पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

WHO प्रमुख ने दुनिया को चेताते हुए ये कहा है कि इन दिनों कोरोना वायरस महामारी से सामना करती दुनिया आगे भी और कोई महामारी से निपटने के लिए तैयार रहे।

नई दिल्ली:

इस समय दुनिया कोरोना वायरस जैसी महामारी से जूझ रही है और इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने दुनिया को एक चेतावनी दे डाली है।WHO प्रमुख ने दुनिया को चेताते हुए ये कहा है कि इन दिनों कोरोना वायरस महामारी से सामना करती दुनिया आगे भी और कोई महामारी से निपटने के लिए तैयार रहे।

For Detailed News-

WHO प्रमुख ने जेनेवा में एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा- यह कोरोना वायरस दुनिया में आने वाली अंतिम महामारी नहीं होगी।इतिहास गवाह है कि दुनिया अनेंकों महामारियों से गुजरी है।दरअसल, ये महामारियां हमारे जीवन एक वास्तविक हिस्सा हैं।ये महामारियां हमेशा के लिए कभी भी ख़त्म नहीं हो सकतीं।इसलिए हमें इनसे निपटने के लिए हमेशा तैयार रहना होगा।कोरोना वायरस के बाद आगे कोई भी महामारी दुनिया पर हमला करे उससे पहले हमें उसे नियंत्रित करने की तैयारी रखनी होगी।

https://propertyliquid.com/

हेल्थ सिस्टम में ज्यादा जोर देना होगा…

WHO प्रमुख के अनुसार, किसी महामारी से तभी निपटा जा सकता है जब हमारा हेल्थ सिस्टम मजबूत हो।इसलिए दुनियाभर के देशों को अगली महामारी से पहले पब्लिक हेल्थ में काफी पैसा निवेश करना चाहिए। दुनिया भर के देशों को एकजुट होकर संभावित बीमारियों की वैक्सीन और दवाओं पर मिलकर शोध करना चाहिए। वैक्सीन और दवाओं के तत्काल निर्माण और बाजार में लाने की व्यवस्था करनी चाहिए ताकि जब भी कोई महामारी फैले तो उसे तुरंत नियंत्रित किया जा सके।

गौरतलब है कि डब्ल्यूएचओ ने 11 मार्च को कोरोना वायरस संक्रमण को वैश्विक महामारी घोषित किया था।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में मंगलवार को 218 मामले पोजिटिव आए।

For Detailed News-

पंचकूला 8 सितम्बर – उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि जिला में मंगलवार को 218 मामले पोजिटिव आए। इनमें 169 पंचकूला के है। अब तक जिला में कुल 4292 मामले आए हैं जिनमें से 3315 पंचकूला के हैं। इनमें से 2039 कोरोना रोगी ठीक हो गए हैं तथा अब जिला में 1240 मामले एक्टिव रह गए है और 47057 व्यक्तियों के आरटी, पीसीआर, रेपिड एंटीजन नमूने लिए गए।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि जिला के गांव अभयपुर, भैंसा टिबा, चण्डीमंदिर, इंदिरा कालोनी, कोट, सैक्टर 3, 6, 7, 12, 22, लोहगढ, महेशपुर, मानकुपर, अमरावती एंन्क्लेव, सुरजपुर, टागरा हाकीमपुर, में एक एक, औद्योगिक क्षेत्र फेज-1, अब्दुलापुर, कर्णपुर, रायपुररानी, राजीव कालोनी, टिपरा, सैक्टर 2, 28, में 2-2, रामगढ, बरवाला, मंढावाला, मोगीनन्द, सैक्टर 12 ए, सैक्टर 17, में 3-3, एमडीसी सैक्टर 5, 26 में 4, सैक्टर 4, 10, 11, 25, 27 में 5, बाना, सैक्टर 20, 21, में 6, भैरांे की सेर, सैक्टर 14, 16, 19 में 7-7, सैक्टर 15 में 8, पिंजौर में 14, कालका में 18 मामले पोजिटिव आए है। इन क्षेत्रों को कंटेनमेंट किया जा रहा है।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा की अध्यक्षता में नगर निगम के आरक्षित वार्डो का ड्रा निकालते हुए।

पंचकूला 8 सितम्बर – जिला सचिवालय के सभागार में उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा की अध्यक्षता में नगर निगम के वार्डो को आरक्षित करने कार्य किया गया। ड्रा के माध्यम से वार्ड न0 7 व 12 को अनुसूचित जाति की महिलाओं एवं वार्ड 3, 4, 10, 11 व 19 को सामान्य वर्ग की महिलाओं के लिए आरक्षित किया गया। वार्ड कमेटी की सदस्य लिली बावा ने ड्रा में महिलाओं के लिए आरक्षित वार्डो की पर्ची निकाली।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि नगर निगम अधिनियम की धारा 11 के तहत अनुसूचित जाति के लिए अधिक जनंसख्या वाले वार्डो को आरक्षित किया जाता है। इसलिए वार्ड न 6, 7, 12 व 16 को अनुसूचित वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। उन्होंने बताया कि वार्ड न0 6 में 16712 की जनसंख्या में 11085 अनुसूचित जाति, वार्ड न0 7 में 15614 की जनसंख्या में अनुसूचित जाति के 9246, वार्ड न0 12 में 17995 की जनसंख्या में अनुसूचित जाति के 6729 तथा वार्ड न0 16 में 14510 की जनसंख्या में 7230 अनुसूचित जाति के मतदाता है।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि पिछडे वर्ग के लिए भी वार्ड 15 व 20 को आरक्षित किया गया है जिसमें वार्ड न. 15 की कुल जनसंख्या 13895 में से बीसी वर्ग की 5427 जनसंख्या है। इसी प्रकार वार्ड न. 20 मेें 15608 की जनसंख्या में 5844 पिछडे वर्ग से संबधित है। उन्होंने बताया कि नगर निगम के कुल 20 वार्ड है। सामान्य वर्ग की महिलाओं के लिए शेष 14 वार्डो में से 5 वार्ड महिलाओं के आरक्षित किए गए है।


उपायुक्त ने बताया कि वार्ड न0 6 राजीव कालोनी, वार्ड न0 7 राजीव कालोनी व इंदिरा कालोनी तथा वार्ड 12 में सैक्टर 5 का पार्ट, सैक्टर 2, एक, व खड़क मंगोली का क्षेत्र शामिल है। इसी प्रकार वार्ड न 16 में चण्डीमंदिर, चैकी, नाडा साहेब व बीड़ घग्गर का क्षेत्र आता है। उन्होंने बताया कि पिछडे वर्ग के लिए आरक्षित में वार्ड 15 में सैक्टर 20 का पार्ट व वार्ड न0 20 में सुखदर्शनपुर, खटौली, नग्गल आदि का एरिया शामिल है।


बैठक में नगराधीश धीरज चहल, संयुक्त निदेशक नगर निगम संयम गर्ग, कार्यकारी अधिकारी जरनैल सिंह, कार्यकारी अभियंता अंकित लोहान, अधीक्षक कृष्ण कुमार, सहायक संजय खन्ना, सदस्य हरेन्द्र मलिक, बी बी सिंगल, सी बी गोयल, लिली बावा भी उपस्थित रही।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

उपायुक्त ने कहा कि सुक्षम एवं लघु उद्योग व्यवसाय को बढावा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत बैंक जिला के उद्यमियों को लाभ देना सुनिश्चित करें ताकि इस योजना का लाभ लेकर उद्यमी अपने व्यवसाय को गति प्रदान कर सके।

पंचकूला 8 सितम्बर – उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने कहा कि सुक्षम एवं लघु उद्योग व्यवसाय को बढावा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत बैंक जिला के उद्यमियों को लाभ देना सुनिश्चित करें ताकि इस योजना का लाभ लेकर उद्यमी अपने व्यवसाय को गति प्रदान कर सके।

For Detailed News-


उपायुक्त जिला सचिवालय के सभागार में आत्मनिर्भर भारत योजना की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एमएसएमई योजना में कोरोना के दौरान उद्यमियों के कार्य में कमी आने के लिए लाभान्वित किया जाना है। इस योजना के तहत अब तक 4963 उद्यमियों ने आवेदन किया जिसमें से 4736 उद्यमियों को अतिरिक्त लाभ देने के लिए स्वीकृति प्रदान की गई।

https://propertyliquid.com/


उपायुक्त ने बताया कि इनमें से 3766 उद्यमियों को केन्द्र सरकार की गारंटी में शामिल कर लाभान्वित किया गया है। उन्होंने एलडीएम बृजेश को निर्देश दिए कि वे इस योजना की विस्तार से रिपोर्ट बनाकर प्रस्तुत करें ताकि योजना की विस्तार से समीक्षा की जा सके।


बैठक में एलडीएम बृजेश सहित उद्योग विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

जिला सचिवालय के सभागार में बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा।

पंचकूला 8 सितम्बर – उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने कहा कि जिला प्रशासन का कोरोना को सामुदायिक रूप से फैलने से रोकना ही मुख्य ध्येय है। इसलिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा रेपिड एंटीजन टैस्ट जिला के विभिन्न स्थानों पर शुरू किए गए है।

For Detailed News-


उपायुक्त जिला सचिवालय के सभागार में स्कूल प्राचार्यो के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना पोजिटिव रोगियों की तत्काल स्वास्थ्य लाभ सुनिश्चित करने एवं प्रशासन का सहयोग करने के लिए 21 कोविड टैस्टिंग केन्द्रों पर स्कूलों के मुखिया को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा किए जाने वाले रेपिड ऐंटीजन टैस्ट के माध्यम से रिर्पोट उसी दिन प्राप्त हो जाती है। इसलिए कोविड टैस्ट के बाद नोडल अधिकारी उनसे तालमेल कर एम्बुलेंस आने तक टैस्ट सैंटर में ही रहना सुनिश्चित करेंगें।

https://propertyliquid.com/


उपाय ुक्त ने कहा कि यदि कोविड पीड़ित सैंटर से घर पर चला जाता है तो उनसे समुदायिक फैलने का खतरा अधिक बना रहता है। इसलिए ऐसे रोगियांे को होम आईसोलेशन करने के अलावा स्वास्थ्य लाभ समय पर देकर राहत पहुंचाना है। उन्होंने कहा कि सभी नोडल अधिकारी सोशल डिस्टेंस का पालन व मास्क का उपयोग करते हुए उनसे सम्पर्क बनाए और स्वंय को सुरक्षित रखें और चिकित्सकों की मदद करें।


उपायुक्त ने कहा कि सर्वे के दौरान क्रोनिकल बीमारियों से ग्रस्त तथा 60 वर्ष की आयु से ऊपर के लोगों की अलग से सूची तैयार की जाए। उन्होंने कहा कि कम लक्षण वाले रोगियों को होम आईसोलेशन एवं अधिक संक्रमित रोगियों को अस्पताल में लेकर आना अनिवार्य है। इसलिए नोडल अधिकारी पूरी सक्रियता से कार्य करें ताकि रोगियों को सही समय पर स्वास्थ्य लाभ मिल सके।


बैठक में नगराधीश धीरज चहल, डा. सरिता, व डा. मीनू सहित विभिन्न स्कूलों के प्राचार्य एवं नोडल अधिकारी मौजूद रहे।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में कोताही बर्दाश्त नहीं – दुष्यंत चौटाला

चंडीगढ़, 8 सितंबर।


हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि जमीनों की ऑनलाइन रजिस्ट्रियों के मामले में आ रही दिक्कतों को यथाशीघ्र दूर करें ताकि लोगों का तत्काल कार्य हो सके। उन्होंने कार्य में सुस्ती दिखाने वाले अधिकारियों को चेताते हुए कहा कि अगर वे अपनी जिम्मेदारियों के प्रति गंभीर नहीं हुए तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मंगलवार को वे चंडीग? स्थित हरियाणा निवास में ‘रजिस्ट्रेशन डीडÓ से संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

