आश्विन नवरात्र में उत्तरी भारत के ऐतिहासिक श्री माता मनसा देवी मंदिर में माता मनसा देवी के दर्शन

Panchkula:

News 7 World Live:

श्री माता मनसा देवी के दर्शन
मुख्य द्वार

आश्विन नवरात्र में उत्तरी भारत के ऐतिहासिक श्री माता मनसा देवी मंदिर में माता मनसा देवी के दर्शन

श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन किए 

माता के दर्शन से सभी की मनोकामना पूरी होती है।

ऐसी मानयता है कि श्री माता मनसा देवी सभी की झोली खुशियो से भरती हैं।

जय माता दी।

Watch This Video Till End….

पारसमणि मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला शारदीय नवरात्रि पर साईं भजन सन्ध्या का आयोजन व साईं लंगर प्रबंध किया गया

Panchkula : 04-10-2019

News 7 World Exclusive Report:

पारसमणि मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला में साईं का दरबार देखने वाला था जिसके एक बार दर्शन से भक्तों के कष्ट दूर होते है।

पारसमणि मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला में पारे का शिवलिग है जिसे देखने भक्त जन दूर दूर से दर्शन करने और पूजन अर्चन करके आंनद की अनुभूति मिलती है।

पारसमणि मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला में शारदीय नवरात्रि पर माता रानी का दरबार आकर्षित करने वाला है।

मान्यता है, कि शारदीय नवरात्रि पर माता रानी सभी की मनोकामनाएं पूर्ण करती है।

जिसे देखने भक्त जन दूर दूर से दर्शन करने और पूजन अर्चन करके आंनद की अनुभूति की जिसे न्यूज़ 7 वर्ल्ड (News7world) के माध्यम से जिसे देश ओर विदेश मे देखा जा रहा है।

Watch This Video Till End….

Google ने आज जापानी पर्वतारोही जुनको ताबेई को उनके 80 वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर सम्मानित किया।

Google ने आज जापानी पर्वतारोही जुनको ताबेई को उनके 80 वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर सम्मानित किया।

जूनो तबेई माउंट एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचने वाली पहली जापानी महिला थीं, और इस महाद्वीप पर सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ने वाली पहली महिला भी थीं।

1939 में जन्मे, जुको ताबेई की परवरिश जापान के फुकुशिमा प्रान्त के एक छोटे से शहर मिहारू में हुई थी। चढ़ाई से उसका प्यार तब शुरू हुआ, जब 10 साल की उम्र में वह माउंट नासू की एक क्लास ट्रिप पर गई।

1969 में दो की माँ के रूप में, उन्होंने जापान के पहले लेडीज़ क्लाइम्बिंग क्लब की स्थापना की जो इस धारणा को धता बताने के लिए था कि महिलाओं को घर के अंदर रहना चाहिए।

1975 में, Junko Tabei माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला बनीं। हालाँकि, उसे दुनिया की सबसे ऊँची चोटी पर चढ़ने वाले 36 वें व्यक्ति के रूप में याद किया जाना पसंद है।

“मैंने एवरेस्ट पर पहली महिला होने का इरादा नहीं किया,” उसने एक बार कहा था।

सफलतापूर्वक शिखर पर चढ़ने के बाद, उन्हें जापान के सम्राट, क्राउन प्रिंस और राजकुमारी द्वारा सम्मानित किया गया।

जुनको ताबेई पहाड़ पर चढ़ने वाले मीडिया ध्यान से अधिक प्यार करते हैं। एवरेस्ट के बाद, वह प्रत्येक महाद्वीप पर उच्चतम चोटी पर चढ़ने के लिए चली गई – एकॉनकागुआ, डेनाली, किलिमंजारो, विंसन, एल्ब्रस और पुणक जया।

Watch This Video Till End….

हिन्दी दिवस की बहुत बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनाएं।

हर वर्ष 14 सितंबर को मनाया जाता है।

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये राजभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर वर्ष 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को प्रतिवर्ष हिन्दी-दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज 8 अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल होंगे। अपाचे हेलिकॉप्टर दुनिया के सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों में से एक माने जाते हैं।

खबरों के मुताबिक आज वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर इन हेलिकॉप्टरों को शामिल कराएंगे।

दुश्मन के दांत खट्टे करने के लिए भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज 8 अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल होंगे। अपाचे हेलिकॉप्टर दुनिया के सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों में से एक माने जाते हैं।

खबरों के मुताबिक आज वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर इन हेलिकॉप्टरों को शामिल कराएंगे। दो पायलट का होना है जरूरी जानकारी के लिए आपको बता दें कि अपाचे हेलिकॉप्टर को उड़ाने के लिए 2 पायलट होने जरूरी हैं।

