विकास के मामले में रानियां बन रहा अग्रणी हलका : रणजीत सिंह

शिमला और कांगड़ा संसदीय क्षेत्र से दोनों ही पार्टियों ने अपने वर्तमान विधायकों को लोकसभा चुनाव में उतारा,ऐसे में विधानसभा के दो उप चुनाव होने अब तय

शिमला:

 हिमाचल की चार लोकसभा सीटों पर भाजपा ने सभी चार और कांग्रेस ने तीन संसदीय क्षेत्रों में उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है।

कांगड़ा और शिमला (सुरक्षित) संसदीय क्षेत्र से दोनों ही पार्टियों ने अपने वर्तमान विधायकों को लोकसभा चुनाव में उतारा है। ऐसे में विधानसभा के दो उप चुनाव होने अब तय हैं।

शिमला सुरक्षित संसदीय क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी सुरेश कश्यप चुनाव मैदान में हैं। सुरेश कश्यप वर्तमान में सिरमौर जिला के पच्छाद विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं।

वे 2017 में दूसरी बार पार्टी के विधायक बने हैं, वहीं कांग्रेस ने भी सोलन जिला की सोलन सदर विधानसभा क्षेत्र से पार्टी के विधायक धनी राम शांडिल को लोकसभा चुनाव में उतारा है।

शांडिल 1999 से लेकर 2000 तक शिमला से पहले भी सांसद रह चुके हैं, जबकि वे 2012 और 2017 में सोलन विधानसभा क्षेत्र से विधायक बने हैं। 

हिमाचल में भाजपा और कांग्रेस में सीधा मुकाबला होता है। यहां कोई भी तीसरी ताकत सार्थक तौर पर मैदान में नहीं है। ऐसे में शिमला संसदीय क्षेत्र से कोई भी प्रत्याशी जीते उपचुनाव होना तय है।

इसी तरह कांगड़ा लोकसभा से भी बीती देर रात कांग्रेस ने कांगड़ा लोकसभा से अपने विधायक पवन काजल को मैदान में उतारा है।

काजल 2012 में पहली बार निर्दलीय तौर परचुन कर विधानसभा में पहुंचे थे।

2017 के विधानसभा चुनाव से पहले उन्होने कांग्रेस का दामन थामा था और कांग्रेस की टिकट पर चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे थे, वहीं भाजपा ने कागड़ा से पहले ही धर्मशाला से विधायक व प्रदेश सरकार में खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री किशन कूपर को चुनाव मैदान में उतारा है।

ऐसे में कोई भी प्रत्याशी जीते यहां पर भी उपचुनाव होना तय है।

कपूर गद्दी समूदाय से और काजल अन्य पीछड़ा वर्ग से संबंध रखते हैं। दोनों ही पार्टियों ने वोटों ने ध्रवीकरण की पूरी कोशिश की है।

कांगड़ा और शिमला संसदीय क्षेत्र से जो भी प्रत्याशी जीते चार विधानसभा सभाओं धर्मशाला, कांगड़ा, सोलन और पच्छाद में से दो सीटों पर उपचुनाव होना तय है।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply