FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

Oral Health Program

Chandigarh January 10, 2020

Dr. Harvansh Singh Judge Institute of Dental sciences, Panjab University in association with Department of Dentistry ,GMCH-Sec. 32 conducted an oral health program under the banner of South Asian Academy of Pediatric Dentistry (SAAPD) to celebrate its founder’s day. SAAPD is an association of pediatric dentists involving six countries namely
India, Nepal, Maldives, Bangladesh, Bhutan and Sri Lanka.  Oral health education was imparted to the caregivers and teachers of approximately 400 children with special needs at Government Rehabilitation Institute for Intellectual Disabilities, sector 31. Children of Apna Ghar/Apne Foundation, a shelter home at Mohali, were also educated and
examined.   Dr Urvashi Sharma, Dr Gurvanit Kaur Lehl and  Dr Ikreet Singh along with interns of the dental institute facilitated this outreach activity. 

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

हरियाणा के बिजली मंत्री चौ. रणजीत सिंह आगामी 11 से 13 जनवरी तक जिला सिरसा में विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे।

सिरसा,10 जनवरी।


                  हरियाणा के बिजली मंत्री चौ. रणजीत सिंह आगामी 11 से 13 जनवरी तक जिला सिरसा में विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे।


              यह जानकारी देते हुए उपायुक्त अशोक कुमार गर्ग ने बताया कि बिजली मंत्री 11 जनवरी को दोपहर एक बजे जिला के गांव बणी में आयोजित खेल कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगे। तत्पश्चात बिजली मंत्री सांय 6 बजे तक रानियां में लोगों की समस्याओं को सुन कर उनका निदान करेंगे। उपायुक्त ने बताया कि 12 जनवरी को बिजली मंत्री स्थानीय शहीद भगत सिंह स्टेडियम में प्रात: 8 बजे रन फॉर यूथ मैराथन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगे। तत्पश्चात 11 बजे गांव रोड़ी में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसी प्रकार बिजली मंत्री 13 जनवरी सोमवार को स्थानीय लोक निर्माण विश्राम गृह में प्रात: 10 बजे से सांय 6 बजे तक लोगों की समस्याओं को सुनेंगे। इसी दिन सांय 7 बजे आनंद वाटिका सी-ब्लॉक में लोहड़ी मिलन समारोह में शिरकत करेंगे। 

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

Village development panel for Raipur Khurd held meeting

Chandigarh, January 10:- First meeting for the development works in the village Raipur Khurd was held today under the chairmanship of Sh. Ajay Dutta, nominated councillor, MCC which was attended by other members of committee. Sh. Kuldeep Singh, Executive Engineer, Electrical Division, MCC was also present during the meeting to discuss the problems to be taken up by the committee.

The Committee members listed various problems including Sewerage Blockage, provision of adequate water supply, broken and unmade roads, fixation of the only pulley on the way to cremation ground, re-functionality of the dispensary, maintenance of toilets, construction of bus stops, allotment and placement of new street lights, stray animals and provision of roads in the main market areas.

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

Senior officers of MCC to check monitoring of Night Shelters on daily basis

Chandigarh, January 10:- As per the directions of Sh. K.K. Yadav, IAS, Commissioner, Municipal Corporation, Chandigarh, senior officers of MCC will check monitoring reports of Night Shelters on daily basis and submit report to the Commissioner.

As per details, there are 10 locations in Chandigarh where night shelters facility has been provided by the Municipal Corporation Chandigarh including  in Sec 9D in front of CHB Off, 16A near hospital gate, Opposite PGI gate, 19B on V5, 20D near Mandir, 22C opposite JW Marriott, 32B near hospital gate, 34A opposite booth market, 43D in bus stand.

The following facilities have been provided in the shelters including Waterproof air tight shelters for comfortable accommodation, Room heater/ bloors to provide cozy temperature, Mattresses with quilt and pillow i/c clean bed sheet on raised plywood platform covered with mat and PVC sheet for easily cleaning, Potable water for drinking with disposable glasses, Separate arrangements for ladies and gents in Sec 16A, PGI,  32A, Mobile toilets near shelter opposite PGI, Sec 16A, 32A, Wall mounted cameras for proper supervision and security with access arrangements in MC officer mobiles, Security persons deputed for 24 hours for proper maintenance of shelter and watch & ward, First aid kit available in each shelter. Also person residing in shelter can call at 112 to get free medical facility, Complaint register and separate register to upkeep proper record on daily basis of person residing in shelter.

The MCC has provided complaint register to improve the facilities in shelters as per requirement of public on daily basis.

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

देश भर में साइबरस्पेस संबंधी खतरों व यौन शोषण बारे बच्चों और किशोरियों को शिक्षित करने के उदेश्य से ऑनलाइन स्टाकिंग और जैन्डर सनसिटाइजेशन मॉड्यूल स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने पर विचार किया जाना चाहिए।

चंडीगढ़, 10 जनवरी – देश भर में साइबरस्पेस संबंधी खतरों व यौन शोषण बारे बच्चों और किशोरियों को शिक्षित करने के उदेश्य से ऑनलाइन स्टाकिंग और जैन्डर सनसिटाइजेशन मॉड्यूल स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने पर विचार किया जाना चाहिए।


यह और अन्य सिफारिशें आज ‘‘महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा‘‘ विषय पर पंचकूला में आयोजित किए गए दो दिवसीय सम्मेलन के समापन अवसर पर की गई। इसका आयोजन हरियाणा पुलिस द्वारा ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (बीपीआरएंडडी), नई दिल्ली और इंडियन पुलिस फाउंडेशन इंस्टीट्यूट के सहयोग से किया गया।


एक्सपर्ट समूहों मंत्रणा के दौरान जो अन्य सिफारिशें सामने आईं, उनमें महिलाओं और बच्चों की तस्करी के मामलों को संगठित अपराध में शामिल करना, बाल व किशोर यौन शोषण से संबंधित मामलों को तेजी से निपटाने के लिए विशेष अदालतों का गठन, ऑनलाइन खतरों के बारे में जागरूकता, सार्वजनिक परिवहन में पैनिक बटन को अनिवार्य करना, यौन शोषण को लेकर माता-पिता और शिक्षक, काउंसलर, सरकारी एजेंसियों के साथ-साथ न्यायिक अधिकारियों का संयुक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम सहित पुलिस के लिए प्रशिक्षण व क्षमता निर्माण शामिल हैं।


इन सभी सिफारिशों पर एक रिपोर्ट भारतीय पुलिस फाउंडेशन द्वारा तैयार की जाएगी जिस पर देशव्यापी क्रियान्वयन के लिए बीपीआरएंडडी विचार करेगी।
समापन सत्र को संबोधित करते हुए, अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह श्री विजय वर्धन ने आशा व्यक्त की कि सम्मेलन का आयोजन महिलाओं की सुरक्षा के लिए बेहतर रणनीति तैयार करने में एक मील का पत्थर साबित होगा।


इस अवसर पर बोलते हुए इंडियन पुलिस फाउंडेशन इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष श्री एन0 रामाचंद्रन ने पांच अलग-अलग समूहों के निष्कर्षों को साझा किया, जिसमें प्रमुख सरकारी, गैर-सरकारी, शिक्षाविदों और अन्य संबंधित हितधारकों का प्रतिनिधित्व करने वाले लगभग 50 क्षेत्र विशेषज्ञ शामिल रहे।


आईजीपी श्री विकास अरोड़ा, जो बीपीआरएंडडी, नई दिल्ली का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, ने देषभर में महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा के लिए ब्यूरो द्वारा उठाए गए कार्यक्रमों और परियोजनाओं के बारे में जानकारी साझा की।


इससे पहले, पुलिस महानिदेशक, श्री मनोज यादव ने सम्मेलन के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि श्री विजय वर्धन का स्वागत करते हुए प्रतिभागियों को संबोधित किया।


सीपी पंचकूला श्री सौरभ सिंह द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया।


इस अवसर पर एडीजीपी सीआईडी श्री अनिल कुमार रावए श्रीमती विमला मेहरा, आईपीएस (सेवानिवृत्त), आईजी करनाल रेंज, श्रीमती भारती अरोड़ा, आईजी चारू बाली, एसपी क्राइस्ट अगेंस्ट वुमन, श्रीमती मनीषा चैधरी, विभिन्न जिलों के एसपी, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि, शैक्षिक विद्वानों, छात्रों और नागरिक हितधारकों भी उपस्थित थे।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए अगले पांच सालों में हरियाणा पुलिस में महिलाओं की संख्या 15 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है और सरकार के इस कदम से महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ेगा।

पंचकूला,10जनवरी- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए अगले पांच सालों में हरियाणा पुलिस में महिलाओं की संख्या 15 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है और सरकार के इस कदम से महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ेगा।


मुख्यमंत्री आज पंचकूला में हरियाणा पुलिस द्वारा पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो व इंडियन पुलिस फाउंडेशन इंस्टीट्यूट (आईपीएफआई) के सहयोग से ‘महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा’विषय पर दो दिवसीय सम्मेलन के दूसरे दिन सत्र को संबोधित कर रहे थे।


पुलिस में महिलाओं की संख्या पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सराहनीय है कि राज्य पुलिस बल में महिलाओं की संख्या पिछले पांच वर्षों में 6 प्रतिशत से बढ़कर 10 प्रतिशत हो गई है और इसे 15 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इस दिशा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं।उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का पहला ऐसा राज्य है, जहां 34 महिला पुलिस थाने खोले गए हैं। उन्होंने कहा कि पहले, ऐसे महिला पुलिस स्टेशनों की कमी के कारण, पीड़ितों को उनके खिलाफ होने वाले अपराध की रिपोर्ट करने की हिम्मत नहीं होती थी, लेकिन अब इन पुलिस स्टेशनों के खुलने के बाद पीड़ित हर अपराध की रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए आगे आ रही हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों को भी यह निर्देश दिए गए हैं कि हर अपराध की शिकायत दर्ज करें और यह सुनिश्चित करें कि हर पीड़ित को न्याय दिया जाए।उन्होंने कहा कि 12 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म के दोषी को मृत्युदंड देने का कानून पारित करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य बना है और इसके बाद केंद्र ने भी इस कानून को पारित किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने महिलाओं के खिलाफ अपराध के बारे में प्रारंभिक जांच करने के लिए 15 दिनों की समय सीमा निर्धारित की है।मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समय में हरियाणा लिंगानुपात के मामले में बहुत पीछे था, लेकिन 22 जनवरी, 2015 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पानीपत से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की थी, जिसके सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के बाद से राज्य में लिंगानुपात में वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा इस ओर कड़ा रूख अपनाते हुए भ्रूण हत्या करने वाले दोषियों पर सख्त कार्रवाई की गई और पडौसी राज्यों के साथ लगते जिलों में भी दबिश की गई। उन्होंने कहा कि सरकार ने इस दिशा में सख्त कार्रवाई करने के साथ-साथ समाज में जागरूकता कार्यक्रम भी चलाए, जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं क्योंकि अब हरियाणा में परिवार पुत्र के समान ही बालिकाओं के जन्म का जश्न मनाने लगे हैं।


महिलाओं के खिलाफ बढ़ते यौन हिंसा अपराधों पर बोलते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि आज ऐसे अपराधों को रोकने के लिए सरकार के साथ-साथ समाज की भी जिम्मेवारी है और इसके लिए परिवारों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य संगठनों द्वारा युवाओं को महिलाओं के प्रति सम्मान के नैतिक मूल्य सिखाने के लिए प्रयास किए जाने चाहिएं। उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि पुलिस द्वारा अपराध के विरूद्ध शिकायत दर्ज करने से कितने लोग संतुष्ट हैं, इससे संबंधित भी एक सर्वेक्षण राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो द्वारा किया जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों में 31 नए महिला कॉलेज खोले गए हैं। इसके साथ ही, सुरक्षा के दृष्टिगत कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाली छात्राओं के लिए 150 से अधिक मार्गों पर विशेष बसें चलाई जा रही हैं। इसके अलावा, महिलाओं को रोजगार देने के लिए विशेष कौशल विकास और प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं और इस दिशा में यूएनओ के साथ एक एमओयू भी किया गया है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा को महिलाओं के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाने के लिए, दुर्गा शक्ति ऐप, महिला हेल्पलाइन-1091, पुलिस स्टेशनों पर महिला हेल्प डेस्क स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले पांच सालों में 2 लाख सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं और जल्द ही एक लाख से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर महिला और बाल सुरक्षा पहल पर एक पुस्तक भी लॉन्च की। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह सम्मेलन पूरे देश में महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा के लिए पुलिस द्वारा किए जा रहे प्रयासों में एक मील का पत्थर साबित होगा।इस अवसर पर हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) श्री मनोज यादव ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य सरकार महिला सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। पिछले पांच वर्षों में महिला और बच्चों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है और पुलिस द्वारा कई नइ पहल की गई हैं। राज्य में स्थापित किए गए महिला थानों की पहल का आज अन्य प्रांत भी अनुसरण कर रहे हैं।इससे पूर्व, इंडियन पुलिस फाउंडेशन इंस्टीट्यूट (आईपीएफआई) के अध्यक्ष श्री एन. रामचंद्रन ने कहा कि सबसे पहले जनता और पुलिस के बीच विश्वास होना बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि जनता और पुलिस के बीच संचार की गुणवत्ता में सुधार करके वांछित परिवर्तन ला सकते हैं। उन्होंने महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा के लिए शुरू की गई कई पहलों के लिए हरियाणा की सराहना भी की।इस सम्मेलन में हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष, श्री ज्ञान चंद गुप्ता, गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, सीआईडी, श्री अनिल कुमार राव, पंचकूला के पुलिस आयुक्त श्री सौरभ सिंह, आईजी करनाल रेंज, श्रीमती भारती अरोड़ा, आईजी चारू बाली, एसपी, क्राइम अगेंस्ट वुमन, श्रीमती मनीषा चैधरी, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि, शैक्षिक विद्वान और अन्य हितधारक उपस्थित थे।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

कृषि एवं बागवानी में भविष्य तलाश रहे किसानों के लिए किसान उधो कृष्ण उम्मीद की किरण बनकर उभरे हैं।

प्ंाचकूला,10 जनवरी- कृषि एवं बागवानी में भविष्य तलाश रहे किसानों के लिए किसान उधो कृष्ण उम्मीद की किरण बनकर उभरे हैं। मोरनी क्षेत्र के बडी शेर गांव में पिछले आठ साल से तीन एकड़ भूमि में गुलाब की खेती से सालाना लाखों की कमाई कर रहे उधो कृष्ण पूरे हरियाणा के लिए मिसाल बने हैं। ट्रांसर्पााेट व टिम्बर के अच्छे-खासे व्यवसाय को छोड़कर फूलों की खेती में हाथ आजमाना हर किसी को आचम्भित कर सकता है परन्तु मन में कृषि से जुड़ने की इच्छा शक्ति ने आज उधो कृष्ण को प्रदेश के प्रगतिशील किसानों की सूचि में खड़ा कर दिया है। उधो कृष्ण कहते हैं कि शुरूआत में गुलाब की खेती की नाममात्र भी जानकारी नहीं थी। उद्यान विभाग, पंचकूला व अन्य प्रगतिशील किसानों के मार्गदर्शन ने सब आसान कर दिया। शुरूआत में बैंक से तीस लाख रू0 लोन लिया व बड़ीशेर में उबड़-खाबड़ जमीन को समतल किया। इसके बाद उद्यान विभाग की सहायता से तीन एकड़ में पोली हाउस स्थापित कर गुलाब की खेती प्रारम्भ की।


आज उधो कृष्ण तीन एकड़ से सालाना 42 से 45 लाख के गुलाब का व्यवसाय करते हैं जिसमें लेबर व अन्य खर्च निकालकर लगभग तीस लाख तक कमाई कर लेते हैं। उधो कृष्ण बताते हैं कि चंडीगढ़, पंचकूला व मोहाली में बड़ी मात्रा में मोरनी क्षेत्र के गुलाब की मांग रहती है। शादी- विवाह के दौरान गुलाब की अच्छी कीमत उनको मिल जाती है। वेलनटाईन डे व क्रिसमस के दौरान यह कीमत और भी बढ़ जाती है। किसान के खेत में लगभग 18 से 20 लोगों को रोजगार मिला है। किसान ने बताया कि पोली हाउस की खेती में आने से पहले किसानों को इनमें लगने वाली फसलों की जानकारी अवश्य लेनी चाहिए। मौसम के अनुसार ही फसल लगानी चाहिए। गुलाब की खेती के लिए मोरनी क्षेत्र की जलवायु काफी अनुकूल रहती है जिससे अच्छी क्वालिटी का गुलाब किसान प्राप्त कर सकते है। अच्छे रखरखाव व आधुनिक तकनीक से एक गुलाब का पौधा पांच साल तक चल सकता है। देश व विदेश के लोग उनके खेत का दौरा करने आते रहते है। इजराईल के राजदूत भी उनके खेत में गुलाब की खेती देखने आ चुके हैं।


जिला बागवानी अधिकारी, डा0 अशोक कौशिक ने बताया कि चण्डीगढ़,पंचकूला जैसे बडे़ शहर नजदीक होने की वजह से मोरनी क्षेत्र में फूलों की खेती की बहुत बड़ी संम्भावना है। बागवानी विभाग फूलों की खेती से जुड़े किसानों को अनुदान राशि से लेकर प्रशिक्षण देने की सुविधा भी प्रदान करता है। डा0 अशोक ने बताया कि जहां परम्परागत खेती से किसानों को जीवन निर्वहन करना भी मुश्किल हो रहा है वहीं आधुनिक बागवानी की खेती अपनाकर किसान लाखों में आमदनी कमा सकते हैं।


जिला उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा भी पंचकूला क्षेत्र के किसानों को उद्यान विभाग के माध्यम से बागवानी किसानों की सेवा करने में संकल्पित हैं। उधो कृष्ण जैसे किसान अन्य किसानों के लिए एक प्रेरणा बनकर उभरे हैं। बागवानी क्षेत्र में अपार संम्भावनाओं को देखते हुए काफी मात्रा में युवा किसान भी पारम्परिक खेती को छोड़कर बागवानी की खेती की तरफ आकर्षित हो रहे हैं।


डा0 अशोक कौशिक ने खेती को घाटे का सौदा मानकर छोड़ने वाले किसानों से आहवान किया कि किसान बागवानी फसलों को अपनाकर अपनी आमदनी को दोगुना कर सकते हैं उद्यान विभाग में सभी योेजनाएं पहले आओं पहले पाओ के आधार पर दी जाती हैं।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

Professor M. O. P. Iyengar Endowment Lecture Award for PU Professor

Chandigarh January 10, 2020


 University of Madras, Chennai (Centre of Advanced Studies in Botany) has conferred Professor M. O. P. Iyengar Endowment Lecture Award on Dr A S Ahluwalia, Professor P N Mehra Chair Professor, in Department of Botany, Panjab University, Chandigarh, on January 8, 2020. Professor M. O. P. Iyengar has been recognized as the Father of Phycology in India.  Professor Ahluwalia delivered the award lecture on the first day of International Symposium on Biodiversity, Biology and Biotechnology of Algae, at Madras University, Chennai. Dr Ahluwalia has served the university as
Chairperson of deptt of Botany, Deptt of Environmental studies, Dean Students Welfare , Dean of Faculty of sciences and as P U Fellow. He has published more than 125 research papers in national and International Journals. He is President of Punjab Academy of Sciences.

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

महिला थाना डबवाली प्रभारी ने गांव जोतावाली में नशे के खिलाफ किया जागरूक

सिरसा। महिला थाना डबवाली प्रभारी कमलेश रानी ने कहा कि नशा परिवारों को बर्बाद कर रहा है। नशे को जड़ से मिटाने के लिए जनसहयोग अति आवश्यक है। इसलिए नशे के खिलाफ पुलिस की मुहिम में सहयोग करें। महिला थाना प्रभारी गांव जोतावाली में नशा मुक्ति अभियान के तहत संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि नशे की चपेट में आकर अनेक परिवार बर्बाद हो रहे है। इसलिए नशा मुक्त समाज के लिए हम सभी को एक होना होगा। हमें नशे के खिलाफ संयुक्त लड़ाई लडऩी होगी। उन्होंने कहा कि जिला पुलिस नशा तस्करों के खिलाफ विशेष अभियान चलाए हुए है। इसलिए बेझिझक नशा बेचने वालों की सूचना पुलिस को दें। नशा तस्करों को किसी भी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा।फोटो नंबर 3: गांव जोतवाली में ग्रामीणों को संबोधित करती डबवाली महिला थाना प्रभारी कमलेश रानी।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!

FDP - Exploring Science and Technology Interconnections

डीएसपी जगदीश काजला व नर सिंह ने नशे के खिलाफ मुहिम में मांगा सहयोग

सिरसा। जिला पुलिस की नशा मुक्त समाज मुहिम के तहत ऐलनाबाद के डीएसपी जगदीश काजला ने रानियां थाना क्षेत्र केगांव बणी में ग्रामीणों की बैठक लेकर नशे के खिलाफ जागरूक किया, जबकि कालांवाली के डीएसपी नर सिंह ने बड़ागुढ़ा थाना परिसर मेंं क्षेत्र के मौजिज लोगोंं की बैठक कर लेकर नशे के खिलाफ मुहिम में सहयोग की अपील की। दोनो डीएसपी ने कहा कि नशा एक सामाजिक बुराई है और इस बुराई को समाज से मिटाने के लिए आमजन का सहयोग अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि जिला पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ जोरदार अभियान चलाया जा रहा है, परंतु इस मुहिम की शत प्रतिशत सफलता के लिए जन सहयोग अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि नशे के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में पुलिस का सहयोग करें। नशा बेचने वालों की सूचना बेखौफ पुलिस को दें ताकि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके।

Watch This Video Till End….

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें!