संत कबीर दास जी की जयंती के उपलक्ष पर पंचकूला में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम

देहरादून : उत्तराखंड में नाइट कर्फ्यू

उत्तराखंड के मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने सभी जिलाधिकारियों को पत्र जारी कर निम्न निर्देश जारी किये हैं –

For Detailed News-

  1. सभी धार्मिक, राजनैतिक एवं सामाजिक आयोजनों तथा विवाह आदि में 200 लोगों से ज्यादा शामिल नहीं हो सकेंगे।
  2. बस, टेम्पो आदि में क्षमता के 50 प्रतिशत यात्री ही सफर कर सकेंगे।
  3. सभी कोचिंग, स्वीमिंग पूल, स्पा पूर्णतः बंद रहेंगे।
  4. सिनेमा हाॅल, रेस्टोरेंट, जिम में क्षमता के 50 प्रतिशत व्यक्ति ही एक बार में प्रवेश कर सकेंगे।
  5. उत्तराखंड में रात्रि 10.30 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कफ्र्यू रहेगा। इस बीच में लोगों की आवाजाही पूर्णतः बंद रहेगी। इस दौरान फैक्ट्रियों से काम कर लौट रहे, मालवाहक वाहनों में माल उतारने-चढ़ाने वाले, बसों/ट्रेनों आदि से अपने घर जाने वाले, शादी समारोह में जाने वाले लोगों को छूट रहेगी।

https://propertyliquid.com

संत कबीर दास जी की जयंती के उपलक्ष पर पंचकूला में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम

IGNOU holds 34th Convocation through Virtual Mode on 15th April, 2021

Owing to the rapid surge in COVID-19 cases, Indira Gandhi National Open University (IGNOU) hosted its 34th Convocation virtually on 15th April, 2021 (Thursday) at 11 AM. The University awarded degrees, diplomas, and certificates to more than 235,000 successful students in the Convocation. In this Convocation discipline wise Gold Medal were also awarded. Prof. Nageshwar Rao, Vice-Chancellor Indira Gandhi National Open University (IGNOU) presented the Annual Report of the University. In his address he emphasized that IGNOU continuously provided support services to its learners during pandemic through online mode and also started online programmes. He also stated that due to the quality students support services provided by IGNOU to its learners throughout the country IGNOU was recently awarded A++ Grade by NAAC.

For Detailed News-

Shri Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’, Honourable Minister of Education, Government of India was the Chief Guest and delivered the Convocation Address virtually on this occasion. Dr. Nishank while delivering the Convocation address appreciated the efforts made by IGNOU to enroll more than 8 lakh learners to its various programmes during the pandemic period. He emphasized that enough resources has been allocated for undertaking research activities and the academic community including the learners should aim for patenting their contribution and the youth of INDIA should be job providers rather than job seekers which means the focus should be on establishing enterprises so that more and more people should get job. 

https://propertyliquid.com

The proceedings of the Convocation were telecasted live through IGNOU’s Gyan Darshan Channel, SWAYAM Prabha Channels (#17,18,19,20) Managed by IGNOU and Facebook Page of IGNOU(https://www.facebook.com/OfficialPageIGNOU) and the same was view by IGNOU fraternity at Hqrs., Regional Centres & across the country.

IGNOU Regional Centre Chandigarh also watched the live proceedings of the 34th Convocation at Regional Centre Premises. On this occasion all the staff members were present. Regional Centre Chandigarh Congratulation to all its students who have received degrees, diplomas, and certificates in this Convocation.

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

IGNOU extends Admission up to 31st March, 2021

For Detailed News-

The Indira Gandhi National Open University (IGNOU) has extended the last date of submission of online Fresh admission of all Masters, Bachelor, Diploma & Certificate programmes up to 31st March, 2021 for the January, 2021 session. Details of the IGNOU academic programmes for the January, 2021 session can be accessed from the link https://ignouadmission.samarth.edu.in/. The prospective learners can apply for Masters/Bachelor/Diploma/Certificate programmes of the University on the official website, informed The Regional Director of IGNOU Regional centre Chandigarh Dr. A.K.Dimri. Last date of submission of ‘online’ admission form for January, session was earlier fixed for 15th March, 2021. 

https://propertyliquid.com

For all those candidates, who have been planning to get admission in any of the IGNOU courses can apply for the same online. Firstly the candidate has to register themselves (if not registered) on the official website i.e https://ignouadmission.samarth.edu.in/. Whereas those who have already registered can simply login with the id- password and fill up the application form for the admission in the January session at Indira Gandhi National Open University for 2021. Also, before filling up the IGNOU admission form, candidates must go through the general instructions, eligibility criteria, fee details, duration, etc. on the official website. Applicants can also download the complete details of the programmes from the IGNOU website.

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

महाशिवरात्रि इस साल 11 मार्च गुरुवार को यह महापर्व मनाया जाएगा।

महाशिवरात्रि 2021:

Panchkula:

For Detailed News-

इस साल 11 मार्च गुरुवार को यह महापर्व मनाया जाएगा।

हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि का त्यौहार बेहद श्रध्दा और उत्साह के साथ मनाया जाता है। भगवान भोलेनाथ की भक्ति के लिए यह दिन बेहद खास माना जाता है। महाशिवरात्रि हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर मनाई जाती है।

https://propertyliquid.com

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

पारस अस्पताल पंचकूला में आधुनिक हार्ट वाल्व क्लीनिक शुरू

बिना सर्जरी के हार्ट वाल्व बदलने की आधुनिक तकनीक टीएवीआई बुजुर्ग मरीजों के लिए वरदान: डा. एच.के.बाली
भारत में 15 लाख मरीज दिल के वाल्व की खराबी से पीडि़त : डा. अनुराग शर्मा
बीमारी का समय पर पता लगने पर मरीज को मिल जाता है नया जीवन: डा. राणा संदीप

News7World:-

चंडीगढ़, 26 फरवरी ( ): पारस अस्पताल पंचकूला के दिल के रोगों के माहिर डाक्टरों की टीम ने हार्ट वाल्व की समस्या तथा बिना सर्जरी इलाज विषय पर मीडिया के साथ बातचीत की। इस संबंधी कार्डियक साइंस के चेयरमैन डा. एच.के.बाली, सीटीवीएस के डायरेक्टर राणा संदीप सिंह, एसोसिएट डायरेक्टर डा. अनुराग शर्मा, सीनियर कंस्लटेंट डा. गगनदीप सिंह, डा. कपिल चैटरी तथा प्रियंका गुप्ता ने संबोधन किया।

For Detailed News-


डा. एच.के.बाली ने कहा कि दिल के वाल्व की समस्या या बीमारी के समय वाल्व बदला जाता है। उन्होंने बताया कि वाल्व बदलना एक आम डाक्टरी प्रक्रिया है, जिसमें एरोटिक वाल्व बदला जाता है। डा. बाली ने बताया कि कई बार बुढ़ापे में यह वाल्व सुकूड़ जाता है या मोटा हो जाता है। उन्होंने बताया कि पहले दिल का आप्रेशन (ओपन हार्ट सर्जरी) करके वाल्व बदला जाता था, जिस कारण बुजुर्ग मरीज यह आप्रेशन नहीं करवा सकते थे।


डा. बाली ने बताया कि एरोटिक वाल्व में समस्या के कारण मरीज के शरीर को कम रक्त पहुंचता है, जिससे सांस लेने, थकावट, छाती में दर्द तथा टांगों की सोजिश जैसे कई लक्ष्ण दिखाई देते हैं। उन्होंने बताया कि अब सर्जरी की जरूरत नहीं है, क्योंकि ट्रांस कैथेटिर एरोटिक वाल्व इम्पलांटेशन (टीईवीआई) या टीएवीआर आ गई है।


इसी तरह के इलाज में संक्रमण का भी कोई खबरा नहीं रहता है, दो-तीन दिन बाद मरीज को अस्पताल में से छुट्टी दे दी जाती है। डा. बाली ने बताया कि हमारे देश में इस तकनीक द्वारा एक साल में 600 मरीजों का इलाज किया जाता है, जबकि अमरीका में करीब 80 हजार लोगों का एक साल में इलाज होता है।

डा. अनुराग शर्मा ने कहा कि कुछ वर्ष पहले ही बहुत ज्यादा गंभीर मरीजों का इलाज टीएवीआई की तकनीक द्वारा किया जाता था, पर अब कम जोखिम वाले मरीजों के लिए भी इस तकनीक का प्रयोग किया जाता है। उन्होंने बताया कि यह इलाज एंजियोग्राफी की तरह एक आर्टरी द्वारा किया जाता है। एंडोवेस्कूलर तकनीक के जरिए वाल्व तबदील किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस विधि से ट्रांस्पलांट के लिए डेढ़ से दो घंटे का समय लगता है।

https://propertyliquid.com


दिल के रोगों के इलाज संबंधी विभाग (कार्डियो थोरोकिक एंड वेस्कूलर सर्जरी विभाग) में पारस सुपरस्पेशलिटी अस्पताल की सुविधाओं के बारे बताते हुए डा. राणा संदीप सिंह ने बताया कि दिल के वाल्व की स्थिति की जांच के लिए इको-कार्डियोग्राफी तथा डोपलर एक सरल तकनीक है, जो पारस अस्पताल में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि दूर-दराज के इलाकों करनाल, पानीपत, जम्मू, अमृतसर, संगरूर, बठिंडा से मरीज यहां वाल्व के इलाज के लिए आते हैं।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

पूरे उत्तर भारत में भूकंप के झटके महसूस किए

BIG BREAKING

पूरे उत्तर भारत में भूकंप के झटके महसूस किए

संत कबीर दास जी की जयंती के उपलक्ष पर पंचकूला में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को आम बजट पेश किया।

सरकार ने पेट्रोल पर 2.5 रुपए और डीजल पर 4 रुपए एग्री सेस का प्रस्ताव रखा है।

For Detailed News-

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को आम बजट पेश किया। सरकार ने पेट्रोल पर 2.5 रुपए और डीजल पर 4 रुपए एग्री सेस का प्रस्ताव रखा है। यह 2 फरवरी से लागू हो जाएगा। हालांकि, वित्त मंत्री ने भरोसा दिलाया है कि इसका बोझ आम आदमी पर नहीं आने दिया जाएगा।

https://propertyliquid.com

इसके लिए बेसिक एक्साइज ड्यूटी और स्पेशल एडिशनल एक्साइज ड्यूटी घटा दी गई है। साथ ही इंश्योरेंस सेक्टर में FDI की लिमिट 49% से बढ़ाकर 74% कर दी गई है। बजट में मिडिल क्लास खाली हाथ ही रहा। सरकार ने इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया, न ही कोई छूट दी। हालांकि, किफायती घर खरीदने वालों को ब्याज में 1.5 लाख रुपए की एक्स्ट्रा छूट का समय एक साल बढ़ाकर मार्च 2022 तक कर दिया। वहीं 75 साल से ज्यादा उम्र वाले पेंशनर्स को इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से छूट भी दी है। 

संत कबीर दास जी की जयंती के उपलक्ष पर पंचकूला में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम

DLIS organized Alumni meet

Chandigarh January 23, 2021

For Detailed News-

The Department of Library and Information Science, Panjab University, Chandigarh organised Alumni Meet in virtual mode. Prof. I. V. Malhan, former Dean Academics, Central University of Himachal Pradesh and alumnus of the department was the chief Guest and Mr. V. K. Grover, former Deputy Librarian was the guest of honour. The department hounered two eminent alumni, Prof. R. L. Raina, Vice Chancellor, JK Lakshmipat University, Jaipur and Prof. Jagtar Singh, Former Dean Faculty, Education and Information Science, Punjabi University, Patiala for their contribution. In the second session, the memories and experiences were shared by the members. Mr. Sushil Jain, Alumnus of the first batch (1960) of department also shared his memories and experiences. Prof. Preeti Mahajan, Chairperson of the department moderated the second session and Prof. Rupak Chakravarty presented vote of thanks. Dr. Shiv Kumar, Convener Alumni meet also highlighted the relationship between the department and alumni.

https://propertyliquid.com

संत कबीर दास जी की जयंती के उपलक्ष पर पंचकूला में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम

पंचकूला में बनेगा स्टेट ऑफ आर्ट पार्क

पंचकूला, 6 जनवरी

कई फीचर ऐसे होंगे जो दुनिया में अभी तक कहीं भी नहीं

24 एकड़ भूमि चिह्नित, 6 एकड़ में बनेगा मैरिज पैलेस, 18 एकड़ में विश्व स्तरीय पार्क

ज्ञान चंद गुप्ता बोले- पंचकूला आने वाला हर शख्स इसे जरूर देखेगा

पंचकूला में ऐसा पार्क विकसित होने जा रहा है जो सिर्फ भारत बल्कि विश्व स्तर पर सुंदरता और विशिष्टता के लिए जाना जाएगा। पार्क के अंदर ध्यान की गहराइयों में उतारने वाला मेडिटेशन गार्डन होगा तो एडवेंचर की सैर कराता संकन गार्डन अपनी गहराई के लिए विख्यात होगा। इसमें ऐसा टोपेरी गार्डन भी होगा जो अभी तक किसी भी देश में नहीं है। यहां विकसित होने वाला सस्पेंस फाउंटेन किसी भी आयु वर्ग के लोगों के लिए काेतूहल का विषय रहेगा। पार्क में स्थापित किया जा रहा भूलभुलैया पंचकूला में पर्यटन का केंद्र बन सकता है। प्रदेश सरकार ने इसे विकसित करने की जिम्मेदारी टाउन एंड कंटरी प्लानिंग विभाग को सौंपी है। पार्क की विस्तृत योजना बनाने के लिए हरियाणा विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने बुधवार को विभाग के प्रधान सचिव अपूर्व कुमार सिंह समेत वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में लैंडस्केपिंग एवं बागवानी विशेषज्ञ डॉ. सतीश नरूला ने ‘स्टेट ऑफ आर्ट पार्क’ पर प्रस्तुति दी।

For Detailed News-

हरियाणा विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने पंचकूला को देश का सुदंरतम शहर बनाने के लिए कमर कस ली है। उनका सपना है कि यहां ऐसा पार्क विकसित हो जिसे पंचकूला आने वाला हर शख्स देखने के लिए जाए। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से ‘स्टेट ऑफ आर्ट पार्क’ मंजूर करवाया है। इसके लिए सेक्टर 23 में 24 एकड़ भूमि चिह्नित कर ली गई है। इसमें से 6 एकड़ भूमि पर मैरिज पैलेस बनेगा जबकि 18 एकड़ में विश्व स्तरीय पार्क विकसित किया जाएगा। मैरिज पैलेस और स्टेट ऑफ आर्ट पार्क की पार्किंग साझी होगी।

https://propertyliquid.com

‘स्टेट ऑफ आर्ट पार्क’ का डिजाइन तैयार कर रहे लैंडस्केपिंग एवं बागवानी विशेषज्ञ डॉ. सतीश नरूला ने बताया कि इस पार्क में पूरी तरह से नए कॉन्सेप्ट का टोपेरी गार्डन विकसित किया जाएगा। यहां स्थापित होने वाला सस्पेंस फाउंटेन नवीनतम तकनीक पर आधारित होगा। यह गुरुग्राम के म्यूजिकल फाउंटेन से काफी एडवांस होगा। उन्होंने बताया कि फाउंटेन में रंग-बिरंगी लाइटों और वन्य जीवों की आकृतियों से निकलने वाला पानी आकर्षण का केंद्र बनेगा। इसके साथ ही पार्क में आने वालों के लिए खाना और स्नेक्स के विशेष प्रबंध होंगे। इसके लिए पार्क के भीतर की रेस्टोरेंट का निर्माण किया जा रहा है। सांस्कृतिक कार्यक्रम की छटा बिखेरने के लिए ओपर एयर थियेटर भी पूरी तरह से हट कर होगा। इसके साथ ही पार्क में लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करता ‘गार्डन ऑफ 5 सेंसिज’ होगा। इसके लिए जादुई दीवार होगी, जिसे छूकर लोग अपनी ज्ञानेंद्रियों की क्षमता को माप सकेंगे। संकन गार्डन और भूलभुलैया एक साथ होंगे। इसके लिए पार्क में तलहटीनुमा जगह विकसित होगी। इस जगह की गहराई और उसमें बना भूलभुलैया रोमांच और साहसिक गतिविधियों के लिए प्रयोग होगा। पार्क के बीच में सेंट्रल स्पॉट होगा, जहां पहुंचने पर पर्यटकों को शांति का अहसास होगा। बैठक में टाउन एंड कंटरी प्लानिंग विभाग के प्रधान सचिव
अपूर्व कुमार सिंह, प्रशासक महावीर कौशिक, ईओ अनिल दून, मुख्य वास्तुकार एचआर यादव, सीटीपी एन मेहतानी, एसई संजीव चौपड़ा, हरदीप सिंह, एक्सईएन अशोक राणा, यजेश मोहन मेहरा समेत अधिकारी मौजूद रहे।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भी तैयार होंगे

विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने बताया कि ‘स्टेट ऑफ आर्ट पार्क’ में अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानकों के अनुरूप साइकिल ट्रैक विकसित किया जाएगा। इसका उद्देश्य शहर में साइकिलिंग का अभ्यास करने वाले खिलाड़ियों के लिए उचित वातावरण उपलब्ध करवाना है। इसके साथ ही पार्क में स्केटिंग रिंग भी तैयार होगा। यह भी खिलाड़ियों की जरूरतों के मुताबिक तैयार होगा। इसके साथ ही व्यायाम के लिए फिटनेस टूल्स के साथ ओपन जिम भी पार्क में विकसित किया जाएगा।

पंजाब जा रहा हरियाणा का रेवेन्यु, मैरिज पैलेस बनाकर रोकेंगे

गत दिनों पंचकूला के दौरे पर आए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पाया कि पंचकूला के लोग शादी समारोह के लिए जीरकपुर स्थित मैरिज पैलेसों का प्रयोग करते हैं। इससे बड़ी मात्रा में हरियाणा का राजस्व पंजाब में चला जाता है। मुख्यमंत्री चाहते हैं कि पंचकूला में शादियों के लिए बड़ी जगह तैयार की जाए, जिससे शहर वासियों को सुविधा हो और प्रदेश सरकार की आमदनी बढ़ाई जा सके। इसी उद्देश्य से सेक्टर 23 में बनने वाले ‘स्टेट ऑफ आर्ट पार्क’ के साथ ही 6 एकड़ भूमि पर मैरिज पैलेस तैयार होगा। यह मैरिज पैलेस काफी विशाल तथा अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। बड़ा मैरिज पैलेस और स्टेट ऑफ आर्ट पार्क एक साथ विकसित होने से इस प्रोजेक्ट उपयोगिता काफी बढ़ जाएगी। सरकार इसे जन उपयोगी और पर्यटन के केंद्र के रूप में विकसित करना चाहती है।

First meeting of Interdisciplinary Task Force Held

Admission Schedule of M.Phil/Ph.D (2020-21)

Chandigarh December 18, 2020

The Department of Public Administration, Panjab University, Chandigarh invites applications for admission to M.Phil/Ph.D Programme for the session 2020-21 as per the following schedule:

For Detailed News-

Last Date for the submission of Application :    31.12.2020 (Thursday)

Date of Interview (Online Mode)     :           11.01.2021 (Monday) 2:00 PM onwards 

Display of Final Merit List              :           12.01.2021

The candidates can submit their applications through email at publicadmn_pu@pu.ac.in on plain paper along with following scanned documents:

1.       Qualifying Examination- UGC- NET/JRF/PU M.Phil/Ph.D Entrance Test (held in the past with three-year validity)

https://propertyliquid.com

2.       Latest Photograph

3.       DMC of 10th Class

4.       DMC of 10+2 Class

5.       All Graduation DMCs

6.       All Post-Graduation DMCs

7.       Caste Certificate, if any

8.       Aadhar Card

9.       Research Proposal*

*   The Research Proposal should cover tentative title/research area, its rationale, theoretical frame work, objectives, research questions, and proposed research methodology. This will have to be presented before the Interview Committee of the Department at the time of interview. All the applicants must prepare 8 to 10 minutes PPT as per their research proposal. The research aptitude of the applicant will be assessed on the basis of interview/presentation. However, the topic of research will be finalized in consultation with the supervisor after admission. The Research proposal for the presentation for the admission should include reference to 3 or 4 reference books and 4 or 5 journal articles.

Important Instructions:

The candidates who have cleared any of the following national tests can apply for M.Phil/Ph.D Admission for the session 2020-21:

·         UGC-CSIR NET including JRF, SLET, GATE or any other prestigious test for national level scholarship/fellowship conducted at all India level on behalf of national institutions for example GPAT and JEST.

·         Direct awardees of fellowship for pursuing Ph.D.

·         Working permanent teachers of Panjab University and affiliated colleges

·         Ph.D Entrance Test of Panjab University for admission to Ph.D/M.Phil shall be walid for 3 years.

The GATE qualifying score be considered as the basic. GATE/GPAT of any other national level test meant for admission to Ph.D/M.Phil shall be valied forever.