14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

कोरोना का टीका लगाने का स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभियान शुरू किया- उपायुक्त

For Detailed News-

पंचकूला, 28 फरवरी- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिले में एक मार्च से हैल्थ केयर वर्कर, फ्रंट लाईन वर्कर के सथ-साथ 60 वर्ष से अधिक  आयु वाले लोगों व 45-59 वर्ष आयु के लोगों को कोरोना का टीका लगाने का स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभियान शुरू किया जा रहा है और जिले मे लगभग 20 सरकारी व निजी काविड वैक्सीनेशन केन्द्रों पर यह टीका निःशुल्क लगाने का कार्य किया जायेगा व जिन निजी अस्पतालों में पीएमजे/सीजीएचएस/स्टेट इन्शुरेंस स्कीम आदि की सुविधा उपलब्ध है केवल उन्हीं केन्द्रों मे ही टीकाकरण केन्द्र बनाया जायेगा और लाभार्थी को कोरोना का टीका लगवाने से पहले केन्द्र सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क देना होगा। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा लाभार्थियों की सुविधा के लिए आनलाइन पंजीकरण हेतु कोविड-2.0 के नाम से पोर्टल शीघ्र ही लांच किया जायेगा

जिसके बाद लाभार्थी स्वयं इस पर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे और साथ ही अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से अधिकतम चार सदस्यो का टीकाकरण के लिए पंजीकरण करवा सकेंगे। पोर्टल लांच होने के बाद रजिस्ट्रेशन कराने वाले पोर्टल द्वारा संदेश भेजा जाएगा। यदि कोई भी लाभार्थी पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कर पाए हैं तो वह अपना आधार कार्ड या अन्य आईडी लेकर अपने नजदीकी कोरोना टीकाकरण केन्द्र पर पहुंच कर अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। सिविल सर्जन डाॅ. जसजीत कौर ने बताया कि पहला टीका लगाने के बाद उसी समय दूसरा टीका लगवाने की तारीख लाभार्थी को बताई जायेगी। उन्होंने कहा कि एक मार्च को जिले मे तीन सरकारी केन्द्रों सिविल अस्पताल सेक्टर 6, पंचकूला, एसडीएच कालका व पोलीक्लीनिक सेक्टर 26 मे यह टीकाकरण अभियान चलाया जायेगा। इसके अतिरिक्त यह टीका 45 से 59 आयु के उन लोगो को लगाया जो जिन्हे कैंसर, बीपी, हृदय रोग या अन्य किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो वह टीका लगवाने के साथ अपने डाॅक्टर द्वारा वैरिफाई किए गए कागजात साथ लेकर आएंगे  उसके बाद उनका टीकाकरण किया जायेगा। इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग, पंचकूला की नोडल अधिकारी डाॅ0 मीनू सासन ने बताया कि इन केन्द्रों पर हैल्थ मोबिलाईसर द्वारा प्रेरित किए गए लाभार्थियों के लिए अलग से स्लाॅट रखा जायेगा जो हैल्थ केयर वर्कर व फ्रंट लाईन वर्कर किसी कारणवश अभी तक अपना पंजीकरण नहीं करवा सके हैं, वह भी इस पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाकर अपना टीकाकरण करवा सकते हैं। 

https://propertyliquid.com

14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

49th Rose Festival ends with award ceremony to Corona Warriors of city

For Detailed News-

Chandigarh, February 28:- The 49th Rose Festival ended with the award ceremony to corona warriors of city here at Rose Garden, Sector 16, Chandigarh.

Sh. Ravi Kant Sharma, Mayor, Chandigarh was the chief guest during the closing ceremony. Sh. K.K. Yadav, IAS, Commissioner, Sh. Mahesh Inder Singh Siddhu, Senior Deputy Mayor, Smt. Farmila, Deputy Mayor, other councilors and officers of MCC were present during the simple function.

The Mayor said that this year the MCC could not organize various competitions during this Rose festival due to COVID-19 guidelines, while some flower arrangements have been done by the horticulture department, MCC. He said that next year will be the Golden Jubilee of the Rose Festival and will be celebrated with full fervor.

The Commissioner said that MCC has decided to honour all the RWAs, MWAs, NGOs and Councillors of MCC for rendering their best services during the COVID-19 period. He said that these local level organizations supported and helped the citizen of Chandigarh a lot during the COVID period.

The Mayor and Commissioner honoured the representatives of 82 Resident Welfare Associations, 36 NGOs of city and 37 individuals including officials of UT Administration and social workers of city and 230 employees of MCC including Gardeners, Safaikarmacharis and other workers  through their respective Head of Departments during the programme.

https://propertyliquid.com

14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

Campaign for awareness on Waste Segregation & Plastic Waste Management

For Detailed News-

Chandigarh, February 28:- Sh. Debendra Dalai, IFS ,Member Secretary, CPCC, Director, Environment  flagged off a campaign for awareness on Waste Segregation & Plastic Waste Management at Sukhna Lake, here today.Sh. Sorabh Arora,Joint Commissioner, Municipal Corporation, Chandigarh, Dr Amrit Pal Warring, Medical Officer of Health cum Nodal Officer for Swachh Bharat Mission-Urban and other officials of MCC were present during the programme.Cycling & Recycling were the 2 key highlights of the launch event. Cyclists were requested to become the torch bearers of this campaign. “First of its kind” Cycle Canvas bags were given to 300+ cyclists starting 6 am. These bags retrofit seamlessly into the cycle frame and have multiple pockets to help cyclists store items safely & separately while cycling. The quote, “My Chandigarh, My Responsibility” written on these bags brings a sense of ownership among the citizens to manage their waste responsibly by segregating at source. They addressed the audience as leaders of tomorrow and set them on this trajectory by tying the innovative bags on their cycles themselves.

https://propertyliquid.com

14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

National Science Day by Zoology Deptt,PU

Chandigarh February 28, 2021

For Detailed News-

Department of Zoology, Panjab University, Chandigarh celebrated National Science Day on 28th February, 2021 to commemorate Raman Spectra, a scientific contribution of renowned scientist, Sir C.V. Raman. The event was organized in collaboration with Punjab Academy of Sciences, Chandigarh Forum for Science and Technology Communication and Indian Science Congress Association (Patiala Chapter). The theme of National Science Day 2021 was “Innovation on Science and Technology: Impact on Society.”

Dr. Harpreet Kaur ,Chairperson, Department of Zoology welcomed the gathering and the event was presided over by Prof. Raj Kumar, Vice Chancellor, Panjab University. He emphasized on the encouragement of interdisciplinary research, catering between science and humanities. Eminent scientists from various parts of India joined this event and motivated the young researchers. He added that it should not be limited only to the science fraternity but also must have participants from various walks of life. It should encourage scientists, writers, students, and others who are involved in the promotion of science and technology in our daily life. He elaborated how The Government of India’s  draft of 5th National Science, Technology, and Innovation Policy for public consultation will  play a crucial role in fostering socio-economic and political development globally, benefitting all the sectors through scientific and technological advances.

Prof. Goverdhan Mehta, presently Emeritus Professor, School of Chemistry, University of Hyderabad, former Vice Chancellor, University of Hyderabad, former director IISc Bangalore, former Chairperson NAAC, former president INSA, delivered a very gripping lecture full of motivational quotes and ideas on the topic  “Science, Scientists and Sustainability: Musings on unfolding future.”He talked about the significance of ethics and scientific outlook in science. He defined the traits of a good scientist and added that a scientist should be curious, persistent, courageous, observant and communicative. He said that in the times of ascendency of hype, fake-philia and dichotomania, there has to be a crusade against H-H-F-F, which meant Hype-Hypocrisy- Falsification-Fakery and there is a need to refrain from these factors to safeguard science. He emphasized on a Pro-tip Align Persona to professional demands which would bring humility in science. Lastly, he insisted on searching for the options available in science that can pave the road of the world towards sustainability.

Among the others, panelists present were Prof.P.K.Seth, NASI Senior Scientist, Lucknow, Prof Vijay Laxmi Saxena, General President, Indian Science Congress Association, Prof. I.J.S. Bansal, Founder President, Punjab Academy of Science, Prof. Paramveer Singh, ISCA, Patiyala Chapter and Prof. RC Sobti,former Vice chancellor, Panjab University and Baba Saheb Bhimrao Ambedkar University, Lucknow and they shared their valuable knowledge and experiences with the budding scientists present on this occasion.

https://propertyliquid.com

 An e-poster competition was also held on the theme of the event which was judged by Prof. P.K.Seth. Research scholars from various institutes and departments took part in the competition and communicated their innovative ideas with each other. Prof. Sukhbir Kaur, DSW Women, Panjab University and Prof. Sanjeev Puri ,Department of Biotechnology, UIET, Panjab University announced the results of competition and congratulated the participants for their hard work. A cash prize was announced for the winners, Miss Bandu Matiyal and Miss Madhu Sharma from Department of Zoology, Panjab University, Chandigarh, grabbed first and second prize respectively. Mr. Hemant Sharma from Patanjali Research Institute, Haridwar stood third in e-poster competition. The event was concluded with a vote of thanks by Dr.Ravneet Kaur, organizing secretary.

14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

Heartfulness Institute, Kanha Shantivanam felicitated Panjab University for the Youth Empowering activities.

Chandigarh February 28, 2021

For Detailed News-

In a first of its kind, Dr Kamlesh D Patel, popularly known as Daaji, the spiritual Master of Sahaj Marg way of Heartfulness Institute, Shri Ram Chandra Mission, Kanha Shantivanam, Hyderabad appreciated and honoured the excellent work that various Universities and colleges doing towards the Value based Education by putting up lots of efforts. The short term, well structured, week end programs, entitled as SELF DEVELOPMENT PROGRAMME (SDP) are being organised by the University for last 7 years to train the students, scholars and faculty in various dimensions of the Personality, Leadership and Excellence, all based on the ancient Indian philosophical wisdom of Yoga and Meditation techniques.

An online session on Sunday, 28th February, was organised where PU Vice-Chancellor, Prof Raj Kumar and other associated faculty members were invited to interact with Daaji. The entire spirit is how to move forward to regain the pristine glory of India that it was known in the past by subscribing to spiritual values and inculcating the spirit of YOGAH KARMASHU KAUSHLAM that it means the Yoga is nothing but Perfection in Action. It is said now is the time to unite for the cause, transcending the boundaries of cast, culture and creeds to make this world liveable and beautiful.

https://propertyliquid.com

It is worth noting that, Heartfulness Institute, has just concluded its 75th year anniversary, the platinum jubilee celebrations , having valedictory lecture Prime Minister, Shri Narendra Modi Ji which was inaugurated by the Honorable President of India, Shri Ram Nath Kovind Ji at the the world’s biggest meditation hall with one lakh capacity at Kanha Shantivanam on 2nd February 2020, physically just before the corona crisis period.

14 अप्रैल को पूरे देश में हेल्थ एंड वेलनेस दिवस के रूप में मनाया जाता है

One day online seminar on ‘Emerging trends in Applied Mathematics’

Chandigarh February 28, 2021

Department of Applied Sciences, University Institute of Engineering and Technology, Panjab University, Chandigarh organized one day online seminar on ‘Emerging trends in Applied Mathematics’ on 27 February 2021.

For Detailed News-

The seminar was organized under twining activity of TEQIP-III in collaboration with Govt. college of Engineering and Technology Jammu under the guidance and  patronage of  Prof. Raj Kumar, Vice Chancellor, Panjab University, Prof. J.K. Goswamy, Director UIET, Panjab University, Chandigarh and Dr. Sameru Sharma, Principal, Government College of Engineering and Technology, Jammu.

The purpose of the webinar was to bring together researchers from academia to present, share and discuss their techniques, tools and ideas in the area of Applied mathematics specially in optimization techniques, numerical analysis, mathematical modeling, swarm intelligence.

Around 100 participants from different institutes  within India registered for the seminar.  Experts from IIT, Delhi, NIT Jalandhar, South Asian University and Foundation of Scientific Research and Technological Innovation, Hyderabad delivered talks and highlighted various opportunities available for mathematicians.

During the inaugural session, Prof JK Goswamy, Director, UIET delivered the welcome address and emphasized on the importance of organization of such event.  He also stated that in this pandemic era of COVID-19, the seminar will definitely benefit the young researchers.

Prof. VR Sinha, Dean University Instructions , Panjab University  delivered the inaugural address.  He appreciated the progress of UIET over the years and wished it well on its journey of excellence in interdisciplinary research.

https://propertyliquid.com

Dr Kalpana Dahiya (Event convener) and Dr. Anita Brar (Event co-convener)  proposed votes of thanks by paying gratitude to Prof VR Sinha, DUI, PU, Prof. JK Goswamy, Director UIET and Patron for encouraging  and inspiring the organizing team. They also thanked the sponsor of this seminar, TEQIP-III.

The organizing team consisting of Dr. Vinay Kanwar, Dr. Minto Rattan and Dr. Jyoti Sharma were also present at this occasion.

पुलिस प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों की कमेटियों का गठन किया

शिक्षा के साथ-साथ खेलों में रूचि लें युवा : पुलिस अधीक्षक भूपेंद्र सिंह

– सतलुज पब्लिक स्कूल के दो दिवसीय खेल उत्सव का किया शुभारंभ
– युवा देश की धरोहर,नशे से दूर रहकर अपनी प्रतिभा का बेहतरीन प्रदर्शन करे।

For Detailed News-

ऐलनाबाद। शिक्षा के साथ-साथ खेलों की ओर ध्यान देकर युवा अपना भविष्य संवार सकते है। खेलों से केवल शारीरिक तंदुरुस्ती मिलती है, बल्कि मानसिक मजबूती भी प्राप्त होती है। उक्त उद्गार सिरसा के पुलिस अधीक्षक श्री भूपेंद्र सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि ऐलनाबाद के सतलुज पब्लिक स्कूल के दो दिवसीय खेल उत्सव के शुभारंभ मौके पर युवाओं को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। श्री सिंह ने उधम सिंह चौक से निकाली गई रैली को भी हरी झंड़ी दिखाकर रवाना किया। स्कूल की ओर से 27 व 28 फरवरी को खेल उत्सव का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें बास्केटबाल, वालीवाल व जिम्रास्टिक की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएगी।


पुलिस अधीक्षक श्री सिंह ने कहा कि आज का युवा अपने कैरियर के प्रति बेहद सजग है। युवाओं को भी चाहिए कि वे अपने भविष्य को लेकर लक्ष्य निर्धारित करें। कड़ी मेहनत और लगातार अभ्यास से वे कठिन से कठिन लक्ष्य को भी हासिल करने में सक्षम है। उन्होंने युवाओं को प्रेरित करते हुए कहा कि युवाओं को शिक्षण के साथ-साथ खेलों में भी रूचि लेनी चाहिए। खेल भाईचारे को मजबूत करता है, वहीं नशे से भी दूर ले जाता है। उन्होंने कहा कि कुछ युवा भटककर नशे की दलदल में फंस जाते है, जिसकी वजह से उनका पूरा परिवार प्रभावित होता है। इसलिए युवाओं को नशे से दूर रहना चाहिए। अपनी मेहनत और लगन से सफलता हासिल करनी चाहिए। अपना, अपने परिवार और अपने देश का नाम रोशन करना चाहिए। इस मौके पर स्कूल की प्रधानाचार्य राजरानी जिंदल, …………. सहित अनेक गण्यमान्य लोग उपस्थित थे।

https://propertyliquid.com

पुलिस प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों की कमेटियों का गठन किया

सरकार ने कृषि कानून के माध्यम से किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए दिए प्रभावी विकल्प : शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर

सिरसा, 27 फरवरी।

For Detailed News-


शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि कृषि कानूनों के माध्यम से सरकार ने किसानों को मंडी के साथ-साथ अन्य जगह अपनी फसल बेचने के प्रभावी विकल्प दिए हैं। इसके साथ-साथ किसानों के हितों के लिए केंद्र सरकार हर स्तर पर किसानों से वार्ता को तैयार है। उन्होंने कहा कि किसान भी अपना हित समझते हुए संयम से सरकार की बातों का सुनें और अपने सुझाव सामने रखे।


वे शनिवार को वरिष्ठï भाजपा नेता एवं पूर्व विधायक मक्खन लाल सिंगला के कार्यालय में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष भाजपा आदित्य देवीलाल, वरिष्ठï भाजपा नेता जगदीश चोपड़ा, पूर्व चेयरमैन पवन बेनिवाल, रेणू शर्मा, गुरदेव सिंह राही, प्रदीप रातुसरिया, श्याम बजाज, जिला महामंत्री अमन चोपड़ा, रामचंद्र कंबोज, मंडल अध्यक्ष सुनिल बहल, कपिल सोनी, जिला सचिव सुनिल बामणिया, नारायण सिंह, सागर बजाज, बलकौर सिंह, सुरेश पंवार, मीरा देवी, जसविंद्र पाल पिंकी आदि मौजूद थे।


शिक्षा मंत्री ने कहा कि कृषि कानून सही मायने में किसानों के हितों के लिए बनाए गए हैं और इनमें किसानों के हित के सभी विकल्प मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि कृषि कानून में कॉंट्रेक्ट फार्मिंग व अन्य प्रावधानों को लेकर कोई बाध्यता नहीं है। इसलिए कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष द्वारा किसानों को भ्रमित किया जा रहा है जबकि अपने शासन काल के दौरान उन्होंने किसान हित में एक भी बड़ा फैसला नहीं लिया। प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को आर्थिक रुप से सुदृढ करने के लिए पहले भी कार्य किए गए हैं और भविष्य में भी कार्य जारी रहेंगे।


उन्होंने कहा कि यह एक बड़ा भ्रम पैदा किया जा रहा है कि कांट्रेक्ट फार्मिंग जैसे प्रावधानों से किसानों की जमीन छीन ली जाएगी, जोकि एकदम गलत है। इस प्रावधान से तो कृषि की मार्केटिंग हो पाएगी और किसानों को अधिक मुनाफा होगा। कृषि कानूनों के माध्यम से सरकार चाहती है कि किसानों को पूर्व निर्धारित फसल के दाम मिले, खेती में ज्यादा से ज्यादा उत्पादन हो और कम से कम जोखिम हो। उन्होंने कहा कि एमएसपी खत्म होने का बातें भी सिर्फ भ्रम है। इसी प्रकार से मंडियों की व्यवस्था भी पहले की ही तरह बनी रहेगी। किसानों को सिर्फ यह विकल्प दिया गया है कि वे अपनी फसल मंडी में भी बेच सकता है और बाहर भी। सरकार ने किसानों को अपने मुल्यों पर फसल बेचने का अधिकार दिया गया है। जब बहुत सारे खरीददार होंगे तो किसानों को फसलों का रेट भी अधिक मिलेगा।

https://propertyliquid.com


शिक्षा मंत्री ने फसल भंडारण के कानूनों में बदलाव को भी सही बताते हुए कहा कि इस कानून को लेकर भी भ्रम फैलाया जा रहा है। स्टॉक लिमिट के कारण से काला बाजारी बढ़ जाएगी, यह भी गलत है। कानून में ऐसा प्रावधान किया गया है कि यदि किसी फसल के दाम निर्धारित स्तर से बढ़ते हैं तो स्टॉकिस्ट को एक सीमा के बाद अपना स्टॉक बेचना ही होगा।

पुलिस प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों की कमेटियों का गठन किया

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता सेक्टर 15 स्थित रविदास भवन में आयोजित संत शिरोमणी रविदास जी की जयंती के अवसर पर नमन् करते हुए व समारोह को संबोधित करते हुए।

For Detailed News-

पंचकूला, 27 फरवरी- हरियाणा के सहकारिता एवं अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याणा मंत्री डाॅ बनवारी लाल ने लोगों से आहवान किया कि वे संत शिरोमणी रविदास के पदचिन्हों पर चलने का प्रयास करें और उनके द्वारा समाज के हित में दी गई शिक्षाओं को अपने जीवन में अपनाएं ताकि समाज में प्रेम और सौहार्द बना रहे।


डाॅ बनवारी लाल आज पंचकूला के सेक्टर 15 स्थित रविदास भवन में आयोजित संत शिरोमणी रविदास की 144वीं जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि संत रविदास जाति-पाति और उंच-नीच के घोर विरोधी थे और आपसी भाईचारे को ही संच्चा धर्म मानते थे। इतना ही नहीं वे दूसरों की मदद करने में सबसे आगे रहते थे। उन्होंने कहा कि संत रविदास जी भारत के उन चुनिंदा महापुरूषों में से एक हैं जिन्होंने अपने कार्यों से सारे संसार को एकता और भाईचारे का  संदेश दिया। उन्होंने जीवन भर समाज में फैली जाति-पाति की कुरीति के अंत के लिए काम किया। उन्होंने कहा कि संत शिरोमणी रविदास का मानना था कि मन जो काम करने के लिए  अन्तः करण से तैयार हो वही काम करना उचित है। मन सही तो इसे कठौते के जल में ही गंगा स्नान का पुण्य प्राप्त हो सकता है। कहा जाता है कि इस प्रकार के व्यवहार के बाद से ही कहावत प्रचलित हो गई कि ‘मन चंगा तो कठोती में गंगा‘।


डाॅ बनवारी लाल ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने मुख्य मंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व में हर वर्ग का विकास एवं कल्याण करने के लिए व्यवस्थाओं में अमूलचूल परिवर्तन किया है, जिसके तहत अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग के उत्थान के लिए भी विभिन्न नीतियों व योजनाओं को क्रियान्वित किया जा रहा है। राज्य सरकार ने अंत्योदय की भावना से काम करते हुए कई योजनाओं को आॅनलाइन करने का काम किया है, ताकि विभिन्न योजनाओं का लाभ घर-द्वार पर ही लोगों को उपलब्ध करवाया जा सके।


इस अवसर पर उन्होंने संत रविदास सभा पंचकूला को अपने स्वैच्छिक कोष से 11 लाख रूपए की राशि देने की घोषणा की। इससे  पूर्व गुरू रविदास सभा पंचकूला के अध्यक्ष राज कपूर अहलावत ने कार्यक्रम में उपस्थित होने पर डाॅ बनवारी लाल का धन्यवाद किया और उन्हें शाॅल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।


इस मौके पर भूतपूर्व विधायक लहरी सिंह ने कहा कि डाॅ बनवारी लाल एक कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ एक मिलनसार व्यक्ति भी हैं। उन्होंने कहा कि वे लोगों के दुख-सुख में हमेशा साथ खड़े रहते हैं।

https://propertyliquid.com


कार्यक्रम में पंचकूला की एसडीएम रिचा राठी, सभा के अन्य पदाधिकारियों सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

पुलिस प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों की कमेटियों का गठन किया

संत शिरोमणी रविदास एक महान् संत थेः श्री गुप्ता

-रविदास ने हमेशा जाति-पाति और भेदभाव से उपर उठ कर कार्य करने का संदेश दिया
-रविदास सभा को 5 लाख रूपए की राशि देने की की घोषणा
-5 मार्च को विधानसभा प्रांगण मे मुख्यमंत्री करेंगे संविधान निर्माता डाॅ0 बी.आर. अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण

For Detailed News-

पंचकूला, 27 फरवरी- हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि संत शिरोमणी रविदास एक महान् संत थे जिन्होंने अपने कार्यों द्वारा न केवल देश बल्कि पूरे विश्व को जाति-पाति  और भेदभाव से उपर उठ कर कार्य करने का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि संत रविदास ने जो संदेश 644 वर्ष पूर्व दिया था वह आज भी उतना ही सार्थक है, जितना उस समय था।


श्री गुप्ता आज पंचकूला के सेक्टर 15 स्थित रविदास भवन में संत शिरोमणी रविदास जी के 644वें जन्म दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चण्डीगढ से वीडियो काॅफ्रेंस के माध्यम से सभी को गुरू रविदास जयंती की बधाई दी और अपना संदेश दिया।


इस मौके पर श्री गुप्ता ने गुरू रविदास सभा को अपने स्वैच्छिक कोष से 5 लाख रूपए की राशि देने की घोषणा भी की। गुरू रविदास सभा पंचकूला के अध्यक्ष राज कपूर अहलावत ने संत शिरोमणी रविदास जी के 644वें जन्म दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करने पर श्री गुप्ता का धन्यवाद किया और उन्हें शाॅल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।


श्री गुप्ता ने कहा कि आज भी हमारे देश को एकता और भाईचारे की आवश्यकता है और इसी सोच पर काम करते हुए हम प्रदेश और देश को तरक्की की राह पर आगे ले जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि संत रविदास ने कहा था कि कर्म और कर्तव्य सबसे श्रेष्ठ है। उन्होंने कहा था कि ‘मन चंगा तो कटोती में गंगा‘। संत रविदास हमेशा जाति-पाति के खिलाफ रहे। उनका मानना था कि जो जाति-पाति मनुष्यों में बंटवारा करती है वह समाज का कल्याण कभी नहीं कर सकती। उन्होंने लोगों से संत श्री रविदास द्वारा 644 वर्ष पूर्व दिखाए गए मार्ग पर चलने का आहवान किया और कहा कि ऐसा करके वह प्रदेश और देश के विकास में अहम भागीदारी निभा सकते हैं। उन्होंने कहा कि संत रविदास ने अपने कार्यों से न केवल देश बल्कि विदेशों में भी सामाजिक सदभावना का संदेश दिया। हमें उनके संदेशों को लेकर आगे बढना है और देश को आगे लेकर जाना है।


उन्होंने कहा कि संत रविदास के जीवन पर उनके गुरू रामानंद जी का भी प्रभाव देखने को मिलता है। उन्होंने कहा कि मुगल बादशाह बाबर भी रविदास जी के चरणों में नतमस्तक था क्योंकि वे मानवता के विकास के पक्षधर थे। उन्होंने कहा कि हमें उनके संदेशों का अनुसरण करते हुए कर्म के सिद्धांत पर चलने की प्रेरणा लेनी चाहिए। गुरू रविदास जी ने हमें दूसरों की सेवा का मार्ग दिखाया।


उन्होंने कहा कि आज के दिन संविधान निर्माता डाॅ0 बी. आर. अम्बेडकर को याद करना भी अनिवार्य है क्योंकि उन्होंने देश को एकता व अखण्डता का संदेश दिया। हमें उनके पदचिन्हों पर चलने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आगामी 5 मार्च को हरियाणा विधानसभा का बजट सत्र शुरू हो रहा है। उसी दिन हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल विधानसभा के प्रांगण में डाॅ. बी. आर. अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। उन्होंने कहा कि यह प्रतिमा देश के संविधान के रूप में दिये गए महत्वपूर्ण योगदान का एक प्रतीक है और श्री अम्बेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि है।


कार्यक्रम में पंचकूला के उपायुक्त श्री मुकेश कुमार आहूजा, उपमण्डल अधिकारी रिचा राठी, भूतपूर्व विधायक लहरी सिंह, सभा के अन्य पदाधिकारियों सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।