विकास के मामले में रानियां बन रहा अग्रणी हलका : रणजीत सिंह

हैफेड द्वारा कालका और मोरनी तहसील क्षेत्र के किसानों की सरसों की फसल 8 से 13 अप्रैल तक रायपुररानी अनाजमंडी में खरीदी जायेगी

पंचकूला, 4 अप्रैल-

हैफेड द्वारा कालका और मोरनी तहसील क्षेत्र के किसानों की सरसों की फसल 8 से 13 अप्रैल तक रायपुररानी अनाजमंडी में खरीदी जायेगी। 

यह जानकारी देते हुए हैफेड के एक प्रवक्ता ने बताया कि एक किसान 25 क्विंटल सरसों न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकता है। उन्होंने बताया कि 8 अप्रैल को कालका तहसील के गांव पिंजौर, मानकपुर, नानकचंद, बरसावल, खंडकुंआ, डेरागुरू, 9 अप्रैल को रायपुर, सीतोमाजरा, गोरखानाथ, औरिया, टंगरा हकीमपुर, गरीड़ा, 10 अप्रैल को जनौली, भवाना, टोरन, कजियाना, नाला टकरोड़, नाला ब्लाॅक, टिब्बी, बेरघाटी, नांदपुर और भोगपुर गांव के किसान अपनी फसल बेच सकते है। इसी प्रकार 11 अप्रैल को मोरनी तहसील के भोजजबयाल, भोज बालग, भोज नंगल, भोज टिपरा, भोज कोठी, भोज कोटी, भोज धारड़ा, 12 अप्रैल को भोज नाईटा, भोज मटोर, भोज पलासरा, भोज धारटी, भोज राजपुरा, भोज कोंटा, भोज कुंदाना गांव के किसान अपनी फसल बेच सकते है। उन्होंने बताया कि 13 अप्रैल को पंचकूला, कालका और मोरनी तहसीलों के ऐसे किसान जो 4 अप्रैल से 12 अप्रैल तक किसी कारणवश अपनी सरसों की फसल नहीं बेच पाये वे रायपुररानी मंडी में अपनी फसल बेच सकते है। 

उन्होंने बताया कि किसान को फसल बेचने के लिये गिरदावरी रिपोर्ट, किसान बैंक खाते की पासबुक की फोटो प्रति, बैंक का आईएफएस कोड साथ लाना होगा। इसके अलावा व्यक्तिगत पहचान के लिये आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड अथवा किसान क्रेडिट कार्ड जैसे कोई एक दस्तावेज लाना होगा। संबंधि गांव के पटवारी इन तिथियों में किसानों के सहयोग के लिये रायपुररानी अनाजमंडी में उपस्थित रहेंगे।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply