आयु तक के 14 हजार 874 लाभार्थी शामिल हैं। इसके अलावा 13 हजार 528 फ्रंट लाइन वर्कर व हैल्थ वर्कर वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है।

-मॉस्क लगाएं, कोरोना गाइडलान की दृढता से करें अनुपालना : उपायुक्त


            उन्होंने बताया कि जिला में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी को एकजुट होकर अपनी भागीदारी निभानी होगी। जिला के सभी नागरिक ईमानदारी से मॉस्क का सही प्रकार से प्रयोग करें। मॉस्क लगाने में थोड़ी सी भी चूक न करें, क्योंकि मॉस्क ही एक ऐसा हथियार है, जिससे कोरोना से बेहतर बचाव हो सकता है। सभी नागरिक मॉस्क लगाएंगे तो कोरोना संक्रमण नहीं फैलेगा और हम स्वयं भी बचेंगे और दूसरों को भी सुरक्षित रख सकेंगे। इसलिए मॉस्क को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें और अपने आस-पास वालों को भी मॉस्क लगाने के लिए प्रेरित करें।


            उपायुक्त ने कहा कि कोरोना से संरक्षित रहने के लिए टीकाकरण किया जा रहा है और यह टीका पूरी तरह से प्रभावी व सुरक्षित है। इस टीकाकरण में जिलावासी अपनी भागीदारी करें। इस कोरोना महामारी को एकजुट होकर ही हराया जा सकता है। इसलिए किसी भी अफवाहों पर ध्यान न देते हुए कोरोना वैक्सीन का टीका अवश्य लगवाएं। कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है, जोकि कोरोना से बचाव रखने में लाभदायक है। उन्होंने कहा कि अब 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जा रही है। इस आयु के सभी व्यक्ति कोरोना का टीका जरूर लगवाएं। कोरोना वैक्सीन का टीका सरकारी अस्पताल में नि:शुल्क लगाया जा रहा है।
            उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण फैलाव को रोकने के दृष्टिगत सरकार द्वारा समय-समय पर गाइडल लाइन जारी की जाती है। गत दिनों भी सरकार ने कोरोना संक्रमण फैलाव को रोकने के मद्देनजर नई गाइडलाइन जारी की हैं। सभी जिलावासी इन दिशा-निर्देशों की ईमानदारी से अनुपालना करें और कोरोना बीमारी को हराने में प्रशासन का सहयोग करें। उन्होंने मॉस्क, सोशल डिस्टेसिंग व व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें। कोरोना से स्वयं का बचाव करके दूसरों को सुरक्षित रख सकेंगे और संक्रमण फैलाव पर रोक लगाने में कामयाब होंगे। 

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

फसल अवशेष को जलाने पर जिलाधीश ने लगाया प्रतिबंध

सिरसा, 05 अप्रैल।

For Detailed News-


            जिलाधीश प्रदीप कुमार ने दंड प्रक्रिया नियमावाली 1973 की धारा 144 द्वारा प्रदत्त शक्तियों के अंतर्गत आदेश पारित करके जिला सिरसा में तुरंत प्रभाव से रबी (गेहूं व सरसों) फसल की कटाई के बाद बचे अवशेष/भूसे को जलाने पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया गया है।


            जिलाधीश द्वारा जारी आदेशों में कहा गया है कि जिला सिरसा की सीमा में गेहूं व सरसों फसल की कटाई के बाद बचे हुई अवशेष/भूसे को जलाने से उत्पन्न धुआं आसमान में चारों ओर फैल जाता है जिससे आमजन के स्वास्थ्य के लिए घातक है। आगजनी होने पर मानव जीवन तथा सम्पत्ति को होने वाली हानि की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता। फसल की कटाई के बाद बचे अवशेषों को जलाने से पशुओं के चारे की कमी होने की संभावना रहती है। भूसे/फसल के अवशेष को जलाने से भूमि के मित्र कीट मर जाते हैं जिससे भूमि की उर्वरक शक्ति कम होने से फसल की पैदावार पर भी प्रभाव पड़ता है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल नई दिल्ली के आदेशानुसार फसल के अवशेष जलाने पर प्रतिबंध हेतू निर्देश जारी किए गए हैं जिसके अंतर्गत जुर्माने का भी प्रावधान है।

https://propertyliquid.com


           जिलाधीश प्रदीप कुमार ने अपील करते हुए कहा कि गेहूं की पराली व उनके अवशेषों को न जलाएं। इन आदेशों की अवहेलना में यदि कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो भारतीय दंड संहिता की धारा 188 सपठित वायु बचाव एवं प्रदूषण नियंत्रक अधिनियम 1981 के तहत दंड का भागी होगा।

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

7th Soft Skills Development Programme by PU

Chandigarh April 5, 2021

For Detailed News-

Panjab University, Chandigarh, in collaboration with Heartful Campus of Heartfulness  Institute, Hyderabad initiated its 7th International online Self Development  Programme (SDP) on 9th January 2021 which is  offering a unique opportunity to participants for  shaping their personalities as it  focuses on character formation and inculcation of core values to strengthen Inner-Self. The programme is uniquely designed by integrating the knowledge of the ancient Indian philosophical wisdom of Yoga with Heart centric approach of meditation.

            In the series of online session, the 18th session was held on 4th April,  on Soft Skills Development by using the approach of Self Exploration by guest speaker Ms. Rikita Swaroop, Master Trainer for MEPSC –National skills Development Corporation India from Ranchi, Jharkhand. She used Mentimeter to reach out to participants while making them think by asking probing existential questions for which they were forced to peep within to find answers. This was followed by anecdotes and sharing of lived experiences. The dilemmas which we face in our day to day living were highlighted beautifully by her. Values need to be discussed through jurisprudence and clarification approach was the message she gave to teachers. Teachers themselves have to practice those virtues about which they talk about in their class room.

            Earlier, the session began with yogic technique of body relaxation  followed by discussions on how a simple meditation practice can not only relieve the heaviness of the mind but takes on to create a new version of yourself, full of unlimited potential and excellence. 

            The programme was coordinated By Prof. Latika Sharma and Prof O. P.  Katare. The event witnessed an audience of over 100 enthusiastic participants including faculty and students from across the country.

https://propertyliquid.com

            The talk concluded by reminiscing the beauty of the spring flower which begins again, the day you begin is a journey in its own. Overall, the session had a magical effect opening a new dimension and perspective in order to transform the personality.

            During the various sessions eminent experts from various fields deliberated on various themes including emotional strength, will power development, intuitional intelligence, stress moderation, time management and holistic health by sharing their valuable knowledge and experience with participants. 

            Ms. Rikita Swaroop is a Master Trainer for MEPSC –National skills Development Corporation India; Trainer for Soft Skills & Business Communication, Facilitator for Brighter Minds and Career Development. She has been consulting, delivering and facilitating trainings in Corporate, Government and Education sector for last 20 years both independent as well in association with 45 organizations. In addition she is an active member and trainer for heartfulness Meditation. Sister is presently presiding as Joint Secretary IYA- Jharkhand Chapter and is state Coordinator for heartfulness campus.

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

कोरोना के प्रति न बरतें लापरवाही, मॉस्क लगाएं और दूसरों को भी करें प्रेरित : एसडीएम दिलबाग सिंह

ऐलनाबाद, 5 अप्रैल।

For Detailed News-

-मॉस्क लगाना, सोशल डिस्टेसिंग व व्यक्तिगत स्वच्छता रखना संक्रमण से बचाव के अचूक उपाय
-टीकाकरण में निभाएं भागीदारी, उपमंडल में 9162 लाभार्थियों को लग चुकी कोरोना वैक्सीन की डोज


एसडीएम दिलबाग सिंह ने कहा कि कोरोना के प्रति थोड़ी सी लापरवाही भी स्वयं व दूसरों के लिए खतरा बन सकती है। मॉस्क लगाकर न केवल कोरोना बीमारी से बचा जा सकता है, बल्कि इससे संक्रमण के फैलाव पर भी रोक लगेगी। इसलिए आमजन जिम्मेवारी के साथ कोरोना महामारी से लडऩे में सहयोगी बनें और मॉस्क को अनिवार्य रूप से अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। स्वयं मॉस्क लगाएं और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। कोविड-19 से बचाव के लिए टीकाकरण किया जा रहा है। इस टीकाकरण में क्षेत्रवासी अपनी भागीदारी निभाएं।


उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर जरा भी लापरवाही न बरतें। संक्रमण से बचाव नियमों का दृढता से पालन करें। मॉस्क इस बीमारी से बचाव का अचूक उपाय है। मॉस्क लगाकर काफी हद तक संक्रमण से बचाव संभव है। इसके साथ ही सोशल डिस्टेसिंग व व्यक्तिगत स्वच्छता(बार-बार हाथों को धोना) रखें। संक्रमण बचाव उपायों की पालना करके स्वयं बचें और दूसरों को भी सुरक्षित रखें।
एसडीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण से संरक्षित रहने के लिए टीकाकरण का कार्य चल रहा है। अब 45 वर्ष आयु से ऊपर के सभी व्यक्तियों को वैक्सीन दी जा रही है, ताकि अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन दी जा सके। उन्होंने बताया कि टीकाकरण अभियान में सभी को अपनी भागीदारी निभानी चाहिए ताकि हम कोरोनामुक्त होकर इस वैश्विक महामारी को हराने में कामयाब हो सकें।  वैक्सीन स्वयं भी लगवाएं और दूसरों को भी वैक्सीन की डोज लेने के लिए प्रेरित करें। सरकारी अस्पताल में नि:शुल्क रूप से कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही है।

https://propertyliquid.com


एसएमओ डॉ. हरप्रीत कौर ने टीकाकरण की जानकारी देते हुए बताया कि अब तक उप मंडल में 9162 व्यक्ति कोरोना वैक्सीन लगवा चुके हैं। उन्होंने बताया कि अब  45 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही है। उन्होंने बताया कि ऐलनाबाद के सरकारी अस्पताल में नि:शुल्क टीका लगाया जा रहा है। लाभार्थी अपने साथ कोई भी एक पहचान का प्रमाण पत्र साथ लेकर जरूर आएं, ताकि टीकाकरण में किसी प्रकार की असुविधा न हो। 

ऑक्सिजन लेवल चेक करने के लिए न फंस जाएं फेक ऑक्सिमीटर ऐप के जाल में, खाता हो सकता है खाली :- डी.सी.पी. पंचकूला

आयुष्मान भारत योजना के लाभ के लिए पात्र परिवार के हर सदस्य का गोल्डन कार्ड होना जरूरी : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 05 अप्रैल।

For Detailed News-


                  उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य की दृष्टि से आयुष्मान भारत योजना आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए एक महत्वपूर्ण स्कीम है, जिसका हर लाभार्थी को लाभ उठाना चाहिए। सरकार द्वारा लाभार्थियों की सुविधा को देखते हुए अब आयुष्मान भारत पखवाड़े को 30 अप्रैल तक कर दिया है, ताकि हर पात्र व्यक्ति अपना आयुष्मान कार्ड बनवा सके। आयुष्मान भारत योजना का लाभ लेने के लिए सूचि में शामिल पात्र परिवार के हर सदस्य का गोल्डन कार्ड होना जरूरी है।


                  उपायुक्त ने बताया कि आयुष्मान भारत अभियान के तहत सभी सीएससी सैंटरों पर नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनाए जा रहे हैं। कोई भी पात्र व्यक्ति या परिवार योजना के लाभ से वंचित न रहे और सूची में शामिल सभी परिवार अपना कार्ड बनवा सकें, इसके लिए आयुष्मान योजना अभियान की तिथि 30 अप्रैल तक बढा दी गई है। सामाजिक एवं आर्थिक आधार पर पिछड़ी जातियों के 2011 जनगणना के आधार पर सूची में शामिल पात्र परिवार अपने नजदीकी सीएससी सैंटर पर जाकर नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनवाएं।


                  उन्होंने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत कमजोर व गरीबों लोगों को 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाता है। इसलिए यह योजना आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए स्वास्थ्य दृष्टि से बहुत ही लाभकारी है। पात्र परिवार का सदस्य किसी भी गंभीर बीमारी के लिए पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज करवा सकता है।

https://propertyliquid.com


                  उपायुक्त ने पार्षदों व पंचायत प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे अपने-अपने क्षेत्र के पात्र परिवारों के हर सदस्य के आयुष्मान कार्ड बनवाने में सहयोग करें और योजना के बारे लोगों को जागरूक करें। सूची में शामिल परिवारों के लोगों को आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए प्रेरित करें, ताकि 30 अप्रैल तक सभी पात्र परिवारों के कार्ड बनवाए जा सकें और निर्धारित लक्ष्य पूरा हो सके।


सरकारी व सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में भी बनवा सकते हैं कार्ड :


                 नोडल अधिकारी (आयुष्मान भारत) डॉ. प्रमोद ने बताया जिला में गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों को चिह्निïत किया गया है। लाभार्थी इन अस्पतालों में भी आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि जिला नागरिक अस्पताल, सिरसा, उपमंडल नागरिक अस्पताल, डबवाली, ऐलनाबाद, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र माधोसिंघाना, रानियां, नाथूसरी चौपटा, बड़ागुढा, औढां, कालांवाली व चौटाला में आवेदक अपना कार्ड बनवा सकते हैं। इसी प्रकार निजी अस्पतालों संजीवनी अस्पताल सिरसा, पूनिया आईक्यु विजन प्रा.लि., श्री अस्पताल, तलवाड़ अस्पताल आइवीएफ सैंटर, सिरसा ईएनटी अस्पताल एवं लेजर सर्जरी सेंटर, एपेक्स अस्पताल एवं रिसर्च सैंटर, श्री बालाजी अस्पताल, शाह सतनाम जी सुपर स्पैशलिटी अस्पताल, बंसल अस्पताल, मोहर सिंह सर्जिकल एवं मैटरनिटी अस्पताल, आस्था अस्पताल, तिरूपति किडनी एवं लेजर अस्पताल, मैडिसिटी मल्टीस्पैशलिटी अस्पताल, एसपीएस अस्पताल, विवेक आंखों का अस्पताल, डबवाली में विजन केयर आंखों का अस्पताल, डावला आंखों का अस्पताल व बॉम्बे अस्पताल में आयुष्मान कार्ड बनवाए जा सकते हैं।