हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

पहली बार श्रद्वालु कम चढावा ज्यादा-उपायुक्त

पंचकूला 25 अक्तूबर- माता मनसा देवी मंदिर काली माता मंदिर कालका में श्रद्वालुओं ने नवें दिन माता के चरणों में 13 लाख 17 हजार 360 रुपए राशि नकद श्रद्धालुओं ने चढाई हैै। इसके अलावा 81 हजार 150 रुपए की राशि ड्राई प्रसाद वितरण योजना में एकत्र हुई है। अब तक एक करोड 31 लाख 90 हजार 72 रुपए की राशि चढाई गई है जबकि गत वर्ष अक्तूबर माह के दौरान एक करोड़ 23 लाख 66 हजार 413 रुपए की राशि माता के चरणों में चढाई गई। इस प्रकार गत वर्ष की तुलना में 3 लाख 13 हजार 359 रुपए की अधिक राशि आई माता मनसा देवी श्राईन बोर्ड मंे पहली बार श्रद्वालु कम ओर चंदा अधिक प्राप्त हुआ है।

For Detailed News-


उपायुक्त एवं मुख्य प्रषासक मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि श्रद्धालुओं ने माता मनसा देवी मंदिर में 6 सोेने के आभूषण व 31 सिलवर के नग तथा काली माता मंदिर में तीन सोने के आभूषण व 39 सिलवर के नग चढाए है। इस प्रकार 9 सोने के आभूषणों का वजन 4.165 ग्राम व 70 चांदी के आभूषणों का वजन लगभग 361.2 ग्राम है। उन्होंने बताया कि माता मनसा देवी पर कुल 8 लाख 5 हजार 4 रुपए तथा काली माता मंदिर कालका में 5 लाख 12 हजार 356 रुपए की राशि चढाई है। इसी प्रकार प्रसाद वितरण योजना में माता मनसा देवी मंदिर में 100 ग्राम वजन में 42 हजार 850 रुपए तथा 200 ग्राम प्रसाद वितरण में 36 हजार 600 रुपए और काली माता मंदिर में 100 ग्राम प्रसाद वितरण में 1400 रुपए व 200 ग्राम प्रसाद वितरण में 300 रुपए की राशि सहित कुल 100 ग्राम प्रसाद वितरण में 44 हजार 250 रुपए तथा 200 ग्राम वितरण प्रसाद में 36 हजार 900 रुपए की राशि एकत्र हुई है। इसके अलावा कनाडा के 45 डालर, तथा युरोपियन 50 युरो भी श्रद्धालुओं को माता के चरणों में भेंट किए है।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि कालका में नवें नवरात्र में लगभग 5760 व माता मनसा देवी मंदिर में लगभग 20 हजार 350 श्रद्वालुओं का आगमन हुआ है और माता मनसा देवी मंदिर में एक लाख 20 हजार 647 व काली माता मंदिर कालका में 25262 श्रद्धालुओं ने मत्था टेका है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

जिला सचिवालय परिसर में मनाया गया संयुक्त राष्ट्र संघ दिवस

पंचकूला 24 अक्टूबर। उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा के निर्देषानुसार संयुक्त राष्ट्र संघ दिवस के अवसर पर जिला सचिवालय परिसर में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इस दौरान विश्व की शांति के लिए राष्ट्रीय ध्वज के साथ ही संयुक्त राष्ट्र संघ का ध्वज भी लगाया गया।

https://propertyliquid.com


उल्लेखनीय है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद विश्व के देशों ने विचार किया कि विश्व स्तर पर एक ऐसा मंच बनाया जाए, जो पूरे विश्व में शांति के लिए कार्य करे। जिसके माध्यम से मानव के अधिकारों की रक्षा हो सके। उन्होंने कहा कि जिसके लिए 24 अक्टूबर 1945 को संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की गई। उन्होंने कहा कि 24 अक्टूबर 1948 से संयुक्त राष्ट्र दिवस मनाने का निर्णय लिया गया। तभी से इस दिन पूरे विश्व में अमन और शांति के लिए संयुक्त राष्ट्र दिवस मनाया जाता है।


वर्तमान में कोई भी देश अपने अधिकारों व हितों की आवाज संयुक्त राष्ट्र संघ में रख सकता है। उन्होंने कहा कि हमें देश व समाज में शांति की स्थापना के लिए कार्य करना चाहिए। किसी दूसरे व्यक्ति के अधिकारों का हनन नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें चाहिए हमारे परिवारों का विखंडन न हो, तभी एक सभ्य समाज का निर्माण किया जा सकता है। इस मौके पर कई कर्मचारी व पुलिस विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।

For Detailed News-



राजकीय महाविद्यालय कालका मंे प्राचार्य प्रोमिला मलिक की अध्यक्षता में संयुक्त राष्ट्र दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में युएनओ डे पर विस्तार से प्रकाष डाला। प्रो. सुनीता चैहान, मीना षर्मा ने युएनओ डे के बारे में जानकारी देते हुए 1948 में द्वितीय विष्व युद्ध के बाद इसकी नींव रखी गई। जिसमें राष्ट्रों को एक ऐसा मंच प्रदान किया गया जिसमें आपसी विवाद सुलझा सकें ओर विष्व को ज्यादा से ज्यादा बेहतर बनाने में सहायक बन सके।
इस मौके पर प्रो. डा. बिन्दू, डा. षीतल ग्रोवर, प्रो. सोनाली, डा. कुलदीप ंिसह सहित कई पदाधिकारी मौजूद रहे।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

ग्रामीण एवं कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने की ओर डिप्टी सीएम का अहम कदम

चंडीगढ़, 24 अक्टूबर। हरियाणवी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहे मुढे अब गांवों की पंचायतों चौपालों की शान बढ़ाएंगे। प्रदेश के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने ग्राम पंचायतों को बैठने के लिए मुढे उपलब्ध करवाने का निर्णय लिया है। हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड इन मुढों को तैयार करवागा और पंचायत विभाग हरियाणा के कोने-कोने तक मुढें पहुंचाएगा। प्रथम चरण में एक हजार गांवों में ये मुढे दिए जाएंगे। खादी बोर्ड के चेयरमैन की नियुक्ति के बाद पहला ऑर्डर डिप्टी सीएम ने दिया है। दुष्यंत चौटाला का यह कदम गांवों में कुटीर व ग्रामोद्योगों के साथ साथ आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने की दिशा में भी महत्वपूर्ण साबित होगा।
दरअसल, उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला वीरवार को खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के नवनियुक्त चेयरमैन रामनिवास सुरजाखेड़ा को पदभार संभलवाने के लिए पंचकुला में बोर्ड के कार्यालय गए थे। पदभार संभलवाने के बाद दुष्यंत चौटाला कार्यालय का निरीक्षण करने लगे। कार्यालय में ही खादी बोर्ड द्वारा बनाए जाने वाले खादी के वस्त्र, कुटीर व ग्रामोद्योग से जुड़ी अन्य वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया था। इसी दौरान अनायास ही दुष्यंत की नजर वहां रखे मुढे पर पड़ी। वे तुरंत वहां रखे मुढे के पास गए और उन्होंने अधिकारियों से पूछा कि ये मुढा यहां बैठने के लिए है या खादी बोर्ड इसे बेचता भी है? इसपर अधिकारियों ने बताया कि गांवों के कारीगरों से खादी बोर्ड ये मुढे तैयार करवाता है और इन्हें बेचता है। यह सुनते ही दुष्यंत बोले… “अरे वाह, बहुत खूबसूरत हैं ये मुढे”। हरियाणा के कारीगरों से बने मुढे इस कदर पंसद आए कि उन्होंने अधिकारियों को मौके पर पूछा कि दस हजार मुढे आप कितने दिन में तैयार कर सकते हो। इस बारे में उन्होंने अधिकारियों को जल्द ही रिपोर्ट करने को कहा।

For Detailed News-


शुक्रवार को हुई हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग की प्रथम बैठक में मुढों को गांवों तक पहुंचाने बारे विचार किया गया और खादी बोर्ड को दस हजार मुढे तैयार करवाने को कहा गया। डिप्टी सीएम ने प्रथम चरण में हरियाणा की एक हजार पंचायतों को मुढे पहुंचाने का फैसला किया। ये मुढे प्रदेश के विकास एवं पंचायत विभाग द्वारा खरीद कर पंचायतों को दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इससे न केवल हमारे कुटीर उद्योग को बढ़ावा मिलेगा बल्कि आत्मनिर्भरता के साथ-साथ कारीगरों की आमदनी बढ़ाने की ओर यह अहम कदम साबित होगा।

https://propertyliquid.com

*…जननायक स्व. देवीलाल ने पहुंचाए थे गांवों में मुढे*पूर्व उपप्रधानमंत्री स्व. जननायक चौ. देवीलाल का भी मुढो के प्रति खासा लगाव था। वे स्वयं भी बैठने के लिए मुढे का प्रयोग करते थे और जहां कहीं भी पांच छह लोग मुढो पर बैठे दिखते तो  चौ. देवीलाल अपनी गाड़ी रूकवाकर उनके पास जाकर ग्रामीणों का हालचाल जानते थे। हरियाणा के मुख्यमंत्री रहते हुए स्व. चौ. देवीलाल ने गांवों की पंचायत घरों में मुढे पहुंचाए थे। उनकी सोच थी कि गांवों में बनी वस्तुएं बाजार में बिकेंगी तो इससे गांवों में कुटीर उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा, उनकी आमदनी बढ़ेगी और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का जीवन स्तर उंचा उठेगा। उनके परपौत्र दुष्यंत चौटाला ने भी उनके नक्शेकदम पर चलते हुए गांवों में मुढे पहुंचाने का निर्णय लिया है जिससे कि ग्रामीण आंचल के कारीगरों को प्रोत्साहन मिलेगा।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

पारसमणि सिध्देश्वर महादेव मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला

News 7 World

पारसमणि सिध्देश्वर महादेव मंदिर सैक्टर 10 पंचकूला

पारसमणि सिध्देश्वर महादेव मंदिर में श्रद्वालुओं ने अष्ठमी के दिन माता के चरणों में हाजरी लगाई।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

माता मनसा देवी मंदिर व काली माता मंदिर कालका में श्रद्वालुओं ने नवरात्र के सप्तवें दिन माता के चरणों में 11 लाख 35 हजार 610 रुपए राशि नकद श्रद्धालुओं ने चढाई हैै।

पंचकूला 23 अक्तूबर- माता मनसा देवी मंदिर व काली माता मंदिर कालका में श्रद्वालुओं ने नवरात्र के सप्तवें दिन माता के चरणों में 11 लाख 35 हजार 610 रुपए राशि नकद श्रद्धालुओं ने चढाई हैै। इसके अलावा 57 हजार 950 रुपए की राशि ड्राई प्रसाद वितरण में एकत्र हुई है।

For Detailed News-


उपायुक्त एवं मुख्य प्रशासक मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि श्रद्धालुओं ने माता मनसा देवी मंदिर में 2 सोेने के नग व 76 सिलवर के नग तथा काली माता मंदिर में एक सोने का नग व 35 सिलवर के नग चढाए है। इस प्रकार 3 सोने के नग का वजन 1.141 ग्राम व 111 नग चांदी का वजन लगभग 2325 ग्राम है। उन्होंने बताया कि माता मनसा देवी पर कुल 8 लाख 86 हजार 62 रुपए तथा काली माता मंदिर कालका में 2 लाख 49 हजार 548 रुपए की राशि चढाई है। इसी प्रकार प्रसाद वितरण योजना में माता मनसा देवी मंदिर में 100 ग्राम वजन में 30 हजार 500 रुपए तथा 200 ग्राम प्रसाद वितरण में 24 हजार 300 रुपए और काली माता मंदिर में 100 ग्राम प्रसाद वितरण में 2350 रुपए व 200 ग्राम प्रसाद वितरण में 800 रुपए की राशि सहित कुल 100 ग्राम प्रसाद वितरण में 32 हजार 800 रुपए तथा 200 ग्राम वितरण प्रसाद में 25 हजार एक सौ रुपए की राशि एकत्र हुई है। इसके अलावा आस्टेªलिया के 20 डालर भी श्रद्धालुओं को माता के चरणों में भेंट किए है।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि कालका में सप्तवें नवरात्र में लगभग 2870 व माता मनसा देवी मंदिर में लगभग 21 हजार 820 श्रद्वालुओं का आगमन हुआ है और अब तक एक करोड 4 लाख 41 हजार 488 रुपए की राशि चढाई गई है। माता मनसा देवी मंदिर में एक लाख 297 व काली माता मंदिर कालका में 19505 श्रद्धालुओं ने मत्था टेका है। इस प्रकार अब तक 38 नग सोने के जिनका वजन 43.89 ग्राम तथा 587 नग चांदी के जिनका वजन 5.952 ग्राम माता के चरणों में श्रद्धालुओं ने चढाया है।

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

गठबंधन सरकार की पहली वर्षगांठ पर हिसार को सौगात, एयरपोर्ट की योजना भरेगी उड़ान

चंडीगढ़-23 अक्टूबर। भारतीय जनता पार्टी और जननायक जनता पार्टी गठबंधन सरकार की पहली वर्षगांठ पर हिसार में अंतरराष्ट्रीय स्तर के हवाई अड्डा की योजना को पंख लग जाएंगे। 27 अक्टूबर को हिसार एयरपोर्ट के लिए भूमि-पूजन का कार्यक्रम तय किया गया है।

For Detailed News-


              अब तक कागजी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद हिसार वासियों का इंटरनेशनल एयरपोर्ट बननेसपने को सरकार जल्द से जल्द पूरा करना चाहती है। हवाई अड्डा निर्माण के लिए प्रशासनिक स्तर पर सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय विभाग से हवाई अड्डे के निर्माण कार्य शुरू करने संबंधी हरी झंडी मिल गई है और अब एयरपोर्ट के आधारभूत ढांचे का निर्माण कार्य शुरू हो सकेगा।  


              डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने हिसार में इंटरनेशनल लेवल के एयरपोर्ट बनाने की योजना को धरातल पर उतारने में खासी रूचि दिखाई और उन्होंने लॉकडाउन के दौरान भी उड्डयन व विमानन क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों व अधिकारियों के साथ मेराथन बैठकें की। इतना ही नहीं केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से हवाई अड्डे के क्लियरेंस लेने के लिए समय सीमा तय करके अधिकारियों की विशेष तौर पर डयूटी लगाई। डिप्टी सीएम की गंभीरता का ही नजीता है कि तय समय सीमा में हिसार हवाई अड्डे से केंद्रय पर्यावरण विभाग से एनओसी मिली तथा गठबंधन सरकार की पहली वर्षगांठ पर 27 अक्टूबर को हवाई अड्डा बनाने की योजना को अमली-जामा पहनाने की प्रक्रिया शुरू होगी।


              डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा को आगामी समय में एविएशन हब के रूप में विकसित किया जाएगा। इसमें हिसार का हवाई अड्डे का निर्माण मील का पत्थर रहेगा वहीं भिवानी में एविशन क्लब, महेंद्रगढ़ में एडवेंचर स्पोर्टस सेंटर सहित करनाल व पंचकुला में  हवाई पट्टियों का विस्तारीकरण करने पर सरकार का फोकस रहेगा।

https://propertyliquid.com


              डिप्टी सीएम ने बताया कि हवाई अड्डे के विस्तारीकरण का सबसे महत्वपूर्ण अंग हवाई पट्टी की लंबाई बढ़ाना है। वर्तमान हवाई पट्टी के अलावा तीन हजार मीटर नई हवाई पट्टी बनाने का काम शुरू हो जाएगा। हवाई पट्टी के साथ साथ ही टैक्सी वे, टैक्सी स्टैंड, जहाज के लिए पार्किंग स्पेस, टर्मिनल, एयर टै्रफिक कंट्रोल सिस्टम स्थापित करने की दिशा में चरणबद्ध तरीके से काम शुरू होगा। हिसार हवाई अड्डे की चारदीवारी निर्माण की प्रक्रिया शुरू होगी वहीं आतरिक सुरक्षा हेतु फैंसिंग लगाने की प्रक्रिया जारी है।


              डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार के हवाई अड्डे को अत्याधुनिक बनाया जाएगा जिससे कि यहां रात को भी बड़े हवाई जहाज लैंड कर सकेंगे। कम विजिबिलिटी में जहाज को लैंड करने की समस्या से निपटने के लिए भी पूरे इंतजाम किए जाएंगे और इसके लिए इस प्रकार की अत्याधुनिक तकनीक युक्त लाइट स्थापित करने का प्रस्ताव है। जिससे कि 24 घंटे हवाई जहाज के आवागमन की सुविधा रहेगी। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

सैक्टर 1 स्थित जिला सचिवालय में एनडीआरएफ व जिला प्रशासन के सहयोग से भूकम्प को लेकर माॅक ड्रिल का आयोजन किया गया।

पंचकूला 20 अक्तूबर- सैक्टर 1 स्थित जिला सचिवालय में एनडीआरएफ जिला प्रशासन के सहयोग से भूकम्प को लेकर माॅक ड्रिल का आयोजन किया गया। इस माॅक ड्रिल में उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा व एनडीआरएफ गाजियाबाद के डिप्टी कमाण्डेंट कुलेश आनन्द ने सभी विभागों के सहयोग से रेसक्यू आपरेशन किया गया।

For Detailed News-


माॅक ड्रिल के दोरान आपातकाल सायरन बजते ही भवन को खाली कर दिया गया और सभी विभागाध्यक्षों ने इंसीडेंट कमाण्डर को अवगत करवाया। अचानक आए भूकम्प में 15 व्यक्ति मलबे में दब गए। उन्हें निकालने के लिए रैस्क्यू किया गया। एनडीआरएफ की टीम ने 8 व्यक्तियों को सकुशल निकाल लिया लेकिन दो व्यक्तियों की कैज्यूलटी हो गई। इसके अलावा सैक्टर 5 स्थित परेड ग्राउंण्ड मेें स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ राहत कैम्प बनाया गया।

https://propertyliquid.com


माॅक ड्रील के दौरान एम्बुलेंस, फायर बिग्रेड, जेसीबी आदि सभी आवश्यक उपकरण समय पर पहंुच गए। इसके अलावा एनडीआरएफ ने भी स्टोर, मेडिसन, सैटेलाईट, कम्युनिकेशन आदि के उपकरण लगाए गए। एनडीआरएफ टीम ने रैस्क्यू के दौरान सचिवालय की सबसे उपर की मंजिल से रोप वे के माध्यम से घायलों को बाहर निकाला। इस प्रकार माॅक ड्रिल सार्थक रही।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

USOL,PU celebrated World statistics Day

Chandigarh October 20, 2020

University School of Open Learning, Panjab University organised a webinar on the theme “Connecting the World with Data we can Trust” to celebrate the 3rd World statistics Day, today. Eminent speakers Prof. David D. Hanagal from University of Pune and Prof. B. K. Hooda from CCSHAU, Hisar delivered lectures.

Prof. Madhurima Verma, Chairperson, USOL delivered the welcome address. Over 140 participants  joined this webinar.

 Prof.David D. Hanagal highlighted three different software reliability growth models and found their estimates with the use of three real data sets.

Prof. B. K. Hooda enlightened on the contributions of Statisticians and presented statistical methods for research workers we can trust.

https://propertyliquid.com

Vote of thanks was delivered by Dr. Manoj Tiwari,Statistics Coordinator, USOL. The whole program was coordinated by Dr.Richa Sharma, USOL and Mr. Sucha Singh, USOL with their entire team. 

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास परियोजनाएं एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर जनता के हित को ध्यान में रखते हुए बनाई जाती है ताकि जनता को उनका पूरा लाभ मिल सके।

First eBook on National Education Policy 2020 Released

Chandigarh October 20, 2020

Release of First eBook on National Education Policy 2020: Reflections of Stakeholders

For Detailed News-

Since 29th July 2020, when the National Education Policy 2020 was approved by the Union Cabinet, the academic world has been surcharged with Webinars.

In this context, first of its kind an eBook on National Education Policy 2020 was formally released by the Governor of Chhatisgarh, Ms Anusuiya Uikey, today at the National Webinar on National Education Policy 2020: Reflections from Stakeholder organized by the Kushabhau Thakre Patrakarita Avam Jansanchar Vishwavidyalaya (LTPAJV), Raipur. At the event Prof Raj Kumar was the Guest of Honour.

The eBook, compilations of thoughts of stakeholders from the different segments of the strata has been co-edited by Dr Kalpana K Mahajan and Dr Ravi K Mahajan from the Panjab University, Dr Manoj Saxena from HP Central University and Dr Qazi Maher Ali from the Aligarh Muslim University. The book carries reflections from all the corners of the country.

While referring to the emerging collaboration with the universities in France, Prof Raj Kumar, in his address laid emphasis on the Resource Sharing as key to success in the implementation of the National Educating Policy 2020.Professor Raj Kumar shared in particular his experience of the Central Instrumentation laboratory (CIL) of Panjab University. And he envisioned the role of CIL in extending its experience and expertise in the tribal areas of Chhatisgrah. On the implementation of the NEP, Prof Raj Kumar expressed that the onus is on the universities and the faculty has to play a pro-active role.

Governor of Chhatisgarh Ms Anusuiya Uikey in her address referred about the role of educating children in the local language. And she referred about diminishing knowable about the key herbs which is being lost because of ignoring the component of local language.

 At the Webinar Dr Pankaj Mittal, the Secretary General Association of Indian Universities, delivered the Key Note Address. In her address, Dr Pankaj Mittal eulogized on the role of Academic Bank of Credit, which promises an ultimate flexibility to the students. 

The Webinar was also addressed by Prof Baldev Bhai Sharma, the Vice Chancellor of LTPAJV, Raipur and Prof Kuldeep Chand Agnihotri, the Vice Chancellor of the Central University of Himachal Pradesh University. 

More than 700 enthusiasts participated in the event.

https://propertyliquid.com

पर्यावरण सरंक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : सिटीएम संदीप कुमार

Webinar at PU

Chandigarh October 20, 2020

Panjab University Alumni Association in collaboration with Institute of Educational Technology and Vocational Education organized a webinar “ Transforming Indian Education Through NEP 2020: A Roadmap” by Prof. Sanjay Deshmukh,Professor of Life Sciences at Mumbai University.

Prof. Deshmukh discussed the role of Universities in 1960’s which was Creation, Preservation and Dissemination of knowledge. He compared it to role of Universities as viewed today, i.e, Creation of research and innovation, Preservation of academic infrastructure, Dissemination of Knowledge: perception of students on teaching and learning. He said that Universities should not prepare for the future rather they should mould the future.

https://propertyliquid.com

He discussed different types of Intelligence and approaches to learning. Speaking about IQ he said that an individual’s intelligence cannot be a fixed quantity that cannot be increased, to which a lot of participants agreed. Then he discussed the seven steps that led to NEP 2020 and the challenges in contemporary times in education, assessment, transformation of agenda etc. Prof Deshmukh discussed the key elements and features of NEP 2020 in detail. He explained every aspect of the policy and said it is the policy for the next generation. He discussed the vision for schools, success indicator of the policy, multidisciplinary approach, ODL for all institutions etc.

Prof. Deshmukh discussed many other key features of the policy and concluded by explaining the last lines of the Gayatri Mantra and quoting from the Rigveda ‘ May all thoughts be inspired by that divine light and dispel the darkness’.

Earlier, Dr. Kanwalpreet Kaur, Chairperson, Institute of Educational Technology and Vocational Education Panjab University welcomed and introduced Prof. Deshmukh.She informed that 

Prof. Sanjay Deshmukh is an internationally acclaimed Life Scientist who holds vast experience of all shades of the academic and education administration paradigm. Prof. Deshmukh is PhD (Mumbai University), DSc (Honoris Causa, RML Avadh Univ., UP) – India; FNESA [LEAD Fellow (INDIA) – Cohort 11] Professor of Life Sciences; Formerly, Vice-Chancellor University of Mumbai. He was the youngest Vice Chancellor of University of Mumbai. He holds extensive field level research experience- spanning over 50 countries. He is also the r ecipient of DSc (honoris causa) from Ram Manohar Lohia Avadh University, Uttar Pradesh, in recognition of monumental research and academic contributions to Higher Education.

For Detailed News-

Ms. Sonia Chandel from Panjab University Alumni Association proposed a vote of thanks.