इस हेलिकॉप्टर में दो इंजन हैं साथ ही दो सीटें हैं। दो इंजन होने की वहज से इसकी रफ्तार बहुत तेज है। हेलिकॉप्टर की अधिकतम स्पीड 280 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस हेलिकॉप्टर में एक खास बात यह भी है कि इसमें सेंसर भी लगा है, इस वजह से रात में भी ऑपरेशन को अंजाम दे सकता है और इसे रडार पर पकड़ना मुश्किल होता है।

गौरतलब है कि अपाचे हेलिकॉप्टर अमेरिका में बनाए गए हैं। अपाचे हेलिकॉप्टर AH-64E दुनिया का सबसे एडवांस मल्टी रोल कॉम्बेट हेलिकॉप्टर है।

AH-64E अपाचे दुनिया के सबसे उन्नत बहु-भूमिका लड़ाकू हेलिकॉप्टरों में से एक है। इसे अमेरिकी सेना भी इस्तेमाल करती है है। भारतीय वायुसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अपाचे अटैक के आठ हेलिकॉप्टरों को पठानकोट एयरबेस पर तैनाती तय है। इससे वायुसेना के लड़ाकू क्षमता में बढ़ोत्तरी होगी।

सितंबर 2015 में भारत-अमेरिका के बीच अपाचे हेलिकॉप्टरों की बड़ी डील हुई थी। जिसमें 22 अपाचे हेलिकॉप्टरों भारत को मिलने वाले हैं। इससे जुलाई को 4 हेलिकॉप्टर मिल चुके हैं, अब 8 हेलिकॉप्टर मंगलवार को मिल रहे हैं।

Watch This Video Till End….

भारत ने आज 73 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है।

नई दिल्ली:

देश आज 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। हर ओर जश्न है और आजादी के लिए लड़े दीवानों की याद में देशभक्ति के नारे गूंज रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर लालकिले के प्राचीर पर तिरंगा फहराया और देश को संबोधित किया। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद लालकिले से नरेंद्र मोदी का ये पहला भाषण है, इसलिए इस भाषण पर ना सिर्फ देश बल्कि पूरी दुनिया की नज़र है।

Watch This Video Till End….

Google Doodle: विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) को उनकी 100वीं जंयती पर Google Doodle बना कर श्रद्धांजलि अर्पित करता है

नई दिल्ली: 

विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) को उनकी 100वीं जंयती पर Google Doodle बनाया गया है. वह भारत के सबसे महान वैज्ञानिकों में से एक थे. उनका जन्म 12 अगस्त 1919 को हुआ था. 

विक्रम साराभाई  अपने दौर के उन गिने-चुने वैज्ञानिकों में से एक थे जो अपने साथ काम करने वाले वैज्ञानिकों और खासकर युवा वैज्ञानिकों को आगे बढ़ने में मदद करते थे. यही वजह थी कि उन्हें (Vikram Sarabhai) एक बेहतर लीडर भी माना जाता था.

साराभाई ने 1947 में अहमदाबाद में भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) की स्थापना की थी. बता दें कि गूगल अलग-अलग क्षेत्र की उन बड़ी हस्तियों को Google Doodle बना कर श्रद्धांजलि अर्पित करता है जिन्होंने समाज के लिए बड़ा योगदान दिया है.

विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) के पिता उद्योगपति थे और भौतिक विज्ञान के अध्ययन-अनुसंधान के इस केंद्र के लिए उन्होंने अपने पिता से ही वित्तीय मदद मिली थी.

उस समय साराभाई की उम्र महज 28 साल थी लेकिन कुछ ही सालों में उन्होंने पीआरएल को विश्वस्तरीय संस्थान बना दिया. साराभाई को उनके बेहतर काम के लिए वर्ष 1966 में पद्म विभूषण सम्मान से भी नवाजा गया था.

विक्रम साराभाई (Vikram Sarabhai) को भारतीय स्पेस प्रोग्राम का जनक भी माना जाता है. उन्हें 1962 में शांति स्वरूप भटनागर मेडल से भी सम्मानित किया गया था. 

30 दिसंबर, 1971 को उनकी मृत्यु उसी स्थान के नजदीक हुई थी जहां उन्होंने भारत के पहले रॉकेट का परीक्षण किया था. दिसंबर के आखिरी हफ्ते में वे थुंबा में एक रूसी रॉकेट का परीक्षण देखने पहुंचे थे और यहीं कोवलम बीच के एक रिसॉर्ट में रात के समय सोते हुए उनकी मृत्यु हो गई. 

Watch This Video Till End….