For Detailed News-


उपमुख्यमंत्री को जानकारी दी गई कि जमीनों की रजिस्ट्री के लिए ऑनलाइन अप्वाइंटमैंट लेने की प्रक्रिया शुरू की गई थी परंतु कुछ स्थानों पर कलेक्टर रेट का चयन करने में परेशानी आई है, इस मामले में उपायुक्तों को हिदायतें दी जा रही हैं। बैठक में पोर्टल लिंक, कन्वीयन्स-डीड, औद्योगिक क्षेत्रों में अलॉटी-आई.डी, कंट्रोल्ड एरिया में 7-ए का नोटिफिकेशन तथा नगर एवं आयोजना विभाग की वेबसाइट पर आ रही कुछ परेशानियों के मुद्दे पर भी चर्चा हुई।


बैठक में यह भी जानकारी दी गई कि ‘रजिस्ट्रेशन डीडÓ ऑनलाइन कैसे की जाए, इस बारे में लोगों को समझाने के लिए एक वीडियो तैयार की जाएगी जिससे कि रजिस्ट्री करवाने की पूरी प्रक्रिया समझ में आ जाए। यह वीडियो यू-ट्यूब पर अपलोड की जाएगी। इसके अलावा, यह बताया गया कि रजिस्ट्री के लिए उपायुक्त व जिला राजस्व अधिकारियों को भी प्रशिक्षण दिया जाएगा, जो कि वे आगे प्रोपर्टी डीलरों को प्रशिक्षित करेंगे ताकि पात्र लोगों को रजिस्ट्री करवाने में किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े।

https://propertyliquid.com/


डिप्टी सीएम ने ऑनलाइन ‘रजिस्ट्रेशन डीडÓ में आ रही समस्याओं को सुनने के बाद अधिकारियों को निर्देश दिए कि इन समस्याओं का जल्द से जल्द निवारण करने के लिए एक समर्पित-टीम की जिम्मेवारी लगाएं ताकि लोगों को सुविधा हो व सिस्टम में पारदर्शिता आए।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

A National Webinar on “Prospects of National Education Policy-2020 in Higher Education” Organized by Department of Zoology, Panjab University

Chandigarh:

Department of Zoology, Panjab University organized a national webinar on “Prospects of National Education Policy-2020 in higher education”which was presided by Vice Chancellor, Prof. Raj Kumar , today.He emphasized the need to incorporate basic sciences like Zoology with the industry and enhance the employability of the students.

For Detailed News-

 Dr Leena Chandran Wadia, senior fellow at Observer Research Foundation, Mumbai was the speaker of the event and she spoke on the topic “NEP-2020: A New Dawn for Higher Education in India?” She started her talk by stating the aim of NEP to build character, make productive, contributable citizens for making an equitable society.  She pointed out the main features of NEP 2020 like the need of liberal education, vocational education and multidisciplinary approach as the pillars of this policy. She reflected that providing autonomy and institutional governance to higher educational institutions would drive the education system. Further, she said that empowering the faculty would play an important role in the success of NEP in higher education.

https://propertyliquid.com/

In the end she clarified the doubts of the participants and emphasized that these reforms would help in fulfilling the aim of education.

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

जनकल्याणकारी योजनाओं का आमजन तक लाभ पहुंंचाना व विकास कार्यों को गति देना होगी प्राथमिकता : एसडीएम

डबवाली, 8 सितंबर।


एसडीएम अश्वनी कुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा आमजन के कल्याण हेतू अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं। इन योजनाओं का लाभ हर पात्र व्यक्ति तक पहुंचे तथा क्षेत्र के विकास कार्यों को गति मिले, यही उनकी प्राथमिकता रहेगी। क्षेत्र के विकास में मीडिया अपनी अहम भूमिका निभा सकता है।

For Detailed News-


वे मंगलवार को अपने कार्यालय में मीडिया कर्मियों को संबोधित कर रहे थे। एसडीएम ने कहा कि उप मंडल में विकास कार्यों के बेहतर क्रियान्वयन में मीडिया कर्मी अपनी सकारात्मक भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में जहां पर भी कोई समस्या आती है तो मीडिया कर्मी प्रशासन को अवगत करवाएं, ताकि समस्या का त्वरित समाधान हो सके।

https://propertyliquid.com/


उन्होंने कहा कि शहर में सफाई व्यवस्था पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है और इस दिशा में गंभीरतापूर्व कार्य किया जाएगा। इसी प्रकार ट्रैफिक व्यवस्था से शहर को निजात दिलाने के लिए विशेष योजना के तहत कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में नशा प्रवृति भी एक गंभीर समस्या है। इसके लिए जहां लोगों को जागरूक किया जाएगा, वहीं नशा बेचने वालों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उप मंडल को नशा मुक्त करने की दिशा में हर आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सिल्वर चौक से लेकर तहसील तक दुकानदारों के सहयोग से सीसीटीवी कैमरे लगवाने पर विचार-विमर्श किया जाएगा। एसडीएम ने कहा कि शहर को आवारा पशुओं से भी मुक्ति दिलवाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य किया जाएगा। इसके लिए उप मंडलवासियों का सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने बताया कि सड़कों पर जो जगह-जगह गड्ढे है, उन्हें दुरूस्त किया जाएगा।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

कस्टम हायरिंग सैन्टर व कृषि उपकरण यंत्रों के लिए किसानों का ड्रा से किया चयन

सिरसा, 08 सितंबर।

अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह की अध्यक्षता में लघुसचिवालय के कमरा नम्बर-63 में ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से निकाला गया ड्रा


कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा सी.आर.एम योजना के तहत कृषि यंत्रों पर अनुदान कस्टम हायरिंग केन्द्र की स्थापना के लिए ड्रा के माध्यम से किसानों का चयन किया गया। इस दौरान विभिन्न प्रकार के 9 कृषि यन्त्रों पर अनुदान के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया से ड्रा करके किसानों का चयन किया गया। ड्रा प्रक्रिया अतिरिक्त उपायुक्त उत्तम सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को लघुसचिवालय के कमरा नम्बर 63 में पारदर्शिता के साथ पूरी की गई। इस दौरान जिला स्तरीय कार्यकारिणी समिति के सभी सदस्य तथा आमन्त्रित आवेदक किसान मौजूद रहे।

For Detailed News-


उप कृषि निदेशक डा. बाबुलाल ने बताया कि कृषि विभाग की ओर से सी.आर.एम स्कीम 2020-21 के तहत कस्टम हायरिंग सैन्टरों की स्थापना और एकल किसानों के आनॅलाइन आवेदन प्राप्त हुए थे। कस्टम हायरिंग सैन्टरों और व्यक्तिगत श्रेणी के लाभार्थी किसानों का चयन आनॅलाइन ड्रा से किया गया। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के चलते ड्रा में हिस्सा लेने के लिए सिर्फ सीमित किसानों को आमन्त्रित किया गया था। लाभार्थियों का चयन करने के लिए जिला सूचना अधिकारी सिरसा द्वारा आनॅलाइन ड्रा निकाला गया। उन्होंने बताया कि स्ट्रा बेलर, क्रोप रीपर, हैप्पी सीडर, हाइड्रोलिक रीवरसीबल प्लो, पैडी स्ट्रा चौपर/शैडर/मल्चर, रोटरी स्लैशर/शर्ब मास्टर, स्ट्रा रेक, सुपर सीडर, सुपर एस.एम.एस. एंव जीरो सीड ड्रिल यंत्रों के लिए ड्रा निकाला गया। इन कृशि यंत्रों के लिए सामान्य श्रेणी, छोटे किसानों जिनके पास 5 या 5 एकड़ से कम जमीन है एंव अनुसूचित जाति के लाभार्थियों का आनॅलाइन ड्रा के माध्यम से चयन किया गया। उन्होंने बताया कि जिन कृषि यंत्रों के लिए लक्ष्य से कम आवेदन प्राप्त हुए थे, उन सभी किसानों को चयनित मान लिया गया।
सहायक कृषि अभियन्ता इंजीनियर डी0 एस0 यादव ने बताया कि जिला में कुल 1259 लघु किसानों ने विभिन्न कृषि यंत्रों के लिए आनॅलाइन आवेदन किया था। लक्ष्य से अधिक आवेदन आनॅलांइन ड्रा करवाया गया, जिसके तहत बेलिंग मशीन के लिए 49, क्रोप रीपर के लिए 10, हैप्पी सीडर के लिए 4, हाइड्रोकिल रीवरसीबल एम.बी. प्लो के लिए 2, पैडी स्ट्रा चौपर/शैडर/मल्चर के लिए 8, रोटरी स्लैशर/शर्ब मास्टर के लिए 28, स्ट्रा रेक के लिए 49, सुपर सीडर के लिए 4, सुपर एस.एम.एस. के लिए 4 तथा जीरो सीड ड्रिल 35 के लिए लाभार्थी किसानों का चयन किया गया। अनुसूचित जाति श्रेणी के लिए पैडी स्ट्रा चौपर/श्रैडर/मल्चर, सुपर सीडर एंव सुपर एस.एम.एस. के लिए लक्ष्य से अधिक आवेदन मिले थे, इसके लिए आनॅलाइन ड्रा निकाला गया।

https://propertyliquid.com/


दस्तावेजों के निरीक्षण उपरांत होंगे परमिट जारी :


इंजीनियर डी0 एस0 यादव ने बताया कि आनॅलाइन आवेदन करने की रसीद, बैंक खाता, अनुसूचित जाति प्रमाण-पत्र, आधार कार्ड की कॉपी, पैन कार्ड, बैंक की कॉपी तथा ट्रैक्टर के पंजीकरण की वैद्य कॉपी, कृषि भूमि से सम्बन्धित पटवारी रिपोर्ट व मेरी फसल मेरा ब्यौरा के रजिस्ट्रेशन आदि दस्तावेजों का निरीक्षण करने के उपरान्त ही मशीनरी खरीदने के लिए परमिट जारी किएं जाएंगे। इसके लिए किसानों को मोबाईल से सूचित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कस्टम हायरिंग सैन्टर के लिए भी लाभार्थियों का चयन आनॅलाइन ड्रा के माध्यम से किया गया।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

दृढ इच्छा शक्ति व संयमित दिनचर्या अपनाकर मिल सकता है नशा प्रवृति से छुटकारा : उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ाण

सिरसा, 8 सितंबर।

नशे के खिलाफ इस मुहिम में चिकित्सक व शिक्षक निभाएं अहम भूमिका : उपायुक्त


                उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ाण ने कहा कि नशा और तनाव का गहरा नाता है और आज की भागदौड़ भरी जीवन शैली में विशेषकर युवा नशे को तनावमुक्त रहने का साधन समझ लेेते हैं, जोकि गलत है। युवा शक्ति नशे की अपेक्षा नियमित योग व  संयमित दिनचर्या के साथ-साथ शुद्घ व पौष्टिïक भोजन को अपनाएं। इसके अलावा समय अनुसार अपनी दिनचर्या में अच्छी पुस्तकें पढना व खेल आदि को भी शामिल करें। उन्होंने कहा कि युवा अपनी परेशानी या समस्या को अपने अभिभावक व शिक्षक से सांझा जरूर करें। उन्होंने बताया कि 15 अगस्त से 31 मार्च 2021 तक जिला में नशा मुक्त भारत अभियान चलाया जा रहा है जिसके तहत विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से लोगों को नशे से दूर रहने का संदेश व नशे के दुष्परिणामों के बारे में बताया जा रहा है। इस मुहिम में जिला प्रशासन के साथ-साथ सामाजिक, धार्मिक व अन्य संस्थाएं भी सहयोग कर रही है। नशे के खिलाफ इस मुहिम में चिकित्सक व शिक्षक भी अहम भूमिका निभाते हुए अपना योगदान दें।



ईलाज के साथ-साथ काउंसलिंग भी नशे की लत छुड़वाने में कारगर : मनोचिकित्सक


                मनोचिकित्सक डा. रविंद्र पुरी, डा. दलजीत सिंह व डा. गुरनाम सिंह ने कहा कि नशा सिर्फ एक आदत नहीं, मानसिक रोग भी है। इस रोग की शुरूआत बेशक शौकिया और छोटी-मोटी परेशानियों से होती है, लेकिन धीरे-धीरे ये क्रोनिक रूप अख्तियार कर लेता है। मानसिक रोगों का असर सिर्फ इंसान की मनोस्थिति पर नहीं पड़ता बल्कि उसकी शिक्षा, व्यवसाय सहित पूरे परिवार को प्रभावित करता है। आज समाज में नशा चुनौतीपूर्ण ढंग से बढ़ रहा है, जिसे रोकने के लिए सभी को प्रयास करने होंगे जिससे जिला सिरसा से नशा जड़मूल से समाप्त किया जा सके।


                उन्होंने कहा कि नशे से मानसिक पीड़ा के साथ-साथ माइग्रेन, सिरदर्द एवं चक्कर आना, इनसोमनिया (नींद न आने की बीमारी), चिंता, भय, घबराहट, डिप्रेशन, याददाशत में समस्या आदि बीमारियां उत्पन्न होती है। उन्होंने कहा कि आमतौर पर नशे की गिरफ्त में फंसे लोगों को सिर्फ दवाएं देकर ठीक करने की कोशिश की जाती है। असल में दवाओं के साथ साथ नशा ग्रस्त की काउंसिङ्क्षलग भी जरूरी है। अगर मरीज अस्पताल आने में असमर्थ है, तो फैमिली काउंसिङ्क्षलग के जरिए भी नशे से छुटकारा पाना संभव है।

For Detailed News-


                उन्होंने बताया कि नशे का जहर समाज को तेजी से निगल रहा है। भावी पीढ़ी भी नशे की चपेट में आ रही है। उन्होंने कहा कि नशीले पदार्थो का प्रयोग एक मनोवैज्ञानिक बीमारी है। नशा सेवन करने वाला इंसान खुद तो तबाह होता ही है साथ ही अपना परिवार भी उजाड़ देता है। नशा त्यागने के लिए दृढ इच्छा शक्ति व संकल्प का होना बहुत जरूरी है।


उन्होंने कहा कि नशे के कारण समाज में आपराधिक घटनाएं भी बढती हैं जोकि भविष्य के लिए चिंता का विषय है। इस प्रकार से नशा केवल व्यक्तिगत नुकसान ही नहीं करता बल्कि पूरे परिवार व समाज को भी बुरी तरह से प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि नशा को समाज से खत्म करना सबकी सामूहिक जिम्मेवारी है। नशे के खिलाफ सभी को एकजुट होकर लडऩा होगा और सभी को जिला को नशा मुक्त बनाने की मुहिम में अपना योगदान देना होगा।

https://propertyliquid.com/

छात्रों को नशे के दुष्परिणाम बताता है ‘मित्रÓ


                मनोचिकित्सक डा. रविंद्र पुरी ने बताया कि राजकीय नेशनल महाविद्यालय में छात्रों को समय-समय पर नशे के दुष्परिणामों के बारे में जागरुक किया जाता है, इसके लिए मित्र नामक संस्था का गठन भी किया गया है। इस संस्था द्वारा महाविद्यालय में नशा विषय पर विभिन्न प्रतियोगिताओं के साथ-साथ अन्य गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। इसके अलावा संस्था के सदस्यों द्वारा छात्रों से संवाद कर नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित भी किया जाता है। उन्होंने कहा कि नशा मुक्त भारत अभियान को सफल बनाने के लिए मित्र संस्था पूरी निष्ठïा व ईमानदारी से अपना दायित्व निभाएगी।