जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा हर घर तिरंगा अभियान के तहत निकाली गई साइकिल रैली

11 किलो चांदी से सजा मां का दरबार देखने योग्य होगा, शक्तिपीठ कल्याणी देवी में नवरात्र में मां दुर्गा अलग-अलग भव्य रूप धारण करेंगी

मां भगवती के आराधना का पावन पर्व वासंतिक नवरात्र छह अप्रैल से शुरू हो रहा है।

मां भगवती के आराधना का पावन पर्व वासंतिक नवरात्र छह अप्रैल, शनिवार से शुरू हो रहा है। कलश स्थापना के साथ पहले दिन शैलपुत्री की पूजा की जाएगी।

इसी के साथ नवसंवत्सर भी शुरू होगा। शहर की तीनों शक्तिपीठों में नवरात्र पर पूजन-अर्चन के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ेगी।

नौ दिन तक मां के विविध स्वरूपों का बहुरंगी पुष्पों, स्वर्णाभूषणों और वस्त्रों से अलौकिक श्रृंगार किया जाएगा। इसके लिए शक्तिपीठों को विद्युत झालरों से सजाने के साथ मां के गर्भगृह को भव्य रूप दिया जा रहा है। 

11 किलो चांदी से सजा मां का दरबार : शक्तिपीठ कल्याणी देवी में नवरात्र में मां दुर्गा अलग-अलग भव्य रूप धारण करेंगी।

मंदिर के पुजारी पं. श्यामजी पाठक के अनुसार गर्भगृह में मां के दरबार के लिए 11 किलो के चांदी के खंभे बनाए गए हैं।

इसे कोलकाता और बनारस के कलाकारों ने तैयार किया है। मां के श्रृंगार के लिए वृंदावन से विशेष वस्त्र मंगाए गए हैं।

भक्तों की सुविधा के साथ स्टील की रेलिंग लगाई गयी है। साथ ही सुरक्षा के मद्देनजर आठ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। नवरात्र में मानस पाठ, सतचंड़ी महायज्ञ और अनुष्ठान होगा। 

वनारस के कारीगर सजा रहे शक्तिपीठ: नवरात्र पर मां के भव्य दर्शन-पूजन के शक्तिपीठ ललिता देवी को सजाया जा रहा है। इस बार मां के गर्भगृह में गुलाब, गुड़हल, गेंदा के पुष्पों, रत्न जड़ित साड़ियों और स्वर्ण आभूषणों से शृंगार किया जाएगा।

नए रूप-रंग में नजर आएगा अलोपी मंदिर: इस बार नवरात्र में शक्तिपीठ अलोपीदेवी नए रूप-रंग में नजर आएगा। मंदिर में 30 फिट ऊंचा भव्य प्रवेश द्वार बनाया गया।

मंदिर परिसर में हवन-पूजन के लिए एक अलग से यज्ञशाला बनाई गयी है। मंदिर में मां के पालने तक भक्तों को पहुंचने के लिए गर्भगृह तक स्टील की बैरीकेडिंग की जा रही है। मंदिर परिसर में सात सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply