*MCC raises awareness at Atmanirbhar ward no. 35 under 'Safai Apnao, Bimaari Bhagao' campaign*

निष्पक्ष व पारदर्शी चुनाव करवाने में पीठासीन अधिकारी की अहम भूमिका : उपायुक्त

सिरसा, 7 मई।

लोकसभा आम चुनाव-2019 की मतदान प्रक्रिया संपन्न करवाने के लिए सिरसा व डबवाली विधानसभा क्षेत्रों में नियुक्त किए गए प्रीजाइडिंग ऑफिसर्स (पीओ) तथा अल्टरनेट प्रीजाइडिंग ऑफिसर्स (एपीओ) व चुनाव प्रक्रिया से जुड़ी अन्य टीमों को आज चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय के मल्टीपर्पज हॉल में आयोजित मेगा रिहर्सल में चुनाव प्रक्रिया की बारीकियां समझाई गईं। 

ईवीएम मास्ट्रर ट्रेनरों ने सभी पीओ-एपीओ को उनके प्रत्येक कार्य और जिम्मेदारियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान पीओ-एपीओ को वीडियो के माध्यम से ईवीएम व वीवीपैट मशीनों के संचालन के बारे में भी समझाया गया व उन्हें मौके पर ही हैंड्स-ऑन ट्रेनिंग भी दी गईं। इस मौके पर चुनाव पर्यवेक्षक सौरभ सिंह, उपायुक्त प्रभजोत सिंह, एआरओ एवं एडीसी मनदीप कौर, एसडीएम डबवाली औम प्रकाश, कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद अमन ढांडा मौजूद थे।

सखी बूथ पर चुनाव प्रक्रिया के लिए महिला कर्मचारियों को भी दिया गया प्रशिक्षण, जिला के प्रत्येक विधानसभा में बनेंगे सखी व मॉडर्न बूथ

चुनाव पर्यवेक्षक सौरभ सिंह ने कहा कि मतदान के दौरान पीओ व एपीओ की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इस कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही सहन नहीं की जाएगी, इसलिए सभी अधिकारी अपनी जिम्मेदारी की गंभीरता को समझें। उन्होंने कहा कि पीओ हैंडबुक में वे सारी हिदायतें व नियम लिखे हैं जिनकी जानकारी चुनाव करवाने वाले अधिकारी को होनी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मतदान के लिए बूथों पर महिलाओं व पुरुषों की अलग-अलग लाइनें लगवाई जाएं और एक पुरुष के बाद दो महिलाओं को वोट डालने के लिए भीतर भेजा जाए। वरिष्ठï नागरिकों व दिव्यांगजनों को बिना लाइन में लगे सीधे अंदर जाकर मतदान करने की सुविधा दी जाए। उन्होंने कहा कि दिव्यांग मतदाताओं के लिए सुविधाजनक वोट डालने के लिए की गई नई व्यवस्था की भी सराहना की।

उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने कहा कि वीवीपैट मशीन को मतदान के समय अधिक धूप व लाईट के सामने न रखें। उन्होंने कहा कि ईवीएम मशीन पोलिंग पार्टी की जान होती है, अत: इसे सदैव अपने साथ रखें। उन्होंने कहा कि फार्म-17सी के सभी कॉलम बहुत जरुरी है, अत: उन्हें सही ढंग से भरें। उन्होंने कहा कि मतदान प्रक्रिया से संबंधित प्रशिक्षण अच्छी प्रकार से प्राप्त करें। यदि फिर भी कोई दिक्कत आती है तो उसकी जानकारी चुनाव से पूर्व लें ताकि मतदान प्रक्रिया में कोई बाधा न आए। उन्होंने कहा कि पोलिंग पार्टी आपसी तालमेल से कार्य करें। मतदान प्रक्रिया में लगे टीम के सदस्य अपने संबंधित पीठासीन अधिकारी के मार्गदर्शन में कार्य करें। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रक्रिया में प्रशिक्षण की अहम भूमिका होती है। इसलिए अधिकारी व कर्मचारी ध्यान पूर्वक प्रशिक्षण लें ताकि उन्हें मतदान प्रक्रिया के दौरान किसी प्रकार की कोई दिक्कत न आए। यदि कोई कर्मचारी प्रशिक्षण से गैरहाजिर रहता है तो उसके खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता के तहत कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 

