PU declared results

पंचकुला जिला में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस मनाया गया।

पंचकुला जिला में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस मनाया गया।

पंचकूला,10 फरवरी- पंचकुला जिला में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस मनाया गया। इसका उद्घाटन सिविल सर्जन डा0 जसजीत कौर पंचकुला द्वारा सेक्टर-12 के सार्थक सरकारी.सीनियर.सेकंडरी स्कूल में किया गया ।


इस दिवस के अंतर्गत 1 से 19 वर्ष तक के सभी सरकारी व निजी स्कूलों व आंगनवाडी केंद्रो और शेहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रो में बच्चो को उम्र के अनुसार पेट में होने वाले कीड़ो व कृमि मुक्ति की दवाई खिलाई गई । सभी पंजीकृत, गैर-पंजीकृत और स्कूल न जाने वाले बच्चों को यह दवाई आंगनवाडी केंद्रो में खिलाई गई ।


उन्होंने बच्चो को बताया की कृमि संक्रमण से बच्चो में कुपोषण व खून की कमी होती है, जिससे हमेशा थकावट बनी रहती है तथा शरीरिक व मानसिक विकास भी ठीक से नहीं हो पाता । उन्होंने कृमि संक्रमण की रोकथाम के बारे में बताया जैसे – आस पास सफाई रखे, खुले में शौच न करे, नंगे पाव न चलने बाबत शौच के बाद साबुन से अच्छी तहर से हाथ धोए, साफ पानी में फल और सब्जिया धोये, नाखून साफ व छोटे रखे, जूते चप्पल पहन के रखे ।


राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर जिला पंचकुला में ग्रामीण क्षेत्र व शेहरी क्षेत्र के सभी सरकारी व निजी स्कूलों व आंगनवाडी केंद्रो और शेहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रो में लगभग 145521 बच्चों को कृमि मुक्ति दवाई खिलाई गई ।


राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस में जो बच्चे दवाई लेने में छुट गए उन्हें 17 फरवरी को दवाई खिलाई जायेगी ।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

PU declared results

उपायुक्त ने अधिकारियों की मासिक बैठक में जिला में होने वाले विकास कार्यांे की समीक्षा ली

उपायुक्त ने अधिकारियों की मासिक बैठक में जिला में होने वाले विकास कार्यांे की समीक्षा ली

पंचकूला, 10 फरवरी- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने अधिकारियों की मासिक बैठक में जिला में होने वाले विकास कार्यांे की समीक्षा ली व विकास कार्यांे में तेजी लाने और विभिन्न विभागों में आपसी समन्वयता के लिए नियुक्त किए गए नोडल अधिकारियों से उनके द्वारा किए जाने वाले कार्यों की भी जानकारी ली।


उन्होेंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने अपने क्षे़त्र में पड़ने वाले स्वास्थ्य केंद्रों के माध्यम से ड्रग एडिक्कटों का ब्यौरा एकत्रित करें और उनके ईलाज करते समय पूरी संवेदना बरतते हुए रिहैबिलिटेशन के लिए कार्य करें और उन्हें नशे की दलदल से बाहर निकालें। उन्होंने जिला खेल अधिकारी और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे बच्चों को खेल और अन्य सांस्कृतिक गतिविधयों को बढ़ावा दें ताकि युवा नशे मे उलझने ही ना पाएं।


उन्होंने जिला आयुर्वेदिक अधिकारी को निर्देश दिए कि वे आयुर्वेदिक एंव पंरपरागत दवाईयों के ईलाज से संबधित कैंप दूरदराज और मोरनी क्षेत्र में भी लगाएं। उन्होंने जिला रेड क्रास अधिकारी को निर्देश दिए कि वे दिव्यांगों की एैससमैंट से संबिधत शिविरों का आयोजन करें और मोरनी व दूरदराज के क्षे़त्रों के दिव्यागों की सुविधा के लिए कैंप वहंी पर जाकर लगाएं ताकि उन्हें कष्टों का सामना ना करना पड़े। रेड क्रास सचिव ने जानकारी देते हुए बताया कि मार्च में 16 मार्च से लेकर 19 मार्च को कालका, पिंजौर, रायपुररानी, बरवाला में दिव्यागों की एसेसमैंट से संबिधत शिविर लगाए जाएंगे। उपायुक्त ने उन्हें मोरनी में भी इस तरह का कैंप लगाने के निर्देश दिए ।


उपायुक्त ने उद्योग विभाग के संयुक्त निदेशक को निर्देश दिए कि वे सभी लघु एवं मघ्यम स्तर के उद्यमियों के संपर्क बनाएं और वहां पर स्किल्ड और सेमी स्किल्ड रोजगारों की जरूरतों के बारे में पता लगा कर जिला रोजगार अधिकारी को सूचित करें ताकि रोजगार मेलों मेे इन उद्यमियों को बुलाकर उन्हें उनकी जरूरतों के अनुसार मानवीय संसाधन उपलब्ध करवाया जा सके। उन्होंनेे अधिकारियों को निर्देश दिए कि नौजवानों को रोजगार देने का एक भी अवसर नहीं चूकें। साथ ही युवाओं को इन उद्यमियों के माध्यम से काम दिलवा कर उन्हें सिर्फ नौकरी करने वालों की बजाय अनुभव लेकर स्वंय का उद्यम लगाने के लिए प्रेरणा भी प्रदान करें। उन्होंने जिला समाज कल्याण अधिकारी से सभी सामाजिक पेंशनों एवं अन्य भत्तों की जानकारी भी ली।


श्री आहूजा ने मुख्यमंत्री घोषणाओं के तहत विकास कार्यो,राजस्व कोर्ट केस, मनरेगा के अंर्तगत नई परियोजनाओंए गांवों में सफाई व्यवस्था एवं तलाबों के सौन्दर्यकरण, एमपीलैंड आंगनवाडी केन्द्रों पर दी जाने वाली सुविधाएं, वुमेन हैल्पलाईनए बाल मजदूरी की रोकथामए फैमली आई डीए सीएम विंडोए स्वच्छता अभियानए सिंगल यूजड प्लास्टिक के प्रयोग पर पाबंदी, लोक कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन व अन्य मुख्य विकास कार्यों को लेकर संबंधित विभागों के अधिकारियों जानकारी ली।


उन्होंने कहा कि जो शिकायतें सीएम विंडो आती है प्राथमिकता के आधार पर हल करवा कर पोर्टल पर अपलोड अवश्य करें। उन्होंने कहा कि जो शिकायतें लंबित है उनका प्राथमिकता के आधार पर समाधान करवाएं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग योजनाओं के लाभ से इसलियें वंचित रह जाते है क्योंकि उन्हें योजना व उसका लाभ हासिल करने की प्रक्रिया का सही ज्ञान नहंी होता। उन्होनंे कहा कि ऐसे लोगों का सही मार्गदर्शन करने की विशेष आवश्यकता है।


इस अवसर पर एडीसी मनिता मलिक एसडीएम पंचकूला धीरज चहल नगराधीश सुशील कुमार, एसडीएम कालका राकेश संधू सहित सभी संबधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

PU declared results

First WISE interactive lecture “Reaching for the Stars: My Voyage” by Prof. Manjit Kaur

Chandigarh February  10, 2020

First WISE interactive lecture “Reaching for the Stars: My Voyage" by Prof. Manjit Kaur

Women in Science in collaborationwithPanjab University Alumni Associationhosted the first WISE interactive lecture  titled “Reaching for the Stars: My Voyage” by Prof. Manjit Kaur, Prof. (Rtd) Physics Department Research Investigator, CMS experiment at CERN, Geneva, here today. She spoke at length about various challenges faced during her journey and the motivation with which she carried on with her mission. She said that fundamental science is essential for solving global problems and the contributions of women scientists should neither be forgotton nor undermined. She concluded her talk by referring to Marie Curie saying “I was taught that the way of progress was neither swift nor easy”.

The lecture series is spearheaded by Prof. Deepti Gupta, Dean (Alumni), Prof. Nishima, Prof. Jagdeep Kaur and Prof. Archana Bhatnagar to celebrate women achievers in the field of science. Gracing the occasion was Prof. Manjit Kaur, a force to reckon with in the field of physics. With over 1300 publications, 8000 citations and supervising 13 PhD’s, Prof. Manjit Kaur has also served as member of Syndicate and Senate, Panjab University.

This was also accompanied by the launch of the book titled “Phulkari from Punjab: Embroidery in Transition” authored by Anu H. Gupta andShalina Mehta.The book traces the history of Phulkari through the ages: the craft, the decline, the revival. It highlights the agonies of lost finesse and compulsions of commoditization that the practitioners of the art shared with the authors. It also shares instances of revival and innovation, narrates the robustness with which Phulkari has re-entered imagination of designers and details how this has helped transform lives of hundreds of domestic
craftswomen.

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

PU declared results

नशामुक्त व अपराधमुक्त समाज के लिए जनसहयोग अति आवश्यक: एसएचओ साधुराम

नशामुक्त व अपराधमुक्त समाज के लिए जनसहयोग अति आवश्यक: एसएचओ साधुराम

सिरसा। नशामुक्त व अपराध मुक्त समाज की स्थापना के लिए जनसहयोग जरुरी है जिला पुलिस अपने स्तर पर नशा के सौदागरों के खिलाफ जोरदार अभियान चलाए हुए है परंतु इस अभियान की शत-प्रतिशत सफलता के लिए आम लोगों की भागीदारी अति आवश्यक है। उक्त शब्द रानियां थाना प्रभारी सब इंस्पेक्टर साधुराम ने गांव नाथौर में नशे के खिलाफ आयोजित एक सेमिनार में कहेे। उन्होंने कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है और जिस परिवार में नशा घुस जाता है उस परिवार की कई पीढिय़ां उभर नहीं पाती। इस अवसर पर उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि नशे को जड़मूल से समाप्त करने के लिए समाज के लोगों को कदम मिलाकर चलना होगा। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी हमारे उज्ज्वल भारत की धरोहर है इसलिए युवाओं को नशे जैसी बुराई से दूर रहकर अपनी प्रतिभा का पढ़ाई, खेलकूद व अन्य गतिविधियों में बेहतर प्रदर्शन कर अपने गांव व इलाके का नाम रोशन करना चाहिए। उन्होंने जिला पुलिस के एंटी ड्रग हेल्पलाईन नंबरों 88140-11620, 88140-11624 व 88140-11675 का भी उल्लेख करते हुए कहा कि जिन पर नशा तस्करों के बारे में कभी भी आमजन सूचना दे सकता है।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

PU declared results

Ease of living survey to be conducted till Feb 29

Ease of living survey to be conducted till Feb 29

Chandigarh, February 10:- To understand whether the facilities given by the Smart city Chandigarh are helping to make the city a better place to live or not, a survey consisting of 24 questions is being conducted till February 29th. The main purpose of the questions is to gauge what the citizens think about the ease of living in Chandigarh. There are some important questions regarding women safety, fire and emergency services and education etc. in the survey which will be helpful in framing the image of the city beautiful.

In a press conference organized here today about the features and questions regarding the survey, Smt. Raj Bala Malik informed that to give the feedback, citizens can visit the link  htpps://eol2019.org and click on ‘Citizen feedback’. From there, they’d be directed to a page where they’ll be asked to provide some basic details and answer a set of 24 questions.

These questions are:

1.     Your name

2.     Your age

3.     What is your current occupation?

4.     To what extent do you agree good education for children if affordable?

5.     To what extent do you agree quality healthcare services are affordable?

6.     To what extent do you agree rental/housing is affordable?

7.     How satisfied are you with the state of cleanliness of your city?

8.     How good is the garbage collection system of your neighbourhood?

9.     How would you rate drinking water supply in your city?

10. How frequently do you face water logging issues in your city?

11. To what extent do you agree that commuting in your city is safe?

12.  How easy do you find it to commute in your city?

13. How affordable is commuting in your city?

14.  To what extent do you agree that your city is a safe and secure place to live in?

15.   How would you rate the emergency services in your city?

16. How safe are public places for women in your city?

17.  How satisfied are you with the availability of recreational services in your city?

18.   To what extent do you agree that there are opportunities to earn livelihood in your city?

19.  Do you think your household income is enough for a decent life?

20.  How satisfied are you with the ease of access to various financial services in your city?

21. Is air quality in your city satisfactory?

22.   How satisfied are you with the extent of green cover in your city?

23.  How satisfied are you with the quality of electricity supply in your city?

24. To what extent do you agree that that your city provides affordable electricity supply?

  After all the questions are answered, a reCAPTCHA will be produced to determine whether the person filing the form is a human or a bot. After submitting this, the form would be completed and the feedback would be saved.

While sharing about the Ease of Living Index Assessment, the Mayor explained that total of 114 cities are participating and 30% weightage will be given to the rating of the cities through citizen participation. Out of these cities, provision of prizes amongst the participants has also been made.

She said that 25 citizens from each city will be selected randomly through computer based algorithms and out of those 25, 1 citizen from each city will be selected randomly as a national winner. After that, 3 National winners will again be randomly chosen for the prizes. These winners will be rewarded with: ₹ 25,000/- cash prize. Each winner will be felicitated at ‘4thApex Conference of Smart cities’ to be held in Surat in June 2020. They will also get an opportunity to share their sentiments at the national level.

The Mayor appealed the citizens to give their valuable feedback on the link and win laurel for their city besides cash prizes for them also through the survey.

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

PU declared results

बच्चों को कुपोषण व अनीमिया से बचाने के लिए खिलाएं एल्बेंडाजोल : डीसी रमेश चंद्र बिढान

सिरसा, 10 फरवरी।

बच्चों को कुपोषण व अनीमिया से बचाने के लिए खिलाएं एल्बेंडाजोल : डीसी रमेश चंद्र बिढान


             बच्चों को कुपोषण व अनीमिया से बचाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में आज यानि 10 फरवरी को कृमि मुक्ति दिवस मनाया जा रहा है। इसी उद्ïदेश्य से आज पूरे जिले में एक साल से 19 साल तक के बच्चों को एलबेंडाजॉल की गोलियां खिलाई जाएगी। उपायुक्त रमेश चंद्र बिढान सोमवार को दी सिरसा स्कूल में राष्टï्रीय कृमि मुक्ति दिवस के अवसर पर विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे।


                 उन्होंने स्वयं इस गोली का सेवन कर कहा कि यह गोली एक साल से उपर की उम्र का कोई भी व्यक्ति खा सकता है। इससे कोई दुष्प्रभाव नहीं है। उन्होंने बच्चों को सम्बंोधित करते हुए कहा कि बच्चे हमारे राष्टï्र व समाज का भविष्य है इसलिए उन्हें स्वस्थ रहना अति आवश्यक है। हरियाणा सरकार अपना भविष्य को स्वस्थ व सुरक्षित  करने के लिए समय समय पर ऐसे अभियान चलाते है  ताकि राष्टï्र का भविष्य कुपोषण व अनीमिया से ग्रस्त न हो बल्कि स्वस्थ हो। उन्होंने कहा कि ये गोलियां एक साल से 19 साल तक के बच्चों को खिलाई जाएगी। इसके लिए जिला के सभी सरकारी स्कूल, प्राइवेट स्कूल, प्ले स्कूल, आंगनवाड़ी सेंटर व ट्रांजिट पॉइंट जैसे बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन पर बिल्कुल मुफ्त दी जाएगी। उन्होंने बताया कि जिले के 843 राजकीय स्कूलों, 273 निजी स्कूलों तथा 1377 आंगनवाड़ी केंद्रों में बच्चे 4 लाख 29 हजार 859 बच्चों को एल्बेंडाजोल की गोलियां खिलाने का लक्ष्य रखा गया है।


उन्होंने बताया कि जिन बच्चों के पेट में ज्यादा कीड़े होते हैं उन्हें दवा खाने पर मिचली, चक्कर या घबराहट की दिक्कत हो सकती है। इससे घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने सभी अभिभावकों से अपील की है कि वे अपने एक से 19 साल तक के बच्चों को एल्बेंडाजोल की गोली अवश्य खिलाये। उन्होंने कहा कि यह चबाने वाली गोली है ताकि पेट में पलने वाले कीड़े का खत्म किया जा सके ताकि बच्चों को स्वस्थ व तंदरुस्थ बने।


                 उपायुक्त ने बताया कि इस कार्य को करने के लिए स्वास्थ्य विभाग व शिक्षा विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के समस्त कर्मचारी लगे हुए है। उन्होंने कहा कि पेट के कीड़े मारने की दवाई खाने से अगर किसी बच्चे को कोई परेशानी होती है तो वे तुरंत 108 नम्बर पर फोन कर सिविल सर्जन कार्यालय में सम्पर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि एलबेंडाजॉल टैबलेट खाने से वैसे तो कोई नुकसान नहीं है पर फिर भी अगर किसी बच्चे में डर है या उसे खाने से कोई दिक्कत लगती है तो वे हैल्पलाईन नम्बर पर सम्पर्क कर सकते हैं।


                 कार्यक्रम में उप सिविल सर्जन डा. कुलदीप गोरी, डा. सैनी जिंदल, डा. कमल कक्कड़, प्रिंसिपल डा. राजेश सचदेवा, कमलजीत सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। 

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!