*MCC organizes special workshop for students on World Paper Bag Day*

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ने जिलावासियों को तोफहा देते हुए लगभग 6.68 करोड़ रुपये के विभिन्न विकास परियोजनाओं का किया उद्घाटन एवं शिलान्यास

श्री गुप्ता ने ओद्योगिक क्षेत्र फेस-1 में रेलवे अंडर ब्रीज से रेलवे ओवर ब्रीज तक और सीआईडी पार्क से रेलवे ओवर ब्रीज तक  आरएमसी रोड और स्टोरैम वाॅटर डरेनेज के कार्य का किया शुभारंभ

पंचकूला विधानसभा में 21.71 करोड़ रुपये की लागत से 38.08 किलोमीटर लंबी 34 सड़कों के रिकारपेटिंग का कार्य शुरू,  आगामी 3 महीने में होगा पूरा

पंचकूला का नागरिक होने के नाते पंचकूलावसियों की सभी समस्याओं सेउपायुक्त ने अनीमिया मुक्त हरियाणा अभियान को लेकर लघु सचिवालय के सभागार में आयोजित बैठक की करी अध्यक्षता

11 मार्च से 17 मार्च तक चलने वाले अभियान के तहत की जाएगी जिलावासियों के खून की जांच – उपायुक्त

दाखिले के समय बच्चे के खून की मात्रा को फार्म में जरूर भरें – श्री सुशील सारवान

For Detailed

पंचकूला, 4 मार्च – उपायुक्त श्री सुशील सारवान की अध्यक्षता में आज 11 मार्च से 17 मार्च तक अनीमिया मुक्त हरियाणा अभियान को लेकर लघु सचिवालय के सभागार में बैठक आयोजित हुई। उपायुक्त ने बैठक में संबन्धित अधिकारियों को उचित दिशा-निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि सभी विभाग के अधिकारी संयुक्त रूप से इस अभियान को चलाएं और अभियान के दौरान संयुक्त रूप से स्कूलों, आंगनवाड़ी केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का दौरा करें। उपायुक्त ने कहा कि बच्चों के हेल्थ कार्ड में एचबी के एक अलग कॉलम का प्रावधान किया जाना चाहिय ताकि कमी पाए जाने पर बच्चों को जरूरी इलाज मुहैया करवाया जा सके।
श्री सुशील सारवान ने कहा कि अनीमिया मुक्त हरियाणा का उद्देश्य अनीमिया के चक्र को तोड़ना है। इसके लिए शुरूआत में छह अलग-अलग आयु वर्ग को लक्षित किया गया है। इनमें छोटे बच्चे 6 महीने से 59 महीने तक, स्कूल जाने वाले 5 वर्ष से 9 वर्ष, किशोरों में 10 वर्ष से 19 वर्ष, महिलाआं में 20 वर्ष से 24 वर्ष और गर्भवती महिलाओं पर विशेष ध्यान दिया गया है।


उपायुक्त बताया कि 11 मार्च से 17 मार्च तक अनीमिया मुक्त हरियाणा अभियान चलाकर जिला के हर वर्ग के लोगों के खून की जांच की जाएगी। इसके बाद एचबी के आधार पर ट्रीटमेंट दिया जाएगा ।  उन्होंने कहा कि अनीमिया को देखते हुए संतुलित आहार, नियमित आयरन की खुराक, कृमि नियंत्रण और जीवन शैली पर ध्यान देने की जरूरत है।
सिविल सर्जन डाॅ. मुक्ता कुमार ने बताया कि एनीमिया का मतलब है कि शरीर में खून की कमी होना। हमारे शरीर में हिमोग्लोबिन एक ऐसा तत्व है जो शरीर में खून की मात्रा बताता है। मनुष्य एनीमिया का शिकार तब होता है जब शरीर के रक्त में लाल कणों या कोशिकाओं के नष्ट होने की दर, उनके निर्माण की दर से अधिक हो जाती है। आमतौर पर लोग खून की कमी को हल्के में लेते हैं, जिससे कई स्वास्थ्य समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है।
इस अवसर पर उप सिविल सर्जन डाॅ. शिवानी, खण्ड शिक्षा अधिकारी रायपुर रानी सुमन चैधरी, पिंजोर सीमा रानी, बरवाला जोगिन्द्र सिंह और मोरनी अनूप सिंह, खण्ड मौलिक शिक्षा अधिकारी बरवाला रमेश बतरा, डब्ल्यूसीडीपीओ रायपुर रानी शशि, सीनियर मेडिकल अधिकारी डाॅ. राजेश समेत अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

https://propertyliquid.com