जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा हर घर तिरंगा अभियान के तहत निकाली गई साइकिल रैली

पवनपुत्र श्री हनुमान जयंती 19 अप्रैल 2019

हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र शुक्‍ल पूर्णिमा को श्री हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस बार 19 अप्रैल को हुनमान जयंती है।

आपको बता दें कि भक्‍त अपनी-अपनी मान्‍यताओं के अनुसार साल में अलग-अलग दिन हनुमान जयंती मनाते हैं।हालांकि उत्तर भारत में चैत्र शुक्‍ल पूर्णिमा के दिन मनाई जाने वाली हनुमान जयंती अधिक लोकप्रिय है।

पवनपुत्र हनुमान को भगवान शिव का 11वां अवतार माना जाता है। इस बार हनुमान जन्मोत्सव 19 अप्रैल यानी आज मनाया जा रहा है।

भक्‍तों के लिए हनुमान जयंती का खास महत्‍व है। संकटमोचन हनुमान को प्रसन्‍न करने के लिए भक्‍त पूरे दिन व्रत रखते हैं और हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं।

मान्‍यता है कि इस दिन पांच या 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करने से पवन पुत्र हनुमान प्रसन्‍न होकर भक्‍तों पर कृपा बरसाते हैं। इस मौके पर मंदिरों में विशेष पूजा-पाठ का आयोजन होता है।

घरों और मंदिरों में भजन-कीर्तन होते हैं। हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए सिंदूर चढ़ाया जाता है और सुंदर कांड का पाठ करने का भी प्रावधान है। शाम की आरती के बाद भक्‍तों में प्रसाद वितरित करते हुए सभी के लिए मंगल कामना की जाती है।श्री हनुमान जयंती में कई जगहों पर मेला भी लगता है।

मंदिर में बजरंगबली के दर्शन के लिए सुबह से ही भक्तों की लाइन लगी रही।

इस बात का रखें कि हनुमान के सामने घी का या फिर चमेली के तेल का ही दीपक जलाएं।

स्नान करने के बाद ही प्रसाद तैयार करें। पूजा में हनुमान जी को लाल रंग का ही फूल चढ़ाएं।

जयंती पर हनुमान जी को चोला चढ़ाएं।

हनुमान : ॐ श्री हनुमते नमः।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply