नोएडा के सेक्टर 12 में मेट्रो हॉस्पिटल में लगी आग

नोएडा के सेक्टर 12 स्थित एक निजी अस्पताल के दूसरी मंजिल पर गुरुवार दोपहर भयंकर आग लग गई।

कई लोग अभी भी हॉ़स्पिटल में फंसे हुए हैं। मरीजों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है। लोगों ने बिल्डिंग का शीशा भी तोड़ा ताकि बिल्डिंग में धुआं न भरे। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंची हैं। बचाव कार्य जारी है। हालांकि घटना में अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

मुख्य दमकल अधिकारी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे विभाग को सेक्टर 12 स्थित मेट्रो अस्पताल में आग लगने की सूचना मिली। तुरंत आठ दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया।

उन्होंने बताया कि आग अस्पताल की इमारत की दूसरी मंजिल पर लगी है। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। सिंह ने बताया कि हादसे में अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। दमकलकर्मी लगातार आग पर काबू पाने का प्रयास कर रहे हैं।

लोन हो सकता है सस्ता, RBI ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में की कटौती

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को रेपो रेट, रिवर्स रेपो रेट की ब्याज दरें तय कर दी है। रेपो रेट में कटौती से बैंकों के लिए रिजर्व बैंक से कर्ज लेना सस्ता हो जाएगा. बैंक इसका फायदा होम लोन और पर्सनल लोन ग्राहकों को दे सकते हैं. अगर बैंकों ने इसका फायदा ग्राहकों को दिया तो होम लोन की ईएमआई सस्ती हो सकती है. दिसंबर 2018 में अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों को नहीं बदला था, लेकिन उसने कहा था कि अगर महंगाई दरें नहीं बढ़तीं तो वह रेपो रेट में कटौती कर सकता है ।

आरबीआई ने ब्याज दरों में कटौती की है। रिवर्स रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की गई है।   रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट की ब्याज दरों को कम किया है। मौद्रिक समीक्षा नीति ने बैठक के बाद ऐलान किया कि आरबीआई ने रेपो रेट 6.5 से घटाकर 6.25 प्रतिशत कर दिया। 

वहीं दूसरी तरफ आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट भी घटाकर 6.00 प्रतिशत कर दिया। रेपो रेट में कटौती होने से आम आदमी को राहत मिलेगी। क्योंकि ईएमआई देने वालों को ब्याज कम देना होगा। 

आरबीआई गर्वनर शक्तिकांत दास ने बैठक के बाद कहा कि 2019-20 में जीडीपी 7.4 रहने का अनुमान है। आगे कहा कि वहीं अभी के हिसाब से 2019-20 की पहली छमाही में मुद्रास्फीति की दर 3.2-3.4 फीसदी और 2019-20 की तीसरी तिमाही में 3.9 फीसदी हो सकती है। 

कांग्रेस के स्टार प्रचारक बने भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को कांग्रेस स्टार प्रचारक के रूप में इस्तेमाल करने जा रही है। हाल ही में तीन राज्यों में दौरे के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भूपेश बघेल को अपने साथ ले गए और वहां से इसका आगाज कर दिया है। वहां उन्होंने छत्तीसगढ़ में सरकार बनने के एक माह में किए गए कार्यों की मिसाल पूरे देश में प्रस्तुत कर कांग्रेस के वादा निभाने को लेकर, कई तरह के दावे चुनाव के मद्देनजर प्रस्तुत किए हैं।

2 और 3 फरवरी को उत्तरप्रदेश के बाराबांकी और बिहार के पटना में जिस तरह से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है, उसे देखते हुए राहुल गांधी श्री बघेल को लोकसभा चुनाव के स्टार प्रचारक में शामिल करने जा रहे हैं। दोनों सभाओं में बघेल के आक्रामक शैली के भाषण को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष उन्हें बुधवार को ओडिशा हाेने वाली आमसभा में लेकर गए।

उन्होंने गांधी परिवार के बारे में जो कहा, वह एक प्रकार से ओडिशा के लोगों के लिए बड़ी बात है। वहां उन्होंने अपनी शैली में बिहार के पटना में हुई आमसभा में भी राहुल गांधी होने का मतलब वहां की जनता को बखूबी समझाया। बताते हैं कि बघेल के भाषण के बाद बिहार के स्थानीय कार्यकर्ताओं में जबरदस्त उत्साह भी दिखा।

उनके इस अंदाज को भुनाने की कोशिश में कांग्रेस हिन्दी भाषी प्रदेशों में भूपेश बघेल को आजमाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। उनकी आक्रामक रणनीति को देखते हुए राहुल गांधी ने उन्हें स्टार प्रचारक के रूप में प्रोजेक्ट कर रहे हैं।

यह भी कहा जा रहा है कि राजस्थान में अशोक गहलोत और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के काफी वरिष्ठ होने के बावजूद राहुल ने भूपेश पर दांव खेला है, उससे यही लग रहा है कि छत्तीसगढ़ के साथ इससे लगे सीमावर्ती सात राज्यों में उनकी भूमिका बहुत अहम रहेगी।

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव में बंपर जीत के बाद कांग्रेस सरकार ने अपना कामकाज शुरू कर दिया है। तीनों राज्यों के चुनाव में दो तिहाई से अधिक बहुमत छत्तीसगढ़ में ही मिला। राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी छत्तीसगढ़ सरकार बनने के बाद यहां ध्यान दे रहे हैं।

कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में सबसे पहले एआईसीसी के द्वारा प्रदेश के महासचिवों की एक आवश्यक बैठक 7 फरवरी को नई दिल्ली में बुलाई गई है।


असंगठित क्षेत्र के कामगारों का जल्द बनेगा पेंशन कार्ड

नई दिल्ली: वित्त मंत्री पीयूष गोयल के बजट में असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए पेंशन के ऐलान के बाद से वित्त मंत्रालय और श्रम मंत्रालय के अधिकारियों ने मिलकर योजना की रूपरेखा तैयार करनी शुरू कर दी है।

सूत्रों के जरिए मिली शुरुआती जानकारी के मुताबिक, सरकार इन कामगारों के लिए एक पेंशन रजिस्ट्रेशन नंबर वाला कार्ड जारी कर सकती है। इसके जरिये न सिर्फ उनके पेंशन का रजिस्ट्रेशन हो जाएगा, बल्कि दूसरी उस कैटेगरी की दूसरी सुविधाएं जैसे स्वाथ्य बीमा जैसी चीजें भी मिल जाया करेंगी।


मामले से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पेंशन योजना का फायदा लेने वाले व्यक्ति के पास एक बैंक अकाउंट होना जरूरी होगा। साथ ही उस बैंक अकाउंट का पिछले 3 महीने का स्टेटमेंट भी देना होगा। पेंशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराने का जिम्मा लाइफ इंश्योरेंश कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के कंधों पर डालने की योजना है। हालांकि देशभर में एक साथ इस योजना लागू करने के दौरान शुरुआती दिनों में सभी बैंक शाखाओं और पोस्ट पेमेंट बैंक के काउंटर्स की भी मदद ली जा सकती है।

योजना का फायदा कोई अपात्र व्यक्ति न उठा ले इसके लिए भी सरकार बाकायदा व्यवस्था बना रही है। कामगार के जरिये सेल्फ डिक्लेरेशन में दी गई जानकारी गलत पाए जाने पर उसका अकाउंट तुरंत रद्द कर दिया जाएगा। ऐसा करने वालों के खिलाफधोखाधड़ी की धाराओं के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

अकाउंट में दोहरीकरण से रोकने और सुरक्षा के लिहाज से मजबूत बनाने के मकसद से उस अकाउंट को आधार से भी जोड़ा जाएगा। इसी अकाउंट में व्यक्ति अपना योगदान देगा और उसी अनुपात में सरकार का भी योगदान रहेगा। स्कीम के अनुसार 18 वर्ष के कामगार को 55 रुपये महीने और 29 साल के व्यक्ति को 100 रुपये महीने की राशि जमा करनी होगी। इतनी ही राशि उसके खाते में सरकार की तरफ से आएगी। व्यक्ति के 60 साल के होने के बाद 3000 रुपये मासिक पेशन मिलेगी। बाकी उम्र के लोगों के लिए उसी अनुपात में रकम घट या बढ़ सकती है।

हालांकि अभी इस योजना में अभी मंथन का दौर पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। सरकार अभी इस बारे में किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है कि यदि व्यक्ति कुछ महीने अपना योगदान देने की स्थिति में नहीं रहता है तो उसकी पेंशन का क्या होगा और अकाउंट किन हालातों में चालू रखा जा सकेगा। रेहड़ी-पटरी वाले, रिक्शा चालक, घर बनाने वाले मजदूर, कूड़ा बिनने वाले, कृषि कामगार, बीड़ी बनाने वाले, हथकरघा कामगार, चमड़ा कामगार जैसे अनेक कामों में लगे हुए लोगों को इसका फायदा दिया जाएगा।

अमित शाह से सपा, बसपा, कांग्रेस : राम मंदिर पर अपना रुख साफ करें

अलीगढ़/ भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस से राम मंदिर के मुद्दे पर अपना रुख साफ करने को कहा। शाह ने यहां एक सार्वजनिक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा चाहती है कि भगवान राम का भव्य मंदिर उसी स्थान पर बनाया जाए जहां उनका जन्म हुआ हो। उन्होंने कहा, “भाजपा का रुख स्पष्ट है कि अयोध्या में राम मंदिर उसी स्थान पर बनेगा। सपा, बसपा और कांग्रेस को अपना रुख साफ करना चाहिए कि वे राम मंदिर का निर्माण चाहते हैं या नहीं।”

केंद्र ने मंगलवार को अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास में विवादित हिस्से के आसपास “अतिरिक्त” भूमि को बहाल करने की अनुमति के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

सरकार ने एक याचिका में 67 एकड़ जमीन को वापस लेने के निर्देश दिए, जो उसने करीब ढाई दशक पहले हासिल की थी, जिससे वह 0.313 एकड़ विवादित भूमि से अछूती रह गई थी।

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पिछले आठ साल से शीर्ष अदालत के समक्ष लंबित है। लंबे समय से, मामले में पक्ष और विभिन्न दक्षिणपंथी संगठन मामले में जल्द या दिन-प्रतिदिन की सुनवाई के लिए पूछ रहे हैं।

2017 में, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल, जो सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, ने लोकसभा चुनाव पूरा होने तक राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में सुनवाई स्थगित करने की याचिका दायर की थी।

सर्वोच्च न्यायालय : ‘क्यों राजीव कुमार को CBI के सामने नहीं आना चाहिए?’

CBI की कार्रवाई को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. ममता का धर्मतल्ला के मेट्रो चैनल पर चल रहा धरना तीसरे दिन भी जारी है. उधर इस मामले में सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने साफ-साफ कहा है कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई के समक्ष पेश होना होगा. कोर्ट ने कहा है कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार तटस्थ स्थान (न्यूट्रल प्लेस) शिलॉन्ग में सीबीआई के समक्ष पेश होंगे.

मामले की सुनवाई करते हुए सीजेआई गोगोई ने साफ कहा कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर को सीबीआई के समक्ष पेश होना होगा लेकिन सीबीआई उन्हें गिरफ्तार नहीं करेगी. साथ ही सीजेआई ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी से कोर्ट के अवमानना मामले में जवाब भी मांगा है. इसके साथ ही सीजेआई ने कहा है कि पुलिस कमिश्नर और राज्य के चीफ सेक्रेटरी भी अवमानना मामले में कोर्ट को जवाब दें.

सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई की तरफ से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल जिरह कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इस मामले में जिस तरह की पेमेंट दी गई है वह संदेहास्पद है. उनका कहना है कि पेमेंट चेक से हुई हैं. सीबीआई ने इस मामले सुप्रीम कोर्ट में अतिरिक्त दस्तावेज सौंपे हैं. सीबीआई ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में वह और दस्तावेज जमा करना चाहते हैं लेकिन वे सीलबंद लिफाफे में इसे सौंपेंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हम ममता बनर्जी सरकार की बातें सुनेंगे. कोर्ट ने आगे कहा कि कोलकाता पुलिस कमिश्न को सीबीआई के सामने पेश होना चाहिए, ताकि जांच एजेंसी पूछताछ कर सके. चीफ जस्टिस ने पूछा, क्यों राजीव कुमार को CBI के सामने नहीं आना चाहिए? सुप्रीम ने कहा, हमारे प्रस्तावित ऑर्डर में पश्चिम बंगाल की सरकार को क्या आपत्ति है?

ममता बनर्जी सरकार की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी पैरवी कर रहे थे. सिंघवी ने कहा कि राजीव कुमार के खिलाफ एफआईआर क्यों नहीं हुआ. अभी तक तीन समन जारी किए गए थे. सीबीआई की तरफ से कोई फॉर्मल ऑर्डर नहीं आया था.

महाराष्ट्र में ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट का विमान क्रैश

महाराष्ट्र : पुणे जिले में मंगलवार को नागरिक उड्डयन प्रशिक्षण के लिए इस्तेमाल किये जाने वाला एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे में विमान का पायलट घायल हो गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पायलट सिद्धार्थ टाइटस के दाहिने हाथ में फ्रैक्चर हो गया। पुलिस ने कहा कि यह हादसा इंदापुर तालुका में रुई गांव के पास हुआ। उन्होंने बताया कि घटना की वजह तकनीकी खामी भी हो सकती है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि विमान जिले के बारामती स्थित कार्वर एविएशन प्राइवेट लिमिटेड का था। उन्होंने बताया कि पायलट को अस्पताल ले जाया गया। वह फिलहाल खतरे से बाहर हैं। पुलिस ने बताया कि पायलट तीन साल से संस्थान के साथ जुड़ा है और उसके पास लगभग 130 घंटे की उड़ान का अनुभव है। 

दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग पर यातायात प्रभावित, मालगाड़ी की बोगियां पटरी से उतरीं

