*श्रीमती अरूणा आसफ अली राजकीय महाविद्यालय कालका में राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन*

संघर्ष से निकलने वाला बनता है महान : उपायुक्त

सिरसा, 16 अप्रैल।

हर पात्र व्यक्ति का मतदान करना ही बाबा साहेब को होगी सच्ची श्रद्धांजलि

जो व्यक्ति अपने जीवन में संघर्ष करते हुए आगे बढ़ता है, वह आगे चलकर एक महान व्यक्तित्व का धनी होता है। दुनिया में जितने भी महापुरूष हुए हैं, उनका जीवन संघर्षों से भरा हुआ रहा है। इन्हीं महान शख्सियतों में डॉ. भीम राव अम्बेडकर भी एक थे, जिन्होंने अपने जीवन में अनेक कठिनाईओं का सामना करते हुए अधिकारों के प्रति लड़ाईयां लड़ी।

डा. भीमराव अम्बेडकर जी की जयंति पर जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन

ये विचार उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने आज राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में डा. भीमराव अम्बेडकर जी के 128वीं जयंती के अवसर पर आयोजित जिला स्तरीय समारोह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। समारोह का शुभारंभ डा. भीम राव अम्बेडकर के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर किया गया। समारोह का आयोजन जिला कल्याण विभाग की ओर से किया गया। समारोह में अतिरिक्त उपायुक्त मनदीप कौर ने बतौर विशिष्ठ अतिथि शिरकत की। मंच संचालन चिमन भारती ने किया।

उपायुक्त ने कहा कि डा. भीम राव अम्बेडकर ने अंग्रेजों के साथ अपने अधिकारों के लिए लड़ाईयां लड़ी और जीवन पर्यन्त इस दिशा में सुधार के लिए संघर्ष करते रहे। उन्होंने सामाजिक,जातिवाद आदि की समानता के लिए अनेकों कठिनाईयों का सामना करना पड़ा,लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। यदि आज की तुलना में उस दौर के सामाजिक परिदृश्य को देखा जाए तो बहुत विषमता थी, लेकिन डा. भीम राव अम्बेडकर ने ऐसे हालातों में न केवल स्वयं को दूसरों को भी जीवन में आगे बढने की कला सिखाई। और उनकी दूसरों को सीख दी शिक्षा। उन्होंने कहा कि डा. भीम राव अम्बेडकर ने शिक्षा को ही अपनी कामयाबी का हथियार बनाया और लोगों को शिक्षित होने के लिए प्रेरित किया। उनका मानना था कि शिक्षा के बिना कोई भी समाज व देश आगे नहीं बढ सकता है। उन्होंने उपस्थित छात्राओं को कहा कि वे उच्च शिक्षा प्राप्त कर डॉ. भीम राव अम्बेडकर के आदर्शों को अपने जीवन में उतारें। 

उन्होंने कहा कि डॉ. भीम राव अम्बेडकर की हमें सबसे बड़ी देन संविधान है। इसी संविधान ने हमें हमारे अधिकार दिए हैं। यदि डॉ. भीम राव अम्बेडकर को सही मायने में जानना है, तो संविधान को पढ व समझ लेना चाहिए। इसी संविधान के अंदर प्रत्येक पात्र नागरिक को मत के प्रयोग का भी अधिकार दिया गया है। कोई भी व्यक्ति जो मत के प्रयोग की पात्रता रखता है, वह अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करे। उन्होंने सभी का आह्वान करते हुए कहा कि हर पात्र व्यक्ति 12 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करके देश की लोकतांत्रिक प्रणाली की मजबूती में अपना योगदान करे। हर पात्र व्यक्ति का मतदान करना ही डॉ. भीमराव अम्बेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 

अतिरिक्त उपायुक्त मनदीप कौर ने भी उपस्थितजन को संबोधित करते हुए कहा कि वे डॉ. भीम राव अम्बेडकर की शिक्षाओं व उनके आदर्शों को अपने जीवन में आत्मसात करें। उन्होंने उपस्थित छात्राओं से कहा कि वे उच्च शिक्षा प्राप्त करें और इस दिशा में कड़ी मेहनत करें। उप जिला शिक्षा अधिकारी पवन कुमार सुथार, डॉ. रमेश मेहरा, शुभकरण शर्मा, विद्यालय की छात्रा रीतिका व नेहा ने भी डॉ. भीम राव अम्बेडकर की जीवनी पर प्रकाश डाला। 

इस अवसर पर निबंध व भाषण प्रतियोगिता में विजेता रहे विद्यार्थियों को पुरस्कृत भी किया। समारोह में जिला समाज कल्याण अधिकारी सुशील कुमार शर्मा, स्कूल प्रिंसिपल जसबीर कौर, हिंदी प्रवक्ता कुमारी सीमा मिल सहित अन्य अधिकारी व स्कूल स्टाफ सदस्य उपस्थित थे। 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply