नगराधीश ने टाउन पार्क में  स्कूली बच्चों द्वारा निकाली गई मैराथन रैली को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

उपायुक्त ने सैक्टर-16 स्थित महिला बाल विकास विभाग द्वारा संचालित वन स्टाॅप सैंटर (सखी) का किया दौरा

श्री गर्ग ने जिला के नागरिकों से समाज में फैली सामाजिक बुराईयों को जड से मिटाने का किया आहवान 

For Detailed

पंचकूला, 10 जून उपायुक्त डाॅ. यश गर्ग ने सैक्टर-16 स्थित महिला बाल विकास विभाग द्वारा संचालित वन स्टाॅप सैंटर (सखी) का दौरा किया और वंहा महिलाओं को दी जाने वाली काउंसलिंग और अन्य सुविधाओं को बारिकी से जांचा। उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों को समाज से बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी अन्य सामाजिक बुराईयों को दूर करने के लिए उचित दिशा निर्देश दिए। 

 श्री गर्ग ने महिला बाल विकास विभाग की डीपीओ को निर्देश दिए कि समाज में फैली कुरितियों को दूर करने के लिए एनजीओ तथा सामाजिक संस्थाओं के साथ तालमेल स्थापित कर लोगों को जागरूकता कैंप के माध्यम से कुरितियों के दुष्प्रभाव के बारे में बताएं ताकि जिले के लोग इन सामाजिक बुराईयों से बच सकें। 

 महिला बाल विकास विभाग की डीपीओ सविता नेहरा ने सखी केंद्र पर एक ही छत के नीचे बलात्कार पीडित, साईबर क्राईम, यौन शोषण, गुमशुदा, बाल यौन शोषण, महिला तस्करी, घरेलू हिंसा, बाल विवाह, एसिड अटैक, दहेज उत्पीडन जैसी सामाजिक बुराईयों के प्रति महिलाओं व बच्चों को काउंसलिंग तथा जागरूक और सखी केंद्र पर दी जाने वाली सलाह व सुविधाओं के बारे में उपायुक्त को विस्तार से बताया। श्रीमती नेहरा ने बताया कि सखी केंद्र पर मैडिकल मनोवैज्ञानिक, बाल विवाह, दहेज उत्पीडन, घरेलू हिंसा जैसी अन्य कुरीतियों तथा अत्याचारों के बारे में महिलाओं को जागरूक किया जाता है। इसके लिए महिला हैल्पलाईन नंबर 181 व 112 पर जिले की कोई भी लडकी, महिला व बच्चे काॅल कर या सीधे वन स्टाप संैटर पर आकर अपनी शिकायत दर्ज करवाकर उसके बारे में सलाह ले सकते है।

 सखी केंद्र की लीगल काउंसलर शीनम राणा ने उपायुक्त को बताया कि सखी ने 2019 से 2024 तक 960 महिलाओं को वन स्टाप सैंटर के माध्यम से उनकी कानूनी, मनोवैज्ञानिक तथा काउंसलिंग करके पीडित महिलाओं को हर तरह से सलाह दी गई है। उन्होने बताया कि 2 बाल विवाह भी हमारी टीम द्वारा पुलिस की मदद से रूकवाए गए। उन्होने बताया कि सखी केंद्र पर हर प्रकार की पीडित महिलाओं को 5 दिनों के लिए अस्थाई सैल्टर भी उपलब्ध करवाया जाता है। पीडित महिलाओं को 5 दिनों के बाद नारी निकेतन भेज दिया जाता है। घरेलू हिंसा से पीडित महिला व पुरूषों की काउंसलिंग भी सखी केंद्र पर की जाती है। 

उपायुक्त डाॅ. यश गर्ग ने जिला के नागरिकों से समाज में फैली सामाजिक बुराईयों को जड से मिटाने का आहवान किया।

https://propertyliquid.com