पंचकुला : टाउन पार्क, सेक्टर 5 में ‘दिव्य योग आयाम’ के द्वारा ध्यान और योग समारोह का आयोजन किया गया

पंचकुला: टाउन पार्क में, सेक्टर 5 में  ‘दिव्य योग आयाम’ के द्वारा ध्यान और योग समारोह का आयोजन किया गया। योग गुरु श्री सुरिंदर वर्मा जी ने प्राणायाम, ध्यान के साथ अपनी सुरली आवाज से तनाव मुक्त कर दिया।

योग निःशुल्क हर रोज़ 5.35 am to 6.40 am तक करवाया जाता है।

Media Partner News 7 World

योग गुरु श्री सुरिंदर वर्मा जी ने प्राणायाम, ध्यान, आसन, स्वस्थ आहार, उच्च रक्तचाप, मधुमेह और स्वस्थ जीवन शैली के बारे में पूरी जानकारी दी। योग प्रोटोकोल के तहत सभी योग क्रियाएं की।

उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति योग को एक घंटा देता है, तो वह स्वस्थ और तनाव मुक्त जीवन जीता है।

छात्र अध्ययन पर अधिक एकाग्रता रखते हैं, यदि वे सुबह योग करते हैं और अध्ययन में सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करते हैं।

योग शरीर व मन के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है।

न्यूज़ 7 वर्ल्ड (News7World) टीम इसके लिए दिल से आभारी है। अपने आप को हर्षित महसूस कर रहे है इनको सम्मानित करने में बेहद ख़ुशी है।

कृप्या अपना मूल्यवान समय देने के लिए धन्यवाद।

News 7 World : शेयर, लाइक और सुझाव का हमेशा स्वागत करते हैं।

ये वीडियो न्यूज़ 7 वर्ल्ड (News7World) टीम की ओर से सभी साघको के लिए।

Watch This Video Till End….

Watch This Video Till End….

Breaking News: फिर एक बार हुनर की जीत। फिर से चमक गया सिरसा का नाम।

सिरसा: 24 -07-2019

News7World Exclusive

शायद सबसे छोटा मेरे अराध्य देव शिव शंकर भोले नाथ, शिव शिवालय शेष नाग समेत जो शुद्ध सोने से निर्मित है

शिव शिवालय शेष नाग समेत

सिरसा कलाकारो की धरती है, हमने पहले भी देखा है सिरसा से सज्जन कुमार सोनी शायद अब तक का सबसे छोटा वर्ल्ड कप जो की सेम डिटो कोपी लम्बाई , 6 mm वजन 160, मीली ग्राम 90,मीन्ट बनाने मे लगा, चांदी व सोने मे हाथ से निर्मित बिना सहायता के बनाया था, जिसने देश ओर विदेश मे सिरसा का नाम रोशन कर दिया जिसकी सबसे पहली खबर न्यूज़ 7 वर्ल्ड (News7world) ने दिनांक June 3, 2019 मे प्रकाशित की थी जिसने देश ओर विदेश मे सिरसा का नाम रोशन कर दिया है । हमे इस पर गर्व है।सबसे पहले न्यूज़ 7 वर्ल्ड (News7world) लेकर अाया था जिसके बाद सभी न्यूज़ चैनल ने अपने चैनल पर दिखाया था

आज फिर ऐसा ही ऐक कारनामा सिरसा (हरियाणा) के सज्जन कुमार सोनी ने शायद सबसे छोटा मेरे अराध्य देव शिव शंकर भोले नाथ, शिव शिवालय शेष नाग समेत जो शुद्ध सोने से निर्मित है जिसका बजन 0,120, मिली ग्राम है लम्वाई 6,mm समय 50, मिनट और मोती पर टिका हुआ है जो चन्द्रमा कार्क है जो भगवान शिव के मस्तक पर बिराजमान है जिसका बजन 1,200 मिली ग्राम है

न्यूज 7 वर्ड (News7world) इसके लिए दिल से आभारी है। सज्जन कुमार सोनी सिरसा ने यह िसद़् कर दिया दुनिया में नामुमकिन कुछ नहीं है।

सज्जन कुमार सोनी सिरसा

Watch This Video Till End….

पंचकुला : टाउन पार्क, सेक्टर 5 में दिव्या योग आयाम के द्वारा रविवार (21-07-2019) को एक विशेष योग सत्र का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे निःशुल्क फिजियोथैरेपी जाँच शिविर का आयोजन किया जाएगा।

पंचकुला :

पंचकुला में टाउन पार्क, सेक्टर 5 में एक विशेष योग सत्र का आयोजन किया जा रहा है। योग गुरु श्री सुरिंदर वर्मा जी ने प्राणायाम,ध्यान, आसन, स्वस्थ आहार, उच्च रक्तचाप, मधुमेह और स्वस्थ जीवन शैली के बारे में पूरी जानकारी दी।

वैसे तो जो योग करता है, उसे कोई रोग नही होता वो हमेशा स्वास्थ्य रहता है।

उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति योग को एक घंटा देता है, तो वह स्वस्थ और तनाव मुक्त जीवन जीता है। छात्र अध्ययन पर अधिक एकाग्रता रखते हैं, यदि वे सुबह योग करते हैं और अध्ययन में सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करते हैं।

Watch This Video Till End….

निःशुल्क फिजियोथैरेपी जाँच शिविर का आयोजन किया जा रहा है। जो भी फिजियोथैरेपी जाँच करवाना चाहता है वो निःशुल्क करवा सकता है। इस अवसर का लाभ ले सकते है।

Watch This Video Till End….