जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा हर घर तिरंगा अभियान के तहत निकाली गई साइकिल रैली

पुलिस व प्रशासन आपसी समन्वय के साथ करे कार्य : एसीएस

सिरसा 2 मई। 

संवेदनशील व अतिसंवेदनशील बूथों पर रखें विशेष नजर

लोकसभा आम चुनाव को निष्पक्ष, स्वतंत्र व शांतिपूर्वक सम्पन्न करवाने के लिए पुलिस व जिला प्रशासन का आपसी समन्वय जरूरी है। दोनों के आपसी तालमेल के साथ टीम वर्क के रूप में यदि कार्य होगा तो किसी भी हालात पर समय रहते काबू पाया जा सकता है। इसलिए संबंधित जिला पुलिस अधीक्षक व उपायुक्त लोकसभा आम चुनाव में सुरक्षा के दृष्टिगत एक दूसरे के साथ आपसी सामजस्य बनाए रखें। 

लोकसभा चुनाव में कानून व्यवस्था को लेकर हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह और डीजीपी ने वीसी से की समीक्षा बैठक 

ये निर्देश हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह एसएस प्रसाद ने आज वीडियो कॉफ्रेंस के माध्यम से प्रदेशभर के उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों तथा सुरक्षा व्यवस्था के साथ जुड़े अधिकारियों को वीसी के माध्यम से कानून व्यवस्था बारे समीक्षा बैठक के दौरान दिए। उन्होंने लोकसभा आम चुनाव में सुरक्षा के दृष्टिगत कानून व्यवस्था बनाए जाने के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस अवसर पर उनके साथ पुलिस महानिदेशक मनोज यादव व अन्य पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में जिला पुलिस प्रमुख और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कानून और व्यवस्था के रख-रखाव के अलावा राज्य में संदिग्ध और असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगरानी रखने पर भी चर्चा की गई। 

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि लोकसभा आम चुनाव 2019 के लिए 10 दिन के बाद मतदान किया जाना है। चुनाव में कानून व्यवस्था को बनाए रखने व निष्पक्ष चुनाव के लिए समय रहते पुख्ता प्रबंध किए जाएं। उन्होंने कहा कि पुलिस व जिला प्रशासन यदि आपसी तालमेल के साथ कार्य करेगा तो किसी भी संभावित हालात पर समय रहते काबू पाया जा सकता है। कानून की दृष्टिगत संवेदनशील व अति संवेदनशील बूथों की निगरानी महत्वपूर्ण कार्य है। इसलिए क्षेत्र के ऐसे सभी संवेदनशील व अति संवेदनशील बूथों को चिन्हित करके वहां पर बारिकी से नजर बनाए रखें और वहां से मिलने वाले इनपुट के आधार पर सुरक्षा व्यवस्था का प्रबंध करें। उन्होंंने कहा कि मतदान के कुछ दिन ही बाकी हैं। इस अवधि में कुछ असामाजिक तत्व व राजनीतिक लोगों द्वारा किसी भी मुद्दे को हवा देकर असंतोष फैलाने के प्रयास की संभावना रहती है। इसलिए ऐसे हालातों को मिलने वाले इंटेलिजेंस  इनपुट के आधार पर पुलिस व जिला प्रशासन आपसी तालमेल से हालात को आपसी बातचीत से सुलझा दें। ऐसी संभावित घटनाओं व मुद्दों के प्रति अलर्ट रहें। 

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि जिन जिला के साथ दूसरे राज्य की सीमाएं लगती हैं, वहां पर सुरक्षा की दृष्टि से मुस्तैदी दिखाने की आवश्यकता है। सीमाओं पर नाके, बैरिगेटिंग व चैक पोस्ट बनाकर वाहनों पर कड़ी नजर रखी जाए। संबंधित जिला प्रशासन व पुलिस साथ लगते पड़ोसी राज्य के प्रशासन के साथ बैठक कर सुरक्षा प्रबंधों को पुख्ता करें। अवैध शराब व नकदी के वितरण की किसी भी संभावना को समय रहते काबू पाएं। उन्होंने कहा कर्मचारियों की ड्यूटी की समय-समय पर ब्रिफिंग करते रहे, जितनाी ब्रिफ्रिंग होगी उतना ही चुनाव को निष्पक्ष व शांतिपूर्वक सम्पन्न करवाने में आसानी रहेगी। उन्होंने कहा कि गांव के मौजिज व्यक्तियों के साथ तालमेल रखें और उनके संपर्क में रहें, ताकि गांव की हर गतिविधि पर बारिकी से नजर रखी जा सके। उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों व उपायुक्तों को कहा कि चुनाव के लिए बाहर से आने वाली सुरक्षा कंपनियों के जवानों के लिए पहले सही रहने, खाने-पीने, वाहन आदि की व्यवस्था कर लें, ताकि उन्हें ड्यूटी के दौरान किसी भी प्रकार की कोई परेशानी ना हो।

लघु सचिवालय स्थित एनआईसी वीडियो कॉफ्रेंस कक्ष में जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त प्रभजोत सिंह, पुलिस अधीक्षक डा. अरुण सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त मनदीप कौर, एसडीएम ऐलनाबाद अमित कुमार, एसडीएम डबवाली ओम प्रकाश, सीटीएम जयवीर यादव, डीएसपी आर्यन, डीआरओ राजेंद्र, तहसीलदार प्रदीप कुमार, राजेंद्र वर्मा मौजूद थे।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply