DLIS organized Alumni meet

गणतंत्र दिवस समारोह का विरोध नहीं करेंगे किसान : रतनमान

भारतीय किसान यूनियन की किसानों से अपील, समारोह में किसी तरीके का व्यावधान न डाला जाए

पंचकूला :  26 जनवरी को मनाए जाने वाला गणतंत्र दिवस साधरण दिन नहीं है। यह वह दिन है जब हमारे भारत देश को पूर्ण रूप से स्वतंत्रता की प्राप्ति हुई थी, क्योंकि भले ही देश 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हो गया था, लेकिन यह पूर्ण रूप से स्वतंत्र तब हुआ जब 26 जनवरी 1950 के दिन ‘भारत सरकार अधिनियम’ को हटाकर भारत के नवनिर्मित संविधान को लागू किया गया। उस दिन से 26 जनवरी के इस दिन को भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। यह एक महान पर्व है। यह बात भारतीय किसान यूनियन (रजि.) के प्रदेश अध्यक्ष रतन मान ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कही।

For Detailed News-

प्रदेश अध्यक्ष रतन मान ने भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि 26 जनवरी को प्रदेश में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में किसी भी प्रकार का व्यावधान न डाला जाए, क्योंकि यह दिवस असंख्य कुर्बानियां देने के बाद हमें प्राप्त हुआ है। मान ने कहा कि 26 जनवरी का कार्यक्रम कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं होता, ऐसे में नाराजगी जाहिर करना या देश की शान में आयोजित समारोह में व्यावधान डालना उचित नहीं है।देश के सभी नागरिकों के लिए यह गर्व का दिन है, इसलिए सभी किसान भाइयों से अपील है कि सभी किसान इस दिवस को गौरवशाली तरीके से मनाएं और सरकारी आयोजनों में किसी तरीके का व्यावधान न डालें। तीन कृषि कानूनों को लेकर किसान आंदोलन बदस्तूर जारी रहेगा और जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती तब तक किसान आंदोलन करते रहेंगे। 26 जनवरी के कार्यक्रम का विरोध किया जाना किसी भी स्तर पर उचित नहीं है। किसान देशभक्त है, इसलिए गणतंत्र दिवस समारोह के भव्य आयोजनों में बाधा नहीं बनेगा।

रतन मान ने चेतावनी देते हुए कहा कि किसानों की आड़ में किसी राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता या असामाजिक तत्व देश की गरिमा को ठेस पहुंचाने की चेष्टा करेंगे तो किसान यूनियन उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करती है।

https://propertyliquid.com

रतन मान ने कहा कि भारतीय गणतंत्र दिवस वह दिन है, जब इसी दिन सन् 1950 में हमारे देश का संविधान प्रभाव में आया। गणतंत्र दिवस का दिन भारत के राष्ट्रीय पर्वों में से एक है, यहीं कारण है कि इसे हर जाति तथा संप्रदाय द्वारा काफी सम्मान और उत्साह के साथ मनाया जाता है। देश की गरिमा किसान के लिए सर्वोपरि है।

 इस दिन होने वाले आयोजन हमें आजादी व हमारे गणतंत्र के महत्व का अहसास कराते हैं। यहीं कारण है कि इसे पूरे देश भर में इतने जोश तथा उत्साह के साथ मनाया जाता है। इसके साथ ही यह वह दिन भी है जब भारत अपने सामरिक शक्ति का प्रदर्शन करता है, जोकि किसी को आतंकित करने के लिए नहीं अपितु इस बात का संदेश देने के लिए होता है कि हम अपनी रक्षा करने में सक्षम हैं।मान ने कहा कि 26 जनवरी का यह दिन हमारे देश के लिए एक ऐतहासिक पर्व है इसलिए हमें पूरे जोश तथा सम्मान के साथ इस पर्व को मनाना चाहिए। इस दिन को हमारे देश के आत्मगौरव तथा सम्मान से भी जोड़ा जाता है, इसलिए पर्व का विरोध नहीं करेंगे बल्कि उत्सव के रूप में मनाएंगे ताकि अंतर्राष्ट्रीय पटल पर देश का मान बढ़े। मान ने संयुक्त किसान मोर्चा के निर्णय का हवाला देते हुए कहा कि जो किसान दिल्ली किसान ट्रेक्टर परेड़ में नहीं जा सकते तो वे राज्य स्तर, जिला स्तर व ब्लॉक स्तर पर किसान ट्रेक्टर परेड निकाल सकते हैं. उन्होंने 26 जनवरी को दिल्ली में आयोजित किसान ट्रेक्टर परेड में ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचने की अपील की! रतन मान ने कहा कि हमारी मातृभूमि भारत लंबे समय तक ब्रिटिश शासन की गुलाम रही जिसके दौरान भारतीय लोग ब्रिटिश शासन द्वारा बनाए गए कानूनों को मानने के लिये मजबूर थे, भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा लंबे संघर्ष के बाद अंतत: 15 अगस्त 1947 को भारत को आजादी मिली। लगभग ढाई साल बाद भारत ने अपना संविधान लागू किया और खुद को लोकतांत्रिक गणराज्य के रूप में घोषित किया। लगभग 2 साल 11 महीने और 18 दिनों के बाद 26 जनवरी 1950 को हमारी संसद द्वारा भारतीय संविधान को पास किया गया। खुद को संप्रभु, लोकतांत्रिक, गणराज्य घोषित करने के साथ ही भारत के लोगों द्वारा 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रुप में मनाया जाने लगा। 

गणतंत्र दिवस का पर्व हमारे अंदर आत्मगौरव भरने का कार्य करता है तथा हमें पूर्ण स्वतंत्रता की अनुभूति कराता है यही कारण है कि इस दिन को पूरे देश भर में इतने धूम-धाम तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।  आज के समय यदि हम स्वतंत्र रुप से कोई भी फैसला ले सकते हैं या फिर किसी प्रकार के दमन तथा दुर्वव्यस्था के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं, तो ऐसा सिर्फ हमारे देश के संविधान और गणतांत्रिक स्वरुप के कारण संभव है। यहीं कारण है कि हमारे देश में गणतंत्र दिवस को एक राष्ट्रीय पर्व के रुप में मनाया जाता है। रतन मान ने किसानों से पुनः अपील की कि गणतंत्र दिवस समारोह में किसी तरीके का व्यावधान न डाला जाए, बल्कि इस दिवस को उत्साह व ऊर्जा के साथ मनाएं।

DLIS organized Alumni meet

भारतीय वैक्सीन कौवेक्स और कोविशील्ड की गुणवत्ता असर और सुरक्षित है

For Detailed News-

पंचकूला 22 जनवरी-   हरियाणा के राज्य औषधि नियन्त्रक नरेन्द्र आहूजा विवेक ने कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का टीका नागरिक हस्पताल सेक्टर 6 पंचकूला में डॉ सुवीर सक्सेना पी एम ओ की उपस्थिति में लिया। टीकाकरण के बाद बात करते हुए नरेन्द्र आहूजा विवेक ने बताया कि हमें भारतीय वैक्सीन कौवेक्स और कोविशील्ड की गुणवत्ता असर और सुरक्षित होने पर पूरा भरोसा है और हम सभी को इस वैश्विक महामारी कोरोना के विरुद्ध टीकाकरण की  निर्णायक जंग में अपना नम्बर आने पर टीका अवश्य लगवाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार के भरम या गलत दुष्प्रचार से बचना चाहिए। हम सभी हैल्थ केयर वर्कर का तो आगे आकर इस टीकाकरण को सफल बनाना हमारा नैतिक दायित्व बनता है। इसलिए बिना भय के टीकाकरण करवाएं और इस बीमारी से निजात पाएं।

https://propertyliquid.com

DLIS organized Alumni meet

हरियाणा भवन एवं सन्निर्माण श्रम कल्याण विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के माध्यम से भवन एवं सन्निर्माण श्रमिकों के लिए क्रियान्वित कई तरह की योजनाएं एवं सुविधाएं दी जा रही हैं।

पंचकूला  22 जनवरी- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि   हरियाणा भवन एवं सन्निर्माण श्रम कल्याण विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के माध्यम से भवन एवं सन्निर्माण श्रमिकों के लिए क्रियान्वित कई तरह की योजनाएं एवं सुविधाएं दी जा रही हैं। इनमें श्रमिकों की बेटी की शादी के लियेे 51,000 रुपये की राशि कन्यादान के अलावा मकान की खरीद अथवा निर्माण हेतु 2 लाख रुपये तक ब्याज मुक्त ऋण तथा मुख्यमंत्री सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत श्रमिक की मृत्यु पर 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता जैसी योजनांए शामिल है।


उपायुक्त ने यह जानकारी देते हुए बताया कि बोर्ड द्वारा कन्यादान योजना की राशि का लाभ श्रमिको की तीन बेटियों तक ही प्रदान किया जाता है। इसके अलावा विधवा पैंशन योजना के तहत 2 हजार रुपए प्रति माह, मातृत्व लाभ के लिए 36 हजार रुपए तथा पितृत्व लाभ के लिए 21 हजार रुपए की राशि प्रदान की जाती है। उन्हांेने बताया कि कामगारों को 5 वर्ष में एक बार नए औजारों  की खरीद हेतु 8 हजार रुपए, पंजीकृत महिला कामगारों को उनकी सदस्यता के नवीनीकरण के समय साड़ी, सूट, चप्पल, रेन कोट, छाता, रबड़ मैट्रेस, बर्तन तथा नैपकीन आदि खरीदने के लिए 5100 रुपए की राशि दी जाती है। इसी तरह, कामगारों को साइकिल खरीदने के लिए 3 हजार रुपए की वित्तीय सहायता एवं  महिला श्रमिक को सिलाई मशीन प्रदान की जाती है।


उपायुक्त ने बताया कि पंजीकृत कामगार व उसके परिवार के 4 सदस्यों को चार वर्ष में एक बार धार्मिक व ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण हेतु रेलवे की द्वितीय श्रेणी व साधारण रोडवेज बसों का किराया दिया जाता है। इसी तरह, पंजीकृत कामगारों के जो बच्चे मेडिकल अथॉरिटी द्वारा 50 प्रतिशत या इससे अधिक शारीरिक अथवा मानसिक रूप से अक्षम व दिव्यांग घोषित किए गए हैं, उन्हें 2 हजार रुपए प्रति माह सहायता राशि दी जाती है। कार्यस्थल पर किसी दुर्घटना में स्थाई रूप से दिव्यांग होने पर पंजीकृत कामगार को दिव्यांग प्रतिशतता के आधार पर डेढ़ से 3 लाख रुपये तक की एकमुश्त वित्तीय सहायता दी जाती है। किसी संक्रामक बीमारी या कार्य स्थल पर दुर्घटना के कारण दिव्यांग होने पर उसे 3 हजार रुपये प्रतिमाह पैंशन भी दी जाती है।


उपायुक्त ने बताया कि बोर्ड की योजनाओं लाभ लेने व अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर-1800-180-2129 पर संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा, हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड के वैब पोर्टल hrylabour.gov.in पर जाकर भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। उन्हांेने बताया कि जिला के मजदूरों को इन योजनाओं का लाभ उठाना  चाहिए तथा अपना बोर्ड में पंजीकरण भी अवश्य करवाना चाहिए।

DLIS organized Alumni meet

फसल अवशेष प्रबन्धन व कृषि यन्त्रों पर दिया जा रहा अनुदान-उपायुक्त

पंचकूला 19 जनवरी- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि कृषि तथा किसान कल्याण विभाग द्वारा कि वर्ष 2020-21 में जिला में कृषि मशीनीकरण को बढावा देने के लिए सब मिशन आॅन एग्रीकल्चर मैकेनिजम, समेम योजना के तहत फसल अवशेष प्रबन्धन व अन्य कृषि यन्त्रों पर अनुदान दिया जा रहा है। किसान इन अनुदान योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाऐं।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि  कृषि विभाग हर वर्ष केन्द्र की समेम योजना के अन्तर्गत छोटे व मंझले किसानों को 50 प्रतिशत व बडे़ किसानों को 40 प्रतिशत की दर से अनुदान उपलब्ध करवा रहा है। इस योजना के तहत फसल अवशेष प्रबन्धन यन्त्रों जैसे कि स्ट्रा बेलर,  हरैक, शर्ब मास्टर/रोटरी शलेशर, टैªक्टर चालित पाॅवर वीडर, टैªक्टर चालित रिपर-कम-वाइन्डर, लैजर लैंड लैवलर, स्ट्रा रिपर, टैªक्टर चालित स्प्रेयर पम्प, रिपर वाइन्डर (4/3 पहिया), मल्टि काॅप प्लांटर/मक्का बिजाई मशीन, न्युमैटिक प्लांटर, काॅटन सीड ड्रिल, टैªक्टर चालित बूम स्प्रेयर इत्यादि पर अनुदान उपलब्ध करवाया जा रहा है।


उपायुक्त ने बताया कि किसान इन यनत्रों से न केवल अपनी खेती का मशीनीकरण कर सकते हैं अपितु इन कृषि यन्त्रों को कियाए पर चला कर लाभ कमा सकते हैं। योजना का लाभ लेने हेतू इच्छुक किसान विभाग की वैबसाईट (www.agriharyanacrm.com)  पर 31 जनवरी 2021 तक आनॅलाईन आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि किसान को आवेदन के समय जिन कृषि यन्त्रों की लागत 2.5 लाख से कम है उसके लिए 2500/-रू0 व जिन यन्त्रों की लागत 2.5 से अधिक है उसके लिए 5000/-रू0 की टोकन राशि जमा करवानी होगी जोकि रिफन्डेबल होगी।

https://propertyliquid.com


उन्होंने बताया कि किसान उक्त कृषि यन्त्रों में से अलग-अलग तरह के किन्ही तीन यन्त्रों हेतू आॅनलाईन आवेदन कर सकते हंै। किसान ने उसी कृषि यन्त्र पर पिछले चार वर्षाे मंे अनुदान का लाभ न लिया हो। टैªक्टर चलित कृषि यन्त्र पर अनुदान हेतू किसान के पास हरियाणा राज्य में पंजीकृत अपना टैªक्टर होना अनिवार्य है। किसान का मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण होना अनिवार्य है। जिले में कुल 143 कृषि यन्त्रों का सीमित लक्ष्य रखा गया है। लक्ष्य से ज्यादा आवेदन प्राप्त होने पर लाभार्थियों का चयन ड्रा के माध्यम से किया जाएगा।


उपायुक्त ने बताया कि इसके उपरान्त किसान को कृषि यन्त्रों की खरीद सूचिबद्ध कृषि यन्त्र निर्माताओं से करके अपने कृषि यन्त्र को बिल, ईवे बिल, स्वयं  घोषणा पत्र व कृषि यन्त्र के साथ लाभार्थी की फोटो इत्यादि पोर्टल पर अपलोड करवानी होगी साथ ही इन सभी की मूल प्रतियां सहायक कृषि अभियन्ता के कार्यालय में जमा करवानी अनिवार्य है। इसके उपरान्त उपायुक्त की अध्यक्षता में गठित कमेटी द्वारा भौतिक सत्यापन के उपरान्त बजट की उपलब्धता अनुसार सामान्य वर्ग के किसान को 40 प्रतिशत व आरक्षित वर्ग, महिला, अनुसूचित जाति, लघु व सिमांत किसान को 50 प्रतिशत का अनुदान राशि का लाभ दिया जाएगा।

DLIS organized Alumni meet

स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं को प्रदान की गई प्री-पेड सुविधा-आहूजा

पंचकूला 22 जनवरी – उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि बिजली वितरण निगमों ने उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए मिस्ड काॅल अलर्ट सर्विस शुरू की गई है। जिसके तहत उपभोक्ता को अपने रजिस्टर्ड मोबाइल से मिस्ड काॅल करने पर मैसेज के माध्यम से एक लिंक प्राप्त होगा, जिस पर क्लिक करके उपभोक्ता अपना बिजली बिल डाउनलोड व भुगतान कर सकते हैं।

For Detailed News-


उपायुक्त ने बताया कि बिजली निगम ने उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के उपभोक्ता अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 70870-19636 नंबर पर मिस्ड काॅल देकर अपने बिजली बिल से संबंधित सूचना प्राप्त कर आॅनलाईन माध्यम से सीधे बिजली बिल का भुगतान कर सकते हैं। मिस्ड काॅल की सुविधा का लाभ लेने के लिए उपभोक्ताओं का मोबाइल नंबर बिजली मीटर एकाउंट से जुड़ा होना चाहिए। इसके अलावा उपभोक्ता अपना मोबाइल नंबर व आधार अपडेट कर सकते हैं। नंबर भी


उन्होंने आगे बताया कि बिजली निगम की ओर से दी जाने वाली सब्सिडी और मिस्ड काॅल अलर्ट सुविधा प्राप्त करने से पहले बिजली उपभोक्ता को आधार अपडेट करवाना होगा तभी उपभोक्ता को सरकार की ओर से दी जा रही सब्सिडी का लाभ मिलेगा। इस सुविधा से उपभोक्ताओं को अब बिजली बिल के लिए मीटर रीडर और बिल डिलिवरी का इंतजार नहीं करना होगा।

https://propertyliquid.com


उन्होंने यह भी बताया कि हरियाणा बिजली वितरण निगम पंचकूला शहर के स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के लिए 26 नवम्बर, 2020 से प्रीपेड बिलिंग की सुविधा भी शुरू की है। प्री-पेड कनैक्शन लेने के लिए उपभोक्ता को किसी भी प्रकार की सिक्योरिटी जमा नहीं करवानी पड़ेगी। उपभोक्ताओं को महीने के मौजूदा बिजली बिल पर नियमानुसार 5 प्रतिशत की छूट मिलेगी तथा मीटर रीडिंग का झंझट भी खत्म होगा। उपभोक्ता मोबाईल ऐप के माध्यम से अपने अकाउंट बैलेंस को चैक कर सकते हैं जिसके लिए प्ले स्टोर ऐप स्टोर से UHBVN Smart Meter  मोबाइल ऐप डाउनलोड कर सकते हैं।  


उपायुक्त ने बताया कि बिजली वितरण निगम वैश्विक कोरोना महामारी के काल में उपभोक्ताओं को घर बैठे बिजली बिल से संबंधित सूचना उपलब्ध करवाने व सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं को निर्बाध एवं सुचारू रूप से बिजली सप्लाई उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्ध हंै।

DLIS organized Alumni meet

23 को पहुंचेगी विजय दिवस मसाल, 1971 युद्ध के शहीदों व जाबांजों के परिजन होंगे सम्मानित

सिरसा, 22 जनवरी।


जिला सैनिक एवं अर्ध सैनिक कल्याण विभाग के कल्याण अधिकारी कर्नल दीप डागर ने बताया कि भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए जांबाजों को नमन स्वरूप दिल्ली से चली विजय दिवस मशाल शनिवार को सिरसा पहुंचेगी। हिसार मिल्ट्री स्टेशन से सेना अधिकारी व जवान विजय दिवस मशाल को लेकर पहुंचेगे। इसी उपलक्ष्य में जिला सैनिक बोर्ड परिसर में कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें उपायुक्त प्रदीप कुमार बतौर मुख्यअतिथि शिरकत करेंगे।

For Detailed News-


उन्होंने बताया कि इस अवसर पर 1971 की लड़ाई में शहीद हुए सैनिकों व देश पर कुर्बान हुए अन्य अमर शहीदों को श्रद्धांजलि जाएगी। कार्यक्रम में अमर शहीदों के परिजनों को उपायुक्त द्वारा सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का आयोजन सैनिक भवन में 23 जनवरी को दोपहर बाद 12.45 बजे किया जाएगा।

https://propertyliquid.com


कर्नल डागर ने बताया कि विजय ज्वाला 15 जनवरी को हिसार मिलिट्री स्टेशन पहुंची थीं। जहां डॉट डिवीजन द्वारा इसका भव्य स्वागत किया गया।  अगले 10 दिनों तक ज्वाला हरियाणा के विभिन्न जिलों में जाकर अधिक से अधिक आबादी खासकर पूर्व सैनिकों को एक झलक पकड़कर इस ऐतिहासिक जीत का हिस्सा बनाया जा रहा है। इसी क्रम में विजय ज्वाला 23 जनवरी को सिरसा पहुंचेगी। सिरसा युद्ध नायकों को सम्मानित करने और 1971 की युद्ध जीत के 50 साल पूरे होने पर विजय ज्वाला जिले के विभिन्न गांवों से गुजरेगी और जिला सैनिक बोर्ड परिसर में पहुंचेगी। परिसर में आयोजित कार्यक्रम में उपायुक्त प्रदीप कुमार बतौर मुख्यअतिथि शिरकत करेंगे। मुख्यअतिथि 1971 लड़ाई के युद्धवीरों और वीरांगनाओं को सम्मानित करेंगे। मसाल को एयरफोर्स स्टेशन सिरसा भी ले जाया जाएगा, जहां वायु योद्धा विजय ज्वाला को सम्मान देेंगे। हर भारतीय इन शहीदों द्वारा किए गए सर्वोच्च बलिदान और उनके परिवारों द्वारा संघर्ष का ऋणी है।

DLIS organized Alumni meet

पुलिस लाइन मैदान में धूमधाम से मनाया जाएगा जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह : नगराधीश गौरव गुप्ता

सिरसा, 22 जनवरी।


            नगराधीश गौरव गुप्ता ने बताया कि जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह स्थानीय बरनाला रोड़ स्थित पुलिस लाइन मैदान में धूमधाम हर्षाेल्लास से मनाया जाएगा। समारोह में उपायुक्त प्रदीप कुमार बतौर मुख्यअतिथि शिरकत कर ध्वजारोहण करेंगे तथा जिलावासियों को अपना शुभसंदेश देंगे।

For Detailed News-


            नगराधीश ने बताया कि प्रशासनिक कारणों के चलते इस वर्ष जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह शहीद भगत सिंह स्टेडियम की बजाय स्थानीय पुलिस लाइन मैदान में मनाया जाएगा। समारोह में परेड व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की फुल ड्रेस रिहर्सल 23 जनवरी को प्रात: 9 बजे पुलिस लाइन मैदान में होगी। उन्होंने बताया कि समारोह में छात्र देशभक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे।

https://propertyliquid.com


            शुक्रवार को जिला शिक्षा अधिकारी संत कुमार की देखरेख में विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों द्वारा एक्शन सांग, कॉरियोग्राफी, गिद्दा, हरियाणवी डांस, राजस्थानी डांस, भंगड़ा, देशभक्ति सांग, राष्ट्रीय गान की रिहर्सल करवाई गई। इस अवसर पर पीटी शो, परेड की रिहर्सल भी की गई। इस अवसर पर एपीसी शशी सचदेवा, भारत स्काउट एवं गाइड के जिला सचिव सुखदेव सिंह ढिल्लो, डीपी सुभाष, विक्रम कुमार आदि मौजूद रहे।


सांस्कृतिक कार्यक्रम में इन स्कूलों ने लिया भाग :


            रिहर्सल में प्रयास स्कूल, दिशा स्कूल, श्रवणवाणी दिव्यांग विद्यालय के बच्चों ने एक्शन सांग ‘हम सब भारतीय हैÓ प्रस्तुत किया। इसके अलावा शाह सतनाम जी कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के विद्यार्थियों ने टेबल डांस ‘जय होÓ, महाराजा अग्रसैन कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के बच्चों ने देशभक्ति एक्शन सांग ‘मेरी मां-प्यारी मांÓ, राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यायल चत्तरगढ़पट्टïी के बच्चों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर कॉरियोग्राफी, डीएवी स्कूल सिरसा के बच्चों ने राजस्थानी नृत्य ‘पधारो म्हारे देसÓ, विवेकानंद स्कूल सिरसा के बच्चों ने हरियाणवी नृत्य ‘कुटंब कबीलाÓ, राजकीय कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा के बच्चों ने गिद्दा ‘लोहड़ी तीयां दीÓ, राजकीय नैशनल कॉलेज सिरसा के बच्चों ने भंगड़ा ‘मैं गबरु देश पंजाब दाÓ, राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय नेजाडेलाकलां के विद्यार्थियों ने ‘ये देश है वीर जवानों काÓ तथा न्यू सतलुज वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय के बच्चों ने राष्टï्रीय गान की रिहर्सल की।


परेड में इन टुकडिय़ों ने लिया भाग :


            शुक्रवार को रिहर्सल में महिला पुलिस बल, पुलिस बल, गृह रक्षी बल, राजकीय नैशनल कॉलेज, राजकीय कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय, जीआरजी कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय, राजकीय मॉडल संस्कृतिक वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय की एनसीसी, राजकीय कन्या वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा की गल्र्स गाइड, राजकीय मॉडल संस्कृतिक वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय सिरसा की स्काउट (प्रजातंत्र के प्रहरी), राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय खैरपुर की स्काउट (नैशनल ग्रीन कॉर्पस), भारत सैनिक वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय की स्काउट की टुकडिय़ों तथा महाराजा अग्रसैन स्कूल सिरसा की बैंड की टीम ने भाग लिया। 

DLIS organized Alumni meet

कृषि यंत्रों पर अनुदान के लिए 31 जनवरी तक करें ऑनलाइन आवेदन : उपायुक्त प्रदीप कुमार

सिरसा, 22 जनवरी।


            उपायुक्त प्रदीप कुमार ने बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा स्मैम योजना वर्ष 2020-21 के लिए कृषि उपकरणों पर अनुदान के लिए 31 जनवरी 2021 तक ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए हैं। किसानों को डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट एग्रीहरियाणासीआरएम डॉट कॉम (https://www.agriharyanacrm.com/) पर ऑनलाईन आवेदन करना होगा।

For Detailed News-


            उपायुक्त ने बताया कि किसान को आवेदन के समय जिन कृषि यंत्रों की लागत 2.5 लाख से कम है उसके लिए 2500 रुपये व जिन यंत्रों की लागत 2.5 लाख से अधिक है उसके लिए 5 हजार रुपये की टोकन राशि जमा करवानी होगी जोकि रिंफडेबल होगी। उन्होंने बताया कि किसान ने उसी कृषि यंत्र पर पिछले 4 वर्षो में अनुदान का लाभ न लिया हो। टै्रक्टर चालित कृषि यंत्र पर अनुदान के लिए किसान के पास हरियाणा राज्य में पंजीकृत अपना टै्रक्टर तथा किसान का मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण होना भी अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि लक्ष्य से अधिक आवेदन प्राप्त होने पर लाभार्थियों का चयन ड्रा के माध्यम से किया जाएगा।

https://propertyliquid.com


            सहायक कृषि अभियंता इंजीनियर डीएस यादव ने बताया कि वर्ष 2020-21 के लिए इस स्कीम में जिले को 70 स्ट्रा बेलर, 70 हे-रेक, 70 सर्ब मास्टर/रोटरी सलेशर, 50 पीटीओ ऑपरेटेड वीडर, 2 ब्रीकेट मेकिंग मशीन, 100 टै्रक्टर चालित  स्प्रेयर, 10 टै्रक्टर चालित क्रोप कम रीपर बाईंडर, 10 रीपर बाईंडर 4/3 व्हील, 2 स्वचालित पैडी ट्रांसप्लांटर, 50 मल्टीक्रोप प्लांटर/मेज प्लांटर, 5 न्युमैटिक प्लांटर, 250 कपास बिजाई मशीन, 100 टै्रक्टर चलित बूम स्प्रेयर, 50 लेजर लैंड लेवलर, 70 स्ट्रा रीपर वितरित करने का लक्ष्य दिया गया है। जो किसान ये यंत्र खरीदना चाहते है, वे आवेदन का निर्धारित शुल्क जमा करवाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। उन्होने बताया कि इसके उपरांत किसान को इन कृषि यंत्रों की खरीद सूचीबद्व कृषि यंत्र निर्माताओं से करके अपने कृषि यंत्र का बिल, ई-वे बिल, स्वयं घोषणा पत्र व कृषि के साथ लाभार्थी की फोटो इत्यादि पोर्टल पर अपलोड करवानी होगी। साथ ही इन सभी की मूल प्रतियां सहायक कृषि अभियंता सिरसा के कार्यालय में जमा करवानी अनिवार्य है। इसके उपरांत उपायुक्त की अध्यक्षता में गठित कमेटी द्वारा भौतिक सत्यापन के उपरांत बजट की उपलब्धता अनुसार अनुदान मिलेगा।

DLIS organized Alumni meet

Alumni meet by Department of Zoology, PU

Chandigarh January 21, 2021

In the unprecedented situation due to COVID-19, first ever online alumni meet was organized by the Department of Zoology, Panjab University Chandigarh today on 21st January, 2021 as part of PU Annual Global Alumni Meet being held from January 18 to 23, 2021. The meet was attended by about 150 alumni of the department.

For Detailed News-

Dr Ravneet Kaur, Co-ordinator, introduced the event and Dr. Harpreet Kaur, Chairperson, Department of Zoology and convenor of the meet welcomed the distinguished guests and alumni in this online event. Prof Raj Kumar, Vice Chancellor, Panjab University in his address welcomed the alumni and stressed on the importance of collaborations between different alumni, who are serving in different parts of the world. He also suggested that department of zoology should keep in record the contributions and ideas from various alumni, which will help in the growth of the department as well as Panjab University. Memorial tributes were paid to renowned alumni of Zoology Department, Prof Hans Raj Pajni (Entomologist), Prof Mohinder Singh Johal (Fish Biologist) and Prof. Suraj Prakash Sharma (Insect Gerontology, Neurobiology), during the event by Prof Neelima R Kumar.

https://propertyliquid.com

Prof RC Sobti (Padma Shri Awardee), former Vice Chancellor, Panjab University and Babasaheb Bhimrao Ambedkar University talked about the journey of Zoology department from past to present. Prof. Anupama Sharma, Dean Alumni Relations, Panjab University also welcomed the alumni and praised the efforts of alumni in the development and growth of society.

Six eminent alumni of the department Mr. Shambu Dutt Sharma (Retd. IAS), Prof. Avinash Kumar Chawla (Former Vice Chancellor Kurukshetra University and working president of SCC Haryana), Prof Veena Tandon (Padma Shri Awardee and Parasitologist), Prof. Madan Lal Sareen (Histopathologist), Prof. Sudarshan Chaudhary (Cytogeneticist) and Prof. Ajit Sodhi (Biotechnologist) were conferred Distinguished Alumnus Award by the Panjab University Alumni Association and department of Zoology. The citations were read by Prof Anupama Sharma, Dean, PUAA; Prof. Sukhbir Kaur, Dean Student welfare (women), PU and Dr Harpreet Kaur, Chairperson, Department of Zoology. Award ceremony was followed by interaction among the participants of the meet.

Prof VK Walia and Dr Archana Chauhan took the audience on a virtual trip to Panjab University and department of zoology. Renowned alumna of the department Ms. Mamta Bansal, IRS (Income Tax Commissioner, Mumbai) delivered the motivational talk during the event. She encouraged the students to dream high and work hard to achieve them.

DLIS organized Alumni meet

सड़क सुरक्षा माह के उपलक्ष्य में 24 जनवरी को होगा राहगिरी कार्यक्रम

सिरसा, 21 जनवरी।


वैश्विक महामारी के चलते कई दिनों के बाद जिला में राहगिरी कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस बार राहगिरी का थीम सड़क सुरक्षा पर रहेगा। राहगिरी कार्यक्रम का आयोजन 24 जनवरी को टाऊन पार्क में किया जाएगा। राहगिरी के माध्यम से सड़क सुरक्षा नियमों के साथ-साथ नशा व अन्य बुराईयों के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए खुशहाली जिंदगी जीने का संदेश दिया जाएगा।

For Detailed News-


यह जानकारी एसडीएम जयवीर यादव ने वीरवार को सड़क सुरक्षा माह के उलक्ष्य में आयोजित राहगिरी कार्यक्रम के सफल आयोजन को लेकर आयोजित अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए दी। बैठक में आरटीए डीएसपी संजय बिश्नोई, आरटीओ हीरा सिंह, डीईओ संत कुमार सहित संबंधित विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।


एसडीएम ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण कई दिनों बाद जिला में पहला राहगिरी कार्यक्रम आयोजित होगा। 24 जनवरी को टाऊन पार्क में होने वाले राहगिरी कार्यक्रम का मुख्य उद्ेश्य लोगों को सड़क सुरक्षा नियमों के प्रति जागरूक करना रहेगा। इसके अलावा अनेक खेल गतिविधियों व सांस्कृतिक प्रस्तुतियों आदि के माध्यम से जिलावासियों को नशा जैसी बीमारी के प्रति सचेत करते हुए उन्हें खुशहाल जिंदगी जीने के लिए प्रेरित किया जाएगा।  

https://propertyliquid.com


उन्होंने जिला खेल अधिकारी को निर्देश दिए कि वे कार्यक्रम में विभिन्न खेल से जुड़े खिलाडिय़ों को भागीदारी करवाएं। आयोजन स्थल पर अलग-अलग खेल गतिविधियां आयोजित करवाई जाएं, जिसमें जूडो, क्रिकेट, हॉकी आदि खेल शामिल हों। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को आयोजन स्थल पर एम्बूलेंस व्यवस्था के साथ-साथ मेडिकल कैंप लगाने बारे निर्देश दिए। इसी प्रकार शिक्षा विभाग को सड़क सुरक्षा व नशा आदि पर चित्रकारी के लिए स्कूली बच्चों की भागादारी करवाने को कहा। उन्होंने आयोजन स्थल पर पानी, शौचालय, सफाई आदि व्यवस्थाओं के पुख्ता प्रबंध सुनिश्चित करने बारे दिशा-निर्देश दिए।