OFFICE ORDER OF DEAN STUDENT WELFARE

दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ देने के लिए गंभीरता से कार्य कर रही है सरकार : राज कुमार मक्कड़

– राज्य आयुक्त निःशक्तजन ने बस स्टैंड, सीनियर सैकेंडरी स्कूल भावदीन, एसबीआई हिसार रोड़, ओएचएम आदि स्थानों का निरीक्षण किया


सिरसा, 21 मई।

For Detailed News


सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग हरियाणा के राज्य आयुक्त नि.शक्तजन राज कुमार मक्कड़ ने कहा कि संविधान के अनुसार सरकारी नौकरियों में दिव्यांगजनों के लिए पदोन्नति में आरक्षण देने का प्रावधान है, जिसके मद्देनजर हरियाणा सरकार ने प्रदेश में इसे लागू किया है, इस योजना का दिव्यांग कर्मचारियों को बहुत अधिक फायदा भी मिल रहा है। नियम के अनुसार सभी दिव्यांग कर्मचारियों को 18 अप्रैल 2017 तक 3 प्रतिशत तथा उसके बाद 4 प्रतिशत सभी विभागों में पदोन्नति दी जा रही हैं और दिव्यांगों को इसका फायदा मिल रहा है।


वे शनिवार को स्थानीय बस स्टेंड पर निरीक्षण के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। तत्पश्चात उन्होंने सीनियर सैकेंडरी स्कूल भावदीन, एसबीआई हिसार रोड़, ओएचएम आदि स्थानों का निरीक्षण किया। जिला समाज कल्याण अधिकारी नरेश बत्रा, ट्रेफिक मैनेजर सुधीर कुमार, ट्रेफिक इंचार्ज राकेश कुमार, इंस्पेक्टर गजानंद, राजीव कुमार अरोड़ा, सहायक रवि मेहता मौजूद थे।


उन्होंने कहा कि हरियाणा के सभी विभागों में लगभग 20 हजार दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ मिलने जा रहा है और यह प्रक्रिया बहुत तेजी से साथ चल रही है। प्रतिदिन तीन से चार विभाग इस इस प्रक्रिया को पूरा कर रहे हैं। सरकार का लक्ष्य है कि 15 जून 2022 तक प्रत्येक पात्र दिव्यांग कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ मिले। इसके अलावा जो दिव्यांग कर्मचारी सेवानिवृत हो गए हैं या स्वर्गवास हो गया है, उनका वेतन व पेंशन भी रिवाइज की जाएगी, उनके आश्रितों को बढ़ी हुई पेंशन का लाभ मिलेगा। सेवानिवृत कर्मचारियों को भी उनकी बढ़ी हुई पेंशन एरियर के साथ दी जाएगी। यह सरकार की बहुत ही महत्वाकांक्षी योजना है, जोकि देश के किसी भी प्रांत में शुरू नहीं हुई है।


उन्होंने कहा कि यदि कोई अधिकारी अपने दायित्व की पूर्ति करने में असमर्थ है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने उन्हें अवसर दिया है, इसलिए अधिकारी पूरे तन व मन से जनता की सेवा करें। हरियाणा सरकार एक लाख 91 हजार दिव्यांगों को ढाई हजार रुपये महीना पेंशन देती है, जिसमें जिला सिरसा के 13 हजार दिव्यांग शामिल हैं, जिनके बैंक खाते में हर महीने सीधे पैसे पहुंच रहे हैं। बैंक अधिकारियों को हिदायत दी गई है कि पेंशन लेने वाले दिव्यांगों के लिए रैंप की सुविधा के साथ-साथ व्हील चेयर का भी प्रबंध होना चाहिए। इसके अलावा बस स्टैंड पर दिव्यांगों के लिए रैंप, व्हील चेयर, शौचालय व बस में चढने के लिए विशेष व्यवस्था की जाए ताकि उन्हें किसी प्रकार की परेशानी न हो।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने बस स्टेंड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि यात्रा करने वाले दिव्यांगों के लिए बस में तीन नंबर सीट का रिजर्व रखा जाए और यह सुनिश्चित करें कि उन्हें आरक्षित सीट का लाभ अवश्य मिले। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 32 हजार ऐसे दिव्यांग विद्यार्थी है, जो स्कूल नहीं जा सकते, लेकिन उनके नाम दर्ज है, उन्हें सरकार द्वारा 1950 रुपये प्रतिमाह पेंशन दे रही है। विभिन्न कारणों से दिव्यांग व्यक्तियों को अनेकों कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, मानसिक दिव्यांग को साइकोलॉजिस्ट, ब्लाइंड दिव्यांग को ब्रेल लिपि प्रशिक्षित अध्यापकों की आवश्यकता होती है। सरकार ये सभी सुविधाएं दिव्यांगों को उपलब्ध करवाने को लेकर प्रयासरत है। अधिकारी अपनी ड्यूटी के साथ-साथ दिव्यांगों के प्रति सकारात्मक सोच के साथ-साथ सेवा भाव से कार्य करें और उन्हें सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाना सुनिश्चित करें।