इनेलो के 4 कार्यकर्ताओं ने इनेलो का दामन छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया।

चंडीगढ़:

हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर यहां नेताओं में तेज हलचल देखने को मिल रही है। विभिन्न दलों सुख भोगने की लालसा में सत्ताधारी पार्टी का रुख कर रहे हैं । जहां इस क्रम में बुधवार को इनेलो के पंचकूला से विधानसभा प्रत्याशी रहे कुलभूषण गोयल, इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण अत्रे व युवा इनेलो नेता अनुराग खटकड़ और विकास धनखड़ी ने हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला, सीएम के मीडिया एडवाइजर राजीव जैन और बीजेपी नेता जवाहर यादव की मौजूदगी में कमल के फूल के साए में भगवा धारण कर बीजेपी का दामन थाम लिया।

For Sale

इस अवसर पर सुभाष बराला ने कहा कि प्रवीण अत्रे, कुलभूषण गोयल औऱ राजेन्द्र शर्मा समेत तमाम लोग जो बीजेपी में आएं है उनका स्वागत करता हूँ। बराला ने कहा बीजेपी की स्वीकार्यता प्रदेश में बढ़ी है और यही वजह है। 

Watch This Video Till End….

कृषि सामग्री बेचने वालों को जिला व खंड स्तर पर करवाया जाएगा कैप्सूल कोर्स

सिरसा 3 जुलाई।


                   कृषि एंव किसान कल्याण विभाग राज्य में कृषि सामग्री उपलब्ध करवाने वाले सभी विके्रताओं को दो दिन का एक कैप्सूल कोर्स करवाएगा। यह कोर्स सभी विक्रेताओं के लिए अनिवार्य है। यह कोर्स संबंधित जिला के कृषि एंव किसान कल्याण विभाग द्वारा शनिवार व रविवार को जिला या खंड स्तर पर करवाया जाएगा। 

For Sale


                     यह जानकारी देते हुए कृषि एंव किसान कल्याण विभाग के उप निदेशक डा. बाबू लाल ने बताया कि प्रदेश में किसानों को गुणवत्ता का खाद, बीज व दवाएं उपलब्ध करवाने में कृषि सामग्री विके्रता का महत्वपूर्ण योगदान होता है क्योकि किसानों का सीधा सम्पर्क इनपुट डीलर से होता है इसलिए इनपुट विक्रेता को कृषि इनपुट से सम्बन्धित पूर्ण ज्ञान होना अति आवश्यक है इसी बात को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार ने भारत सरकार के निर्देशन पर 3 प्रकार के कोर्स करवाने का निर्णय लिया है। यह कोर्स जुलाई-अगस्त में पूरा किया जाना है। इसमें से एक कोर्स 2 दिन का शनिवार व रविवार को होगा। दूसरा कोर्स 15 दिन का तथा तीसरा कोर्स 48 सप्ताह का होगा जो सिर्फ रविवार के दिन होगा। ये कोर्स हैदराबाद के सहयोग से हमेटी (हरियाणा एग्रीकल्चर मैनेजमेंट एंड एज्यूकेषन ट्रेनिंग इन्स्टीट््यूट) जींद द्वारा आयोजित किए जाएंगे।


                     उन्होंने बताया कि कोर्स के लिए 50-50 दुकानदारों का एक बैच होगा जिसमें सभी दुकानदारों को 3 हजार रुपये डी.डी. निदेशक, हमेटी, जीन्द के नाम देय होगा। दूसरा कोर्स 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स समन्वित पोषक तत्व प्रबंधन है जो सिर्फ खाद विके्रताओं के लिए है जिसकी फीस 12 हजार 500 रुपये रखी गई है और दुकानदार का मेट्रिक पास होना जरूरी है इस कोर्स के बाद ही खाद का लाईसेंस लिया जा सकता है। तीसरा कोर्स 48 सप्ताह का होगा इसके लिए क्लास रविवार को लगेगी जिसकी फीस 20 हजार रुपये रखी गई गई है यह कोर्स पहले से लाईसेंसशुदा (खाद, बीज व कीटनाषक) विके्रता के लिए अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि अधिक जानकारी के लिए जिला के उप निदेशक कृषि एंव किसान कल्याण विभाग में सम्पर्क कर सकते है।

Watch This Video Till End….

Special Lecture at DDNSS, PU

Chandigarh July 3, 2019 

 The Department of Defence and National Security Studies, Panjab University, Chandigarh organised a special lecture on the topic “Intra State conflict resolution and peace building – Role of the Armed Forces Special Power Act” by BRIG D S SARAO (Retd.) here today. Brig D.S. Sarao is a military and strategic affairs analyst. He has done his bachelor and master degrees in the legal studies. His prowess with the legal studies enabled him to give insight into the legal provision of the Armed Forces 
Special Power Act (AFSPA).
       

He broadly covered all the aspects of the AFSPA including its genesis, meaning and its various legal provisions, requirements and areas currently and in past that fell under this provision. The AFSPA was firstly implemented in the seven sisters of the North-East India including Assam, Manipur, Tripura, Meghalaya, Arunachal Pradesh, Mizoram and Nagaland on September 1, 1958 to quell the secessionist movement in the 
region. Punjab and Chandigarh also fell under the preview of this Act during militancy in Panjab state but was later withdrawn in 1997. AFSPA was applied in the state of Jammu and Kashmir in 1990 and has been in the force since then.


        He stressed that Armed Forces is the last resort in the hand of the central government to resolve the intra state conflict and build peace. The primary purposes and missions of the Indian Armed Forces are national security, territorial integrity and safeguard our countries from the external threats. They are only deployed in intra state conflicts when State police and para military forces are not able to control the situation and the area is declared disturbed by the State or the Central Govt. AFSPA has the special provisions to assist the Armed forces conducting its operations and 
missions. Without the AFSPA, they would be handicapped to perform their duties assigned in the extraordinary situations. 

For Sale


        He called for the faith in the Indian Armed Forces, who are well trained, disciplined, organised, educated and having robust command and control system in place. They have shown their capacity and capabilities to operate effectively under the ambit of the AFSPA. Any dilution in the act would result into the compromise with their operational capabilities to deal with danger against the national security. This could result into the dangerous consequences to the nation.  


        The lecture was attended by faculty members, serving and retired armed forces officers pursuing various courses in the department, research scholars and students. The lecture was followed by a questions and answers session with the audience.   

        Watch This Video Till End….

PU Results

Chandigarh July 3, 2019 

   It is for the information of the general public and students of Panjab 
University Teaching Departments/Colleges in particular that result of the following examination has been declared:-


1.      B.Sc (Hons.) Microbiology, 6th Sem.,  Semester,May-2019
2.      B.A.(Hons.) Economics, 6th Sem., May- 2019
3.      B.Com (Hons.) 6th Sem., May 2019

For Sale


                The students are advised to see their result in their respective 
Departments/Colleges/University website.

Watch This Video Till End….

PU VC meets PDFs

Chandigarh July 3, 2019 

Prof Raj Kumar Vice-Chancellor Panjab University held a meeting with Post-
Doctoral Fellows (PDF) from various departments of PU, here today. He proposed for organizing the technical session-cum-group discussion on the New Economic Policy. 

 
        He suggested the PDFs to get involved in feedback exercise on the draft of National Policies of various domains. Further, he advised the forum to conduct an exercise to compile the opinions on New Economic Policy.

For Sale


        He also appreciated the work done by Academic Forum of Post-Docs for the Orientation Seminar organised by them for 103 PhD students to guide them and help them apply for Post-Doctoral Fellowships.  


        He urged PDFs to help in the admission process to take application numbers to greater heights and also to get involved in mentorship of hostel students this year to streamline things further for students.

 
        Further, it was suggested by the Dr. Sukhwinder Singh, Director, Computer Centre, that all research work conducted by the PDFs till date shall be soon updated on the Panjab University website (in a fixed format) so that there is global access to the work being done in this University. 


        Panjab University Post-Doctoral Fellows Academic Forum was recently incepted and has been regularly organising research and academic related activities.  

Watch This Video Till End….

जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी राज्यमंत्री डाॅ. बनवारी लाल साधु की खील पेयजल परियोजना का उद्घाटन करते हुए।

मोरनी, 3 जुलाई-

जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी राज्यमंत्री डाॅ. बनवारी लाल ने कहा कि हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहरलाल के नेतृत्व में कार्य कर रही भाजपा सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षों में प्रदेश के 1070 गांवों में पेयजल सुविधा में सुधार और बढ़ौतरी की है। 

राज्यमंत्री आज मोरनी ग्राम पंचायत के तहत मौहड़ी राजकीय विद्यालय में साधु की खील पेयजल परियोजना का उद्घाटन करने के उपरांत गांववासियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश में पेयजल सुविधा में विस्तार के लिये ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में 164 नहर आधारित और 96 नलकूल आधारित जलघर स्थापित किये है। ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में 2165 नलकूप और 483 बूस्टिंग स्टेशन शुरू करने के साथ साथ सिवरेज के पानी को साफ करने के लिये 53 मलशोधन सयंत्र स्थापित किये गये है और 20 मलशोधन सयंत्रों का निर्माणकार्य प्रगति पर है। उन्होंने बताया कि साधु की खील सिंचाई परियोजना पर 93.60 लाख रुपये खर्च किये गये हैं। इस परियोजना के तहत 50 हजार लीटर क्षमता का वाॅटर टेंक स्थापित किया गया है और 6500 मीटर पाईप लाईन बिछाई गई है। इस परियोजना से मोरनी व आस पास के क्षेत्र में स्थित 26 ढ़ाणियों को स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति होगी।  

For Sale

इस मौके पर कालका की विधायक श्रीमती लतिका शर्मा ने इस मौके पर कहा कि पिछले साढ़े चार वर्षों में कालका विधानसभा क्षेत्र का अभूतपूर्व विकास हुआ हैं। उन्होंने कहा कि निगम क्षेत्र के साथ साथ मोरनी व अन्य पहाड़ी इलाकों में सड़क, पेयजल, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार पर विशेष बल दिया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने जितनी घोषणाएं की है, उनका कार्य भी पूरा किया है और शेष घोषणाओं का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। उन्होंने दुर्गंम क्षेत्र की इन ढाणियों में लोगों की पेयजल समस्या का समाधान करने के लिये मुख्यमंत्री मनोहरलाल व जनस्वास्थ्य मंत्री डाॅ. बनवारीलाल का आभार व्यक्त किया। 

इस मौके पर विधायक लतिका शर्मा, जनस्वास्थ्य मंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती ममता, डाॅ. पंकज, जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता शिवराज सिंह, एसडीएम मनोज शर्मा, नायब तहसीलदार महेश कुमार, सरंपच सुरेश राणा, मोरनी के सरंपच मामचंद सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे। 

Watch This Video Till End….

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के विशेष प्रचार अभियान का समापन

सिरसा 3 जुलाई।

जुगती राम एंड पार्टी गांव लक्खुआना में प्रचार प्रसार करते हुए


              प्रदेश सरकार की योजनाओं व विकासात्मक नीतियों की जानकारी ग्रामीण क्षेत्र के लोगों तक पहुंचाने के उद्ेश्य से चलाए गए विशेष प्रचार अभियान का आज समापन हो गया। एक माह तक चले अभियान के तहत भजन पार्टियों ने जिला के गांवों को कवर कर लोगों को योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ उन्हें विभिन्न सामाजिक मुद्दों के प्रति जागरूक किया गया।


