पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

हरियाणा सरकार द्वारा लोगों को ऊर्जा संरक्षण के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए राज्य स्तरीय ‘ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार’ दिए जाएंगे

चंडीगढ़, 11 जनवरी-

हरियाणा सरकार द्वारा लोगों को ऊर्जा संरक्षण के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए राज्य स्तरीय ‘ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार’ दिए जाएंगे, इसके लिए ‘नव एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग’ द्वारा 31 जनवरी, 2021 तक आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।

https://propertyliquid.com

          एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2019-20 के लिए ‘एमएसएमई व आईटी उद्योग समेत सभी उद्योगों’, ‘कॉमर्सियल बिल्डिंग, गवर्नमैंट,सीपीएसयू/पीएसयू,संस्थान/संगठन तथा ग्रुप हाऊसिंग सोसायटी’,‘इन्नोवेशन/न्यू टैक्नोलोजी/प्रोमोशनल प्रोजेक्ट्स समेत आर एंड डी प्रोजेक्ट्स इत्यादि’ तथा ‘बैस्ट एनर्जी ऑडिटिंग/ग्रीन बिल्डिंग/ईसीबीसी लागू करने वाली फर्म/एजेंसिज’ समेत चार कैटेगरी में ये पुरस्कार दिए जाएंगे।

For Detailed News-

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

7 Days Online Workshop concludes at Dr.SSBUICET, PU

Chandigarh January 11, 2021

One week online workshop titled “ Statistical Tools for Research” which was
organized by Dr.S.S. Bhatnagar University Institute of Chemical Engineering and
Technology, Panjab University, Chandigarh in collaboration with Dibrugarh University
Institute of Engineering and Technology (DUIET), Dibrugarh, Assam  under aegis of
TEQIP-III, concluded on 10th January,2021

For Detailed News-


The workshop for organized for the undergraduate and postgraduate students of the
Department and its Mentee Institute, DUIET.


Various eminent speakers delivered a talk on different topics of statistical tools
used for effective research. Dr.Tilak Raj from UBS discussed the concept of index
numbers and their calculations and also highlighted their importance in various
fields.

https://propertyliquid.com


Prof. Bhupinder Singh Bhoop, UIPS delved on the topic of Quality by Design (QbD)
with interesting case of pharma industry. Dr. Pooja Arora, Scientist from NIPER
discussed topics such as sampling design, validity, reliability, demand forecasting
etc. Dr. Tejinder Pal explained basis of research and non-parametric tests in
greater detail.


The workshop concluded with encouraging words from Chairperson Prof. Amrit Pal Toor
and Coordinator TEQIP-III Prof. Anupama Sharma to the workshop coordinators
Dr.Harjit Kaur and Ms. NIdhi Singhal and student organizing team lead by Mr.Taranjit
Singh (BE.-MBA, Sem-3rd).

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

MCC bags 1st prize in National Energy Conservation awards

Chandigarh, January 11:- The Municipal Corporation Chandigarh has got the first prize in the National Energy conservation awards (Municipality sector) in a programme held at Vigyan Bhawan, New Delhi today.

For Detailed News-

The award has been received by Sh. Ravi Kant Sharma, Mayor and Sh. K.K. Yadav, IAS, Commissioner, Municipal Corporation Chandigarh through virtual presence. The award has been presented by Sh. R.K. Singh, Minister of State for Power and New & Renewable Energy during the 30th National Energy Conservation Awards-2020 function.

After receiving the award, Sh. Ravi Kant Sharma, Mayor said that the MCC has done commendable efforts for earning this coveted National award. He said that the officers under the leadership of the Commissioner has put their best efforts in replacing entire street lights with energy efficient LED lights in the city.

https://propertyliquid.com

          The Commissioner said that with aim to reduce its energy foot-print and cut down on electricity consumption costs, Municipal Corporation Chandigarh replaced all the 48524 street light points with energy efficient LED street lights in the city. He said that with the result the city saved approx. 13.02 Million Units of energy annually and reduced its power bills from 14 crore annually to Rs. 8 crore on account of street lights.

He said that these LED street lights are also eco friedly and 10543 metric tonne of carbon foot prints are reduced annually. The MCC also installed Roof Top Solar Plants on its buildings and water works and generating 8 Mega Watt from alternate source earning 2.35 crore yearly. CREST has also made a proposal to install floating solar panels on the raw water tanks which will have a proposed capacity of 12 Mega Units, he added.

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

बच्चों की रुचि अनुसार जीवन में आगे बढऩे के लिए प्रेरित करें अभिभावक : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 11 जनवरी।

– उपायुक्त प्रदीप कुमार ने 13 वर्ष की रुझान चौधरी ने काव्य संग्रह ‘फेसिस ऑन द कैनवसÓ का किया विमोचन


            उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं होती, समर्पण, मेहनत और लग्न से किसी भी क्षेत्र में सफलता हासिल की जा सकती है। मात्र 13 वर्ष की रुझान चौधरी द्वारा तीन काव्य संग्रह लिखना अपने आप में एक मिसाल है और ऐसे प्रतिभा के धनी से न केवल बच्चों को प्रेरणा मिलती है बल्कि बड़ों को भी इनसे सीख मिलती है। उन्होंने कहा कि इंसान चाहे तो दुनिया की तस्वीर व अपनी तकदीर बदल सकता है, इसके लिए दृढ संकल्प व पक्का इरादा होना जरुरी है।

For Detailed News-


            यह बात उपायुक्त प्रदीप कुमार सोमवार को अपने कार्यालय कक्ष में रुझान चौधरी की पुस्तक ‘फेसिस ऑन द कैनवसÓ का विमोचन अवसर के दौरान कही। इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह, एसडीएम कालांवाली निर्मल नागर, नगराधीश गौरव गुप्ता, रुझान चौधरी के दादा डा. जीडी चौधरी, बीआर ग्लोबल स्कूल के चेयरपर्सन भीष्म मेहता, साहित्यकार डा. शील कौशिक, डा. मनफुल वर्मा,  डा. रुप देवगुण, मेजर डा. राज कौशिक, एडवोकेट संदीप चौधरी व माता डा. मोनिका चौधरी मौजूद थे।


            उपायुक्त ने कहा कि अभिभावकों को बच्चों की रुचि अनुसार उन्हें आगे बढऩे के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। बच्चों में जिज्ञासा की भावना होती है, इसलिए शिक्षा के साथ-साथ बच्चों को खेल, सांस्कृतिक या अन्य गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों की कामयाबी में माता पिता के साथ-साथ पूरे परिवार का योगदान होता है, क्योंकि जीवन में आगे बढऩे व संस्कारी बनने की शिक्षा उन्हें घर से ही मिलती है। उपायुक्त ने रुझान चौधरी का हौसला बढ़ाते हुए उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

https://propertyliquid.com


            रुझान चौधरी की माता डा. मोनिका चौधरी ने बताया कि बीआर ग्लोबल स्कूल की नौवीं कक्षा में पढ़ रही इस नन्ही सी बिटिया रुझान चौधरी को कई मंचों पर सम्मानित हो चुकी है। उन्होंने बताया कि हिन्दी साहित्य अकादमी, हिन्दी प्रादेशिक साहित्य सभा, पंजाबी साहित्य सभा, पंजाबी सभ्याचारक सभा, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आदि द्वारा भी रुझान चौधरी को सम्मानित किया जा चुका है। रुझान को इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड द्वारा यंगेस्ट ऑथर, यंगेस्ट नॉवलिंस्ट फॉर एडवेंचरस नॉवल, टॉप 100 रिकार्ड होल्डर एच वल्र्ड स्टेज तथा डा. मुक्त वृंदा अवार्ड जैसे अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा रुझान मुख्यमंत्री हरियाणा व जिला प्रशासन द्वारा भी कई मौकों पर सम्मानित हो चुकी है। उन्होंने बताया कि रुझान राष्टï्रीय स्तर पर डिक्लेमेशन प्रतियोगिता में द्वितीय स्थान पर रही थी। जिला स्तर पर होने वाली प्रतियोगिताएं जैसे डांस, चित्रकारी, कविता व फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में भी अच्छा प्रदर्शन कर पुरस्कार प्राप्त कर चुकी है।

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

सड़क किनारे फलदार वृक्षों से किसानों की होगी आमदनी- वी.एस. तंवर

हरियाणा के 6500 गांव में वृक्षारोपण से होगी हरियाली
सामुदायिक हिस्सेदारी से 20 प्रतिशत वन क्षेत्र लक्ष्य होगा हासिल।

For Detailed News-

पंचकूला, 11 जनवरी- वन भवन पंचकुला ‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में पत्रकारों से संवाद करते हुए हरियाणा के प्रधान मुख्य वन संरक्षक वी.एस. तंवर ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की प्रेरणा से वन मंत्री कंवर पाल जी के नेतृत्व में हरियाणा की धरती पर सामुदायिक हिस्सेदारी से 20 प्रतिशत वन क्षेत्र का लक्ष्य हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा के समाज का बड़ा हिस्सा कृषि वानकी योजना के माध्यम से प्लाईवुड़ ईंडस्ट्री का प्राण है। उन्होने बताया कि हरियाणा के किसानों की मेहनत से पूरे भारत में ही नहीं एशिया महाद्वीप में प्लाईवुड ईंडस्ट्री के क्षेत्र में हरियाणा का प्रमुख स्थान है। एक सवाल के जवाब मे उन्होंने कहा कि हरियाणा के 6500 गांव में सामुदायिक हिस्सेदारी से हरियाली लाने की योजना बनाई गयी है। उन्हांेने कहा कि इस वर्ष 1100 गांव में हरियाली एवं विशेष पौधारोपण अभियान का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यह क्रम प्रतिवर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक सम्पूर्ण लक्ष्य हासिल न कर लिया जाए। उन्होंने कहा राजमार्ग के किनारे किसानों को प्रेरित कर फलदार पौधे प्रदान करके उनकी देखरेख की जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए फसल चक्र बदलने की एक नई राह बनाई जाएगी, जिससे किसान को उसके उत्पादन का उचित लाभ मिले और जलवायु परिवर्तन के दौर में हरित पट्टी के माध्यम से प्रकृतिक चुनौतियों से निपटा जा सके। सवाल जवाब के क्रम में उन्होंने बताया कि अरावली क्षेत्र में जो पारम्परिक और देशज वनस्पति प्रजातियों को नई तकनीक से विस्तार दिया जाएगा। 12 जनवरी महर्षि विवेकानंद के जन्मदिवस को युवा दिवस के रूप में मनाते हुए हरियाणा के युवाओं से अपील है कि वह वृक्ष दूत बनकर वनाच्छादित हरियाणा का सपना साकार करें।

https://propertyliquid.com


 इस अवसर पर अतिरिक्त प्रधान वन संरक्षक श्री सुरेश दलाल जी ने कहा कि हम भविष्य में शैक्षणिक संस्थाओं के माध्यम से इस योजना पर कार्य कर रहे है कि विद्यार्थी वन विभाग द्वारा रोपे गये पौधों को वृक्ष बनाने का जिम्मा लें। ऐसे विद्यार्थियों को पौधगीरी अभियान के माध्यम से प्रोत्साहित किया जा रहा है।  

इस अवसर पर अतिरिक्त प्रधान मुख्य वनसंरक्षक श्री विनोद कुमार, अतिरिक्त प्रधान मुख्य वनसंरक्षक श्री के.सी. मीणा, अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक घनश्याम शुक्ला, मुख्य वन संरक्षक श्री एम.एस मलिक, मुख्य वनसंरक्षक श्री एम.एल. राजवंशी, मुख्य वन संरक्षक श्री टी.पी. सिंह, मुख्य वनसंरक्षक श्री ए.पी. पाण्डे सहित वन विभाग एवं वन प्राणी विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

सभी विभागाध्यक्ष अपने अधिकारियों व कर्मचारियों के परिवार पहचान पत्र बनवाना करे सुनिश्चित : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 11 जनवरी।

उपायुक्त ने अधिकारियों को वीरवार तक परिवार पहचान पत्र की रिपोर्ट एडीसी कार्यालय में भिजवाने के दिए निर्देश


                  उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि जिला में परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य 70 प्रतिशत से अधिक पूरा किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि अधिकारी इस कार्य को गंभीरता से लें और सभी विभागाध्यक्ष यह सुनिश्चित करें कि वीरवार तक प्रत्येक अधिकारी व कर्मचारी का परिवार पहचान पत्र बना हो। उन्होंने कहा कि सभी विभाग योजनाबद्ध तरीके से कार्य करते हुए गांव स्तर पर इस कार्य को तेजी से पूरा करवाएं। उन्होंने कहा कि भविष्य में परिवार पहचान पत्र के माध्यम से ही सरकार की कल्याणकारी योजनाओं व सुविधाओं का लाभ नागरिकों को दिया जाएगा। इसलिए नगर परिषद / पालिका क्षेत्रों में वार्ड स्तर पर संबंधित एमसी तथा ग्राम स्तर पर बनाई गई टीमें ग्राम सचिव व आंनगवाड़ी वर्कर का सहयोग लेकर कार्य को जल्द से जल्द पूर्ण करवाएं।

For Detailed News-


                  उपायुक्त प्रदीप कुमार सोमवार को स्थानीय लघुसचिवालय स्थित बैठक कक्ष में परिवार पहचान पत्र कार्य की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह, एसडीएम कालांवाली निर्मल नागर, नगराधीश गौरव गुप्ता, डीएसपी संजय बिश्रोई, सीएमजीजीए सुकन्या जर्नादन, एनआईसी डीआईओ रमेश शर्मा, जिला उद्यान अधिकारी  रघुबीर सिंह झोरड़, जिला मत्स्य अधिकारी जगदीश कुमार, कार्यकारी अभियंता केसी कंबोज, नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


                  उपायुक्त प्रदीप कुमार ने कहा कि परिवार पहचान पत्र प्रदेश सरकार की महत्वकांक्षी योजना है। योजना का उद्ेश्य पारदर्शी रूप से पात्र व्यक्ति को प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचाना है। सरकार के लिए यह योजना कितनी महत्वपूर्ण है, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि योजना की निगरानी स्वयं मुख्यमंत्री कर रहे हैं। अधिकारी परिवार पहचान के कार्य में तेजी लाएं और सरकार द्वारा रखे निर्धारित समय अवधि में योजना कार्य को पूरा करने की दिशा में गंभीरतापूर्वक कार्य करें।

https://propertyliquid.com


                  उपायुक्त ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि परिवार पहचान पत्र कार्य में कोई ढील या लापरवाही न बरतें। अधिकारी इस दिशा में गंभीरता से कार्य करें, ताकि जल्द से जल्द जिला में परिवार पहचान पत्र कार्य को सौ प्रतिशत पूरा किया जा सके। प्रत्येक अधिकारी परिवार पहचान पत्र कार्य को प्राथमिकता से पूरा करें। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र योजना प्रदेश सरकार की ई-गवर्नेंस से गुड गवर्नेंस की दिशा में बेहतर योजना है। इसका उद्ेश्य परिवार का डाटाबेस तैयार करने के साथ-साथ पात्र व्यक्ति को पारदर्शी रूप से योजनाओं का लाभ पहुंचाना है।


                  उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र को अपडेट करवाते समय गलती की गुंजाइश न रहे, क्योंकि इसी आईडी के आधार पर लोगों को सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सभी योजनाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि आमजन को परिवार पहचान पत्र के महत्व व योजनाओं के लाभ के लिए इसकी आवश्यकता के बारे में जानकारी दें, ताकि वे स्वयं आगे आकर अपना परिवार पहचान पत्र बनवाने या अपडेट में सहयोग करें।


                 अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह ने नागरिकों से आह्वïान किया कि अपना परिवार पहचान पत्र अपने नजदीकी सीएससी के माध्यम से अपडेट करवाकर समयावधि में कार्य को पूर्ण करनें में सहयोग करें ताकि सरकार द्वारा दी जा रही सरकारी सुविधाओं का लाभ प्राप्त करने में किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़ें। उन्होंने बताया कि योजना का भविष्य में सरकार की योजनाओं का लाभ परिवार पहचान पत्र के माध्यम से ही दिया जाएगा। बुढापा पैंशन, विधवा पैंशन आदि स्कीम को पहले ही इसे जोड़ा जा चुका है। आगामी समय में प्रदेश सरकार की अन्य योजनाओं का लाभ परिवार पहचान पत्र के साथ ही दिया जाएगा। इसलिए आमजन अपना परिवार पचान पत्र को अपडेट करवा लें और अभी तक किसी ने परिवार पहचान पत्र नहीं बनवाया है, वो भी जरूर बनवा लें। परिवार पहचान पत्र का अपडेट करने का कार्य सभी सीएससी सैंटर पर नि:शुल्क किया जा रहा है।

पंचकूला में एक बार फिर हुआ कोरोना ब्लास्ट।

बालिकाओं को शिक्षा की धारा से जोड़ रहे कस्तूरबा गांधी आवासीय स्कूल : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 11 जनवरी।

-कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में बेहतर सुविधाओं के साथ दी जा रही है गुणवत्तापरक शिक्षा
-कोविड के चलते स्कूलों में अध्यनरत बालिकाओं को ऑनलाइन दी जा रही शिक्षा


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बताया कि जिला में स्थापित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में लड़कियों को बेहतर सुविधाओं के साथ गुणवत्तापरक शिक्षा दी जा रही है। जिला के 6 खंडों में स्थापित स्कूलों में पहली से छठी कक्षा में इस समय 360 बालिकाएं अध्यनरत हैं। कोरोना के चलते बालिकाओं को ऑनलाइन शिक्षा दी जा रही है।

For Detailed News-


                उन्होंने बताया कि कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में बालिकाओं के लिए हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध है। प्रत्येक स्कूल में होस्टल की सुविधा है।  जिला के 6 खंडों में स्थापित विद्यालयों में होस्टल सुविधा के साथ वाटर कुलर, इनवर्टर, लाईब्रेरी, कम्प्यूटर लेब, खेल के मैदान आदि सुविधाओं से सुसज्जित हैं। उन्होंने बताया कि प्रत्येक कक्षा के लिए स्कूल में 100 सीटें निर्धारित हैं। कोविड-19 के मद्देनजर सभी छात्रावास बंद है और छात्राओं को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की जा रही है। उन्होंने बताया कि जिला के खंड बडागुढा के गांव  फतेहपुरिया नियामतखां, डबवाली के गांव रत्ताखेड़ा, ऐलनाबाद के गांव धोलपालिया, नाथुसरी चौपटा के गांव रामपुरा ढिल्लो, औढा के गांव च_ïा व रानियां के गांव केहरवाला में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय स्थापित हैं।


                उपायुक्त ने बताया कि केंद्र सरकार ने सर्व शिक्षा अभियान को बढ़ावा देने के लिए कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय / आवासीय स्कूल स्थापित किए गए हैं। इसका उद्देश्य अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक समुदायों और शैक्षिक रूप से पिछड़े गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले परिवारों से संबंधित लड़कियों को प्राथमिक स्तर पर आवासीय स्कूलों के माध्यम से शिक्षा प्रदान करना है। उन्होंने बताया कि इन विद्यालयों में कम से कम 75 प्रतिशत सीटें अनुसूचित जाति व जनजाति, पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्गो की बालिकाओं के लिए आरक्षित होती है जबकि शेष 25 प्रतिशत गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की बालिकाओं के लिए आरक्षित है।

https://propertyliquid.com


                केजीबीवी में सभी बालिकाओं को निशुल्क आवास सुविधा, पुस्तकें तथा शिक्षण सामग्री, स्कूल यूनिफार्म, स्वेटर, जूते-मोजे, दैनिक उपयोग वस्तुओं तथा साबुन, तेल, तोलिया, टूथ-पेस्ट, कंघा, चप्पल, सेनेटरी नेपकिन इत्यादि दी जाती है। साथ ही बालिकाओं को कम्प्यूटर प्रशिक्षण, शैक्षिणक भ्रमण, खेलकूद प्रतियोगिताएं, प्रतिमाह स्वास्थ्य जांच तथा दवाओं की सुविधा प्रदान की जाती है और इसके अलावा बालिकाओं को आत्म-रक्षा का प्रशिक्षण आदि सुविधाएं भी निशुल्क प्रदान की जाती है। इन सुविधाओं के साथ-साथ सभी विद्यालयों में सुरक्षा की दृष्टिï से सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं वहीं स्वच्छ जल के लिए आरओ/वाटर कुलर की भी सुविधा है। साथ ही स्कूल में उच्च स्तर की लाइब्रेरी बनाई गई है, कम्प्यूटर व लैब के अलावा बच्चों के खेलने के लिए मैदान भी है।

आरोही स्कूलों में छठी से 12वीं तक दी जाती है शिक्षा, कन्याओं के लिए छात्रावास की सुविधा उपलब्ध :


                उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बताया कि जिला के छठी से 12वीं कक्षा के छात्रों को बेहतर व गुणवत्तापरक शिक्षा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित छह आरोही स्कूल भी हैं। ये आरोही स्कूल जिला के खंड बड़ागुढा के गांव झिड़ी, डबवाली के गांव कालूआना, ऐलनाबाद के गांव मि_ïी सुरेरां, चोपटा के गांव नाथूसरी कलां, ओढां के गांव जलालआना एवं रानियां के गांव मोहम्मदपुरिया में बने हैं। आरोही स्कूल में दाखिला परीक्षा के माध्यम से मैरिट के आधार पर दिया जाता है। इन स्कूलों में पढऩे वाली बालिकाओं को शिक्षा के साथ-साथ छात्रावास की भी निशुल्क सुविधा दी जाती है। प्रत्येक आरोही स्कूल में 100 छात्राओं के लिए होस्टल सुविधा है, जिला के छह आरोही स्कूलों में कुल 600 छात्राओं को रहने की व्यवस्था है। इस समय जिला के सभी स्कूलों में 375 छात्राएं होस्टल सुविधा का लाभ उठा रही है, लेकिन कोविड-19 के मद्देनजर सभी छात्रावास बंद है और छात्राओं को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की जा रही है।