Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

Youth Welfare, PU and RGC organized Musical Programme to Celebrate 400th Birth Anniversary of Guru Teg Bahadur Ji

Chandigarh February 11, 2021

‘Manukhta da Rehbar Guru Teg Bahadur’, a musical program organised at Ramgarhia Girls College in association with Youth Welfare Department, Panjab University, Chandigarh

For Detailed News-

As a part of series of programs of Punjab Government and Panjab University, Chandigarh  to celebrate the 400th birth anniversary of Guru Teg Bahadur ji , students musical program: ‘Manukhta da Rehbar Guru Teg Bahadur ‘ was organised in online as well as offline mode at Ramgarhia Girls College (RGC).

Dr. V.R. Sinha, Dean University Instructions, in his inaugural address praised the efforts of RGC by saying that these kinds of programs are very relieving in such tough times because remembering the great Gurus and their efforts for the welfare of mankind surely soothe every soul. 

https://propertyliquid.com

Prof. Sanjay Kaushik, Dean College Development Council was the Chief Guest and he expressed his views by saying that  the history of mankind is the witness of the fact that the martyrdom of the 9th Guru was so great that it shielded not only the humanity  in those times but paved the way for the  foundation of the Sikh Panth by his son Guru Gobind Singh Ji.

Dr. Tejinder Kaur, Director Education, S.G.P.C, while praising the participants said that these kind of programs inspire young generation to follow the teachings of the great Gurus and these efforts must be appreciated.

S. Ranjodh Singh, President Ramgarhia Educational Council said that the world today needs to seek inspiration from the Sikh religion as this is the treasure house of divine knowledge and Guru Teg Bahadur ji sacrificed his life for the welfare of mankind, this is the greatest of all religions where Gurus themselves gave away their lives to bring peace and to teach the lesson of equality to the people.

Dr. Nirmal Jaura, Director Youth Welfare Department said that 12 colleges participated in this programme and students were highly enthusiastic and the contribution of Ramgarhia Girls College in organizing this programme is remarkable.

Earlier, Principal Dr.Inderjit Kaur welcomed all the guests and said that this is a great effort by Youth Welfare Department  of Panjab University  that provided a platform to these 12 colleges to celebrate the 400th birth anniversary of Guru Teg Bahadur Ji in a musical way.

Dr. Narinder Singh Sidhu, Principal, National College Doraha gave the vote of thanks

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

सीबीएलयू में हुआ वेटलैंड संरक्षण पर जागरूकता कार्यक्रम पर कार्यशाला का आयोजन

For Detailed News-

चौधरी बंसी लाल विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग द्वारा पर्यावरण एवं क्लाइमेट चेंज निदेशालय हरियाणा के संयुक्त तत्वाधान में वेटलैंड सरंक्षण पर जागरूकता कार्यक्रम पर एक कार्यशाला विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित की गई।

इस कार्यशाला का आयोजन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.राजकुमार मित्तल के कुशल नेतृत्व और कुलसचिव डॉ जितेंद्र भारद्वाज के मार्गदर्शन में किया गया। कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य समाज कार्य विभाग के छात्रों को वैटलैंड और जल सरंक्षण पर जागरूकता व चेतना पैदा करना था। कार्यशाला के शुभारंभ में समाज कार्य के विभागाध्यक्ष प्रो.विकास कुमार ने मुख्य वक्ताओं को विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग द्वारा पूर्व में की गई शैक्षणिक गतिविधियों व वर्तमान में चलाए जा रहे  शैक्षणिक कार्यक्रमों के बारे में अवगत कराया। 

मुख्य वक्ता के तौर पर गुरु जंभेश्वर विश्वविद्यालय के एनवायरमेंट साइंस और इंजीनियरिंग विभाग की सहायक प्रोफेसर डॉ अनु गुप्ता और डॉ. संतोष भुक्कल ने समाज कार्य विभाग के छात्रों को वैटलैंड और जल सरंक्षण विषय पर संबोधित किया। पहले सत्र में डॉ संतोष भुक्ल ने छात्रों को वैटलैंड के महत्व पर बताया कि वैटलैंड जहां अनेकों जीव-जंतुओं और पशु-पक्षियों के जीवन का मुख्य ठिकाना है वहीं मनुष्य की आजीविका के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने बताया कि वेटलैंड से हमें इमारती लकड़ी, खाद्य पदार्थ, औषधीय पौधे, पशुओं के लिए चारा, मनोरंजनात्मक गतिविधियां आदि सुविधाएं उपलब्ध होती है और वैटलैंड में विशेष किस्म के पौधे और जीव जंतु प्राकृतिक रूप में उस क्षेत्र को बहुत आकर्षक बनाते हैं।

https://propertyliquid.com

अतः वैटलैंड का सरंक्षण जैव विविधता को बढ़ावा देने के लिए बेहद जरूरी है। दूसरे सत्र में सहायक प्रोफेसर डॉ अनु गुप्ता ने छात्रों को जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण से संबंधित मुद्दों पर विचार सांझा किए। उन्होंने छात्रों को उनके स्तर पर वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण को रोकने के लिए आवश्यक कदम जैसे पौधारोपण, सार्वजनिक वाहनों का उपयोग, सीएनजी वाहनों का उपयोग, विद्युत चालित वाहनों का उपयोग,पॉलिथीन मुक्त अभियान, ठोस कचरा प्रबंधन अभियान चलाने की अपील की।

उन्होंने पर्यावरण सरंक्षण की दिशा में समाज कार्यकर्ताओं की भूमिका के बारे में भी प्रतिभागियों को अवगत कराया। 

अंत में कार्यशाला के संयोजक व समाज कार्य विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर विकास कुमार ने मुख्य वक्ताओं को विश्वविद्यालय की तरफ से स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। कार्यशाला में सह संयोजक जितेंद्र कुमार, मूलराज, प्रियंका वेद, मोनिका मान के अलावा समाज कार्य विभाग के लगभग 50 छात्रों ने हिस्सा लिया।

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

Cleanliness Drive at PU

Chandigarh February 11, 2021

For Detailed News-

A cleanliness drive was conducted today in the Children Park near Teachers’ Flats, Panjab University, Chandigarh.

            The wardens, students and employees of Girls Hostel No. 1 and Boys Hostel no. 3 along with NSS volunteers carried out the cleanliness of this park.

            Those who participated included Dr. Anju Goyal, Dr. JS Sehrawat, Dr. Amit Chauhan, Dr. Simran, Dr. Gagandeep Singh, Program Officer NSS from UIET and motivated the students and employees for keeping the University premises clean. The park was cleaned, trees and grass were pruned, public utilities were sanitized and waste was disposed of during the collective efforts of all those participated in the cleanliness drive.

https://propertyliquid.com

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

एनजीटी से संबंधित हिदायतों की गंभीरता से पालना करें संबंधित विभाग : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 11 फरवरी।

For Detailed News-


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि शहर में स्वच्छता अभियान को और गति प्रदान करते हुए सभी कॉमर्शियल स्थानों, मुख्य बाजारों पर रात्रि में भी सफाई कार्य करवाया जाए, ताकि निर्बाध रुप से सफाई का कार्य लगातार जारी रहे और स्वच्छता बनी रहे। साथ ही वार्ड वाइज योजनाबद्ध तरीके से सफाई करवाई जाए ताकि शहर का सौंदर्यकरण बेहतर हो और वातावरण भी प्रदूषण रहित हो सके। उन्होंने कहा कि अधिकारी राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) द्वारा जारी हिदायतों की गंभीरता से पालना करें तथा अपने दायित्व का निर्वहन ईमानदारी व जिम्मेवारी के साथ करें।


                उपायुक्त वीरवार को अपने कार्यालय कक्ष में जिला में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के तहत विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में जिला नगर आयुक्त संगीता तेतरवाल, एसडीएम सिरसा जयवीर यादव, एसडीएम कालांवाली निर्मल नागर, एसडीएम ऐलनाबाद दिलबाग सिंह, एसडीएम डबवाली अश्वनी कुमार, नगराधीश गौरव गुप्ता, सीएमजीजीए सुकन्या जनार्दनन, सहित नगर परिषद सिरसा, डवाबली, नगर पालिका कालांवाली, ऐलनाबाद व रानियां सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
                बैठक में उपायुक्त प्रदीप कुमार ने डोर टू डोर शत प्रतिशत कूड़ा एकत्रित करने, गीला, सूखा व ठोस कूड़े को अलग-अलग करने, कूड़ा एकत्रित करने के लिए वाहनों के आवश्यक इंतजाम, वेस्ट प्रोसेसिंग ट्रिटमेंट प्लांट, कूड़े का रिसाइकिल, प्लास्टिक बैग बेचने वालों के चालान, बल्क वेस्ट जनरेटर, पार्कों में कंपोस्ट पीट बनाने आदि बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

https://propertyliquid.com


                उपायुक्त ने नगर परिषद / पालिका के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पर्यावरण में स्वच्छता बनाए रखने के दृष्टिïगत नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से सोलिड वेस्ट, प्लास्टिक वेस्ट, बॉयो मैडिकल वेस्ट, ई-वेस्ट तथा कंस्ट्रक्शन आदि के प्रबंधन के लिए जो नियम बनाए गए है उनका सफल तरीके से क्रियांवयन करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि बड़े पार्कों में कंपोस्ट पिट बनाए जाएं ताकि पार्कों में स्वच्छ वातावरण बना रहे और गंदगी न फैले। कंपोस्ट पिट के माध्यम से तैयार खाद का स्वयं इस्तेमाल कर सकते हैं और जरुरतमंद को यह खाद बेची भी जा सकती हैं।


                उन्होंने कहा कि नागरिकों को गीला व सूखा कचरा अलग-अलग रखने के लिए जागरुक किया जाए। उन्होंने नगर परिषद / नगर पालिकाओं के अधिकारियों को निर्देश दिए कि कचरा एकत्रित करने वाले कर्मचारी डोर टू डोर जाकर मकान मालिक से गीला व सूखा अलग-अलग कूड़ा एकत्रित करें और मकान मालिक को अलग-अलग कूड़ा ही देने की अपील करें। मकान मालिक द्वारा अलग-अलग कचरा न देने पर उन पर जुर्माना किया जाए। इसके अलावा डंपिंग साइट पर प्लास्टिक, कांच, पॉलिथीन व अन्य कचरे के लिए अलग-अलग हिस्से बना कर रखे जाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन डंपिंग साइटों पर चार दीवारी नहीं है, वहां पर चार दीवारी बनाई जाए और कूड़ा कर्कट पर दवा का छिड़काव भी करवाएं। उन्होंने कहा कि दुकानदारों व आमजन को प्लास्टिक या पॉलिथीन बैग का प्रयोग न करने के लिए अपील करें, यदि फिर भी कोई दुकानदार ऐसा करता है तो उसके चालान करें। उन्होंने कहा कि पॉलिथीन अगलनशील है और यह पर्यावरण के लिए बेहद घातक है। उन्होंने आमजन से अपील की कि वे पोलिथीन की जगह जूट व कपड़े से बनें बैग का प्रयोग करें, कपड़े के बैग अधिक मजबूत होते हैं और इसका पुन: उपयोग भी किया जा सकता है।

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

बच्चों में कुपोषण से बचाव के लिए एलबेंडाजोल की खुराक देना जरूरी : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 11 फरवरी।


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ बच्चे का स्वस्थ होना बेहद जरुरी है, क्योंकि स्वस्थ नागरिक ही स्वस्थ समाज सशक्त राष्टï्र का निर्माण कर सकते हैं। बच्चों को कुपोषण से बचाने तथा उन्हें स्वास्थ्य के बारे में जागरुक करने के लिए सभी विभाग आपसी तालमेल के साथ राष्टï्रीय कृमि मुक्त दिवस कार्यक्रम में पूर्ण सहयोग करें। कार्यक्रम के माध्यम से 22 से 28 फरवरी तक विशेष अभियान के तहत एक से 19 वर्ष के बच्चों को घर-घर जाकर एलबेंडाजोल की गोली खिलाई जानी है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य करें और शत प्रतिशत बच्चों को दवा खिलाना सुनिश्चित करें।

For Detailed News-


                यह बात उपायुक्त प्रदीप कुमार ने वीरवार को कृमि मुक्ति दिवस के तहत स्थानीय लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में आयोजित अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कही। बैठक में एसडीएम सिरसा जयवीर यादव, एसडीएम कालांवाली निर्मल नागर, एसडीएम ऐलनाबाद दिलबाग सिंह, एसडीएम डबवाली अश्वनी कुमार, नगराधीश गौरव गुप्ता सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
                उपायुक्त ने कहा कि कृमि मुक्ति दिवस मनाए जाने का मुख्य उद्ेश्य बच्चों में पेट के कीड़ों की बीमारी से मुक्त करना है। यह बीमारी बच्चों में शारीरिक कमजोरी उत्पन्न करती है, जिससे बच्चा कुपोषण का शिकार हो जाता है। उन्होंने कहा कि बच्चों को कुपोषण से बचाने में शिक्षक अहम भूमिका निभा सकते हैं, शिक्षक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से अभिभावकों को इसके बारे में जागरुक करें। इसके अलावा स्कूल व कॉलेजों में छात्र-छात्राओं को स्वास्थ्य व स्वच्छता के टिप्स बताएं। विशेषकर छोटे बच्चों को हैंडवॉश के बाद खाना खाने के फायदे जरुर बताएं।


सोशल डिस्टेंसिंग का रखें विशेष ध्यान, केवल घर-घर जाकर ही बच्चों को दें दवा : उपायुक्त प्रदीप कुमार


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने निर्देश दिए कि जिला में लक्ष्य अनुसार शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर ही बच्चों को एलबेंडाजोल की दवा खिलाएं। दवा खिलाने वाली टीमें कोविड-19 से बचाव के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखें और अगर किसी घर में कोरोना संक्रमित है तो उस घर में बच्चों को दवा न खिलाई जाए। इसके अलावा एएनएम व आंगनवाड़ी वर्कर जिला में ईंट भट्टों, भवन निर्माण ऐरिया व स्लम एरिया में जहां श्रमिक कार्य कर रहे हो, ऐसे ऐरिया को विशेष फोकस कर यह सुनिश्चित करें कि कोई भी बच्चा दवा से वंचित न रहे।


स्कूलों की टंकियों की सफाई करवाएं, दूषित पानी का न हो भराव : उपायुक्त प्रदीप कुमार


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने निर्देश दिए कि गर्मी का मौसम आने वाला है, इसलिए समय रहते स्कूलों की टंकियों की सफाई करवाएं और यह भी सुनिश्चित करें कि कहीं पर भी दूषित पानी का भराव न हो। उन्होंने जनस्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि सीवरेज की सफाई के साथ-साथ सीवरेज की लीकेज का विशेष ध्यान रखें, अगर कहीं पर लीकेज है तो उसकी तुरंत मरम्मत करवाएं। उन्होंने कहा कि मलेरिया से बचाव व मच्छर न पनपे इसके लिए समय रहते फोगिंग मशीनों की जांच करवाई जाए और उनकी मुरम्मत आदि का कार्य पूरा करें।


                उप सिविल सर्जन डा. दीप व डा. शम्मी जिंदल ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम के तहत 22 फरवरी से 28 फरवरी तक जिला में 4 लाख 29 हजार 121 बच्चों को घर-घर जाकर एलबेंडाजोल (पेट के कीड़े मारने की दवा) दी जाएगी। घर-घर जाकर दवा देने के लिए 264 एएनएम तथा 960 आशा वर्करों की टीमें बनाई गई है। इसके अलावा अभियान की सफलता के लिए सिविल सर्जन की अध्यक्षता में राष्टï्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की 11 टीमों का गठन किया गया है। ये टीमें इस पूरे कार्य की निगरानी के साथ-साथ किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर टीमों का सहयोग करेगी। उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि वे अपने बच्चों को पेट के कीड़े मारने की गोली खिलाने के लिए अपने नजदीकी आशा वर्कर एएनएम आंगनबाड़ी वर्कर को सहयोग करें और सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क विशेष ध्यान रखें।

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

Research Journal of Social Sciences released by PU VC

Chandigarh February 11, 2021

For Detailed News-

Research Journal of Social Sciences, Vol. 27, Nos. 1-3, of Panjab University, Chandigarh  was released today by Prof. Raj Kumar, Vice Chancellor. Prof. Pampa Mukherjee, Editor in Chief and Prof. Renu Thakur, Editor of the Journal were present on the occasion. This is one of the premier Journal of PU in the field of Social Sciences in the region.

https://propertyliquid.com

Panjab University, Chandigarh conducted M.Phil. & Ph.D. Entrance Test on 7.3.2021.

MCC to spend 25 lacs to upgrade Rose Garden out of Rose Festival budget

Chandigarh, February 11:- The Rose Festival Committee constituted to celebrate 49th Rose Festival and decide the upgradation of Rose Garden, has decided to spend 25 lacs to upgrade the Rose Garden including flower beds and landscaping etc.

For Detailed News-

In this regard, a meeting of sub committee to organize symbolic Rose Festival was held here today under the chairmanship of Sh. Ravi Kant Sharma, Mayor and attended by other councilor & officer members namely Smt. Asha Kumari Jaswal, Sh. Shakti Prakash Devshali, Ms. Shipra Bansal, Sh. Tilak Raj, Additional Commissioner, Sh. K.P. Singh, Superintending Engineer (Horticulture & Electrical) and other concerned officers of MCC.

https://propertyliquid.com

During the meeting the committee decided to organize symbolic Rose Festival from 26th to 28th February, 2021. The committee members discussed and decided that all front line worrier/Corona Heroes will be honoured on the closing day of the festival i.e. on 28th February, 2021. The committee decided to honour Resident Welfare Associations and Social organizations who worked in the field of social service during the COVID period.

The committee further decided that no cultural programme will be organized during the festival and only display of flowers will be allowed inside the garden.