Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

ONE WEEK GLOBAL ALUMNI MEET (VIRTUAL MODE) KICKSTARTED AT PU

Chandigarh January 19, 2021

Panjab University Alumni Association triumphantly surmounting all odds in these tempestuous times and keeping upbeat and orchestrating “Global Alumni Meet”. One of the idiosyncrasies of this event is the agglomeration of the alumnus from across the globe that too in virtual mode. Day 1 of the global alumni meet witnessed the ‘Tryst with illustrious alumni: Reminiscences and roadmap’, a journey from the “Portals of PU” to eminence by some acclaimed doers of the society.

For Detailed News-

Prof. Anupama Sharma, Dean Alumni Relations said that this is fortuitous and momentous occasion for PUAA to have the eminent and distinguished alumni who have already carved a niche for themselves in their careers. She highlighted the details of the meet which was followed by the virtual tour of Panjab University. Professor R K Singla, Dean University Instructions flagged off the ceremony by welcoming the alumnus bringing laurels and accolades to the institution and always delivering worth more than the expectations. He also emphasized the heritage created by PU and the synergy that it acquaints to at two different levels defining the alma mater as the intellectual capital of the university. The Hon’ble Vice Chancellor, Professor Raj Kumar enchanted the fact the even the hardships of a pandemic could not resist the belongingness that the alumni converse. He proudly cherished that sky is the only limit with the potential possessed by the past and present generation of this unparalleled teaching and training institution.

Smt. Keshni Anand Arora, IAS, Former Chief Secretary, Haryana  Chairperson, Haryana Water Resources Authority shared her thoughts on global alumni meet and praised this extraordinary initiative  of   collaborating   with  alumnus from all walks of life in tandem she also appreciated the  video made by PUAA as it brought the good old memories of campus back  which she had  rejoiced during her childhood as her father was a professor in Panjab University at that time. She was explicitly astounded by the conducive environment that the university provided and remembered how qualities instilled by PU helped her  and her 2 sisters who later on graduated to the rank of  chief secretaries and also made her daughter  an IPS officer. She proposed a dynamic platform and dynamic database to aid students from a well structured network and get suggestions from alumni about their careers. She also talked about how she has been  associated with leadership courses for quite a long period of time now and wanted to do even more like  providing  mentorship to the students who want to be in civil services. She ended on the note saying that she is ready to go an extra mile for the  University.

https://propertyliquid.com

Dr. Aditya Narayan Purohit, Padam Shree Awardee talked about his experience how he entered PU and what was atmosphere of  PU at that time. He did not have any fellowship at that time  and got Rs 30 as a typist and  how then  a science fair was organized which turned out be a game changer for him and Prof. A.C.Joshi inaugurated the same. Prof Joshi  came to his stall and asked questions from him and when he came to know that he  was not  being offered fellowship because he  had come from other institute  he was awarded fellowship by changing rules in just  4 days . That’s how his journey at PU started.  He laid emphasis on such kind of culture  and conducive atmosphere to be prevelant in  PU  which not only strengthens and accentuates minimization of  gap between students and teachers but also fosters a sense of equality and inclusiveness and also  induces  free flow of communication and interaction which are the institution’s biggest asset.

Sh. Ashwani Pahuja, ED & Chief Sustainability officer, Dalmia Cement explained how PU is his 2nd home. He cherished those days as best days of his life and time he spent at student centre having coffee. He said this nostalgia could  make us laugh and cry which is happening today. He also highlighted how such meets provide an opportunity to reflect on the learnings and achievements they have adored so far and also described this platform as a stepping stone for starting a conversation regarding the climate change and sustainability crisis that the whole world is facing and how compatriots can come together to initiate a change. He also made it prominent that how it is the time to become a part of the solution. Then he talked his experience in cement sector and how he utilized his learnings from the university. He also focused on making India carbon based economy by changing to renewable energy, green hydrogen, green methane and advanced biofuels. For this to happen, students and universities have to rethink , reinnovate which can be done by doing more research, changing curriculum to today’s time.

Mr. Vikas Kaushal, Global Head, A T Kearney, divulged a lot of information regarding his college days especially  hostel no 3 and 6 and reminisced that wonderful time How getting basic education form great faculty and environment played a big role and how it prepared him for the future. Then he elucidated his journey of 20 years of working in global firms and his experiences in the changing world where stakes are much higher, diversity of views, and explosion of information and skills are coming in at a much faster pace and how trends are changing from globalization to nationalism, Business decision cycles have  shortened at the same time due to uncertainty, consumer behavior is changing. So students need to increase their exposure, learn what is  happening globally and look for options which were not present earlier. And for university he urged to provide conducive environment for learning, adopt new ideas, bring in industry and overall enriching environment which helped him in anchoring whatever he has become today.

Ms.Lalita Sachdeva, UNICEF, India also pointed out how delighted and humbled she was  to be a part of the PU family and the gist of it that drives her to be the change and work for it. She feels forever indebted for the multi disciplinary skills manifested by PU in students which endeavours them to take up society’s interest also in addition to there personal accomplishments. Development of empathy towards environment and engagement with communities to stand and deliver has been the stand out contribution that PU has been successful to make is the biggest achievement she felt.

Concluding the first day of the global alumni meet organised by PUAA, Professor V.R Sinha, Dean Research proposed a formal vote of thanks to the ones attending the meet and also to the ones who took  excruciating efforts and worked doggedly and meticulously  to make it happen and contributing to make it a resounding success. He also appreciated the time such esteemed stalwarts devoted towards this event and also felicitated for all that they have done, have been doing and will continue to do so. Dr. Monika Aggarwal, Associate Professor, UIAMS moderated the session. Lastly the event was concluded after Punjabi folk presented by Dr. Tejinder Gill, Assistant Director, Department of Youth Welfare, Panjab University. The Cultural Coordinator was Prof. Navdeep Kaur, Department of Indian Theatre, Panjab University.

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

उपायुक्त ने बताया कि मण्डीकरण बोर्ड द्वारा पिंजौर में स्थापित की जा रही सेब, फल व सब्जी की अत्याधुनिक मार्केट के दूसरे चरण के लिए सरकार ने मास्टर प्लान को मंजूरी प्रदान कर दी है।

पंचकूला 19 जनवरी।   उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि मण्डीकरण बोर्ड द्वारा पिंजौर में स्थापित की जा रही सेब, फल व सब्जी की अत्याधुनिक मार्केट के दूसरे चरण के लिए सरकार ने मास्टर प्लान को मंजूरी प्रदान कर दी है।

उपायुक्त ने बताया कि पिंजौर में सेब, फल एवं सब्जी मण्डी मार्केट पर 175 करोड़ रुपये की राशि व्यय करके बनाई जा रही है। लगभग 78.33 एकड़ भूमि पर विकसित की जा रही मण्डी में सभी आधुनिक सुविधाएं होगी। इस मार्केट के दूसरे चरण निर्माण कार्य शीघ्र ही शुरू किया जाएगा।

उपायुक्त ने बताया कि दूसरे चरण में इस मण्डी में लगभग 96.53 करोड़ रुपये की लागत से कार्य किया जाएगा। पहले चरण का निर्माण कार्य युद्व स्तर पर चल रहा है जिसे शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस निर्माण कार्य में एप्पल शेड, कार्यालय, एंट्री गेट, बाउंड्री वॉल सहित टॉयलेट कॉम्प्लेक्स का काम लगभग पूरा हो चुका है। मण्डी परियोजना के पहले चरण पर लगभग 28.44 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे है।
उपायुक्त ने बताया कि पिंजोर की सेब, फल व सब्जी मण्डी में एप्पल शेड, आलू-प्याज शेड, टमाटर-अन्य फल और सब्जी शेड, किसान और रिटेल शेड, रैफ्रिजरेटिड फल और सब्जी हॉल के अलावा बेहतर प्रशासनिक भवन का भी निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा मण्डी में नागरिकों के लिए शानदार किसान रैस्ट हाऊस के साथ साथ पार्किंग स्थल की सुविधाएं उपलब्ध हांेगी।

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

उपायुक्त- हरियाणा सरकार ने ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर रबी फसलों के पंजीकरण के लिए ‘परिवार पहचान-पत्र’ का होना अनिवार्य कर दिया है।

पंचकूला 19 जनवरी- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि हरियाणा सरकार ने ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर रबी फसलों के पंजीकरण के लिए ‘परिवार पहचान-पत्र’ का होना अनिवार्य कर दिया है। इसलिए सभी किसान अपना परिवार पहचान पत्र जल्द से जल्द बनवा लें ताकि मेरी फसल मेरा ब्यौरा फसल योजना का लाभ आसानी स ेले सकें।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा क्रियान्वित इस योजना के तहत  16 जनवरी 2021 से ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर रबी फसलों का पंजीकरण आरंभ कर दिया गया है। इसलिए किसान मण्डियों में अपनी फसल बेचने के लिए अवश्य पंजीकरण करवाएं। उन्होंने बताया कि किसानों द्वारा अपने कृषि उत्पादों को मंडियों में बेचने एवं कृषि या बागवानी विभाग से संबंधित योजनाओं का लाभ उठाने हेतु अपनी फसलों का पंजीकरण ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल में करवाना अत्यंत अनिवार्य है।

https://propertyliquid.com


उपायुक्त ने बताया कि किसान अपना पंजीकरण नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से भी करवा सकते हैं। उन्होंने किसानों से अपने ‘परिवार पहचान-पत्र’ के माध्यम से अपनी फसलों का पंजीकरण fasal.haryana.gov.in पोर्टल पर भी कर सकते है। उन्होंने जिला के किसानों से अनुरोध किया है कि वे योजना का पूर्ण लाभ लेने के लिए पंजीकरण करवाएं और अपने परिवार पहचारन पत्र भी शीघ्र बनवाएं। परिवार पहचान पत्र बनाने के लिए प्रशासन द्वारा कई सीएससी केन्द्रों पर सुविधा प्रदान की गई है।

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

आबकारी एवं कराधान विभाग को नए वित्त वर्ष से पहले एडवांस तकनीक से सुसज्जित किया जाएगा – उपमुख्यमंत्री

पंचकूला, 19 जनवरी- हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चैटाला ने कहा कि प्रदेश के आबकारी एवं कराधान विभाग को नए वित्त वर्ष से पहले एडवांस तकनीक से सुसज्जित किया जाएगा ताकि हरियाणा का यह मॉड्यूल देशभर में अव्वल व अनुकरणीय बन सके। इसके अलावा, उत्कृष्टड्ढ कार्य करने वाले अधिकारियों को जिला स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री पंचकुला के लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह में हरियाणा के आबकारी एवं कराधान विभाग द्वारा ‘जीएसटी के रजिस्ट्रेशन, रिफंड तथा इन्वेस्टिगेशन’ के मुद्दों पर आयोजित सेमीनार में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव  अनुराग रस्तोगी ने की। सेमिनार में प्रदेशभर से आए डी ई टी सी, ई टी ओ, ए ई टी ओ, इंस्पेक्टरों ने भाग लिया और अपने सुझाव रखें। सेमीनार में आबकारी एवं कराधान विभाग के आयुक्त  शेखर विद्यार्थी, सहायक आयुक्त  सिद्घार्थ जैन के अतिरिक्त विभिन्न संयुक्त आयुक्त, जिलों से आए जिला आबकारी एवं कराधान आयुक्त समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

For Detailed News-


डिप्टी सीएम, जिनके पास आबकारी एवं कराधान विभाग का प्रभार भी है, ने आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों द्वारा कोविड-19 के दौरान किए गए कार्य की प्रशंसा की और कहा कि प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद विभाग ने जीएसटी व अन्य मामलों में किए गए संग्रह में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने फील्ड के अधिकारियों द्वारा दिए गए सुझावों व काम में आने वाली बाधाओं को सुनने के बाद कहा कि वर्तमान युग में नित नई तकनीक आ रही हैं जिसके कारण विभाग के कंप्यूटर के हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर समेत अन्य सिस्टम को अपग्रेड करने की आवश्यकता है। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे कनिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी का आवंटन यथोचित ढंग से करें ताकि कार्य में निपुणता व गुणवत्ता आ सके।


उपमुख्यमंत्री ने आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे विषय-विशेषज्ञ व अनुभवी अधिकारियों की एक टीम बनाएं जो कि उत्पादों के मूल्य की लिस्ट बनाएं ताकि कोई भी उत्पादक अंडर-बिल बनाकर टैक्स की चोरी न कर पाए। उन्होंने फील्ड अधिकारियों से अधिक से अधिक सुझाव देने का आह्वान किया ताकि सिस्टम को पारदर्शी व मजबूत बनाया जा सके, इससे कार्य में तेजी आएगी तथा डिजिटली फ्रॉड को रोका जा सकेगा।

https://propertyliquid.com


आबकारी एवं कराधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव  अनुराग रस्तोगी ने इस सेमीनार को उपमुख्यमंत्री की सोच का हिस्सा बताते हुए कहा कि वैट के बाद जीएसटी शुरू होने पर पिछले 3-4 वर्षों में टैक्स को एकत्रित करने में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है, परंतु आज के सेमीनार से विभाग की कार्यप्रणाली में महत्वपूर्ण परिवर्तन होंगे। उन्होंने बताया कि टैक्स चोरी से संबंधित एफआईआर, केस की जांच, कंप्यूटर के हार्डवेयर,आईटी व अधिकारियों व कर्मचारियों को टैक्स के रिफंड आदि के प्रशिक्षण के बारे में आए सुझावों पर विभाग द्वारा जल्द कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने ई कॉमर्स ट्रेनिंग पर भी बाल दिया जाएगा । अन्य राज्यों से भी स्टैंडर्ड शेड्यूल के रेट भी लेने चाहिए ताकि उनकी कीमत के बारे में भी  सही जानकारी मिल सके।

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

National Poster Making Competition on ‘National Youth Day

Chandigarh January 19, 2021

For Detailed News-

University Institute of Legal Studies, Panjab University, Chandigarh is organizing a National Poster Making Competition to celebrate National Youth Day under the aegis of Prof. (Dr.) Raj Kumar, the Vice-Chancellor of Panjab University, Prof. (Dr.) Rajinder Kaur, Director of UILS, PU and Dr. Pushpinder Kaur, Associate Professor (Law), UILS, PU, Chandigarh. National Youth Day is celebrated on January 12, every year in India to honor the birth anniversary of Swami Vivekananda, one of India’s greatest leaders and believers of youth power. He pushed for national integration in colonial India. The object of National Youth Day is to create awareness and provides knowledge about the rights of people. The main aim behind the celebration is to motivate the youth to work for a better future and spread the ideas of the Swami Vivekananda.   The Registration Forms for the same has been released on January 04, 2020, and the last date for the submission of posters is January 25, 2021. The competition is open to all the students pursuing a Bachelor’s/Master’s/PG degree or Certificate course from any affiliated University/College/Institute. Students may participate in a team consisting of not more than 2 persons. The Brochure of details of the competition can be found on the official website of the department at https://uils.puchd.ac.in/show-noticeboard.php?nbid=1. The student conveners for the competition are Vaibhav Goyal, Tanya Singla, Supriya Aggarwal, and Sahil Jain.

https://propertyliquid.com

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों का किया जा रहा समग्र विकास : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा 19 जनवरी।


              उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बताया कि हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद की समावेशी शिक्षा योजना के तहत जिला के दिव्यांग बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ उन्हें सामान्य बच्चों के समान अवसर उपलब्ध करवाते हुए उनके समग्र विकास की दिशा में कार्य किए जा रहे हैं। योजना के अंतर्गत दिव्यांग बच्चों को विभिन्न भत्तों के रूप में आर्थिक सहायता भी दी जा रही है। जिला के 2307 दिव्यांग बच्चों को योजना के तहत वित्त वर्ष 2019-20 में 18 लाख 33 हजार रुपये की राशि भत्तों के रूप में प्रदान की है।

For Detailed News-


              उपायुक्त ने बताया कि दिव्यांग बच्चों के लिए समावेशी शिक्षा (इनक्ल्यूसिव एजूकेशन फॉर डिसेबल चिल्ड्रन) योजना के अंतर्गत जिला के सभी सातों खंडों में रिर्सोस सैंटर कार्यरत हैं। दिव्यांग बच्चे सामान्य बच्चों की भांति समाज से जुड़ा हुआ महसूस करें तथा उन्हें भी समान अवसर उपलब्ध हों, इसके लिए ये रिसोर्स सैंटर स्थानीय सरकारी स्कूलों में ही स्थापित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि ये रिसोर्स सैंटर सिरसा में राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूल, रानियां के राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूल, ऐलनाबाद में राजकीय(लड़के) सीनियर सैकेंडरी स्कूल, चौपटा में राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूल, डबवाली में राजकीय सीनियर सैकेंडरी स्कूल, ओढा में राजकीय सीनियर सैकेंडरी स्कूल तथा बडागुढा में राजकीय सीनियर सैकेंडरी स्कूल में रिसोर्स सैंटर स्थापित हैं।


