*Municipal Corporation takes another step to improve Sanitary Waste Management with new initiatives*

स्वास्थ्य विभाग ने जिला की 25 पंचायतों को टीबी मुक्त श्रेणी में रखा

टीबी मुक्त 25 पंचायतों को मिलेगा सम्मान

पंचकूला तेजी से टीबी मुक्त भारत लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है

For Detailed

पंचकूला जनवरी 30: स्वास्थ्य विभाग ने टीबी मुक्त भारत के तहत जिला की कुल 134 में से 25 ऐसी ग्राम पंचायतों का चयन किया है, जिनमें टीबी रोगियों की संख्या या तो शून्य है या फिर उनमें मात्र एक मरीज है और उसका भी इलाज चल रहा हो ।
      चयनित ग्राम पंचायतों को आगामी 24 मार्च को विश्व टीबी दिवस पर जिला स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा।
       उल्लेखनीय है कि वर्ष 2023 के टीबी के ओवरऑल सेक्सेस प्वाइंटस में पंचकूला जिला प्रदेश में द्वितीय स्थान पर है । उप-सिविल सर्जन एवं नोडल अधिकारी (टीबी) पंचकूला डॉ. मोनिका कौड़ा का कहना है कि जिलेभर की 137 ग्राम पंचायतों में से स्वास्थ्य विभाग की ओर से 25 गांवों को टीबी मुक्त ग्राम पंचायत की श्रेणी में रखा गया है। उन्होंने बताया कि ब्लॉक कालका की पाँच और रायपुर रानी की 20 पंचायतों को टीबी मुक्त पंचायत घोषित किया गया है ।


टीबी मुक्त ग्राम पंचायत का चयन करने के ये हैं नियम: –

■ एक हजार जनसंख्या पर कम से कम 30 सैंपल ।
■ गांव में एक हजार जनसंख्या पर टीबी के मरीजों की संख्या शून्य हो या फिर एक मरीज हो।
■ गांव में मिले टीबी के मरीजों ट्रीटमेंट रेट 100 फीसदी हो।
■पूर्व में आए कुल टीबी मरीजों में से 62 प्रतिशत का सीबीनॉट टेस्ट करवाया गया हो।
■ टीवी मरीजों को निक्षय पोषण योजना के तहत 500 रुपये प्रतिमाह दिए गए हो।
■ टीबी मरीजों को न्यूट्रीशियन स्पोर्ट किट दी गई हो।

https://propertyliquid.com