निष्पक्ष व पारदर्शी चुनाव करवाने में उनकी भूमिका सर्वाधिक महत्वपूर्ण होगी। इसलिए वे मतदान से जुड़ी पूरी प्रक्रिया को अच्छी प्रकार से समझें और सभी नियमों व कानूनों की पूरी जानकारी प्राप्त कर लें। उन्होंने बताया कि 12 मई को लोकसभा चुनाव के लिए सुबह 7 से सायं 6 बजे तक मतदान होगा। इससे एक घंटा पूर्व 6 बजे पोलिंग एजेंट्स की मौजूदगी में मोक पोल करवाया जाएगा। सिरसा संसदीय सीट पर नोटा सहित कुल 21 प्रत्याशी होंगे। मोक पोल में सभी प्रत्याशियों को 2-2 वोट डलवाए जाएं और पोलिंग एजेंट्स को इसका परिणाम दिखाकर मोक पोल की सभी पर्चियों को काले लिफाफे में सीलबंद करके रख लें। उन्होंने हिदायत दी कि मोक पोल की प्रक्रिया संपन्न होने के बाद ईवीएम मशीन को क्लीयर करना न भूलें। इसी प्रकार मतदान संपन्न होने के बाद मशीन को क्लोज करना भी बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि यदि कोई समस्या आती है तो उसे अपने स्तर पर हल करें, यदि समाधान नहीं होता तो उच्च अधिकारियों को सम्पर्क करें। उन्होंने मतदान प्रक्रिया में लगे सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को तमाम मतदान प्रक्रियाओं की बारीकी से जानकारी दी। 

दिव्यांग मतदाताओं को प्राथमिकता के आधार पर करवाया जाएगा मतदान, 4393 दिव्यांग मतदाता करेंगे मताधिकार का प्रयोग

अतिरिक्त उपायुक्त मनदीप कौर ने कहा कि जिला के 4393 दिव्यांग मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। उन्होंने बताया कि दिव्यांग मतदाताओं के सहज रुप से मतदान के लिए प्रशासन द्वारा सभी प्रकार की तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। दिव्यांग मतदाताओं को उनके घर द्वार से ला कर उनका प्राथमिकता के आधार पर बिना किसी बाधा के मतदान करवाया जाएगा तथा मतदान के बाद वापिस उन्हें घर पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी पीओ हर दो घंटे के अंतराल पर मतदान प्रतिशत और वोट संख्या की जानकारी पीओ डायरी में नोट करेंगे तथा इसकी सूचना नियंत्रण कक्ष में भी भिजवाना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने फार्म 17ए, 17सी, डिक्लेरेशन फार्म, पीओ डायरी तथा अन्य सभी प्रकार के दस्तावेज व फार्म भरने के संबंध में विस्तार से जानकारी देते हुए उन्हें मतदान प्रक्रिया की बारीकियों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि चुनाव में लगे हर कर्मचारी को निष्पक्ष रहना है और निष्पक्ष दिखना भी है। हमारे लिए सभी प्रत्याशी समान हैं। स्वतंत्र लोकतंत्र व दबाव रहित चुनाव के लिए यह भावना रखनी बहुत जरूरी है। उन्होंने बताया कि आज के प्रशिक्षण के उपरांत 11 मई को फाइनल रिहर्सल की जाएगी जिसमें सभी पीओ-एपीओ को यह जानकारी मिलेगी कि उन्हें कौन सा बूथ अलॉट किया गया है। उन्होंने कहा कि चुनाव में लगे सभी कर्मचारियों को ईडीसी (इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट) अथवा पोस्टल बैलेट के माध्यम से मताधिकार का अवसर मिलेगा। उन्होंने बताया कि पीओ-एपीओ की मदद के लिए सेक्टर ऑफिसर्स, माइक्रो ऑब्जर्वर, जोनल मजिस्ट्रेट तथा बीएलओ भी लगाए गए हैं ताकि मतदान प्रक्रिया सुचारू तरीके से संपन्न हो।

इस मौके पर मास्टर ट्रेनर रमेश पूरी, प्रीतम सिंह, ईवीएम इंजीनियर एम. वैंक्टा राजु व चुनाव से संबंधित टीमें मौजूद थी। 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply