*MCC organizes special workshop for students on World Paper Bag Day*

टयूमर को हटाकर कैंसर ग्रस्त अंगों को बचाना संभव: माहिर

कैंसर को जड़ से खत्म करने के लिए रोबोटिक सर्जरी वरदान

For Detailed

सहारनपुर, 28 फरवरी ( ): सुस्त जीवनशैली, मोटापा एवं निजी अंगों में किसी भी तरह के लक्ष्ण को नजरअंदाज करना महिलाओं में गर्भाश्य कैंसर एवं पुरूषों में ब्लैडर (मूत्राश्य) कैंसर के मामले बढऩे का सबसे अहम कारण बन रहा है। ऐसे में बढ़ती उम्र में महिलाओं एवं पुरुषों दोनों को अपने शरीर खासकर पेट का खास ख्याल रखना चाहिए। यह बात आज सहारनपुर में पहुंचे जाने माने गाइनी कैंसर रोग माहिर डा. श्वेता तहलन, डा. जितेन्द्र रोहिला एवं यूरोलॉजिस्ट डा. रोहित डडवाल ने कही, जो कि निजी अंगों में कैंसर का इलाज हाथों की बजाए ‘दा विंची’ रोबोटिक सर्जरी से मरीज को उपचार के दौरान मिलती राहत जैसे खून की कम बर्बादी, कम दर्द, कम निशान व तुरंत राहत संबंधी जागरूक करने के लिए शहर में पहुंचे थे।
इस मौके फोर्टिस अस्पताल के गाइनी कैंसर सर्जरी विभाग की कंस्लटेंट डा. श्वेता तहलन ने कहा कि बढ़ती उम्र की महिलाओं में गर्भाश्य कैंसर बढ़ रहा है, यदि समय रहते जांच न करवाई जाती तो मरीज की जान पर भी बन सकती है, इसलिए लक्ष्ण दिखाई देते ही जांच करवाना लाजमी है। उन्होंने बताया कि हाल ही में एकल कार्यात्मक किडनी वाली 67 वर्षीय महिला जो कि गर्भाश्य कैंसर से पीडि़त थी, जिसका कि रोबोट एडेड सर्जरी से उसके गर्भाश्य कैंसर एवं गैरकार्यात्मक किडनी को हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि उम्रदराज महिलाओं में कैंसर तेजी से फैलता है, लेकिन इसके शुरूआती लक्ष्णों से इसकी पहचान की जा सकती है। महिलाओं में अनियमित पीरियड रक्तस्राव और गंदे पानी का आना इसके शुरूआती लक्ष्ण है, यह लक्ष्ण जैसे ही दिखाईं दे तो उसकी तुरंत जांच करवाएं।

अमेरिका में रहने वाले एक 70 वर्षीय व्यक्ति को बार-बार यूरिन करने में दर्द, यूरिन में खून (हेमट्यूरिया) के साथ-साथ तीव्र पेल्विक दर्द का अनुभव हो रहा था। जांच करने पर प्रोस्टेट कैंसर और बाएं रीनल ट्यूमर का पता चला। फोर्टिस अस्पताल में यूरोलॉजी, एंड्रोलॉजी और रोबोटिक सर्जरी विभाग के कंसल्टेंट डा. रोहित डढवाल ने बताया कि यह मामला इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि दोहरी घातकता की घटना अत्यंत दुर्लभ है। रोगी अमेरिका व भारत में कई अस्पतालों में इलाज करवा चुका था। उन्होंने बताया कि मरीज की गहनता से जांच कर रेडिकल प्रोस्टेटक्टोमी (प्रोस्टेट ग्रंथि को पूरी तरह से हटाने) के साथ-साथ रोबोट-अस्सिटिड रेडिकल नेफरेक्टोमी (किडनी को पूरी तरह से निकालना) सर्जरी से प्रोस्टेट कैंसर व किडनी टयूमर को हटा दिया गया। उन्होंने मामले पर चर्चा करते हुए प्रोस्टेट कैंसर एवं किडनी टयूमर का एक साथ मिलना दुर्लंभ था, खासकर इस केस में अन्य अंगों तक इसका प्रभाव नहीं पहुंचा था। मरीज के दोनों टयूमर मूल अंग तक सीमित होने के कारण पैथोलॉजी को पूरी तरह से हटाने एव उसे कैंसर मुक्त करने का अवसर था। इस केस में ओपन या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी करना चुनौतीपूर्ण था, क्योंकि आप्रेटिव एरिया काफी छोटा होता है और इसमें ज्यादा एनेस्थीसिया समय लगता है, जिसमें अधिक रक्त हानि एवं अधिक जटिलताएं होती हैं। सर्जरी के अगले दिन ही मरीज चलने के काबिल था तथा जांच करने के बाद मरीज पूरी तरह से अब स्वस्थ जीवन जी रहा है।

इस मौके फोर्टिस अस्पताल मोहाली में कैंसर विभाग के कंस्लटेंट व रोबोटिक सर्जन डा. जितेन्द्र रोहिला ने बताया कि पाचन तंत्र में गड़बड़, पेट में सूजन, गैस व कब्ज होना आम बात है। उन्होंने बताया कि यदि ऐसे लक्ष्णों को अनदेखा किया जाता है, तो यह पेट के कैंसर का कारण बनता है। ऐसे कई मामलों में पीडि़त व्यक्ति छोटे से टयूमर से कैंसर की चौथी स्टेज तक पहुंच जाते हैं। उन्होंने बताया कि हाल ही में लो-लाइंग रेक्टल कैंसर (गुदा कैंसर) से पीडि़त 71 वर्षीय मरीज का रोबोट-एडेड स्फिंक्टर सेविंग सर्जरी से इलाज कर उन्हें कैंसर से निजात दिलाई तथा साथ ही उन्हें ताउम्र लगने वाले स्टोमा बैग (शरीर में छेद के जरिए मलमूत्र एकत्रित करता प्लास्टिक बैग) से भी राहत मिली है। उन्होंने बताया कि उक्त मरीज मलाशय में रक्तस्राव, बावल हैबिट (आंत में बदलाव) व कम भूख के कारण चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा था, जिसकी जांच करने में वह लो-लाइंग रेक्टल कैंसर की थर्ड स्टेज से पीडि़त था। उन्होंने बताया कि अस्पताल के टयूमर बोर्ड के साथ चर्चा उपरांत डा. रोहिला द्वारा रोगी की रोबोट-ऐडेड स्फिंक्टर-सेविंग सर्जरी की गई, जिसके उपरांत वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं तथा सामान्य जीवन व्यतीत कर रहा है।
उन्होंने बताया कि बताया कि पहले ओपन सर्जरी उपचार के दौरान शरीर के ऐसे अंगों तक पहुंचना मुश्किल और खतरनाक था, हालांकि रोबोट से की जाने वाली सर्जरी की मदद से इन अंगों तक भी आसानी से पहुंचा जा सकता है। उन्होंने बताया कि मरीज के आप्रेशन के दौरान शरीर के जिन हिस्सों तक हाथ पहुंचाना मुश्किल था, अब विशेष कैमरे के माध्यम से ऑपरेटिव एरिया का 3डी व्यू देखकर 360 डिग्री तक घूमने वाले रोबोट की मदद से वहां पहुंच की जा सकती है।

https://propertyliquid.com