              उप निदेशक सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग डॉ. साहिब राम गोदारा ने बताया कि मुख्यालय के निर्देशानुसार 3 जून से जिला में विशेष प्रचार अभियान चलाकर विभागीय व अनुबंध भजन पार्टियों द्वारा गांव-गांव जाकर लोगों को गीतों व भजनों के माध्यम से सरकार की विकासात्मक योजनाओं व नीतियों की जानकारी दी गई। एक माह तक चलाए गए विशेष्ज्ञ प्रचार अभियान का आज समापन हो गया। उन्होंने बताया कि अभियान के तहत जिला के 324 गांवों को कवर किया गया। प्रचार अभियान में आठ भजन पार्टियों ने निर्धारित शैडयूल अनुसार कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इस कार्य के लिए चार विभागीय व चार अनुबंध आधारित भजन पार्टियों का लगाया गया था। जिन पार्टियों ने प्रचार अभियान में कार्य किया उनमें जगदीश चंद्र एंड पार्टी, लालाराम एंड पार्टी, जुगतीराम एंड पार्टी, प्रीतम सिंह एंड पार्टी, रविंद्र कुमार एंड पार्टी, संतोष एंड पार्टी तथा बूटा सिंह एंड पार्टी शामिल है। 

For Sale


              उन्होंने बताया कि विशेष प्रचार अभियान के माध्यम से प्रदेश सरकार के सफलतापूर्वक साढे चार वर्ष पूरे होने व इस दौरान सरकार द्वारा किए गए जनहित के कार्यो व जनकल्याणकारी योजनाओं से जन-जन को अवगत करवाने के लिए चलाया गया था। उन्होंने बताया कि भजन पार्टियों ने भाषण, गीत, नाटक के माध्यम से शिक्षा, महिला व बाल विकास, स्वास्थ्य, पंचायत, समाज कल्याण, खेल सहित अन्य विभागों द्वारा चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा बिजली, सड़क, पेयजल, सिंचाई, कृषि जैसे क्षेत्रों में शुरू की गई विभिन्न परियोजनाओं की शुरुआत व भविष्य में होने वाले उनके लाभ के बारे में भी बताया। 


              डॉ. गोदारा ने बताया कि विशेष प्रचार अभियान के तहत ही कार्यालय की ओर से रात्रि ठहराव कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। इनमें न केवल भजन पार्टियों ने लोगों को योजनाओं व नीतियों को मनोरंजनपरक तरीके से बताया बल्कि कार्यक्रम में अन्य विभागों के अधिकारियों को भी आमंत्रित किया गया। इन अधिकारियों ने अपने विभाग से संबंधित योजनाओं की जानकारी दी तथा इनके लाभ उठाने बारे पूरी प्रक्रिया भी बताई। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में आज भी लोग भजन पार्टियों को चाव से सुनते हैं तथा उन द्वारा कही गई बात पर विश्वास करते हैं। यह सब दर्शाता है कि प्रचार के आधुनिक माध्यमों के बीच गीतों व भजनों से किए जाने वाले प्रचार-प्रसार की प्रासंगिता बनी हुई है।


            उन्होंने जिलावासियों से आह्वान करते हुए कहा कि वे सरकार द्वारा समय-समय पर चलाए जाने वाले प्रचार-प्रसार अभियानों में बढ़चढ़कर भाग लें, ताकि उन्हें सरकार की योजनाओं व स्कीमों की विस्तार से जानकारी मिल सके। 

Watch This Video Till End….

हरियाणा अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना के तहत वित वर्ष 2019-20 में 96 जरूरतमंद परिवारों को बेटियों की शादी के लिये 25.44 लाख रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई गई है।

पंचकूला, 3 जुलाई-    

हरियाणा अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना के तहत वित वर्ष 2019-20 में 96 जरूरतमंद परिवारों को बेटियों की शादी के लिये 25.44 लाख रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई गई है। 

For Sale

यह जानकारी देते हुए अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह ने बताया कि अनुसूचित जाति के 21 बीपीएल परिवारों को बेटी की शादी के लिये 9.66 लाख रुपये का अनुदान दिया गया। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति के बीपीएल परिवारों को बेटी की शादी के लिये 51 हजार रुपये की आर्थिक सहयता उपलब्ध करवाई जाती है, जिसमें 46 हजार रुपये की राशि पहली किस्त के रूप में दी जाती है जबकि शेष 5 हजार रुपये की राशि शादी का पंजीकरण करवाने के बाद दी जाती है। इसी प्रकार पिछड़ा वर्ग के 13 बीपीएल परिवारों को एक लाख 30 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है। ऐसे परिवारों को बेटी की शादी पर इस योजना के तहत 11 हजार रुपये का शगुन दिया जाता हैं, जिसमें से 10 हजार रुपये प्रथम किस्त के रूप  में तथा एक हजार रुपये शादी के पंजीकरण के बाद दी जाती है। 

