पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा वर्ष 2020-21 के लिए विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्य व बहादुरी क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करने के लिए व्यक्तियों, एवं संस्थाओं से आवेदन 10 सितम्बर तक आवेदन मांगे गए है।

पंचकूला 1 सितम्बर- सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा वर्ष 2020-21 के लिए विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्य बहादुरी क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करने के लिए व्यक्तियों, एवं संस्थाओं से आवेदन 10 सितम्बर तक आवेदन मांगे गए है।

For Detailed News-


उपायुक्त मुकेष कुमार आहूजा ने बताया कि विभाग द्वारा हर वर्ष एक अक्तुबर को अंतराष्ट्रीय वृद्वजन दिवस मनाया जाता है। इस दिन इन पुरस्कारों को प्रदान करने के लिए:षत् वर्षीय पुरस्कार, श्रेष्ठ माता पुरस्कार, शौर्य एवं बहादुरी पुरस्कार, श्रेष्ठ पंचायत पुरस्कार, आजीवन उपलब्धियां पुरस्कार, श्रेष्ठ स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार, वरिष्ठ पैंटर पुरस्कार, वरिष्ठ मुर्तिकला पुरस्कार, वरिष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार, श्रेष्ठ वृद्धाश्रम पुरस्कार, श्रेष्ठ दैनिक देखभागल केन्द्र पुरस्कार देने के लिए व्यक्तियों एवं संस्थाओं से आवेदन आंमत्रित किए गए है।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि इच्छुक व्यक्ति जिला समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में किसी भी कार्यदिवस में आवेदन जमा करवा सकते है। पुरस्कार राशि, पात्रता की शर्ते व स्कीम की विस्तृत जानकारी विभाग की वेबसाईट httt://www/socialjusticehry.gov.in पर ली जा सकती है।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

हरियाणा के बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल अदायगी के लिए ऑनलाइन माध्यम अच्छा खासा प्रभावित कर रहे हैं।

पंचकूला 01 सितंबर। हरियाणा के बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल अदायगी के लिए ऑनलाइन माध्यम अच्छा खासा प्रभावित कर रहे हैं। हरियाणा के 60 प्रतिशत से अधिक बिजली उपभोक्ता अपने बिजली बिलों की अदायगी के लिए ऑनलाइन माध्यमों का इस्तेमाल कर रहे हैं। बिजली उपभोक्ताओं को बिल की अदायगी में किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो, इसके लिए उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन) और दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन) के बिजली उपभोक्ता 1 सितंबर से डाकघरों में भी अपने बिजली बिल जमा करा सकते हैं।

For Detailed News-


बिजली निगमों के प्रवक्ता ने बताया कि खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र के बिजली उपभोक्ताओं की सुविधा का ध्यान में रखते हुए पोस्ट आफिस डिपार्टमेंट से बातचीत की गई और यह निर्णय हुआ कि अब बिजली उपभोक्ता डाकघर की शाखा में भी अपने बिजली बिल जमा कर सकते हैं। प्रदेश में डाकघर की 2964 शाखाएं हैं जिनमें से 2180 तो ग्रामीण क्षेत्र में हैं। डाकघरों के माध्यम से भी बिजली बिलों की अदायगी की जा सकती है, इसके लिए सबसे पहले सितंबर, 2019 में डाक विभाग के अधिकारियों से बातचीत की गई थी। पोस्ट आफिस के सीनियर अधिकारियों से बातचीत सफल रही और यह तय हुआ कि पोस्ट आफिस में अब बिजली उपभोक्ता अपने बिजली बिलों की अदायगी कर सकते हैं। उसके बाद जनवरी माह में बिजली वितरण निगमों के सीएमडी शत्रुजीत कपूर ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत पहले यमुनानगर और अंबाला (पंचकूला) सर्कलों में डाकघर काउंटर से बिजली बिल का भुगतान आरंभ करने की शुरूआत करने के निर्देश दिए। इन दोनों सर्कलों के सकारात्मक नतीजों को देखते हुए अब 1 सितंबर से यूएचबीवीएन ने विशेषतौर पर ग्रामीण क्षेत्र के बिजली उपभोक्ताओं के लिए डाकघरों के काउंटर पर बिल भुगतान की सुविधा उपलब्ध करवा दी गई है, तथा डीएचबीवीएन के बिजली उपभोक्ताओं के लिए यह सुविधा जल्द शुरू हो जाएगी। डाकघरों के इन काउंटरों पर 20 हजार रुपए तक के बिजली बिलों का भुगतान किया जा सकेगा। इसके लिए उपभोक्ताओं से कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा और जमा की गई राशि उसी समय बिजली निगमों के सर्वर पर अपडेट हो जाएगी। वैश्विक कोरोना महामारी के खतरों को भांपते हुए ग्रामीण क्षेत्र के बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल की अदायगी के लिए दूर न जाना पड़े, इसके लिए वे अपने गांव और मोहल्ले के डाकघर में आसानी से अपने बिजली बिल की अदायगी कर सकते हैं।

https://propertyliquid.com/


वहीं, निगमों के प्रवक्ता ने बताया कि लगातार तीन वर्षों से यूएचबीवीएन और डीएचबीवीएन ने लाभ कमाकर नया कीर्तिमान स्थापित किया है, 2019-20 के वित्त वर्ष में दोनों निगमों ने 29519 करोड़ 74 लाख रुपए का राजस्व प्राप्त किया, इससे 331 करोड़ 39 लाख रुपए का शुद्ध लाभ हुआ है। यूएचबीवीएन और डीएचबीवीएन ने 2018-19 में 29962 करोड़ 34 लाख रुपए का राजस्व अर्जित किया तथा 280 करोड़ 94 लाख रुपए का लाभ तथा 2017-18 में 28926 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त किया और 412 करोड़ 36 लाख रुपए का लाभ हासिल किया। यूएचबीवीएन एवं डीएचबीवीएन के सीएमडी शत्रुजीत कपूर ने इसके लिए बिजली निगमों के इंजीनियरों, तकनीकी कर्मचारियों और दूसरे स्टॉफ की मेहनत, लगन और समर्पण भाव से कार्य करने का परिणाम बताया, साथ ही उन्होंने प्रदेश के सभी बिजली उपभोक्ताओं को भी इसका श्रेय दिया जो समय पर अपने बिजली बिलों की अदायगी करते हैं। म्हारा गांव, जगमग गांव योजना भी पूरी तरह से सफल रही, आज हरियाणा के 4538 गांवों में 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाई जा रही है।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

हरियाणा संस्कृत अकादमी के निदेशक डा. दिनेश कुमार शास़्त्री ने बताया कि संस्कृत भाषा को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार हर सम्भव प्रयास कर रही है।

पंचकूला 1 सितम्बर – हरियाणा संस्कृत अकादमी के निदेशक डा. दिनेश कुमार शास़्त्री ने बताया कि संस्कृत भाषा को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार हर सम्भव प्रयास कर रही है। सरकार का प्रयास है कि संस्कार, संस्कृति एवं चरित्र देश का अग्रणी राज्य बने, इसके लिए संस्कृत का पठन पाठन जरूरी है।

For Detailed News-


निदेशक ने कहा कि अकादमी के माध्यम से प्रदेश में संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार के लिए अनेक योजनाएं क्रियान्वित की जा रही है। गत दो वर्ष में सरकार ने देश का 11वां संस्कृत विश्वविद्यालय कैथल में स्थापित किया है। इसके अलावा प्रदेश के संस्कृत विद्वानों को समय समय पर सम्मानित किया है। उन्होंने राष्ट्रपति सम्मान प्राप्त डा. रामदत्त शर्मा को उनके निजी निवास पर जाकर शाॅल भेंट कर सम्मानित किया और उनका कुशलक्षेम पूछा।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बताया कि डा. रामदत्त शर्मा ने अपने जीवन में संस्कृत विषय में 52 पुस्तकें लिखी। गत दिनों उनकी नेत्र ज्योति चली गई। इसके बाद भी उनका लेखन कार्य चलता रहा तथा संस्कृत की 20 ओर पुस्तकें लिखी। ऐसे संस्कृत प्रेमियों पर अकादमी ही नहीं बल्कि प्रदेश को गौरव है। इसके अलावा हरियाणा संस्कृत साहित्य का इतिहास सर्वप्रभम उनके द्वारा लिखा गया जिसे अब प्रकाशित करवाया गया। संस्कृत के क्षेत्र में दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान हरियाणा गौरव वर्ष 2013, महर्षि वाल्मीकि सम्मान वर्ष 2006 दिए गए है।


निदेशक ने कहा कि अकादमी सदेव ऐसे विद्वानों को सम्मानित करती रहेगी जिन्होंने पूरी उम्र संस्कृत लेखन का कार्य किया।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि महिला एवं बाल विकास विभाग,द्वारा 30 सितम्बर तक पोषण माह अभियान चलाया जा रहा है।

पंचकूला 1 सितम्बर- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि महिला एवं बाल विकास विभाग,द्वारा 30 सितम्बर तक पोषण माह अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान विभिन्न विभागों के सहयोग से महिलाओं एवं बच्चों के संर्वागीण विकास हेतू कोविड को ध्यान में रखते हुए कई गतिविधियांें के माध्यम से लाभान्वित करने का किया जाएगा।


उपायुक्त ने बताया कि पोषण माह के दौरान जिला की आंगनबाड़ी केन्द्रा्रेें मे गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएगे। इनमें उन्हें प्रोटीनयुक्त डाईट, एनिमिया आदि से बचाव के लिए महिला गोष्ठी, मदर मिटिंग, कम्युनिटी बेसड इवेंट एवं गावं स्तर पर हेल्थ सेनीटेशन न्यूट्रीशन दिवस जैसे कार्यक्रम भी चलाकर पोष्टिक आहार बारे उन्हें प्रेरित किया जाएगा। आंगनबाडी कार्यकर्ता घर घर जाकर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए कोरोना से बचाव बारे पोषण आहार लेने बारे जागरूक करेंगे।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि पोषण अभियान के तहत जन जन तक पहुंचकर जिला को कुपोषण से मुक्त बनाया जाएगा। इसके तहत पोषण वाटिका, एनिमिया, डायरिया प्रबंधन जैसे कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएगें जिनमें आयरन युक्त आहार पोष्टिक आहार पर बल देते हुए महिलाओं एवं बच्चों का चहुंमुखी विकास किया जाएगा।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि यह पोषण माह आंगनबाडी केन्द्र से लेकर गांव, खण्ड एवं जिला स्तर पर पौद्यारोपण एवं कीचन गार्डन करके शुरू किया गया। इसके साथ नागरिकों को पोष्ठिक आहार बारे संकल्प करवाया गया। अभियान के दौरान केन्द्रों में छोटे बच्चों का वजन एवं हाईट मापी जाएगी और उनमें यदि किसी प्रकार की कमी पाई जाएगी तो उन्हें अस्पतालों में स्वास्थ्य लाभ दिलवाया जाएगा। इसके वीडियो क्लीप के माध्यम से न्यूट्रीशन के प्रति जागरूक करने, महिला गोष्ठियां, गर्भवती एवं स्तनपान करवाने वाली महिलाओं के साथ बैठकें आयोजित की जाएगी। इसके आलवा उनका स्वास्थ्य जांचने तथा आंगनबाडी केन्द्रोें, ग्राम पंचायतों के साथ व्यक्तिगत एवं घरों में भी स्वच्छता का संदेश दिया जाएगा।


श्री आहूजा ने बताया कि पोषण माह के दौरान महिलाओं को कीचन गार्डन के लिए प्रेरित करना, नुक्कड नाटक, फाॅक सांॅंग, रागिनी एवं विभिन्न प्रकार की सांस्कृतिक गतिविधियां भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ आयोजित की जाएगी। इसके अलावा महिलाओं को खाने की नई नई रेसिपी बारे भी जानकारी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान महिलाओं के लिए स्लोगन प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाएगा।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

इस अभियान के तहत शहरी क्षेत्र में बडी वाहन मशीन एवं ग्रामीण क्षेत्र में छोटी मशीनों के माध्यम से लगातार फोगिंग की जाएगी।

पंचकूला 1 सितम्बर – उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेषकर गर्मी एवं बरसात के मौसम में मलेरिया, चिकनगुनिया व डेंगू की रोकथाम के लिए पंचकूला के शहरी क्षेत्र एवं ग्रामीण क्षेत्र में 14 सितम्बर तक फौगिंग करने का अभियान जारी किया है। इस अभियान के तहत शहरी क्षेत्र में बडी वाहन मशीन एवं ग्रामीण क्षेत्र में छोटी मशीनों के माध्यम से लगातार फोगिंग की जाएगी।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि विभाग द्वारा ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र का अलग अलग फौगिंग का शैडयूल बनाया गया है। इसमें वाहन मशीन से शहरी क्षेत्र एवं छोटी मशीनों से ग्रामीण क्षेत्रों में फौगिंग अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान लगातार 14 सितम्बर माह तक चलेगा। उन्होंने बताया कि 3 से 5 सितम्बर को राजीव कालोनी, 6 व 7 सितम्बर को गांव फतेहपुर तथा 8 से 9 सितम्बर को गांव कुण्डी में फौगिंग का कार्य किया जाएगा। इसी प्रकार 10 से 11 सितम्बर को गांव महेश्पुर में छोटी मशीनों के माध्यम से फोगिंग करवाई जाएगी।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में वाहनयुक्त मशीन से 3 सितम्बर को सैक्टर 18 में तथा 4 सितम्बर को सैक्टर 19 एवं 5 सितम्बर को औद्योगिक क्षेत्र फेस-1 में फोगिक करवाई जाएगी। इसी प्रकार 6 सितम्बर को औद्योगिक क्षेत्र फेज-!! तथा 7 व 8 सितम्बर को सैक्टर 20 एवं 9 व 10 सितम्बर को सैक्टर 21 व सैक्टर 3 में फोगिंग की जाएगी। उन्होंने बताया कि 11 सितम्बर को सैक्टर 22 व 23 तथा 12 सितम्बर को सैक्टर 24 व 25 तथा 13 सितम्बर को सैक्टर 26 और 14 सितम्बर को सैक्टर 27 व 28 मे वाहनयुक्त मशीन से फोगिंग करवाई जाएगी।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा वर्ष 2020-21 के लिए विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्य व बहादुरी क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करने के लिए व्यक्तियों, एवं संस्थाओं से आवेदन 10 सितम्बर तक आवेदन मांगे गए है।

पंचकूला 1 सितम्बर- सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा वर्ष 2020-21 के लिए विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्य बहादुरी क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करने के लिए व्यक्तियों, एवं संस्थाओं से आवेदन 10 सितम्बर तक आवेदन मांगे गए है।

For Detailed News-


उपायुक्त मुकेष कुमार आहूजा ने बताया कि विभाग द्वारा हर वर्ष एक अक्तुबर को अंतराष्ट्रीय वृद्वजन दिवस मनाया जाता है। इस दिन इन पुरस्कारों को प्रदान करने के लिए:षत् वर्षीय पुरस्कार, श्रेष्ठ माता पुरस्कार, शौर्य एवं बहादुरी पुरस्कार, श्रेष्ठ पंचायत पुरस्कार, आजीवन उपलब्धियां पुरस्कार, श्रेष्ठ स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार, वरिष्ठ पैंटर पुरस्कार, वरिष्ठ मुर्तिकला पुरस्कार, वरिष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार, श्रेष्ठ वृद्धाश्रम पुरस्कार, श्रेष्ठ दैनिक देखभागल केन्द्र पुरस्कार देने के लिए व्यक्तियों एवं संस्थाओं से आवेदन आंमत्रित किए गए है।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि इच्छुक व्यक्ति जिला समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में किसी भी कार्यदिवस में आवेदन जमा करवा सकते है। पुरस्कार राशि, पात्रता की शर्ते व स्कीम की विस्तृत जानकारी विभाग की वेबसाईट ीजजजरूध्ध्ूूूध्ेवबपंसरनेजपबमीतलण्हवअण्पद पर ली जा सकती है।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में किसानों की सुविधा के लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत पंजीकरण करने की तिथि बढाकर 7 सितम्बर कर दी गई है।

पंचकूला 1 सितम्बर- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में किसानों की सुविधा के लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत पंजीकरण करने की तिथि बढाकर 7 सितम्बर कर दी गई है। किसानों के लिए यह स्वर्णिम अवसर है, इसलिए इस योजना में अपनी फसलों का पंजीकरण अवश्य करवा लेना चाहिए।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि किसानों के लिए यह सरकार की अतिमहत्वपुर्ण एवं कारगर योजना है जिसके तहत पंजीकृत किसानों को भविष्य में कृषि से सम्बन्धित सभी योजनाओं का लाभ दिया जाएगा। इसके लिए किसान पंजीकरण के लिए अपने नजदीकी काॅमन सर्विस सैन्टर या कृषि अधिकारी से सम्पर्क कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि किसानों के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओ ंका लाभ प्राप्त करने के लिए पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। इनमें फसल बिक्री, कृषि यन्त्रों पर सब्सिडी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना इत्यादि का लाभ शामिल है। उन्होंने बताया कि भविष्य में केवल पंजीकृत किसानों को ही सरकार की इन योजनाओं का लाभ दिया जाएगा।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि खरीफ 2020 मंे बोई गई फसलों की खरीद भी इस योजना के तहत की जाएगी। इसलिए किसानों द्वारा इस पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना अनिवार्य है चाहे वो अपनी फसल मण्डी में बेचना चाहते है या नही।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

सिरसा पुलिस की बड़ी सफलता

जाली करंसी छापने की मशीन पंजाब से बरामद 

For Detailed News-

सिरसा,01 सितंबर………….पुलिस अधीक्षक उप पुलिस महानिरीक्षक डॉ. अरूण सिंह के द्वारा गठित एसआईटी की पुलिस टीम ने महत्वपूर्ण सूराग जुटाते हुए जाली करंसी छापने की मशीन पंजाब के भोगपूर क्षेत्र से बरामद करने में बड़ी सफलता हासिल की है। इस संबंध में जानकारी देते हुए सीआईए सिरसा प्रभारी सब इंस्पैक्टर साधू राम ने बताया कि एसआईटी की टीम ने रिमाण्ड पर लिए गए आरोपी गगनदीप,अनुराग व अरविंद की निशान देही पर जाली करंसी छापने की मशीन (प्रिंटर) तथा काफी मात्रा में नकली नोट छापने में प्रयुक्त होने वाली शीट भी बरामद की है । उन्होने बताया कि अब तक पकड़े गए आरोपियों से तीन लाख 15 हजार रुपये के नकली नोट बरामद किए जा चुके है । गौरतलब है की बीती 25 अगस्त को सीआईए की एक पुलिस टीम ने मोटरसाईकिल पर सवार हरपाल कौर पत्नी जगदीश निवासी नहर कालोनी सिरसा व गगनदीप पुत्र करतार सिंह निवाली धमुली पंजाब को गिरफ्तार कर तीन लाख रुपये के नकली नोट बरामद किए थे । पुलिस अधीक्षक एंव पुलिस महानिरीक्षक डॉ. अरुण सिंह ने नकली नोट छापने के इस नेटवर्क का पर्दाफाश करने के लिए डीएसपी मुख्यालय आर्यन चौधरी के नेतृत्व में एक एसआईटी टीम का गठन किया था, जिसमें सीआईए सिरसा एंव थाना सदर सिरसा के पुलिस कर्मियों को शामिल किया गया था । एसआईटी टीम ने हरपाल व गगनदीप के इलावा इस नेटवर्क से जुडे तीन अन्य आरोपियों शमशाबाद पट्टी निवासी राजेश,नेजाडेला निवासी अरविंद तथा रानिंया निवासी अनुराग को गिरफ्तार कर लिया है । सीआईए सिरसा प्रभारी ने बताया कि आरोपी गगनदीप, अनुराग व अरविंद दो सितंबर तक पुलिस रिमाण्ड पर है जिनसे गहनता से पुछताछ की जा रही है । पुछताछ के दौरान नकली नोटो के इस नेटवर्क से जुड़े अन्य लोगों के बारे में खुल्लासा होने तथा और जाली करंसी बरारमद होने की संभावना से भी इंकार नही किया जा सकता ।

https://propertyliquid.com/

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

अनलॉक-4 : कंटेनमेंट जोन से बाहर मिली छूट, अंदर रहेंगे कड़े नियम लागू : उपायुक्त

सिरसा, 01 सितंबर।

अब प्रात: 9 से सायं 8 बजे तक खुल सकेंगी दुकानें, पैट्रोल पंप, दूध की दुकान व मेडिकल खुलेेंगे प्रात: 7 से सायं 8 तक


उपायुक्त रमेश चंद्र बिढाण ने बताया कि गृह मंत्रालय भारत सरकार ने अनलॉक-4 के नये नियम जारी किए हैं। नए दिशा-निर्देशों के तहत शहर में दुकानों के खोलने व बंद करने के समय में बदलाव किया गया है। अब दुकानों के खुलने का समय प्रात: 9 से सायं 8 बजे तक रहेगा। इसी प्रकार पैट्रोल पंप, दूध की दुकान व मेडिकल हाल के खुलने का समय प्रात: 7 से सायं 8 बजे तक का होगा, जबकि होटल/रेस्टोरेंट/ढाबा में प्रात: 9 से रात्रि 10 बजे तक गतिविधियों के संचालन की अनुमति रहेगी।

For Detailed News-


उन्होंने बताया कि नये नियमों के तहत कंटेनमेंट जोन से बाहर जहां राहत दी गई है, वहीं कंटेनमेंट जोन में पहले की भांति कड़े नियम लागू रहेंगे। आज से नये नियम लागू हो गए हैं। उन्होंने बताया कि अनलॉक-4 में 30 सितंबर तक स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद ही रखे गए हैं. दिशा-निर्देशों के तहत 50 प्रतिशत तक शिक्षण, गैर-शिक्षण कर्मचारियों को ऑनलाइन शिक्षण, टेली-काउंसलिंग से संबंधित कार्य के लिए स्कूलों में बुलाया जा सकता है. दिशा-निर्देशों के अनुसार कंटेनमेंट जोन क्षेत्र के बाहर स्थित स्कूलों में नौवीं कक्षा से 12वीं कक्षा तक के छात्रों को अपने शिक्षकों से मार्गदर्शन लेने के लिए स्वैच्छिक आधार पर स्कूल जाने की अनुमति दी जा सकती है. उन्होंने बताया कि इस चरण में सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर और इसी तरह के स्थान बंद रहेंगे, हालांकि दिशा-निर्देशों के अनुसार 21 सितंबर से ओपन-एयर थिएटरों को खोलने की अनुमति होगी।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बताया कि नये नियमों के तहत सामाजिक स्थलों और कार्यक्रमों में इक_ा होने वाले लोगों की संख्या को भी बढ़ा दिया गया है. 21 सितंबर से 100 व्यक्तियों की अधिकतम सीमा के साथ सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यक्रमों की अनुमति दी जाएगी. इस तरह के कार्यक्रमों में मास्क पहनना, सामाजिक दूरी का पालन करना, थर्मल स्कैनिंग और हाथ धोना या सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना आवश्यक होगा.
उन्होंने बताया कि कंटेनमेंट जोन्स में नियमों में सख्ती रहेगी. 65 साल से अधिक उम्र के लोगों, गंभीर बीमारियों से ग्रस्त लोगों, गर्भवती महिलाओं और 10 साल से कम उम्र के बच्चों को घर में ही रहने की सलाह दी गई है। अति आवश्यक होने पर भी मॉस्क लगाकर ही बाहर जाना अनिवार्य रहेगा। 

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

कोरोना और नशे के खात्मे में अग्रणी भूमिका निभाएं युवा : उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ाण

सिरसा, 1 सितंबर।

नशे में ग्रस्त मासूमों को मुख्यधारा में लाने के लिए अपनी ऊर्जा लगाएं युवा : उपायुक्त


                उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ाण ने कहा कि आज हमारे सामने कोरोना महामारी और जिला में नशे का फैलाव दो गंभीर चुनौतियां है और इन चुनौतियों से निपटने के लिए समाज के हर वर्ग को अपना सम्पूर्ण सहयोग देना होगा तभी इन पर काबू पाया जा सकता है। जिला को नशा मुक्त बनाने में युवा वर्ग अपनी सार्थक भूमिका निभाते हुए अहम योगदान दे सकता है। युवा साथी नशे के जाल में ग्रस्त मासूमों को दोस्त बनकर समझाएं और नशे के दूष्परिणामों के बारे में बताएं ताकि ऐसे युवाओं को नशे से मुक्ति दिलाते हुए समाज की मुख्य धारा में लाया जा सके और वे स्वस्थ जीवन जी सकें।

For Detailed News-


                उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ाण मंगलवार को स्थानीय पंचायत भवन में नशा मुक्त भारत अभियान के तहत नेहरु युवा केंद्र व एंटी क्रप्शन महिला विंग के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर डीएसपी संजय कुमार, सिविल सर्जन सुरेंद्र नैन, जिला समाज कल्याण अधिकारी नरेश बत्रा सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे। उपायुक्त ने कहा कि नशा बेचने वाले समाज के दुश्मन है और ऐसे लोगों से सजग रहने की जरुरत है, क्योंकि ऐसे लोग मासूम युवाओं को नशे की लत में डाल कर समाज को खोखला बना रहे हैं। नशे की लत में पड़े युवा दिशाहीन होकर अपने शरीर के साथ-साथ परिवार व समाज का भी नुकसान कर रहे हैं। युवा शक्ति अपनी ऊर्जा का सही उपयोग करते हुए न केवल नशे से ग्रस्त युवा को नशे से छुटकारा दिलाने के लिए प्रेरित करें बल्कि नशा बेचने वालों की सूचना पुलिस प्रशासन के टोल फ्री नंबर 88140-11620, 88140-11624 व 88140-11675 पर दें।

https://propertyliquid.com/


                उपायुक्त बिढ़ाण ने कहा कि आज का युवा आनंद की परिभाषा को भूल गया है। अंजाने में युवा नशे को आनंद समझते हुए नशे का उपयोग करता है लेकिन नशे का आदि होने पर वह अपने परिवार को तबाही के रास्ते पर धकेल देता है। इसके साथ-साथ दिन प्रतिदिन समाज में बढ़ रहे अपराध का मुख्य कारण भी नशा ही है। नशे की लत का शिकार व्यक्ति नशे के लिए अपनी जिंदगी दांव पर लगा कर अपराध की दिशा में चला जाता है। नेहरु युवा क्लब के सदस्य ऐसे भटके युवाओं का रुख बदलते हुए स्वस्थ समाज के निर्माण का रास्ता दिखाएं और लग्र व मेहनत से इस अभियान में अपना सम्पूर्ण योगदान दें। उन्होंने कहा कि अभिभावक अपने बच्चों को नशे के दूष्परिणामों के बारे में बताते हुए प्यार से संवाद करें और उन्हें शिक्षा, खेल के साथ-साथ साहित्य का महत्व बताते हुए जीवन में आगे बढऩे के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि प्रचार के दौरान युवा ऐसे लोगों को भी शामिल करें, जो नशा छोड़ कर सामान्य जीवन जी रहे हैं ताकि अन्यों के लिए वे प्रेरणा स्त्रोत बन सके। नशा छोडऩे वाले व्यक्ति लोगों को नशे के दुष्परिणाम व आपबीती बताएं जिससे लोग स्वयं, परिवार व समाज को नशे से होने वाले नुकसान की गंभीरता को समझें।

जिला को नशा मुक्त बनाने के लिए मेहतन व लग्र से निभाएं अपना दायित्व : उपायुक्त बिढ़ाण


                उपायुक्त बिढ़ाण ने कहा कि युवाओं में नशे का बढ़ता हुआ रुझान बेहद चिंता का विषय है। नेहरु युवा केंद्र के युवा एक-एक गांव का चयन कर लोगों को जागरुक करें। एक युवा अगर दस लोगों को नशे के दुष्परिणाम बताते हुए जागरुक करेगा और वे दस युवा आगे लोगों को जागरुक करेंगे तो एक कड़ी के रुप में हम जिला के प्रत्येक व्यक्ति को जागरुक कर पाएंगे और निसंदेह जिला को नशा मुक्त बनाने में कामयाब होंगे। युवा शक्ति नशे के जाल में फंसे मासूम युवाओं को इलाज के लिए प्रेरित करें और उन्हें जिला के नशा मुक्ति केंद्रों में लेकर आएं। प्रशासन का यह प्रयास है कि जिला में और भी नशा मुक्ति केंद्र स्थापित किए जाएं ताकि युवाओं को नशे की लत छुड़वाई जा सके। नशा मुक्त अभियान में अग्रणीय भूमिका निभाने वाले युवा व क्लबों को जिला प्रशासन द्वारा प्रोत्साहन राशि के साथ-साथ विशेष रुप से सम्मानित किया जाएगा।

कोरोना की गंभीरता के बारे में भी लोगों को जागरुक करें युवा शक्ति : उपायुक्त


                उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति के लिए जागरुकता के साथ-साथ युवा क्लब लोगों को कोरोना संक्रमण के बचाव के बारे में भी जागरुक करें। उन्होंने कहा कि पहले लोग कोरोना के प्रति अधिक संवेदनशील थे लेकिन जैसे-जैसे आवागमन बढ़ा है, कोरोना संक्रमण का फैलाव बढ़ रहा है, साथ ही लोगों ने इसे गंभीरता से लेना बंद कर दिया है। उन्होंने जिलावासियों से गुजारिश की कि वे कोरोना के शुरुआती लक्षण के दौरान ही अपनी जांच करवाएं, इसमें किसी प्रकार की देरी न करें। समय पर अगर इसका इलाज करवाया जाए तो इससे न केवल बचा जा सकता है बल्कि इसके फैलाव को भी रोका जा सकता है। कोरोना के लक्षण दिखने पर तुरंत सामान्य अस्पताल में जाकर अपनी सैंपलिंग करवाएं और इलाज में सहयोग करे। इलाज में लापरवाही का परिणाम है कि जिला में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढऩे के साथ-साथ मृत्यु दर भी बढ़ी है। नागरिक छोटी सी लापरवाही से अपना व दूसरों का जीवन संकट में न डालें। उन्होंने कहा कि बीमारी को छुपाना गलत है, क्योंकि इलाज में की गई देरी खतरनाक रुप धारण कर सकती है। घर से बाहर जाते समय मास्क जरुरी लगाएं और दूसरे व्यक्ति से कम से कम छह फिट की दूरी बना कर रखें। घर वापस लौटने पर सीधे अपने परिवार के पास जाने की बजाय पहले नहा-धोकर ही परिवार के अन्य सदस्यों से मिले, इस प्रकार के नियमों की पालना कर कोरोना से बचा जा सकता है।