फिरोजाबाद में शिकोहाबाद रेलवे स्टेशन के पास मालगाड़ी की चपेट में आने से आठ पशुओं की मौत हो गई है, वहीं ट्रेन की दो बोगियां पटरी से उतर गई हैं। जानकारी के मुताबिक शिकोहाबाद रेलवे स्टेशन के पास मंगलवार की सुबह खुले में घूम रहे पशु अचानक रेलवे ट्रैक पर आ गए। इसी बीच टूंडला से कानपुर जा रही मालगाड़ी आ गई, जिसकी चपेट में आने से आठ पशुओं की मौत हो गई।

घटना में मालगाड़ी की दो बागी पटरी से उतर गई हैं। डाउन लाइन बाधित हो गई है। एक्सप्रेस समेत डाउन लाइन से गुजरने वाली कई ट्रेनों को जहां तहां रोक दिया गया है। टूंडला स्टेशन से रेलवे अफसर और कर्मचारी मौके पर पहुंच गए हैं। 

योगी आदित्यनाथ डब्ल्यूबी के पुरुलिया में रैली को संबोधित करने के लिए झारखंड से सड़क मार्ग से यात्रा करेंगे

Lucknow/ Having been denied permission to land his chopper in West Bengal, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath will on Tuesday touch down in Jharkhand’s Bokaro and then travel to West Bengal’s Purulia district by road to address a public rally.

The chief minister will leave for Purulia after the adjournment of the Vidhan Sabha session today. He is slated to address the rally at around 3:30 pm.

Yogi was scheduled to address two rallies in West Bengal on February 3, one in North Dinajpur district’s Raiganj and the other in South Dinajpur district’s Balurghat. However, the TMC government led by Mamata Banerjee declined permission for Yogi’s chopper to land for both rallies without any prior notice.
Later in the day, Yogi addressed the rally in Raiganj via telephone and accused Banerjee of carrying out“shameful” activities.

The BJP has condemned Banerjee over the obstacles faced by the party in conducting rallies and other events in the state, while also criticising her government for the ongoing tussle between the CBI and the state police.

She allows Rohingyas and foreign infiltrators to stay in the state, people who promote democratic values, be it our chief minister, our national president, they cannot go. She is being supported by people who are also under the CBI’s radar. It is shameful and condemnable. They are making a mockery of the Constitution. If you want to see a situation of emergency anywhere, you can see it in West Bengal,” Raza said.

Uttar Pradesh Health Minister Sidharth Nath Singh said, “Mamata ji has created an unconstitutional and undemocratic atmosphere in West Bengal. The CBI vs Mamata situation in the state clearly shows that democracy is in peril there. When Narendra Modi ji was the Gujarat chief minister, he fully cooperated with agencies when he was under probe. He was also in your position and he showed that you have to cooperate with the law and not fight it”.

Banerjee launched her dharna in Kolkata on Sunday night amidst an unprecedented face-off with the Centre over CBI versus state police issue.
She launched her ‘Save the Constitution’ sit-in at around 9 pm after the CBI attempted to arrest Kolkata Police Commissioner Rajeev Kumar in connection with the Saradha chit fund case, which was foiled by the state police.


सरकार कैंसर रोगियों तथा उसके अटेंडेंट को हरियाणा रोडवेज की बस में फ्री यात्रा का लाभ देती है

सरकार कैंसर रोगियों तथा उसके अटेंडेंट को हरियाणा रोडवेज की बस में फ्री यात्रा का लाभ देती है। इसके लिए सीएमओ तथा जीएम उसे संयुक्त बस पास जारी करते हैं। एनडीसी सेल इंचार्ज डा. आशा ¨जदल के मुताबिक करीब 400 कैंसर रोगियों के फ्री बस पास बने हुए हैं जो एक साल के लिए वैध होते हैं। सरकार ने देश के 27 चिकित्सकीय संस्थानों के साथ टाइअप कर रखा है। वहां से उपचार करवाने पर दो लाख रुपये तक की सहायता सरकार देती है।

डबवाली रेलवे स्टेशन से रात 10 बजे बीकानेर के लिए चलने वाली अबोहर-जोधपुर पैसेंजर ट्रेन को कैंसर एक्सप्रेस के नाम से जाना जाता है। चूंकि इसमें सफर करने वाले 80 फीसद कैंसर मरीज होते हैं। इन मरीजों में सबसे ज्यादा संख्या जिला सिरसा, फतेहाबाद के कैंसर मरीज भी मौजूद होते हैं। यह ट्रेन सुबह साढ़े 5 बजे कैंसर के मरीजों को बीकानेर पहुंचा देती है। कैंसर रोगियों की रजिस्ट्रेशन को प्रमुखता दी जाती है।