उन्होंने बताया कि पिछड़ा वर्ग बीपीएल की विधवा महिलाओं को बेटियों की शादी के लिये 51 हजार रुपये की राशि दी जाती है। इस योजना के तहत एक विधवा को 46 हजार रुपये की प्रथम किस्त दी जाती है। उन्होंने बताया कि सामान्य वर्ग के बीपीएल परिवारों को भी बेटी की शादी के लिये 11 हजार रुपये का शगुन दिया जाता है। इस योजना के तहत 4 परिवारों को प्रथम किस्त के तौर पर 40 हजार रुपये की प्रथम किस्त उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति के एपीएल परिवारों को बेटी की शादी पर 21 हजार रुपये का शगुन दिया जाता हैं। इस योजना में 20 परिवारों को प्रथम किस्त के तौर पर 2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है। अनुसूचित जाति की एपीएल परिवारों की विधवाओं को बेटी की शादी के लिये 51 हजार रुपये का शगुन दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत 8 लाभपात्रों को 3.68 लाख रुपये की शगुन राशि दी जा चुकी है। इसी प्रकार पिछड़ा वर्ग के 8 एपीएल परिवारों को 80 हजार रुपये की शगुन राशि तथा पिछड़ा वर्ग एपीएल परिवारों की 13 विधवाओं को बेटी की शादी के लिये 5.98 लाख रुपये शगुन राशि दी गई है। सामान्य वर्ग के एपीएल 7 परिवारों को 70 हजार रुपये की शगुन राशि तथा सामान्य वर्ग एपीएल परिवार की एक विधवा को 46 हजार रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई गई है।

Watch This Video Till End….

रक्तदाताओं को बैज लगाते हुए व प्रशंसा पत्र वितरित करते हुए हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य।

पंचकूला, 3 जुलाई-

हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने युवाओं का आह्वान किया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाये गये स्वच्छता अभियान और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसे कार्यक्रम में आगे बढ़कर सहयोग करें। उन्होंने कहा कि युवा शक्ति में समाज में बड़े से बड़े बदलाव की उर्जा होती है और समाज सेवा की गतिविधियों से जुड़कर युवा उर्जा का सकारात्मक प्रयोग किया जा सकता है। 

राज्यपाल आज अग्रवाल भवन सेक्टर-16 में चंद्र शेखर आजाद चैरिटेबल फाउंडेशन ट्रस्ट और श्याम फाउंडेशन द्वारा आयोजित तीसरे रक्तदान शिविर और वार्षिक समारोह में उपस्थित युवाओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने ट्रस्ट की सेवा भावना से प्रभावित होकर सामाजिक गतिविधियों के लिये दस लाख रुपये का अनुदान देने की घोषणा भी की। इस शिविर में 90 यूनिट रक्त संग्रह किया गया।

राज्यपाल ने कहा कि भारत में प्राचीन काल से ही दान की परंपरा रही है और भारतीय इतिहास दान वीरों की गाथाओं से भरा पड़ा है। उन्होंने कहा कि अन्न दान करने वाला अन्नदाता, धन दान करने वाला धनदाता कहलाता हैं लेकिन रक्तदान करने वाले को जीवन दाता कहा जाता है। उन्होंने कहा कि रक्तदान जीवन का सबसे बड़ा पुण्य है और इस कार्य  से जुड़कर युवा घायल व्यक्तियों और मरीजों को रक्तदान के माध्यम से जीवन दान प्रदान कर रहे है। उन्होंने कहा कि विज्ञान की उन्नति के बावजूद अभी तक रक्त के उत्पदान का विकल्प नहीं मिल सका हैं और इसकी पूर्ति केवल मानव शरीर से संभव है। 