              उन्होंने बताया कि समावेशी शिक्षा दिव्यांग बच्चों को भी सामान्य बच्चों की तरह ही शैक्षणिक गतिविधि में भाग लेने का अवसर प्रदान कर उन्हें आत्म निर्भर बनाकर समाज की मुख्य धारा से जोड़ती है। दिव्यांगों के सशक्तिकरण हेतु समावेशी शिक्षा सर्वोत्तम विकल्प है। उन्होंने बताया कि सरकार दिव्यांगों के लिए नई नई योजनाओं को और बेहतर तरीके से लागू करने की दिशा में कार्यरत है। दिव्यांगों के लिए चलाई जा रही योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए प्रशासन गंभीरतापूर्वक कार्य कर रहा है।

विभिन्न भत्तों के रूप में दी 18 लाख से अधिक की आर्थिक सहायता :


              जिला परियोजना अधिकारी पवन सुथार ने बताया कि हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को शैक्षणिक सुविधाओं के साथ-साथ विभिन्न भत्तों के रूप में आर्थिक सहायता भी दी जाती है। उन्होंने बताया कि जिला में 2307 दिव्यांग बच्चे समावेशी शिक्षा के तहत शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। इनके लिए 24 अध्यापक कार्यरत है। उन्हांने बताया कि दिव्यांग बच्चों को वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान भत्तों के रूप में 18 लाख 33 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है। यह राशि सीधे दिव्यांग बच्चों के खाते में डाली गई है। इस राशि में 9 लाख 8 हजार रुपये की राशि केवल दिव्यांग कन्याओं को दी जाने वाली आर्थिक सहायता भी शामिल है।

https://propertyliquid.com


दिव्यांग को दी जाने वाली सुविधाएं :


              जिला परियोजना अधिकारी पवन सुथार ने बताया कि दिव्यांग बच्चों को समावेशी शिक्षा योजना के तहत विभिन्न प्रकार की सुविधाएं प्रदान की जाती है। उन्होंने बताया कि दिव्यांग बच्चों को दी जाने वाली सुविधाओं में स्थाई फंड, होम बेस्ड अलाउंस, रीडर भत्ता आदि दिया जाता है। इसके अलावा विभिन्न खेल गतिविधियां भी करवाई जाती है, जिनमें लूडो चेस, सांप सीढी, बॉल साउंड आदि खेल शामिल हैं।


हुनर के तहत दिव्यांगों को बनाया जाता है रोजगारपरक :


              सहायक परियोजना अधिकारी गोपाल कृष्ण ने बताया कि समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को रोजगारपरक परीक्षण भी दिया जाता है। इस प्रोजेक्ट को हुनर नाम दिया गया है। हुनर के तहत 50 बच्चों का चयन कर उन्हें अगरबत्ती, प्रफ्यूम आदि के वोकेशनल कोर्स करवाए जाते हैं, ताकि वे स्वयं का रोजगार स्थापित कर आत्मनिर्भर बन सकें।


ठीक होने वाले दिव्यांगों की सर्जरी का खर्च किया जाता है वहन :


              सहायक परियोजना अधिकारी गोपाल कृष्ण ने बताया कि समावेशी शिक्षा के तहत समय-समय पर मैडिकल कैंप लगाकर दिव्यांग बच्चों का मेडिकल चैकअप किया जाता है। जिस दिव्यांग के ठीक होने की संभावना होती है, उसकी सर्जरी का पूरा खर्च वहन करते हुए पूरा इलाज करवाया जाता है। उन्होंने बताया कि मैडिकल में जरूरत अनुसार दिव्यांग बच्चों को श्रवण यंत्र, बेसाखी, कैलिपर, ट्राई साईकिल आदि दी जाती हैं।

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

एसडीएम जयवीर यादव की देखरेख में हुई सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की रिहर्सल

सिरसा, 19 जनवरी।

For Detailed News-


              जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के लिए मंगलवार को एसडीएम जयवीर यादव की अध्यक्षता में स्थानीय जीआरजी स्कूल के ऑडिटोरियम में विभिन्न स्कूलों व कॉलेज के विद्यार्थियों ने रिहर्सल की गई। सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के लिए जिला के विभिन्न स्कूलों के छात्रों ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। इस दौरान जिला शिक्षा अधिकारी संत कुमार, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी आत्म प्रकाश, जीआरजी स्कूल की प्रिंसिपल किरण, डीपी सुभाष, प्रेम कंबोज, विक्रम कुमार, नवप्रीत सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


              एसडीएम जयवीर यादव ने बताया कि उपायुक्त प्रदीप कुमार के निर्देशानुसार आज बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम मेंं दी जाने वाली सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का चयन व रिहर्सल की गई। उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह को भव्य बनाने के लिए देशभक्ति व लोक संस्कृति से औतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें विभिन्न स्कूल व कॉलेज के विद्यार्थियों द्वारा एक से बढकर एक प्रस्तुतियां दी जाएंगी। उन्होंने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाली सभी टीमों के इंचार्जों को निर्देश दिए कि जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में सांस्कृतिक प्रस्तुतियां और अधिक भव्य व मनमोहक नजर आए और यह सुनिश्चित करें कि सांस्कृतिक प्रस्तुतियां तय समय में पूरी हो। उन्होंने बताया कि 23 जनवरी को शहीद भगत सिंह स्टेडियम में फुल डे्रस फाइनल रिहर्सल का आयोजन किया जाएगा।


इन स्कूलों ने लिया रिहर्सल में भाग :


              रिहर्सल में प्रयास स्कूल, दिशा स्कूल, श्रवणवाणी दिव्यांग विद्यालय के बच्चों ने एक्शन सांग ‘हम सब भारतीय हैÓ प्रस्तुत किया। इसके अलवा शाह सतनाम जी कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के विद्यार्थियों ने टेबल डांस ‘जय होÓ व क्षेत्रीय राजस्थानी डांस  ‘कालो कूद पडय़ों मेले मेंÓ, महाराजा अग्रसैन कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के बच्चों ने देशभक्ति एक्शन सांग ‘मेरी मां-प्यारी मांÓ, राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यायल चत्तरगढ़पट्टïी के बच्चों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर कॉरियोग्राफी, डीएवी स्कूल सिरसा के बच्चों ने राजस्थानी नृत्य ‘पधारो म्हारे देसÓ, विवेकानंद स्कूल सिरसा के बच्चों ने हरियाणवी नृत्य ‘कुटंब कबीलाÓ, राजकीय कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के बच्चों ने गिद्दा ‘लोहड़ी तीयां दीÓ, राजकीय नैशनल कॉलेज सिरसा के बच्चों ने भंगड़ा ‘मैं गबरु देश पंजाब दाÓ, राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय नेजाडेलाकलां के विद्यार्थियों ने ‘ये देश है वीर जवानों काÓ तथा न्यू सतलुज वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय के बच्चों ने राष्टï्रीय गान की रिहर्सल की।

https://propertyliquid.com

Vikram Singh Assumes Charge of CUS at PU

श्री रामा क्लब चेरिटेबल ट्रस्ट के पदाधिकारियों की बैठक आयोजित

For Detailed News-

अश्वनी बठला प्रधान व गुलशन गाबा महासचिव बने

सिरसा : श्री रामा क्लब चेरिटेबल ट्रस्ट के पदाधिकारियों की बैठक सूर्या होटल में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता प्रधान अश्वनी बाठला ने की। बैठक में सर्वप्रथम ट्रस्ट हाकम राय मैहता के निधन पर शोक व्यक्त किया गया और दो मिनट का मौन रखा गया। हाकम राय मैहता ने 46 सालों तक रामलीला में भगवान राम का किरदार अदा किया था। बैठक में महासचिव गुलशन गाबा ने पिछली बैठक की कार्रवाई से अवगत करवाया। कोषाध्यक्ष सुरेश अनेजा द्वारा गत वर्ष का लेखा जोखा प्रस्तुत किया गया। इसके पश्चात चुनाव प्रक्रिया के तहत सर्व सम्मति से प्रधान अश्वनी बाठला को पुन: प्रधान पद के लिए चुना गया जबकि गुलशन गाबा को पुन: महासचिव चुना गया। ट्रस्ट की शेष कार्यकारिणी का चयन दोनों मिलकर करेंगे। इस अवसर पर श्याम बजाज सरंक्षक द्वारा बैठक की मेजबानी कर रहे विजय जुलाहा की प्रशंसा की। इस अवसर पर क्लब के पुराने इतिहास से अवगत करवाया गया। बैठक के समापन पर प्रधान अश्वनी बाठला द्वारा सबका सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया गया। बैठक में 30 ट्रस्टियों ने भाग लिया। 

https://propertyliquid.com