पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

74 निरंकारी श्रद्वालुओं ने रक्तदान किया

सन्त निरंकारी मिशन की सन्त निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन ने आज सन्त निरंकारी सत्संग भवन भंखरपुर में निरंकारी सत्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज के आर्शीवाद से रक्तदान शिविर का आयोजन किया। जिसका शुभारंभ समगोली के मुखी श्री गुरनाम जी ने किया। इस शिविर में कुल 74 निरंकारी श्रद्वालुओं ने रक्तदान किया।

For Detailed News-

समगोली के मुखी श्री गुरनाम जी ने कहा कि निरंकारी मिशन का ध्येय ही मानवता की सेवा करना है। कोरोना महामारी के दौरान व अन्य प्राकृतिक आपदाओं में मिशन द्वारा मानवता की सेवा ही सर्वोपरि रही है। इसी कड़ी में रक्तदान शिविरों द्वारा निरंतर योगदान दिया जा रहा है।

https://propertyliquid.com

इस अवसर पर चंडीगढ़ जोन के जोनल इंचार्ज श्री के0के0 कश्यप ने रक्तदाताओं द्वारा कोरोना जैसी महामारी के दौरान दिए जा रहे सहयोग के लिए अभिवादन किया। उन्होंने बताया कि निरंकारी मिशन द्वारा लाॅकडाउन की अवधि के दौरान व तत्पश्चात् निरंतर रक्तदान शिविरों का आयोजन किया जा रहा हैै। अब तक कुल 21 रक्तदान शिविरों का आयोजन चंडीगढ़ जोन में किया जा चुका है जिसमें लगभग 2200 यूनिट रक्त एकत्रित करके मानवमात्र की सेवा के लिए दिया गया है।भंखरपुर के मुखी श्री गुरदास मल व संचालक जसविन्द्र सिंह ने चंडीगढ़ जोन के जोनल इंचार्ज व समगोली के मुखी श्री गुरनाम जी व आस पास के क्षेत्र से आए सभी श्रद्वालुओं का रक्तदान शिविर में पहुंचने पर धन्यावाद किया। उन्होंने कहा कि निरंकारी श्रद्वालु सदैव बाबा हरदेव सिंह जी महाराज के उन कथनों “मानव रक्त नालियों में नहीं, नाड़ियों में बहना चाहिए” . को सही मायनों में रक्तदान शिविर लगाकर चरितार्थ कर रहे हैं। गर्वनमैंट मल्टीस्पैशलटी अस्पताल सैक्टर.16 की डाॅ सिमरजीत कौर के नेतृत्व में 12 सदसीय टीम ने रक्त एकत्रित किया।

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

Result May /September-2020

Chandigarh November 3, 2020

This is to inform that the result / evaluation sheet of examination May /September, 2020 of the following courses have been declared/made public today.

For Detailed News-

1.      M.Sc-Forensic Science & Criminology-4th semester,Sept-2020

2.      B.Sc(H.S)-Geology-VIth Semester,Sept-2020

3.      Certificate Course in German,Sept-2020

4.      B.Voc-Medical Laboratory Technology-6th Semester,Sept-2020

https://propertyliquid.com

The same can be seen at the respective Departments/Colleges or Panjab University website.

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

Scientific Analyses Revealed the Identity of Ajnala Skeletal Remains

Chandigarh November 3, 2020

The identification of badly damaged and commingled human remains excavated non-scientifically from an abandoned well at Ajnala was the most challenging task for the experts at Panjab University, Chandigarh, when these remains were handed over to them in 2014.With years of strenuous scientific endeavours and the unflinching efforts of Dr. JS Sehrawat, Assistant Professor, Department of Anthropology, Panjab University, Chandigarh, the identified establishment of Ajnala skeletal remains saw a reality as evidenced from his recently published research findings about Ajnala skeletal remains in leading international scientific journals like Forensic Science Review, Journal of Archaeological Science: Reports, Forensic Radiology, Bulletin of International Association of Paleodontology etc.

For Detailed News-

In these publications, Dr. Sehrawat has claimed that the application of multiple forensic anthropological methods like odontological and radiological examinations, mitochondrial DNA and stable isotope analyses, AMS radiocarbon dating etc., have revealed that the excavated human remains from Ajnala well belong to adult males, who were non-local to the site, ate mixed diets,  shared a common  geographic area during their childhood and they lived at different locations during last ten years prior to their death. The stable isotopic and mitochondrial DNA results endorsed the written facts mentioned in the historical accounts that the victims of 26th Native Bengal Infantry regiment killed in 1857 at Ajnala came from the states of West Bengal, Bihar, Odisha, Awadh (presently eastern Uttar Pradesh) and parts of Meghalaya and Manipur and other north-eastern and coastal states as potential regions of their geographic identity. The AMS calibrated radiocarbon dates did show high probabilities that the remains belong to the mid-19th Century. The application of Kvaal’s radiological, PTR and AAS dental age estimation methods showed that most Ajnala teeth belonged to adult males between 20-50 years of age. The advanced scientific analyses were conducted in collaboration with California State University, Chico (USA), Newfoundland University, Canada, Atomki Isotoptech, Hungary, Max Planck Institute of Human History, Germany and Birbal Sahni Institute of Palaeosciences, Lucknow and this project is funded by DST-SERB, new Delhi.

https://propertyliquid.com

We aim to extend our deep respects and tributes to those departed souls through scientific means by establishing their biological identity as to their age, sex, stature, cause and manner of death, time since death, dietary status, mobility history, geographical affinity, traumatic or pathological reconstructions etc., said Dr. Sehrawat.It would be just an unqualified and sweeping conclusion to claim their identity until a sufficient number of bones and teeth along with items of personal identity are examined with multiple scientific techniques to arrive at some valid conclusions about theirbiological identity, he said. More results of different scientific analyses have been obtained and communicated to different scientific journals and we cannot disclose the detailed findings until they are published. The stable isotope analysis of carbon, nitrogen, oxygen, strontium and sulfur with larger samples of teeth and bone samples is underway to provide detailed information about the geographical identity, migration history and dietary patterns of these non-scientifically excavated human skeletal remains.

He informed that there is hope to obtain the  list of martyred soldiers available with the British authorities and the known skull of Mr. Alum Bheg (the group leader of 26th Native Bengal Infantry battalion) from Prof. Kim Wagner ofQueen Mary University of London. The list of martyred soldiers has been requested through the British High Commissioner in India and,a professor from Department of War Studies, King’s College London (UK) has also promised to be a part of present research project and help us in getting the list of martyred soldiers of India’s First Freedom struggle against the Britishers. We plan to collect DNA samples and other forensic anthropological information from this skull and then collect biological samples of the descendants of the martyred soldiers from the places from where they belonged to as no changes in DNA composition have been anticipated during last 160 years, said Dr. Sehrawat.It is the unique study in India being conducted at Panjab University, Chandigarh and no other Indian university/institute has such a huge collection of skeletal remains to be studied forensically.

“Our research will provide future directions to be adopted by experts for identification of badly damaged and mixed human remains recovered in forensic or bio-archaeological contexts,” said Dr Sehrawat.  “Some had questioned the credibility of the written records and argued that these remains could belong to the victims of Hindu-Muslim partition conflicts of August 1947. But neither the reported manner of death nor their post-1857 burial period could be confirmed from the traumatic lesions on the recovered crania or from the years of make indented on the recovered coins and medals, respectively,” said Dr Sehrawat.  

For more detailed information, contact: Dr. J.S. Sehrawat- 9988031199

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

Tree Plantation at PU

Chandigarh November 3, 2020

For Detailed News-

The Department of Life Long Learning and Extension, Panjab University organized a Tree Plantation and Cleanliness Drive around Emerging Area Building. Fresh Winter Annuals and Flowering Plants were planted in the Old Flowering Beds and some New Flowering Beds were created. Besides this, a number of plants were replanted where there were causality of old Plants.  Dr. Parmjit Singh Kang, Chairperson, Department of Life Long Learning & Extension, conveyed that Plantation Drive was organized with the help of Horticulture Wing of Panjab University and cleaned the surroundings of Emerging Area Building.  All corona protocols were observed by wearing masks and maintaining social distancing.  

https://propertyliquid.com

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

SAIF/CIL, PU holds webinar on New Education Policy-2020

Chandigarh November 3, 2020

The SAIF/CIL Panjab University Chandigarh organised a webinar on New National Education Policy-2020 with special reference to the necessary elements of transformational change in the policy. Director SAIF/CIL, Prof. Ganga Ram Chaudhary delivered a welcome address and appraised the participants regarding the SAIF/CIL facilities and of online Seminars/Workshops/Training Program on sophisticated analytical instrumentation.

For Detailed News-

The Vice Chancellor Panjab University Prof. Raj Kumar in his opening remarks, appreciated and acknowledged the topic on new education policy-2020. He emphasized on conducting such webinars on burning topics of national interest that play an important role in nation building. He congratulated the panelist & speaker for selecting the right time during pandemic times for dispensing the knowledge on new education policy-2020 reforms. The Vice Chancellor talked about providing access to the meaningful resources available with Panjab University to the students and researchers of far reaching places of India like North East, Leh & Ladakh. He said these are the right steps for augmentation of new national education policy 2020 reforms.

https://propertyliquid.com

Shri. Rudy Warjri, former Ambassador of India to various countries and consultant to ministry of external affairs India was the distinguished speaker of today’s webinar. In his special talk on new educational policy-2020, the necessary elements of transformational change, he mentioned that the framework of the new education policy-2020 is very well thought of process. He shared his experiences during his tenure as Ambassador to different countries, where he had seen very closely the educational policy reforms taking place in various countries having different schools of thoughts. His starting remarks were the challenges faced during the framework of the new national education policy-2020. He shared data related to policy reforms that will be helpful for achieving the desired goals of the new national education policy-2020 reforms. The participants were from various places where faculty and students of Panjab University, North East region and other parts of India, with diverse fields of education.

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक लिए गए नमूनों अनुसार मंगलवार को 65 नए पोजिटिव मामले सामने आए है।

पंचकूला 3 नवम्बर- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक लिए गए नमूनों अनुसार मंगलवार को 65 नए पोजिटिव मामले सामने आए है। इनमंें 44 पंचकूला से सबंधित है।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक जिला में 9507 नमूने लिए गए हैं इनमें से पंचकूला के 7231 मामले पोजिटिव पाए गए है। जिला में अब तक स्वास्थ्य विभाग के सार्थक प्रयासों सें 6871 रोगी ठीक हो गए हैं तथा अब केवल जिला में 244 एक्टिव मामले षेष रह गए है। उन्हांेने बताया कि विभाग द्वारा जिला में 91872 से अधिक आरटीपीसी नमूने लिए है।

https://propertyliquid.com


उपायुक्त ने बताया कि सीआरपीएफ, कालका, एमडीसी-5, सैक्टर 8, 9, 11, व 26 में एक एक मामले पोजिटिव पाए गए है। इसी प्रकार अमरावती एन्कलेव, सैक्टर 4, 6, 25 व 27 में दो दो, एंव सैक्टर 7, 12 व 12ए, तथा 15, में तीन तीन तथा सैक्टर 16 व 17 में चार चार और सैक्टर 20 में 7 ममाले पोजिटिव पाए गए है।

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

उपायुक्त ने बताया कि दीपावली के पर्व पर दुकानदारों व रेहड़ी फड़ी वालों द्वारा टैंट तथा स्टाॅल लगाए जाने हैं उनकी बुकिंग नगर निगम द्वारा 7 नवम्बर से आरम्भ कर दी जाएगी।

पंचकूला 3 नवम्बर- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि दीपावली के पर्व पर दुकानदारों व रेहड़ी फड़ी वालों द्वारा टैंट तथा स्टाॅल लगाए जाने हैं उनकी बुकिंग नगर निगम द्वारा 7 नवम्बर से आरम्भ कर दी जाएगी।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि इसके लिए दुकानदारों व रेहड़ी फड़ी वालों को निगम की वेबसाईट डब्लू डब्लू डब्लू डाॅट एमसी पंचकूला डाॅट ओआरजी से ऐप बुंिकंग स्टाल को डाउनलोड करना होगा। इसमें अलग अलग सैक्टरों में फीस जमा करवाने के उपरांत आॅनलाईन बुकिंग करवा सकते है। उन्होंने बताया कि कोविड के चलते दुकानदारों व रेहड़ी फड़ी वालों को यह सुविधा आॅनलाईन मुहैया करवाई गई है। बुकिंग के बाद दूकानदारों को अपने टैंट व स्टाल पर रसीद चस्पा करनी अवष्य होगी ताकि नगर निगम की टीम द्वारा हर टैंट व स्टाल की स्वीकृति व बुकिंग निरीक्षण के दौरान आसानी से जांच की जा सके।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि यदि निरीक्षण के दौरान कोई अनाधिकृत टैंट या स्टाल पाया जाता है तो निगम द्वारा निर्धारित दर से दोगुनी राषि संबधित व्यक्ति से वसूल की जाएगी। टैंट व स्टाल का क्षेत्र रेट, नियम एवं षर्तो की विस्तृत जानकारी भी एमसीपंचकूला की वेबसाईट पर उपलब्ध है।

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

स्वास्थ्य विभाग पंचकूला की सिविल सर्जन डॉ जसजीत कौर ने रविवार से जिले में किए पोलियो अभियान के तहत अब तक 25733 बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई गई है।

For Detailed News-

पंचकूला 3 नवम्बर- स्वास्थ्य विभाग पंचकूला की सिविल सर्जन डॉ जसजीत कौर ने रविवार से जिले में किए पोलियो अभियान के तहत अब तक 25733 बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई गई है। उन्होंने बताया कि वर्तमान कोविड.19 संक्रमण के बढने के जोखिम को देखते हुए पोलियो अभियान केवल जिले में पड़ने वाले उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों जैसे कि ईंटो के भट्टे, मुर्गी फार्म, फैक्टरियों, कन्सट्रक्शन साईटस स्टोन क्रेशर, माईनिंग एरिया, नो.मेड साईटस, झुग्गी.झोपडियां व अर्बन स्लम क्षेत्र इत्यादि में ही चलाया गया। क्योंकि ऐसी जगह पर ही माईग्रेटिड पोपुलेशन होती है। जहां पर पोलियो फैलने का खतरा सबसे अधिक होता है और सभी पोलियो वैक्सिन पिलाने वाली टीमों ने सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार मास्क व सोशल डिस्टैन्सिंग एवं अन्य सुरक्षा नियमों का पालना करते हुए खुराक पिलाने का कार्य किया । पोलियो के खिलाफ इस लड़ाई को स्वास्थय विभाग के साथ.साथ सभी सबंधित विभागों के प्रभावी समन्वय और समर्थन से जीता गया है। जिन्होंने यह सुनिश्चित किया कि जन्म से पांच वर्ष के सभी बच्चों को हर चरण में पोलियो की वैक्सिन की खुराक मिले और वह इस गंभीर बीमारी से सुरक्षित रह सकें ।

https://propertyliquid.com


जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ मीनू शासन ने बताया कि कोविड महामारी के दौरान इसके संक्रमण को देखते हुए अबकी बार भारत सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार ही जिले में उच्च जोखिम क्षेत्रों में रह रहे कुल 22421 बच्चों को पोलियो की खुराक पिलोने का लक्ष्य रखा गया जिसमें 16436 ग्रामीण 5985, शहरी के बच्चों को पोलियो की दो बुंदे पिलाई जानी थी। स्वास्थय विभाग द्वारा इस अभियान को सफल बनाने के लिए जिले में 14 तय बूथ व 26 मोबाईल हैल्थ टीमों का गठन किया है जिसको चिकित्सा अधिकारीयों द्वारा समय समय पर सुपरवाईज किया गया और यह अभियान सफल रहा । इस प्रकार उच्च अधिकरियों की देख रेख में अभियान के अंतिम दिन जिले में कुल 18757 बच्चों को पोलियो पिलाकर लक्ष्य से अधिक सफलता पाई है। उन्होंने बताया कि 18757 ग्रामीण व 6976, शहरी. बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई गई।

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

पटाखों के अस्थाई लाईसैंस के लिए 6 नवंबर तक जमा होंगे आवेदन, 10 नवंबर को निकलेगा ड्रा : उपायुक्त

सिरसा, 3 नवंबर।

For Detailed News-


उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बताया कि दीवाली के त्यौहार पर पटाखों की अस्थाई स्टॉल के लिए 6 नवंबर तक आवेदन जमा करवाए जाएंगे। संबंधित एसडीएम को आवेदन प्राप्त करने के लिए अधिकृत किया गया है। अस्थाई लाईसैंस के लिए ड्रा 10 नवंबर को निकाला जाएगा।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि जिला में दीवाली व गुरूपर्व के त्यौहार पर पटाखों की स्टॉल के लिए अस्थाई लाईसैंस जारी किए जाएंगे। इसके लिए संबंधित एसडीएम 6 नवंबर तक सायं 4 बजे तक आवेदन प्राप्त करेंगे। उन्होंने बताया कि आवेदन प्राप्ति उपरांत 10 नवंबर को अस्थाई लाईसैंस के लिए ड्रा निकाला जाएगा। 

पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त, एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी !

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : डॉ. आर.पी सिहाग

सिरसा, 3 नवंबर।


पर्यावरण सरंक्षण आज समय की सबसे बड़ी जरूरत है। इस दिशा में सभी को मिलकर आगे बढकर पौधारोपण करना होगा। यदि हर व्यक्ति पौधा लगाए तो पर्यावरण सरंक्षण की दिशा में कामयाबी अवश्य मिलेगी। स्वस्थ जीवन के लिए स्वच्छ पर्यावरण का होना बहुत ही जरूरी है। इसलिए सभी लोग पौधारोपण कर पर्यावरण सरंक्षण में अपना योगदान दें।

For Detailed News-


यह बात संयुक्त निदेशक(कपास) डॉ. आर.पी सिहाग ने मंगलवार को सहायक पौधा सरंक्षण अधिकारी के कार्यालय परिसर में त्रिवेणी लगाने उपरांत कही। इस अवसर पर विभाग के अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी कार्यालय परिसर में अपने हाथों से पौधारोपण किया। कार्यालय परिसर में भिन्न-भिन्न किस्म के सैंकड़ों पौधे रोपित किए गए। इस अवसर पर  उप निदेशक कृषि एवं कल्याण विभाग डा. बाबू लाल, बीज विश्लेषक डा. जितेंद्र अहलावत, सहायक कृषि अभियंता डीएस यादव, कृषि विकास अधिकारी बलराज गौरा, एआई विरेंद्र सिंह, वरिष्ठ आशुलिपिक सुनील यादव  आदि उपस्थित थे।

https://propertyliquid.com


संयुक्त निदेशक डा. आर.पी सिहाग ने कहा कि पर्यावरण को सरंक्षित करना हम सबकी जिम्मेवारी है। यह एक सामाजिक सरोकार का कार्य है। पौधारोपण अभियान के साथ सभी को जुडऩा चाहिए और पौधा लगाकर इसमें अपना सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में आज सहायक पौधा सरंक्षण कार्यालय परिसर में पौधारोपण किया गया है। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों व कर्मचारियों को कहा कि वे स्वयं तो पौधारोपण करें ही, दूसरों को पौधोरोपण करने के लिए प्रेरित करें।