For Sale

श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि रक्तदान करने वाला व्यक्ति सदैव स्वस्थ रहता है और स्वस्थ शरीर ही जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है। उन्होंने युवाओं को प्रेरित करते हुए कहा कि वे जीवन  में अनुशासन का अनुसरण करें क्योंकि एक अनुशासित व्यक्ति ही देश और समाज के उत्थान व कल्याण में सहयोग कर सकते है। उन्होंने कहा कि देश का अनुशासन ही देश को महान बनाता है और सभी युवा भारत को महान बनाने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि वर्तमान युग में माता-पिता और गुरूओं के आदर की भावना को सुदृढ़ करने की आवश्यकता है और इस तरह की प्रेरणा अनुशासित युवाओं से ही मिल सकती है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आरंभ की गई विकासात्मक परियोजनाओं, सामाजिक कार्यक्रमों तथा डिजिटल इंडिया जैसे कार्यक्रमों में क्रियान्वयन में मुख्यमंत्री मनोहरलाल के नेतृत्व में हरियाणा प्रदेश सबसे अग्रणीय है। 

ट्रस्ट के अध्यक्ष सुनील चहल ने बताया कि इन ट्रस्टों द्वारा प्रतिवर्ष स्वर्गीय अमित खंडेलवाल की स्मृति में रक्तदान शिविर और वार्षिक कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। अमित खंडेलवाल नियमित रक्तदाता थे और एक सड़क दुर्घटना में उनका निधन हो गया था। राज्यपाल ने रक्तदान शिविर में रक्तदान करने वाले युवाओं को बैज लगाकर प्रोत्साहित किया और रक्तदाताओं को ट्रस्ट और रेडक्राॅस सोसायटी की ओर से प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित भी किया।

इस मौके पर एडीसी उत्तम सिंह, पुलिस उपायुक्त कमलदीप गोयल, एसडीएम पंकज सेतिया, राज्य बाल कल्याण परिषद के मानद सचिव कृष्ण कुमार ढुल्ल, इंडियन रेडक्राॅस सोसायटी हरियाणा शाखा के महासचिव डीआर शर्मा, उपाध्यक्ष मुकेश अग्रवाल, संगठन सचिव सविता अग्रवाल, रक्दान सोसायटी के सचिव अनिल जोशी, ट्रस्ट के पदाधिकारी प्रव जोशी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। 

Watch This Video Till End….

एसडीएम की अध्यक्षता में 11 को होगी पार्षदों की बैठक

डबवाली 03 जुलाई। 


               डबवाली के उपमंडलाधिकारी (ना.) ओम प्रकाश की अध्यक्षता में आगामी 11 जुलाई को प्रात: 11 बजे नगर परिषद कार्यालय में सभी पार्षदों की बैठक का आयोजन किया जाएगा। 

For Sale


               सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि एसडीएम की अध्यक्षता में उनके कार्यालय में विभिन्न मुद्दों को लेकर पार्षदों के साथ बैठक का आयोजन किया जाएगा। बैठक में जहां पार्षदों के सुझाव आमंत्रित किये जाएंगे वहीं उनकी शिकायतों के निवारण हेतु विचार विमर्श किया जाएगा। 


             उल्लेखनीय है कि नगर परिषद डबवाली की प्रधान सुमन जोइया व उप-प्रधान कृष्ण कुमार के खिलाफ नगर पार्षदों द्वारा जिला उपायुक्त के सम्मुख लिखित पत्र पे्रषित कर बीती 27 जून को अविश्वास प्रस्ताव पारित कर उन्हें बर्खास्त किए जाने की बात कही थी। बैठक में विचार-विमर्श करने के उपरांत आगामी कार्रवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बैठक में सभी पार्षदों की राय जानी जाएगी जिसमें नगर परिषद के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। उन्होंने बताया कि बैठक से संबंधित पार्षद व अधिकारी समय पर पर पहुंचना सुनिश्चित करें। 

Watch This Video Till End….